Thursday, March 31, 2022

Tālā Icon

पुरातात्विक स्थल ताला गुप्तोत्तर स्थापत्य संरचनाओं वाला स्थल है। डॉ. प्रमोद चन्द्र की प्रेरणा, श्री कल्याण कुमार चक्रवर्ती के मार्गदर्शन में श्री जी.एल. रायकवार द्वारा मेरे सहयोग से हुए पुरातात्विक कार्यों के दौरान ‘रूद्र शिव‘ प्रतिमा की प्राप्ति हुई, जिसके बाद यह विशेष चर्चित रहा। इस एक प्रतिमा पर केंद्रित पुस्तक प्रकाशित हुई। पुस्तक में उच्चकोटि के विभिन्न शोधपत्र शामिल हैं, जिनमें प्रतिमा के अभिज्ञान पर विचार किया गया है। इसमें एक लेख श्री रायकवार का तथा एक मेरा लिखा हुआ, शामिल है। इन दोनों लेखों का विशेष महत्व इसलिए है, क्योंकि इन लेखों में स्थल और वहां हुए पुरातात्विक कार्यों का विवरण है, जिनका अभिलेखन स्थायी संदर्भ के लिए आवश्यक था। इस दृष्टि से, उन दो में से पहला लेख यहां प्रस्तुत है। एक अन्य शोध-लेख यहां है।


Tālā Icon : A Comprehensive Attempt of Its 
Identification 

RAHUL KUMAR SINGH 

I. The site and its vicinity 
The features of the icon under discussion are unmatched, they have neither resemblance with any other sculpture, nor have satisfactory reference in the texts. The unusualness of the icon would be the justified cause that various legends and other unacademic sounding fables are incorporated in this paper. The details of the description appear in the key paper by Dr. Nigam, hence require no further mention, as that paper supplies adequate data. 

Beside, constantly being present, when the major work at Tālā on Devarānī-Jethānī temple was being done, during the period 1986 to 1988, at the site; I personally had a privilege to have a village to village survey of the area in the year 1993. Around 100 villages of the area were surveyed as a part of my official duty, so I had an opportunity to gather information not generally revealed, about the temple-site and surroundings. A few of these pieces of information could prove an aid in the identification of the icon. 

Though the well-known archaeological site of Malhar is not far from Tālā, yet an almost unnoticed site in village Matiārī is located near the confluence of Sivanāth and Arpā rivers. Spatially and temporally the gap is only 25 kms. and a couple of centuries, respectively. It seems to be of 8th Cent. A.D. as is revealed by its sculptural remains. Even after construction of a modern temple on the mound, its antiquity is quite evident. In the same direction about 5 kms. from Tālā, in the village Udantāl, there are brick remains, rubble mound, but for want of antiquities and absence of clear ideas of structure, its period could not be determined. Besides this, after exploiting all the opportunities and approaching the site from all directions except few minor and stray antiquities, only two more ancient sites could be located, but of later period i.e. of 12th and 13th Cent. A.D. They are within 10 kms. viz. Kirarī Gorhi and Dhūmanāth temple, Sargaon. Both are protected monuments of the State Govt. 

The actual revenue-village, in which this site of Tālā is located, is Ameri kāpa. Ameri is common village name in this area. To distinguish this Ameri from others, Kāpa is suffixed. The adjoining village is Amerī akbari. Amerī is derived from Amerā- a tree with sour fruits. (Spondius mangifera) and suffix kāpa- means, hamlet; Akbari- means the area reserved for local malaguzar (of recent past) for his agricultural uses or otherwise. 

This place lies on the left bank of Maniārī at a reasonable height, like many other religious places, there is a belief, that during floods, the river used to touch only the feet of the deity and recede, that is why the temple is never flooded. While the fact is, that when water level increases in the river, it spreads on the right bank, which is relatively low. Right at the temple site, Basantī nullah, meets Maniarī to the North of the Deorani temple. At around 2 kms. South-East of the temple, Maniārī terminates into Sivanāth river. 

The temple site is located away from the village habitation, but it had not been in isolation from human presence. The shepherds, with their herds, farmers with their agricultural activities and commutation through the river bank, had been very common since then. The site was important to the local people, because of their belief in the village deity Siddha-Bāwā, who is existent now in the form of a Siva-linga, in a small modern shrine, lying to the west of the Jethānī temple. The general trend that prevails in this area, is that of faith in divinity, like Baram, Bhairo, Aghorī, Muria, Biratiā, Munī and the like Bāwās. The concept of Bawas, as explained by village priests suggests, ascetic personality, incorporating divine elements. Alongwith the concepts of Siddha-Bāwā, people were aware about the mounds, they use to address the present Jethānī temple as Deur and the Devrānī temple as Devrānī-Jethānī. 

According to local residents the farm land infront of the present Devrānī temple was originally a pond, which existed recently upto fifties and actually gave the site, its name Tālā. Even today the nearby farms are known as Talakhar, i.e. farms with pond. Possibly the site of temples has been raised by the digging of the land nearby. The depressions created as a consequence of digging might have turned into big tank subsequently. To the west of the monuments lies the rocky left bank of the river. On which the signs of excavations are apparent, presumably the stone for construction of the temple came from here. Pond to the East, river to the West, nullah to the North and Jethānī temple to the south being the constrains and limitations, must have played a crucial role in selection of the site for the Devrānī temple. 

Tālā is synonymous to tal or talāb i.e. Tank. But in this area there is no trend of using tāl independently for a name of village, area or tank itself; rather tāl is used as a suffix to village name like in neighbouring village Udantal. In the plains of Chhattisgarh, ponds are abundant. In ancient places of this district like Malhar and Ratanpur the number of ponds is quoted in a legendary manner as-chhah agar chhah korī meaning 6+ (6 x 20) = 126 ponds. Contrary to the feature, in the area of Tālā, there is a lesser number of ponds. 

In early fifties a Sadhu arrived in here, stayed and worshipped Siddha-Bāwā and later settled permanently. At that time the entire area was full of thorny and big trees large and venomous snakes and scorpions. Even on both of the monuments there were large tamarind trees, while the poisonous reptiles still inhabit the area. This sādhu Purnānand Dās was a shepherd and a native of Orissa. He is recalled as Jatāi Bāwā by the local people because of his long locks of hair-Jațā. It is he, who started observing religious occasions, worshipping and distributing prasād-Khichadī on the occasion of Māgh Pūrņima. It started as a durinal affair and graduated into a full grown three day fair. This fair used to be held on the Deur mound i.e. Jethani temple now. 

II. Discovery of the Icon 
The story of finding of this icon dates back to the year 1977-78, when the stairs, entrance and interior of the Deorani temple were cleaned. The unusual iconographic examples that were found or scattered in the premises were arranged, and a pit in the South-East of the out side of the temple was dug, as the site gave a sense of having much more of hidden treasure, this particular icon was only at a few strokes of pike. 

On the 9th of February 1985, the Honorary Advisor, Culture Department, of the Govt. of Madhya Pradesh, Dr. Pramod Chandra visited the site. There were instructions to select a site which would be as significant as to be visited by him, as he had only that day in his hand. On returing to the office he advised that the site of Tālā be of top priority amongst all the archaeological sites of Madhya Pradesh where prospects of exploration were maximum. 

The work on this part started in the second week of January 1988. On removing a few inches of soil the dorsal side of the icon became visible, which at first seemed to be the floor level, but as the work progressed and the sides were exposed, it appeared to be a huge sculpture having flat back, high relief carving, lying ventral side down. the Deoranī temple is East facing with a flight away of steps. This statue was lying on the South of the steps, with its head from them. The carved ventral side was hidden as the flat dorsal side was up. The statue was lying at right angles to the steps and parallel to the front wall of the temple structure. It is intact to a very great extent even though it was lying on a stone base. Had it been an accidental fall of the carved side of the statue on a rocky surface some major breakage would have been quite obvious; which is not there, rather this is the only intact scuplture obtained from the site. The minor breakage, that is seen is due to the long period of its burial and the fragile quality of the stone. Being stratified stone chipping-off has occured in the sculpture at some places. 

The moment of exposure of the back of the statue was much exciting, as this was considered to be the end of the work, while there was much more to do and know. Precautionwise to have a preview of its form, soil was cleaned from all sides. The experienced and careful labourers, which had worked on Jethani temple in the past session were engaged for this task. Besides being skilled in working on carved structure the labourers were also apt in handling massive stones, as there is a stone quarry nearby where they normally work. 

The cleaning of the icon proceeded with much of labour, more of care and most of patience. Each moment during this period was full of excitement. Out of which attempts of realizing the icon by mere touch were being made during lunch-breaks and evenings, as this was appearing to be a very unusual creation on stone, beyond, everyones imaginations. So it was more than difficult to be patient, yet work progressed. Special tools out of strong branches of Gum Arabic were made, which had pencil points and broad blades, due to this no scratches appeared on the sculpture. At this stage, when these fine tools were being used, even Dr. Pramod Chandra, who had revisited the site to witness the progress of the work, accompanied the officers,1 in the cleaning of statue lying on his back, using brush as the work needed a careful and delicate hand. Dr. Pramod Chandra left on 15.1.88 suggesting a few hints for careful erection of the statue. On the next day under the guidelines given by him and previous experience of work, the process of erection began. During work on the site, handling of ancient stone artifacts is safely and effectively carried out, with the help of crow-bars and wooden-batons, as leverage tools, but looking at the stone quality and enormity of statue, chain-pulley was used as secondary device. Instead of depending upon chain-pulley alone, thick ropes were tied to another two places, with jute padding to prevent any damage, ropes were pulled manually, so as to maintain control and balance. Old types, gunny bags as cushion and wooden-batons for support were placed under the statue during its erection to avoid any mis-hap. At last the statue was erected on 17th of January 1988 and placed at its present location. The underlying soil was collected and rubbles in it were sorted, keeping in mind that they could be the part of the statue: The restoration of the statue with the corresponding pieces was taken up soon. 

The Māgh Pūrnimā fair of 1988, fell soon after finding of this icon, that year the gathering in the fair was a record 50,000 plus, pilgrims kept visiting the site, even after dissolution of the fair, one day a middle aged lady, visited the site, she had a familial look at the icon and suddenly started reciting a prayer loudly in local dialect-Chhattisgarhi. In Chhattisgarh extempore odes are composed for praising the God and for lullabyes in which prevailing conditions are interwoven, they are then sung with a typical rythm. This prayer also was an extempore creation which expressed-You have come to rescue us from our misery. Then she described the form including all the creatures of its structural detail. She further added we are happy to receive you and we bow before you and welcome you. 

III. Identification of the Icon 
Immediately, after the icon was erected and positioned, it was tentatively named "Rūdra Siva". Any conclusive identification of the icon has not comeforth in the decade, although attempts of identification are continuously going on from media like news papers, periodicals, to academics like seminars/paper writings on Śaivism, Dakșina Kosala, iconography and contemporary art. It has been widely discussed sculpture all through. Possibilities of finding connection of the icon with Tantra, Navagrahas, the twelve zodiac signs, Dasāvatārs, Viśvarūpa, Pasupatī, Astamūrti, Yakșa and Gaņa also have been explored. On the basis of morphology it has been compared with sculpture of Māndhal, statue of Lung Man caves of China, warrior in Celtic painting, and the Buddhist paintings of Nepal. 

Whatever, attempts have been made uptill now to identify the icon are thoughtful and logical, yet none of them give due consideration to the regional source material. The regional source material may not lead to any decisive inference but it does indicate significant and obvious correlation with Soma-Siddhanta. 

Before, discussing the Soma-Siddhanta, I would like to emphasize on two points. Firstly, interrelation between the creator and creatures, their unity and diversity with reference to Saiva philosophy.2 Various parts and organs of this icon are composed of different creatures. The body form emerges with the support of filling lines, after the placement of these creatures. Thus it seems to me that the icon is akin to the philosophy refered to above. Secondly not only the icon under consideration, but few other statues viz. Gaņeśa, Meșamukh gana, (both are at present stationed at the North of staircase of Deorani temple) were covered by an additional structure of a later period. It is fascinating that a huge figure of an ascetic was also explored lying down on its ventral in front of the door way of Deorani temple. This was used as a step uptill the clearance work.3 It therefore seems that all the happenings were deliberately conducted by the followers of another ideology, which might have been in conflict with the religious sect refered to above. The later sect had occupied this centre. This type of conflict was common in the days of yore. 

A little is known about the Soma-Siddhanta. As no text of this sect is available so far. This sect has been casually cited in various literary works, which also include the Tantras. In short, the Soma-Siddhanta is a part of Lakulisa-Pasupata sect of Śaivism, and is established prior to 2nd Cent. A.D. by one Soma-Śarmā. The position of the sect is too much complicated within Śaivism. It has been either connected with the Āgamika school or with the Tāntric sect. The Soma-sect was often considered as an unorthodox sect, therefore severest warnings were imposed on them (alongwith Laguda, Pasupata and Kāvya). In this connection it is worth while to note that Āgamic and Tāntric Śaivism were the two ends and the Soma-school was intermediary.4 

The Soma-tradition in Dakșiņa Kosala region is refered to, in the Junwani (Malhar) copper plates of Mahāśivagupta Bālārjuna.5 This inscription mentions the ſaiva-Soma tradition, Aşțamūrti Śiva (Eight forms) Rudrah satsasty-anugrahaka (sixty-six incarnations). Lakuliśanath and Somasarma. This inscription records the donation to an Ācharya of Soma-tradition named Bhimasoma, who was a disciple of Tejasoma, and grand pupil of Rudrasoma. Thus Junwani copper plate is one of the earliest epigraphic records which contains not only the Soma-Siddhanta and its Acharyas, but also registers the establishment of Soma-school in Dakșiņa Kosala region. 

The Junwani copper plate is issued by Mahāśivagupta Bālārjuna, a heir of Vaişņava Paņdu family turned Śaiva. He used the epithet Param-Māheśvara, and he renamed his family only as “Somavamas.6' This change in the name of dynasty must have had a special significance. In this connection I would like to refer to Sirpur stone inscription7, in which Nannarāja has been remembered for “filling the earth with the temples of Śiva”. The father of Nannarāja II Tivaradeva was famous for being a follower of Vaişņavism and he has used the Garuda symbol as his royal emblem. In spite of this fact it is fascinating that he is mentioned as 'Mahāśiva' Tivaradeva. All the examples cited above are sufficient8 enough to prove the influence of Śaivism prior to Mahāśivagupta Bālārjuna in the Vaisnava Pandu family. 

The area of Dakşiņa Kosala and adjoining region of Mekala was ruled by the Pandavas of Mekala during the 6th Cent. A.D. Bamhani and Malhar copper plate inscriptions of Surabala mention the name of family as Somavamsa too. The inscription discovered from Malhar refers to Jayeśvar Bhattāraka (Temple of Śiva) and sangamagrām. The name Jayesvar obviously seems to be the name of the God worshipped by Jayabala,10 the first progenitor of the Paņdava family of Mekala. In this connection the Deorānī temple can be assigned coeval with Jayabala11 and an established centre of Saiva-Soma school. Śūrabala, the great grand son of Jayabala made donation to the temple. 

From the available evidences it can be asserted that the Soma-tradition was at the stage of culmination during the reign of Mahāśivagupta Bālārjuna and after whom it went under oblivion as some other cult overtook it. The Soma-Śaiva tradition in Dakşiņa-Kosala can be traced-back at least from the reign of Jayabala and it becomes evident that Soma-Śaiva school was significant in this region, which was considered to be an unorthodox and extreme sect. The unusual features of Tālā seems to be an expression of the same. The icon under consideration is formed in accordance with prescription of Soma-Saiva cult. 

REFERENCES 

*To introduce the site of Tālā, the contributor has discussed the part I & II of this paper in detail, as asked by me. -L.S. Nigam. 

1. The entire work was conducted by Sri G.L. Raikwar and the author. Sri K.K. Chakravarty, I.A.S. was present at the site during the work of session 1987-88. 

2. Please refer the relevant chapter of R.G. Bhandarkar's Vaisnavism, Saivism and other minor religious systems, 1929. 

3. In this connection, it is notable that Jethani temple consist of south faced main entrance, which has an unorthodox indication. 

4. The Soma-Saiva Siddhanta has been discussed by V.S. Pathak in his monograph entitled History of Saiva cults in Northern India from Inscriptions (700 A.D. to 1200 A.D.), 1980. B. Bhattacharya's, Saivism and the Phallic World, 1975; may also be consulted. 

5. G.L. Raikwar and Rahul Kumar Singh, Mahasivagupta Balarjuna Ka 57ve varsh ka Junawani (Malhar) Tamaralekh [In Hindi], Puratan 1994, Vol. 9, pp. 146-47. It is an interesting coincidence that this inscription was came to light, immediately the next day after the Tālā icon was erected. 

6. We are having references in which the dynasty was described as sasikula, sasivamsa, sitansu-vamasa, chandranvaya, sasadharanvaya, see A.M. Shastri's Inscriptions of Sarabhapuriyas, Pānduvamsins and Somavaṁsis, 1995 (hence after referred to as ISPS) Part-I, pp. 132-33. 

7. Ibid., part II no. III:XIII. 

8. In this connection Sirpur hoard of 9 sets of copper plates and Malhar (Bäsin diprā) stone inscription are noteworthy in which other Saivacharyas are mentioned. The text of these inscription was supplied by the author himself to Dr. A.M. Shastri, who has incorporated the material in his book ISPS, Pt. II as ADDENDA. 

9. Ibid., No. II:I and II:II. 

10. Jayeśvara is one of the names of God Śiva and there was a ruler named Jayarāja amongst the Sarabhapuriya dynasty. This and other similar co-relations are used as chronological frame. No independent proposition is intended. 

11. Though K.D. Bajpai has identified Sangamgrām with Tālā and one of the temple as Jayesvar Bhattāraka, but he has not given any firm evidence in support of his views in ABORI (Diamond Jubilee Volume 1977-78), pp. 433-37. 

** The author is thankful to Mr. & Mrs. Joglekar (Vivek and Shubhda) for their cooperation and intellectual participation rendered by them in each stage of drafting the paper.

शोधादि संदर्भों के लिए मूल ग्रंथ से मिलान अपेक्षित होगा।

Tuesday, March 29, 2022

युवा मीत - YuMetta

अपनी बातचीत में युवा पीढ़ी के प्रति न सिर्फ आश्वस्ति, बल्कि बेहतर भविष्य की संभावना व्यक्त करता रहता हूं। यह कोरा आशावाद नहीं है। ऐसा संयोग लगभग लगातार रहता है कि मेरा संपर्क ऐसे युवाओं से होता है।

पिछले सप्ताह युवाओं से बातचीत के एक कार्यक्रम में गया। YuMetta Foundation संस्था के Go To The People Camp CHHATTISGARH में Journey Outwards के अंतर्गत मेरे लिए Understanding-accepting-editing system of relationships पर बात करना निर्धारित किया गया था। बताया गया कि प्रतिभागियों के लिए एक कैम्प Journey Inwards हो चुका है।


सत्र में लगभग 30 युवा और 10 आयोजक सदस्य थे। मेरे लिए उपलब्धि की तरह था कि परिचय आदि के बाद सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक लगातार प्रतिभागियों का साथ रहा। भोजन और चाय अंतराल के दौरान भी सत्र से जुड़ी अनौपचारिक चर्चा होती रही। आठ घंटे लगातार एकल वक्ता की भूमिका में, आयोजक सदस्यों के सहयोग से, सत्र पूरा करना सहज संभव इसलिए हुआ कि प्रतिभागी पूरे मन से जुड़े रहे। सवाल, जिज्ञासा, संदेह, आपत्ति करते रहे और मेरी बातों के साथ इत्तिफाक-नाइत्तिफाकी रखते पूरक जानकारी जोड़ते रहे।

सत्र में मैंने मुख्यतः जो बातें कहीं-


* पहले कैम्प में आप अंतर्मुख यात्रा का कठिन रास्ता तय कर चुके हैं, आगे बहिर्मुख यात्रा का रास्ता उसकी तुलना में आसान है, मगर उसमें आने वाली कठिनाइयों को नजरअंदाज नहीं करना है, उन्हें तलाशना है, जिसमें स्थिति के साथ निदानात्मक सामंजस्य बना सकने का आत्मविश्वास हो, उसके लिए कठिनाई को देख पाना और उसे सुलझाने की नीयत और तैयारी के साथ निर्वाह संभव होता है।कहा गया है, दूसरों को समझ लेना ज्ञानी का काम है। स्वयं को समझना प्रदीप्त होना है।

* ध्यान रहे नायक, अगुवा वही होता है, जो पहल करता है और समावेशी होता है। Leadership> initiation+inclusion.

* अपनी पहचान, अपने अभ्यस्त संदर्भों से अलग हटकर संभव है तो अपने परिवेश की पहचान अपने असपास के सभी संदर्भों के अवलोकन से। 

* ‘बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत कहो‘ का पालन करें, मगर तटस्थ अवलोकन के बाद बुरा-भला तय करें, सिर्फ इसलिए कि बुरा है मान कर आंख, कान, मुंह न बंद कर लें। न ही अच्छा है तय कर आकर्षण में पड़े।

* खुद को पसंद करना और खुद पर भरोसा जरूरी है, मगर आत्म-मुग्ध हो कर आत्मकेंद्रित होने से बचें।

* आप खुद को पसंद करते हैं, मां के हाथ बना खाना पसंद है। अपना परिवार, रिश्तेदार, मित्र प्रिय है तो आप में पसंदगी का गुण है फिर आप परिवेश की निर्जीव वस्तुओं, सजीव वस्तुओं- पेड़-पौधे, जीव-जंतु/ गांव, समाज, इर्द-गिर्द घटित हो रहे से ले कर देश-दुनिया और उसके आगे की भी हलचल पर नजर रखते अपनी पसंद विस्तारित कर सकते हैं।

* स्वभाव (nature) से कोई सही-गलत, अच्छा-बुरा नहीं होता, उसे बदलने की न सोचें, न प्रयास करें। प्रत्येक व्यक्ति अपने मूल स्वभाव के अनुरूप समाज में संतुलित व्यवहार करते हुए उपयोगी और आवश्यक है। व्यवहार (behaviour) भी सही या गलत नहीं होता, बदलता रहता है और परिस्थितियों के संदर्भ में उपयुक्त या अनुपयुक्त हो सकता है, अतएव लचीला हो।

* मन तो अंतरा ही होता है, उसे बार-बार स्थायी पर लाना होता है। अंतरा, मन के भाव हैं और स्थायी, आचरण। अंतरा, जिसमें आचरण से अलग अंतरंग मन की झलक हो। 

* अपनी खुशी के मालिक आप स्वयं बने। व्यक्ति में हंसने और रोने की क्षमता है, परिस्थिति के अनुरूप दोनों आवश्यक भी है। परिस्थितियों पर अवसर अनुरूप किंतु स्थायी निर्भरता अपनी क्षमता पर हो। दिव्यांग, अपने वांछित लक्ष्य प्राप्त कर सकता है फिर सर्वांग क्यों नहीं!

* आंख और कान, अक्रिय और सक्रिय अवलोकन के लिए मुख्य ज्ञानेन्द्रियां हैं। हमारी शारीरिक अनिवार्यता हमारी अनैच्छिक मांसपंशियों के जिम्मे है और ढेर सारी प्रतिक्रियाएं प्रत्युत्पन्न। ज्ञानेन्द्रियों से एकत्र सूचना, मन-मस्तिष्क-विवेक से कर्मेंन्द्रियों को संचालित करती है।

* लक्ष्य-सोच, अपने परिवेश से आरंभ कर समाज के अंतिम व्यक्ति तक। जिस परिवेश-समाज के हम सदस्य हैं, वहां की विसंगति-समस्या, वहां जो कमजोर-लाचार है, वह हमारी प्राथमिकता है।

* तात्कालिक प्रतिक्रिया और निष्कर्ष, आवश्यक हो तभी अन्यथा स्थिति का आकलन - मूल कारण - तात्कालिक कारण तथा उसका तात्कालिक - दीर्घकालिक परिणाम का विचार करें।

* प्राकृतिक विज्ञान में कार्य-कारण संबंध होते हैं, मगर सामाजिक विज्ञान में स्थिति के विभिन्न कारक होते हैं। कई बार मुख्य कारक ओझल से होते हैं और गौण कारण उभरे दिखाई पड़ते हैं, उन्हें ठीक ठीक पहचानने का प्रयास होना चाहिए।

* सामान्यतः भूत कारक, भूगोल और इतिहास की पृष्ठभूमि में होते हैं। वर्तमान कारक, आर्थिक, राजनैतिक और सामाजिक होते हैं तथा भविष्यत कारक वैचारिक, धार्मिक, नैतिक, आस्था और विश्वासगत होते हैं।

* व्यक्ति-स्थिति के नकारात्मक को, स्थिति की समस्या को पहचानना, नकारात्मक दृष्टिकोण मान कर उपेक्षणीय नहीं, बल्कि आवश्यक है किन्तु सकारात्मक अंश को रेखांकित कर उभारने, सक्रिय करने का प्रयास श्रेयस्कर और आवश्यक होता है।

* प्राथमिकताओं का निर्धारण और निराकरण, सामाजिक व्यवस्थागत विसंगतियां। समस्या के लिए पूर्वानुमान, सावधानी, आवश्यक संसाधनों का आकलन, उपलब्धता तथा समस्या के निदान, उपचार और स्थायी निराकरण की समग्र दृष्टि आवश्यक है।

* ऐसी कई बातों की चर्चा के साथ छत्तीसगढ़ को उदाहरण बना कर, उसका इस समग्रता की दृष्टि से परिचय कि किस प्रकार किसी अंचल का भूगोल, मानविकी, शासन व्यवस्था, अर्थशास्त्र, राजनीति, प्रशासन और उसके भविष्य के स्वरूप को निर्धारित करने वाले कारक होते हैं।


सत्र के दौरान मैंने महसूस किया कि वर्तमान और भविष्य की चिंता इन युवाओं को हमसे अधिक है, लेकिन उसमें निदान और निराकरण की संभावना देखने और उद्यम कर सकने का सामर्थ्य है। वे अपने भविष्य/कैरियर की वैकल्पिक संभावना के लिए भी तैयार हैं। हमें तब तक परेशान होने की जरूरत नहीं है, जब तक हम उनके साथ हैं, वे हमारे साथ हैं और हम भी उनकी तरह, उनके नजरिए से समाज और दुनिया की हर ऐसी कमी और जरूरत को देख पा रहे हैं, जिससे मुकाबिल होने का उत्साह उनमें है साथ ही दुनिया को बेहतर कर सकने का जज्बा भी।

Monday, March 28, 2022

सरगुजा - कुन्तल

डॉ. श्रीमती कुन्तल गोयल का जन्म 31.12.1935 (देहांत 25 अक्टूबर 2015) को बैकुण्ठपुर, कोरिया में साहित्यिक अभिरुचि वाले परिवार में हुआ। आपके पिता स्व. बाबूलाल जैन ‘जलज‘ स्वयं द्विवेदी कालीन कवियों में थे। आपके चार भाइयों में डॉ. कान्ति कुमार जैन प्रतिष्ठित साहित्यकार हुए। आपका विवाह निबंधकार प्रोफेसर उत्तम चन्द्र जैन गोयल से हुआ। आपने सन 1971 में रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर से 'नृतत्व एवं समाजशास्त्र के आधार पर छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले के लोकगीतों का अध्ययन‘ विषयक शोध-उपाधि, डॉ. महावीरसरन जैन के निर्देशन में प्राप्त की। यह शोध-प्रबंध पुस्तक रूप में ‘काले कंठों के श्वेत गीत‘ शीर्षक से प्रकाशित है। आपके कहानी संग्रह, संस्मरण, ललित निबंध और छत्तीसगढ़ की लोक कथाएँ प्रकाशित हैं। विभिन्न सम्मान पुरस्कारों के साथ आपको छत्तीसगढ़ शासन का प्रतिष्ठित ‘पं. सुंदरलाल शर्मा साहित्य सम्मान-2009‘ प्राप्त है।

सरगुजा अंचल की संस्कृति परउनका लेखन महत्वपूर्ण रहा है। राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में उनकी रचनाएं प्रकाशित होती रही हैं। यहां प्रस्तुत उनका लेख ‘मध्यप्रदेश संदेश‘ पत्रिका (10 अप्रैल 1983) में प्रकाशित हुआ था। लेख के साथ परिचय दिया गया है कि ‘‘प्रस्तुत लेख में सरगुजा जिले की वन-सम्पदा पर विस्तार से जानकारी दी है. वहीं वृक्षारोपण की ओर भी संकेत किया है. इसके साथ ही सरगुजा जिले का ऐतिहासिक संदर्भ भी प्रस्तुत किया है.“


इतिहास के पृष्ठों को समेटे
सरगुजा की वनश्री

सरगुजा जिले का प्राकृतिक एवं सुरम्य सौन्दर्य सदैव से प्रकृति प्रेमियों के आकर्षण का केन्द्र रहा है. आकाश छूते हरे-भरे पत्तों से लकदक सघन साल वन और उनसे झरती रोशनी का सम्मोहन, खिलते हुए पलाश, रस भरे महुये और दूर-दूर तक फैली उनकी मधुर मादक गंध, खिल-खिल करते गुलमोहर, गगनचुम्बी वृक्षों की सघन पातें, मध्य में हरियाली से आच्छादित पर्वत श्रेणियों से घिरे वर्तुलाकार समतल भूरे मैदान, कहीं-कहीं एक भयावह मायाजाल की अनुभूति देता अभिनव सौन्दर्य, वन्य पशुओं की गर्जन-तर्जन के बेधक स्वर- सचमुच ही सरगुजा जिले के ऊंघते अनमने वनों को एक निराली रहस्यमयता प्रदान करते हैं. साथ ही सुरम्य और रमणीक साल वन ने उनकी रूप-छवि में श्रीवृद्धि कर उसे “स्वर्ग“ बना दिया. वर्ष में संभवतः कुछ ही दिन ऐसे होते हैं जब साल वृक्ष पत्रविहीन होता है. जब इन वृक्षों में नये पुष्प खिलते हैं तब लालिमायुक्त फूलों का आकर्षण दूर से ही हमारी दृष्टि-परिधि को बांध लेता है और मन तरंगित हो उठता है. इन वनों के कारण ही सरगुजा का ग्रीष्मकाल अत्यन्त शीतल रहता है और उसकी रातें बड़ी सुहावनी और मादक होती है. स्वर्गिक विलास के ये अभिन्न सहचर सरगुजा के ये सघन वन और उसका सौन्दर्य अपने आप में एक ऐसा तिलस्म है जिसे देख पाना आसान नहीं है.

यहां की धरती अरबों टन कोयला से समृद्ध है जो इन्हीं वनों की देन है. सरगुजा यदि लम्बे काल तक बाह्य आक्रमणों से सुरक्षित रहा तो उसका एक प्रमुख कारण यही रहा कि सघन साल वनों की ढाल ने उस पर शत्रुओं की नजर नहीं लगने दी. महाकान्तर कहलाने वाले जिस सघन और विशाल वन का उल्लेख उत्तर और दक्षिण भारत के बीच एक विभाजक रेखा के रूप में प्राचीन काल से स्वीकार किया जाता रहा है, सरगुजा के वन उसी का अभिन्न अंग हैं. यद्यपि महाकान्तर जैसी गहनता अब नहीं रह गई है तथापि सरगुजा का सौन्दर्य उसके सघन वनों और उनमें विचरण करने वाले विविध वन्य प्राणियों में आज भी सुरक्षित है.

सरगुजा के साल वन अनेक चिर-स्मरणीय घटनाओं के साक्षी रहे हैं. वे अपने क्रोड़ में न केवल धार्मिक एवं ऐतिहासिक स्थलों को संजोये हुए हैं वरन् पौराणिक आख्यानों के साक्ष्य भी प्रस्तुत करते हैं. पीढ़ियों से इन वनों ने जन-जीवन की गतिविधियों को प्रभावित किया है तथा भारतीय संस्कृति के उन्नयन में उनका प्रेरक योगदान रहा है.

प्राचीन काल में सरगुजा अंचल “दण्डकारण्य“ के अंतर्गत समाविष्ट था. दण्डक के नामकरण के संबंध में यहां एक किंवदन्ती प्रचलित है- कहा जाता है कि एक बार भारी दुर्भिक्ष पड़ने पर सभी ऋषियों ने अपने आश्रमों का त्याग कर महर्षि गौतम के आश्रम में शरण ली. दुर्भिक्ष की समाप्ति पर जब ऋषिगण प्रस्थान हेतु उनसे विदा मांगने आये तो महर्षि ने उनसे वहीं रहने का अनुरोध किया. ऋषियों ने यह स्वीकार तो कर लिया पर उन्होंने मुक्त होने के लिये एक मायावी गाय की रचना की और उसे एक खेत में खड़ा कर दिया. जब महर्षि उसे भगाने के लिये गये तो वह गिर कर मर गई. ऋषियों ने अनुकूल अवसर पाकर गौ-हत्या का पाप लगाया. महर्षि ने अपने योग बल से वस्तु स्थिति की सत्यता भांप ली और ऋषियों को यह श्राप दिया- तुम जहां भी जाओगे, वह स्थान नष्ट-भ्रष्ट होकर वनस्पतियों से विहीन हो जायेगा. तभी से यह स्थान “दण्डकारण्य“ या “दण्डक वन“ नाम से विख्यात हुआ. कहा जाता है कि भगवान राम के दण्डकारण्य में प्रवेश करने पर उनके चरण-स्पर्श से यह क्षेत्र श्रापमुक्त होकर पुनः सौन्दर्यश्री से समृद्ध हुआ.

भगवान राम ने अपने वनवास की कुछ अवधि सरगुजा के इन्हीं सघन वन कांतरों में व्यतीत की थी. जिस पर्वत पर उन्होंने आश्रय लिया था वह पर्वत आज भी उनके कारण “रामगढ़“ या “रामगिरि“ के नाम से विख्यात है. उनके चरण-स्पर्श से यह स्थल हरितिमायुक्त सौन्दर्यश्री से मण्डित हुआ. इसका उल्लेख गोस्वामी तुलसीदास की इन पंक्तियों में भी हुआ है-“दंडक पुहुमि माय परस पुनीत भई उकटे विटप लागे फूलन फलन.“ यहीं पर वह मतंग वन जो अपनी गोद में मातिन पर्वत को समाये हुए है. बाल्मीकि रामायण में भी अनेक स्थलों पर साल वनों का उल्लेख मिलता है. भगवान राम की विशाल मनोहर पर्णकुटी साल पत्तों से ही आच्छादित की गई थी. प्रयाग से चित्रकूट जाने वाला मार्ग भी साल वनों से ही सुशोभित था. कहा जाता है कि भरत की सेना को देखने के लिये लक्ष्मण पुष्पित साल वृक्ष पर चढ़े थे. ये सभी प्रसंग सरगुजा के साल वनों की समृद्धि को रेखांकित करते हैं. यह एक आश्चर्य है कि इस अंचल में आज भी 120 फुट तक आकाश की ऊंचाई छूने वाले साल वृक्षों का सौन्दर्य नितान्त उनका अपना ही है।

सरगुजा के इन्हीं साल वनों में आर्य संस्कृति के प्रचार-प्रसार की दृष्टि से अनेक आर्य ऋषियों ने अपने आश्रमों की स्थापना की थी और आजीवन वहां निवास किया था. रामगढ़ पर्वत पर विद्यमान महामुनि वशिष्ठ का आश्रम आज भी दर्शनीय है. शरभंग, सुतीक्ष्ण आदि ऋषियों के आश्रम भी इन्हीं वनों में थे जहां भगवान राम ने ऋषियों को संत्रस्त करने वाले क्रूर राक्षसों के विनाश की कठोर प्रतीज्ञा ली थी. राक्षसों के बध का प्रमाण यहां का “रकसगण्डा“ नामक वह स्थल है जो राक्षसों की हड्डियों के ढेर के कारण अपने नाम को सार्थक करता है.

महाभारत काल में पाण्डवों ने अपना अज्ञातवास इन्हीं सघन वनों में व्यतीत किया था. उन्हें खोजते हुए कौरव भी इस जनपद में आये थे. कहा जाता है कि कौरवों और पाण्डवों के सम्पर्क से यहां की स्त्रियों को जो सन्तानें उत्पन्न हुई, वे आज भी अपने को “कौरवा“ और “पाण्डो“ कहती हैं तथा कौरव-पाण्डवों को अपना वंशज मानती हैं. ये जातियां बड़ी धनुर्विद, युयुत्सु और दर्पीली हैं कुछ वर्षों पूर्व सरगुजा रियासत में कौरव जाति का इतना आतंक था कि बाहर से पाने वाले यात्री को वे सहज ही लूट लिया करते थे. इस संबंध में यह किंवदन्ती प्रचलित है कि यदि शेर से वे बच भी गये तो कोरवों से बच पाना उनके लिये नितान्त असम्भव था. यहां एक दिलचस्प बात यह है कि ये जातियां भारत के किसी अन्य स्थान में नहीं पाई जाती. यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि महाभारतकालीन विराट नगर सरगुजा के सीमावर्ती शहडोल जिले में स्थित सोहागपुर क्षेत्र है जहां से उन्होंने सरगुजा के सघन वनों में प्रवेश कर अपने को अज्ञात रखा था.

जैन और बौद्ध धर्म का प्रभाव भी इस वन्यांचल पर कम नहीं पड़ा. यहां की जोगीमारा गुफा में प्राप्त तीर्थकर का भित्ति चित्र तथा पहाड़ी पर स्थित मंदिर में जैन तीर्थकरों के चिन्ह जैन धर्म के प्रभाव के साक्ष्य हैं. कहा जाता है कि ये कलिंग नरेश खारवेल के समय के हैं जो जैन धर्मावलम्बी था. सरगुजा में प्राप्त बौद्धकालोन अवशेषों की अपनी कहानी है. भगवान बुद्ध ने अपने अनुयायियों को अपने जीवन काल में पांच वृक्ष लगाने और उनका पांच वर्ष तक संरक्षण करने का उपदेश दिया था. इसके पीछे यह व्यावहारिक सत्य था कि जहां वन हैं वहां जल है, जहां जल है वहां अन्न है और जहां अन्न है वहां जीवन है. डा. शूमाखर ने भी अपने “बौद्ध अर्थशास्त्र“ में लिखा है- “जब तक भारत में पेड़ लगाने और उनका पोषण करने की बौद्ध परम्परा प्रचलित रही, न कभी अकाल पड़ा, न कभी सूखा. बाढ़ें भी नहीं आती थी.“ इस कथन की सत्यता इस काल में यहां चरितार्थ हुई. आज भी सरगुजा में बौद्धकालीन अवशेष सघन वनों के मध्य पाये जाते हैं. प्राकृतिक वैभव से सम्पन्न यहां का मैनपाट बौद्धकालीन गुफाओं एवं मठों के लिये सर्वप्रसिद्ध है. कहा जाता है कि चीनी यात्री ह्वेनसांग ने भारत यात्रा के दौरान कुछ समय यहां भी व्यतीत किया था. यहां के हरचौका, ग्राम में बौद्ध भिक्षुत्रों के जो 18 मठ मिले हैं. वे सब सुरम्य वनों के मध्य ही स्थापित हैं. सरगुजा के बौद्धकालीन अवशेष वनों के प्रति अपने आत्मीय भाव का परिचय देते हुए यहां की प्राकृतिक सम्पदा को श्रीवृद्धि ही नहीं कर रहे वरन् अपनी बौद्ध परम्परा का भी निर्वाह कर रहे हैं.

सरगुजा के इन वन प्रान्तरों ने हमारी बौद्धिक चेतना को जाग्रत कर हमारी अनुभूतियों का भी सिंचन किया है. आदिकवि बाल्मीक ने अपनी रामायण में सरगुजा के साल वनों की महिमा गाई है. महाकवि कालिदास ने रामगढ़ पर्वत के चारों ओर प्राकृतिक सुषमा और अभिनव सौन्दर्य से प्रभावित होकर राम की विरहावस्था का संकेत लेकर अपनी अमर कृति “मेघदूत“ की रचना की. उन्होंने अपनी प्रिया के विरही यक्ष को सघन छायादार सुशीतल वृक्षों से शोभित इसी रामगिरि में निवास कराया है. भवभूति का “उत्तर रामचरित“ भी यहां की वनश्री के विविध सौन्दर्य छवियों से रूपायित है.

सरगुजा के इन्हीं वनांचलों ने बड़े स्नेह से पशु-पक्षियों को भी आश्रय दिया है. यहां के आदिवासी वृक्षों के ही नहीं वनचरों के भी सहचर रहे हैं. देशी राज्य सरगुजा अपने राज्य काल में विविध वन्य पशुओं का समृद्ध आश्रय स्थल था. यहां के वन शेर, हाथी, चीता, गेंडा, जंगली भैंसा, हिरण, बारहसिंगा, बराह तथा विभिन्न प्रकार के मनोरम पशु-पक्षियों से सुशोभित रहे हैं. शेरों की यहां कई जातियां उपलब्ध थीं. विश्व प्रसिद्ध सफेद शेर मोहन सबसे पहले सीधी-सरगुजा क्षेत्र में ही देखा गया था. चीता नामक शेर की जो नस्ल समाप्त हो गई है, वह यहां 1932 तक जीवित रूप में देखा गया था. कहा जाता है कि रियासत काल में यहां शेरों को संख्या इतनी अधिक थी कि प्रवासियों का इनसे बचकर पा पाना असम्भव नहीं तो कठिन अवश्य था. इस संबंध में यह लोकोक्ति अत्यन्त प्रचलित थी- “जहर खाय न माहुर खाय, मरे का होय तो सरगुजा जाय.“ आशय यही है कि मरने के लिये जहर खाने की आवश्यकता नहीं है. सरगुजा के हिंस्र पशु ही इसके लिये पर्याप्त है.

सरगुजा के वन प्रान्तर गज-यूथों के लिये भी सुप्रसिद्ध रहे हैं. यहां यह तथ्य उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष विजयादशमी के अवसर पर हाथियों का भव्य जुलूस निकाला जाता था, ऐसी भव्यता कम ही रियासतों में देखने को मिलती होगी. स्वाधीनता संग्राम के अंतिम दिनों में महाराजा रामानुजशरण सिंह देव ने अपनी सेना से 100 हाथी महात्मा गांधी के आयोजन को सफल बनाने के लिये रांची भिजवाये थे. महाराजा द्वारा यहां के हाथी पन्ना, छतरपुर, ग्वालियर, झांसी, आदि बुन्देलखण्ड के महाराजाओं को भेंट स्वरूप भी दिये जाते थे.

सरगुजा के महाराजा विश्व के माने हुए शिकारियों में से एक थे. उन्हें जिम कार्बेट से भी सौ गुना बड़ा शिकारी माना जाता है. वनराज के लिये उनका एक ही अचूक निशाना पर्याप्त होता था. उन्होंने अपने जीवन काल में 1300 शेरों का शिकार कर विश्व कीर्तिमान स्थापित किया था. आज भी महाराजा द्वारा शिकार किये गये अनेक नखी एवं खूंखार वन्य प्राणियों के अवशेष “सरगुजा पैलेस“ में देखे जा सकते हैं. रियासत काल में यहां प्रति वर्ष 20 से 30 शेर मारे जाते थे और 40 वर्षों तक निरन्तर शेरों का इस तरह शिकार किये जाने पर भी उनकी संख्या कम नहीं हुई. इसका एक कारण यही रहा है कि यहां के सघन वनों में उतने शेरों की परवरिश करने की क्षमता थी. यहां कभी मनोरंजन के लिये निरीह पशुओं का शिकार नहीं किया गया. यही वह क्षेत्र है जहां लुप्तप्राय पैंथर का अंतिम शिकार 1932 में किया गया था. इन वन्य पशुओं के अतिरिक्त यहां के वन मयूर नृत्यों से शोभित, कोकिलों की कूक से गुंजित विविध मनोहारी पक्षियों से ही दर्शनीय नहीं है वरन् यहां के लोक गीतों में वे संस्कृति के समृद्धशाली तत्वों के रूप में भी अवतरित हुए है.

सरगुजा एक आदिवासी बहुल क्षेत्र है और यहां के आदिवासी बीहड़ एवं घने वनों क मध्य स्थित छोटे-छोटे ग्रामों में निवास करते ह यहां की आदिवासी संस्कृति मूलतः वन्य संस्कृति है. गौंड, शबर, निषाद, उरांव आदि जातियां यहां के वनों से अभिन्न रूप से जुड़ी हुई हैं. ये वन इनके सामाजिक, धार्मिक एवं आर्थिक जीवन का आधार हैं. वृक्षों से इनके जीवन का लालन-पालन होता है. इनके फल-फूल इनके जीवनयापन के ही नहीं इनकी श्रृंगारिक अभिरुचियों को भी सन्तुष्टि प्रदान करते हैं. इस तरह वन, वन्य पशु और वनवासी प्राकृतिक समग्रता के अंग हैं. वृक्षों में ये अपने कुल देवता के में निवास मानते हैं. अपने शांत, सुखद और समृद्धपूर्ण जीवन के लिये वे इनकी विधिवत पूजा अर्चना करते हैं. अपनी धार्मिक मान्यताओं के कारण ये देवी-देवताओं को भेंट करने के लिये छोटे-छोटे उपवन लगाते हैं जिन्हें “सरना“ कहा जाता है. यह स्थान अत्यंत पवित्र और पूज्य माना जाता है तथा पीढ़ी दर पीढ़ी इसे सुरक्षित रखा जाता है. सरगुजा में सरना प्रथा प्रचलित होने के कारण यहां के वनों को अनजाने संरक्षण मिलता रहा है. साल, महुआ, बड़, पीपल, आंवला आदि वृक्ष इनके जीवन में इतने रच बस गये हैं कि ये उनके लिये उपास्य देव बन गये है. आर्य संस्कृति से प्रभावित इनकी मान्यता के अनुसार वट तथा पीपल की जड़ में ब्रह्म देवता का निवास माना जाता है. सन्तान प्राप्ति के लिये स्त्रियां वट तथा आंवला वृक्ष की पूजा करती हैं. महुआ में महुआ देव का में निवास माना जाता है तथा नीम वृक्ष में आदि शक्ति देवी का पवित्र निवास मानकर बड़ी श्रद्धा से उसकी पूजा-अर्चना की जाती है. नीम, पीपल, वट आदि पवित्र वृक्षों के चारों ओर चबूतरा बनाकर ध्वजा स्थापित कर बड़े विधि-विधान के साथ आदिवासी स्त्री और पुरुष अपनी भावनाओं को अर्पित करते हैं. और इनसे आशीर्वाद की कामना करते हैं. ये वृक्ष, ये वन इन वनवासियों के लिये अपने ही जैसे सजीव और हितकारी हैं. इन वृक्षों की महत्ता इनके लिये सामाजिक कार्यों में भी कम नहीं है. जिस लड़की के विवाह अधिक कठिनाई आती है या जिसका विवाह होता ही नहीं है, उसका विवाह कपड़े में लिपटी महुये की लकड़ी से कर दिया जाता है. इसके बाद उस लकड़ी को वन में किसी वृक्ष से बांध दिया जाता है. जो भी व्यक्ति सर्वप्रथम प्राकर उसे बन्धन मुक्त करता है, उससे उस लड़की का विवाह कर दिया जाता है.

हमारे वेदों और ऋषि मुनियों ने वृक्ष संवर्द्धन को “स्वर्ग का द्वार“ निरूपित किया है. इतिहास की सांस्कृतिक धरोहर के धनी सरगुजा के ये साल वन आज संकट के दौर से गुजर रहे हैं. हम आज उस दिन की प्रतीक्षा कर रहे हैं जब हर सरगुजावासी साल वनों के गौरवपूर्ण इतिहास से गुजर कर सम्राट अशोक की तरह कह सकेगा- “रास्ते पर मैंने वट वृक्ष रोप दिये हैं जिससे मनुष्यों और पशुओं को छाया मिले. अमराइयां लगाई हैं जो फल दें.“ यदि हम ऐसा कर सके जो निश्चित ही सरगुजा कल की तरह आज भी स्वर्ग की सार्थकता सिद्ध कर सकता है.
डॉ. कुंतल गोयल पर डॉ. रेखा दुबे ने
शोध किया, जो पुस्तक रूप में
2013 में प्रकाशित हुआ।


Sunday, March 27, 2022

बिलासपुर की प्राचीन नवपुरी

सात जिलों वाले छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के पुरातात्विक स्थलों पर सन 1985 से 1997 तक, विभिन्न प्रयोजन हेतु जानकारियां तैयार की जाती रहीं। इस दौरान बिलासपुर के पुरातत्व कार्यालय में पदस्थ रहते हुए मुझे यह अवसर बार-बार मिला। इन्हीं में से एक यह तत्कालीन बिलासपुर जिले के नौ प्रमुख पुरातात्विक स्थलों की संक्षिप्त जानकारी यहां प्रस्तुत है-

1. अड़भार- बिलासपुर से लगभग 65 किलोमीटर दूर, सक्ती अनुविभाग में स्थित है। संभवतः इसी ग्राम को प्राचीन अभिलेखों में अष्टद्वार कहा गया है। स्थल पर 7-8 वीं सदी ईस्वी के स्थापत्य अवशेष विद्यमान है, जो मूलतः शिव मंदिर रहा होगा। पश्चिमाभिमुख यह शिव मंदिर अष्टकोणीय तारानुकृति तल-विन्यास वाला है, जिसमें प्रवेश हेतु दो द्वार अब भी विद्यमान है। प्रवेश द्वार-शाखाओं पर नाग तथा संभवतः गरुड़ और सिरदल पर कार्तिकेय व उमा-महेश का अंकन है। मंदिर परिसर में अत्यंत आकर्षक अष्टभुजी महिषमर्दिनी तथा जैन तीर्थकर पार्श्वनाथ की प्रतिमाएं हैं साथ ही नंदी तथा अष्टभुजी नटराज शिव की भी प्रतिमा है, जो तत्कालीन कला-प्रतिमानों में प्रतिनिधि प्रतिमा के रुप में प्रस्तुत की जा सकती है। स्थल से ऐतिहासिक महत्व को विभिन्न शिलालेख, ताम्रपत्र व कलात्मक प्रतिमाएं प्रकाश में आई है। प्राचीन मृत्तिका-दुर्ग अथवा धूलि-दुर्ग (mud fort) की रुपरेखा भी अवशिष्ट है। समीप ही दमउदहरा नाम से प्रसिद्ध तीर्थस्थल ऋषभतीर्थ 'गुंजी' है, जो महत्वपूर्ण धार्मिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक दृश्यावली सम्पन्न स्थल है।

2. खरौद-शिवरीनारायण- खरौद, बिलासपुर से लगभग 63 किलोमीटर दूर, जांजगीर अनुविभाग में स्थित है। यह स्थान विगत सदियों से 'परगना' के रुप में प्रशासनिक इकाई का मुख्यालय रहा है। यहां 7-8 वीं सदी ईस्वी के ईंट-निर्मित मंदिर विद्यमान है, जिनमें इन्दल देउल और शबरी मंदिर मुख्य है। दोनों मंदिर तारकानुकृति तल-विन्यास पर निर्मित है। इन्दल देउल के पाषाण निर्मित प्रवेश द्वार पर पूरे शाख के आकार की नदी देवियाँ गंगा, यमुना उल्लेखनीय है। शबरी मंदिर के प्रवेश द्वार पर नाग तथा गरुड़ का क्षेत्रीय परम्परागत अंकन है। शबरी मंदिर के मंडप की प्रतिमाएं तथा स्तंभ भी महत्वपूर्ण हैं एक अन्य प्राचीन मंदिर लक्ष्मणेश्वर है, जिसे विशेष धार्मिक मान्यता प्राप्त है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर गंगा-यमुना और शैव-द्वारपाल है। मंदिर के स्तंभों पर रामकथा का अंकन है तथा मंडप की भित्तियों पर दो प्राचीन महत्वपूर्ण शिलालेख जड़े हैं। मंदिर परिसर में कुछ अन्य महत्वपूर्ण प्रतिमाओं के साथ अभिलिखित राजपुरुष की प्रतिमा भी विद्यमान है। ग्राम में अन्य प्रतिमाएं तथा स्थापत्य अवशेष भी प्राप्त हुए है तथा अवशिष्ट धूलि-दुर्ग के लक्षण परिखा (खाई) के रुप में विद्यमान है।

संलग्न स्थल शिवरीनारायण, महानदी-शिवनाथ-जोंक संगम त्रिवेणी के निकट स्थित, छत्तीसगढ़ का प्रमुख वैष्णव केंद्र है। यहां 11-12 वीं सदी ईस्वी के नर-नारायण मंदिर, केशवनारायण मंदिर, चंद्रचूड़ मंदिर सहित पिछली सदी का राम-जानकी मंदिर है। प्राचीन शिलालेख और ताम्रपत्र भी प्राप्त हुए हैं। सन 1891 तक यह तहसील मुख्यालय रहा साथ ही जगन्नाथ पुरी से संबद्धता और माघ पूर्णिमा पर मेला भी उल्लेखनीय है।

3. जांजगीर- बिलासपुर से लगभग 58 किलोमीटर दूर, अनुविभाग मुख्यालय है। यह स्थल रत्नपुर शाखा के कलचुरि शासक जाजल्लदेव प्रथम द्वारा बसाया गया माना जाता है। यहां 11-12 वीं सदी ईस्वी के दो मंदिर विशेष उल्लेखनीय है। शिखर-विहीन विष्णु मंदिर स्थापत्य की दृष्टि से पूर्ण विकसित एवं तत्कालीन कला का प्रतिनिधि उदाहरण है। मानवाकार प्रतिमाओं युक्त विशाल जगती (चबूतरे) पर मंदिर निर्मित है। जगती पर देव प्रतिमाओं के साथ कृष्ण-कथा एवं राम-कथा के कुछ अत्यंत रोचक दृश्यों का महत्वपूर्ण अंकन है। पूर्वाभिमुख मंदिर की बाहरी दीवार पर विष्णु के अवतार, ब्रह्मा, सूर्य, शिव, देवियाँ, अष्ट दिक्पाल व विभिन्न मुद्राओं में योगियों के साथ अप्सरा तथा व्याल प्रतिमाएं है। प्रवेश द्वार पर त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु, महेश, नवग्रह, त्रैलोक्य भ्रमण विष्णु, नदी देवी, द्वारपाल तथा अर्द्ध स्तंभों पर कुबेर अंकित है। अन्य मंदिर, शिव मंदिर है, जिसका मूल स्वरूप नवीनीकरण से प्रभावित है, किन्तु प्रवेश द्वार यथावत है। यहां सिरदल के मध्य में नंदी सहित चतुर्भुजी शिव का कलात्मक रुपायन है। नदी देवियों के साथ उभय पार्श्वों में द्वारपाल प्रतिमाएं है। बाहरी दीवार पर अपेक्षाकृत कम संख्या में किन्तु शास्त्रीय व कलात्मक सूर्य, हरिहर-हिरण्यगर्भ, शिव-नटराज, गणेश, सरस्वती आदि प्रतिमाएं है।

4. ताला- बिलासपुर से लगभग 30 किलोमीटर दूर ग्राम अमेरीकांपा में स्थित स्थल है। शिवनाथ और मनियारी नदी के संगम के निकट 5-6 वीं सदी ईस्वी के दो प्राचीन मंदिर अवशेष है, जिन्हें देवरानी-जिठानी नाम से जाना जाता है। विस्तृत जगती पर निर्मित पूर्वाभिमुख देवरानी मंदिर शिखर विहीन है किंतु विशाल आकार के शिलाखंडों से निर्मित गर्भगृह, अन्तराल-मण्डप, अर्द्धमण्डप, सोपानक्रम तथा प्रतिमाओं की विशिष्टता रोचक है। प्रवेश द्वार के भीतरी पार्श्वों पर उमा-महेश्वर, शिव-पार्वती द्यूत-क्रीड़ा, भगीरथ-अनुगामिनी गंगा आदि अंकन आकर्षक और सजीव है। द्वार-शाखा की जालिकावत् लता-वल्लरी और पत्र-पुष्पीय संयोजन का कीर्तिमुख अंकन विशेष उल्लेखनीय है। मंदिर परिसर में मयूररूढ़ कार्तिकेय, नृत्यमग्न शिवगण, मेषमुखगण, उपासक तथा विश्व प्रसिद्ध विशालकाय रुद्र-शिव प्रतिमा विशिष्ट है। दक्षिणाभिमुख जिठानी मंदिर में पूर्व तथा पश्चिम सोपानक्रम से भी प्रवेश की व्यवस्था है। मंदिर का तल-विन्यास अत्यंत विशिष्ट प्रकार का है। यहां से कार्तिकेय, शिव-मस्तक, वरुण, अर्द्धनारीश्वर-वक्ष, कृश उपासक शीर्ष, नंदिकेश्वर मुख, गौरी और विष्णु फलक तथा मंदिर स्थापत्य-खंडों पर कार्तिकेय, गणेश, शिवलीला प्रसंगों के साथ नंदी और शिवगण का अंकन भी उपलब्ध हुआ है। यहीं से शरभपुरीय शासक प्रसन्नमात्र का रजत सिक्का तथा कलचुरि शासकों के सिक्के भी प्राप्त हुए हैं। स्थल पर स्थानीय-संग्रह में भी पुरावशेष एकत्र कर रखे गए हैं।

5. तुमान- बिलासपुर से लगभग 95 किलोमीटर दूर कटघोरा अनुविभाग में स्थित है। यह स्थल इस क्षेत्र के कलचुरियों की आरंभिक राजधानी रही है। यहाँ पश्चिमाभिमुख शिव मंदिर, लगभग 11 वीं सदी ईस्वी का स्थापत्य उदाहरण है। भू-सतह पर आधारित मूल संरचना से उन्नत तथा विशाल मंडप संलग्न है। खुले मंडप में पहुंचने के लिए पश्चिम, उत्तर व दक्षिण तीनों दिशाओं में सोपान व्यवस्था है। प्रवेश द्वार में सिरदल पर शिव का अंकन है, किन्तु शाखाओं पर विष्णु के दशावतारों को प्रदर्शित किया जाना रोचक है। प्रवेश द्वार पर नदी देवियों के साथ परवर्ती परंपरा के दो-दो द्वारपालों से भिन्न मात्र वीरभद्र और भैरव की प्रतिमाएं है। स्थानीय संग्रह में नंदी, नंदिकेश्वर, माता-शिशु, नटराज, उमा-महेश्वर आदि प्रतिमाएं है। मंदिर के चतुर्दिक प्राचीन टीले हैं तथा सतखण्डा क्षेत्र में भी पुरावशेषों के लक्षण दिखाई पड़ते हैं। स्थल का प्राचीन नाम तुम्माण लगभग प्रत्येक कलचुरि अभिलेखों में प्राप्त होता है। प्रतिमाओं के संग्रह और प्रदर्शन की व्यवस्था भी स्थल पर है।

6. पाली- बिलासपुर से लगभग 50 किलोमीटर दूर, कटघोरा अनुविभाग में स्थित है। यहां पूर्वाभिमुख महादेव मंदिर कलचुरि स्थापत्य शैली के महत्वपूर्ण स्मारक के रुप में विद्यमान है। मंदिर बाणवंशी शासक मल्लदेव के पुत्र विक्रमादित्य द्वारा निर्मित कराये जाने की जानकारी प्रवेश द्वार में सिरदल पर अभिलिखित है। कलचुरि शासक जाजल्लदेव प्रथम के काल में मंदिर का पुनरुद्धार हुआ। मंदिर की बाहरी दीवार पर नटराज, अंधकासुर वध, गजासुरवध, हरिहर, अर्द्धनारीश्वर, कार्तिकेय, सूर्य, नर्तकी, योगी, अष्ट दिक्पाल के साथ विविध प्रकार के व्याल तथा मिथुन प्रतिमाएं सज्जित है। गर्भगृह के प्रवेश द्वार पर गंगा-यमुना, शैव, द्वारपाल तथा द्वार-शाख पार्श्वों पर शिव-पार्वती लीला और उपासना के दृश्य हैं। मंदिर में बहुलिखित ‘मगरध्वज जोगी 700‘, भी अभिलिखित है।

7. मल्हार- बिलासपुर से लगभग 33 किलोमीटर दूर, बिलासपुर अनुविभाग में स्थित है। यह स्थल जिले और अंचल का प्रमुख पुरातात्त्विक स्थल है। यहाँ ईस्वी पूर्व 7-8 वीं सदी से मुगल काल तक निरंतर कालक्रम में स्थापत्य अवशेष, प्रतिमाएं, शिलालेख, ताम्रपत्र, सिक्के, मुहर, मृदभाण्ड, मनके, मृणमूर्तियाँ आदि विविध सामग्रियां बड़ी मात्रा में प्राप्त हुई है। देउर मंदिर विशाल संरचना है। पश्चिमाभिमुख मंदिर के द्वार पार्श्वों में शिवलीला, गजासुरवध, शिव-विवाह तथा उमा महेश्वर का अत्यंत मनोहारी और बारीकी से अंकन हुआ है। इस मंदिर का काल 7-8 वीं सदी ईस्वी माना गया है। 11-12 वीं सदी ईस्वी के दो मंदिर है। इनमें केदारेश्वर अथवा पातालेश्वर अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित अवस्था में है और डिडिनेश्वरी मंदिर का अधिष्ठान भाग, अंशतः तथा मंडप व अर्द्ध मंडप मात्र तल विन्यास में ही दृष्टव्य है। डिडिनेश्वरी मंदिर में काले पत्थर की अत्यंत कलात्मक प्रसिद्ध प्रतिमा 'डिडिन दाई' के रुप में पूजित है। केदारेश्वर मंदिर के मंडप में भी तीन दिशाओं से प्रवेश की व्यवस्था है। शिखर विहीन गर्भगृह में काले पत्थर की लिंग-पीठिका के त्रिकोणीय विवर में लिंग स्थापना है। द्वार शाखों के भीतरी पाश्वों पर द्यूत-प्रसंग, गणेश-वैनायिकी, नंदी पर नृत्त शिव, रेखांकित वीणाधर शिव, शिव-विवाह, उमा-महेश्वर, नृत्त गणेश, अंधकासुर वध आदि उत्कीर्ण है। अभिलिखित विष्णु प्रतिमा, मेकल पाण्डववंशी ताम्रपत्र, प्रसन्नमात्र का ताम्र सिक्का आदि पुरावशेष, विशेष उल्लेखनीय हैं। यहां भी धूलि दुर्ग का अस्तित्व है, जिसमें विभिन्न पुरावशेष विद्यमान होने की जानकारी मिलती है। पातालेश्वर मंदिर परिसर का स्थानीय संग्रह भी विशेष उल्लेखनीय है।

8. रतनपुर- जिला मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर दूर, बिलासपुर अनुविभाग में स्थित है। यह स्थल सुदीर्घ अवधि तक इस अंचल का प्रशासनिक मुख्यालय रहा है। रतनपुर और निकटवर्ती ग्रामों, यथा जूना शहर में कलचुरि और मराठा शासकों से सम्बंधित अवशेष आज भी विद्यमान है। महामाया मंदिर की ख्याति सिद्ध क्षेत्र के रुप में है जिसके प्रवेश द्वार पर परवर्ती कलचुरि शासक वाहर साय का शिलालेख है। मंदिर परिसर में विविध देव प्रतिमाएं हैं। कण्ठी-देउल भी परवर्ती काल की संरचना है जिसमें शाल भंजिका, राजपुरुष, लिंगोद्भव कथानक आदि प्रतिमाएं लाकर जड़ी गई हैं। मराठाकालीन स्मारक रामटेकरी मंदिर, प्राचीन किला-अवशेष तथा जूना शहर में कथित सतखंडा महल, बावली आदि विद्यमान है। रतनपुर से अत्यंत महत्वपूर्ण कलचुरि शिलालेखों, प्रतिमाओं की प्राप्ति हुई है। यहां स्थानीय संग्रह भी दर्शनीय है।

9. चैतुरगढ़ (लाफा) - बिलासपुर से लगभग 82 किलोमीटर दूर, कटघोरा अनुविभाग में स्थित है। यहां पहाड़ी पर बना किला क्षेत्र के दुर्गमतम किलों में से एक माना जाता है। किले में प्रवेश के लिए तीन द्वार है। मुख्य प्रवेश द्वार गणेश द्वार से है। अन्य प्रवेश द्वारों पर सुरक्षा हेतु दोहरे दीवाल की व्यवस्था व देवकुलिकाओं में मातृका-देवियों की प्रतिमाएं है। पहाड़ी पर परवर्ती कलचुरि कालीन महामाया मंदिर है, जिसके गर्भगृह में महिषमर्दिनी प्रतिमा स्थापित है। गर्भगृह से संलग्न स्तंभ आधारित मण्डप है। यही पहाड़ी श्रृंखला एक छोटी नदी जटाशंकरी का उद्गम भी है। स्थल का प्राकृतिक दृश्य सौन्दर्य चित्ताकर्षक है।

Saturday, March 26, 2022

बिलासपुर अंचल की विशिष्ट शैव प्रतिमाएँ

गिरधारीलाल रायकवार जी प्रतिमाशास्त्र के अनूठे अध्येता हैं। पुराण-साहित्य जैसे मूल स्रोंतों पर उनकी गहरी पकड़ है, उसे प्राथमिक आधार बनाकर प्रतिमा शिल्प-शास्त्रीय लक्षणों की पहचान और व्याख्या करने वाले ऐसे मूर्तिविज्ञानी कम हैं। सन 1989 में मध्यप्रदेश पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग द्वारा विभागीय पत्रिका ‘पुरातन‘-6, का विशेष अंक प्रकाशित हुआ था। इस अंक में प्रकाशित रायकवार जी का महत्वपूर्ण लेख, यहां प्रस्तुत है- 



बिलासपुर जिले की शैव प्रतिमाएँ

बिलासपुर जिले में शैवधर्म से संबंधित कलाकृतियों में प्रमुख रूप से उमा-महेश्वर, नटराज, गजासुर संहारक शिव, गंगाधर शिव, वीणाधर शिव, अर्धनारीश्वर, एकमुखीलिंग, चतुर्मुखीलिंग, हरिहर, गणेश, कार्तिकेय, गौरी, भैरव आदि का अंकन प्रचुरता से प्राप्त होता है। इन कलाकृतियों में पौराणिक कथानकों को कलात्मकता के साथ रूपायित किये जाने की परंपरा रही है। शैव प्रतिमाओं के दुर्लभ प्रकारों में से कुछ प्रतिमाएँ बिलासपुर जिले में भी प्राप्त हुई हैं। इस जिले में ज्ञात पौराणिक प्रसंगों से संघारित कुछ दुर्लभ तथा विशिष्ट कलाकृतियों का संक्षिप्त विवेचन प्रस्तुत है।

उमामहेश्वर:
शिल्प के ग्रंथों में इस प्रकार की प्रतिमा निर्माण के विधान का उल्लेख नहीं है तथापि शिल्पियों ने द्यूतक्रीड़ा प्रसंग को मौलिक कल्पना के साथ मनोरंजक रूप में रूपायित किया है। इस प्रकार की प्रतिमाएँ अत्यंत दुर्लभ हैं तथा अभी तक विभिन्न कला शैलियों की कुछ ही प्रतिमाएँ मध्यप्रदेश में ज्ञात हो सकी हैं। दक्षिण कोसल के अंतर्गत बिलासपुर जिले में ताला के देवरानी मंदिर के द्वारशाखा पार्श्व में अंकित द्यूतक्रीड़ारत उमा-महेश्वर का अंकन सर्वाधिक प्राचीन है। शिल्पखंड में द्यूतक्रीड़ारत उमा-महेश्वर का संपूर्ण दृश्य संयोजन तीन प्रखंडों में किया गया है। मध्यवर्ती प्रथम खंड में बैठे हुए चौसर खेल रहे हैं। बांयीं ओर के खंड स्थित शिव के गणसमूह कौतुहल तथा आतुरता से क्रीड़ा देख रहे हैं।

इसी प्रकार मल्हार के पातालेश्वर मंदिर के प्रवेश द्वार पार्श्व में द्यूतक्रीड़ा का अंकन प्राप्त होता है। यहाँ पर सम्पूर्ण दृश्य का चित्रण लम्बवत् तीन पृथक प्रखंडों में किया गया है। प्रथम खंड में शिव-पार्वती सम्मुख बैठे हुए चौसर खेल रहे हैं। द्वितीय खंड में देवी की परिचारिका नंदी को पकड़ कर ले जाने के लिए उद्यत है जिसमें एक गण व्यवधान कर रहा है। तृतीय खंड में नंदी के स्वामित्त्व के विवाद को लेकर उक्त गण तथा परिचारिका आपस में लड़ रहे हैं। शिल्पी के द्वारा इस मनोरंजक आख्यान को हास्यमय रोचकता के साथ चित्रण किया गया है। रतनपुर कलचुरि कला की यह विशिष्ट कृति बारहवीं शती ईसवी की निर्मित है।

नंदी-अभिषेक:
नंदी का अंकन शिल्पकला में प्रायः वृषभ के रूप में मिलता है। हरिहर प्रतिमाओं में यदाकदा नंदी वृषभ मुख सहित मानवरूप में अंकित प्राप्त होता है। नंदिकेश्वर की स्वतंत्र प्रतिमाएँ कम प्राप्त होती हैं। रतनपुर में गढ़ी की दीवार पर नंदी-अभिषेक प्रतिमा फलक जड़ा हुआ है। इसमें नंदी चौकी पर बैठे हुए प्रदर्शित है। उनके उभय पार्श्व में स्थित स्थानक उपासक माल्यार्पण करते हुए स्थित हैं तथा समीप में आसनस्थ परिचारिकाएँ भी दृष्टव्य हैं। बाह्य भाग में आसनस्थ अन्य परिचारिकाएँ अवशिष्ट हैं। जांजगीर के शिवमंदिर के तोरण पर सिरदल में नंदी-अभिषेक का दृश्य है (रमानाथ मिश्र, भारतीय मूर्तिकला, पृ. 245)। रतनपुर से प्राप्त नंदी-अभिषेक फलक बाणवंशी शासकों के काल में लगभग 9-10वीं शती ईसवी का निर्मित है।

लिंगोद्भव महेश्वर मूर्ति:
यह शिल्पपट्ट किसी शिव मंदिर का भाग रहा होगा जिसे अब रतनपुर के कंठी देउरमंदिर में जड़ दिया गया है। शिल्पखंड में लिंगोद्भव महेश्वर मूर्ति विषयक पौराणिक आख्यान तीन विभक्त प्रखंडों में प्रदर्शित है। कथानक का चित्रण मध्यखंड से प्रारंभ होता है जिसमें ज्योतिर्मय स्तंभ के दाँईं तरफ चतुर्भुजी ब्रह्मा तथा बाँईं ओर विष्णु द्विभंग में खड़े हुए प्रदर्शित हैं। ऊर्ध्वखंड में ज्योतिर्मय स्तंभ शिखर पर लघु रूप में आसनस्थ लिंगाकार शिव दृष्टव्य हैं तथा मध्य में स्थित स्तंभ के दाँईं ओर ब्रह्मा तथा बाँईं ओर विष्णु अंजलिबद्ध आसनस्थ अंकित हैं। सबसे ऊपर आकाशचारी मालाधारी विद्याधरों का अंकन है। सबसे नीचे के खंड में विष्णु घुटने मोड़कर आराधना करते हुए प्रदर्शित है। इस शिल्पपट्ट में वायु पुराण, शिव पुराण तथा लिंग पुराण में वर्णित लिंगोद्भव महेश्वर मूर्ति का अंकन है। इस पौराणिक कथा का निर्वहन शिल्पी ने मौलिक सूझबूझ के साथ किंचित् परिवर्तन के साथ किया है। शिल्प खंड में ब्रह्मा तथा विष्णु को उड़ते हुए नहीं दिखाया गया है। शिव का प्राकट्य स्तंभ के मध्य में प्रदर्शित नहीं है अपितु ज्योतिर्मय स्तंभ के शिखर पर आसनस्थ अंकन है। पुनः ज्योतिर्मय स्तंभ के मूलभाग पर माया से मोहित तथा अचंभित ब्रह्मा एवं विष्णु को सांकेतिक हस्त मुद्रा द्वारा विवादग्रस्त प्रदर्शित किया गया है। ऊपर के भाग में ज्योतिर्मय स्तंभ के आदि तथा अंत ज्ञात करने में असफल होकर ब्रह्मा एवं विष्णु स्थिर होकर अंजलिबद्ध नमन तथा ध्यान करते हुए अंकित हैं। इस शिल्पखंड में शिव के सर्वाेच्च महत्त्व को प्रदर्शित किया गया है। दक्षिण कोसलीय कला परंपरा में लिंगोद्भव मूर्ति की यह एकमात्र ज्ञात कृति है। प्रतिमा का निर्माणकाल लगभग 9-10वीं शती ईसवी है।

रावण की शिवोपासना:
रतनपुर गढ़ी की दीवार में जड़ी हुई रावण की शिवोपासना से संबंधित फलक एक अद्वितीय कलाकृति है। इस शिल्पखंड में रावण के द्वारा शिवोपासना का अद्भुत एवं रोमांचक पौराणिक आख्यान प्रदर्शित है जिसमें रावण अपने शीश क्रमशः काट-काट कर शिव को अर्पित करते हुए दृष्टव्य है। रावण के मुख पर दंभ तथा बाहु संचालन में दर्प परिलक्षित है। बीस भुजी रावण की अधिकांश भुजाएँ भग्न हैं तथा शीर्ष अंशतः खंडित हैं। वह चक्रकुंडल, हार, केयूर, कंकण, उपवीत तथा कटिसूत्र पहने हुए हैं। आसुरी भाव के अनुरूप रावण के अंग-प्रत्यंग में क्रूरता तथा बलिष्ठता सन्निहित है। उसकी मुख मुद्रा में अहंकार तथा दुस्साहस परिलक्षित है। दाईं ओर स्थित शिवलिंग में रावण के द्वारा अर्पित क्रमशः नौ शीर्ष अंकित हैं। उभय पार्श्वों में स्थित मानव आकृतियाँ खंडित हैं। यह शिल्पखंड समग्र दक्षिण कोसलीय शिल्पवैभव की एकमात्र ज्ञात कृति है जो विलक्षण तथा अद्वितीय है। यह बाणवंशी शासकों के काल (लगभग 9-10वीं शती ई.) में निर्मित कृति है।

बिलासपुर जिले के शैवधर्म से संबंधित विविध प्रतिमाओं के अध्ययन से यह विदित होता है कि यह क्षेत्र ईसवी तीसरी-चौथी से बारहवीं शती ईसवी तक निरंतर पारंपरिक प्रतिमाओं के साथ-साथ मौलिक पौराणिक प्रतिमाओं का भी निर्माण करता रहा है, जिसमें स्थानीय शिल्पियों की अद्भुत कल्पना शक्ति प्रस्फुटित हुई है। इस क्षेत्र की कलानुरागिता में शैवधर्म का आध्यात्मिक तथा लौकिक पक्ष सहज ढंग से मुखरित हुआ है। शैवधर्म के विभिन्न कला केन्द्र तत्कालीन जनजीवन के धार्मिक आस्था के अविराम उद्दाम प्रवाह के द्योतक है। शैवधर्म के मूलतत्त्व स्थानीय जनजीवन के व्रत एवं पर्वों में उल्लास के साथ नगर-ग्राम के अतिरिक्त गिरि-अरण्यों में भी निनादित है।

Friday, March 25, 2022

बिलासपुर अंचल के प्राचीन शिव मंदिर

सन 1989 में मध्यप्रदेश पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग द्वारा ‘भारतीय कला में शैव परंपरा’ विषयक आयोजन हुआ था, जिसमें विभागीय पत्रिका ‘पुरातन‘-6, का विशेष अंक प्रकाशित हुआ था। इस अंक में ‘बिलासपुर जिले के प्राचीन शिव मंदिर‘ शीर्षक से मेरा लेख शामिल था, जो यहां प्रस्तुत है- 



प्राकृतिक संपदा और भौगोलिक विशिष्टता के कारण दक्षिण कोसल का क्षेत्र स्वाभाविक ही कला-संस्कृति पोषक विभिन्न राजवंशों के आकर्षण का केंद्र रहा है। फलस्वरूप स्थापत्य, मूर्तिकला, अभिलेख तथा मुद्राओं पर कलाप्रियता के साथ धार्मिक भावना के ऐतिहासिक प्रमाण मिलते हैं, जो विभिन्न राजवंशों की धार्मिक चेतना तथा कलानुराग के परिचायक हैं। वर्तमान बिलासपुर जिले के भूभाग से ऐसी स्रोत-सामग्री प्रचुरता से प्राप्त होती है। इनके आधार पर तत्कालीन कला-प्रतिमान, दार्शनिक चिंतन, धार्मिक परंपरा तथा सहिष्णुता का परीक्षण किया जा सकता है। 

यह क्षेत्र मुख्यतः शैव धर्मावलंबी राजवंशों के अंतर्गत दीर्घकाल तक शासित रहा, अतः शैव कला और स्थापत्य के विविध अवशेष बिलासपुर जिले में उपलब्ध हैं। इस क्षेत्र के प्रमुख राजवंश क्रमशः शरभपुरीय, पाण्डव-सोम (चन्द्रवंशी) तथा कलचुरि, शासकों द्वारा शैव परंपरा का उत्तरोत्तर विकास होता रहा। यद्यपि शरभपुरियों का राजधर्म वैष्णव था, किंतु इस काल में भी शैवधर्म लोकप्रिय रहा। इन राजवंशों के शैवधर्म से संबंधित प्रमाण बिलासपुर जिले में विद्यमान हैं, जिनके आधार पर तत्कालीन धार्मिक स्थिति के साथ-साथ कला-स्थापत्य का आंकलन भी किया जा सकता है। इन प्रमुख राजवंशों के स्थापत्य-मूर्तिकला के प्रकाश में शैव-धार्मिकता के विकास के चरण स्पष्ट दृष्टिगोचर होते हैं। इन राजवंशों के प्रमुख कृतित्त्व का विवरण इस प्रकार है: 

शरभपुरीय वंश: इतिहास में अब तक अप्रमाणित नगर शरभपुर तथा इसके पश्चात् प्रसन्नपुर मुख्यालय से राज्य संचालन करने वाले इस वंश का अमरार्य कुल से संलग्न होने के प्रमाण मिलते हैं। शरभपुरीय शासकों का काल ई. पाँचवीं-छठी सदी माना जाता है। शरभपुरियों के स्थापत्य उदाहरण मात्र बिलासपुर जिले से ही ज्ञात होते हैं। ताला के दो शिव मंदिर, शैव धर्मावलंबी मेकल के पाण्डववंशी शासकों द्वारा निर्मित होने की संभावना भी प्रकट की जा सकती है, किंतु यह निर्विवाद है कि इन शिव मंदिरों का निर्माण काल, मंदिर स्थापत्य के क्षेत्रीय इतिहास में प्राचीनतम है। 

जिठानी तथा देवरानी नाम से अभिहित इन मंदिरों में देवरानी अपेक्षाकृत सुरक्षित व पूर्वज्ञात है। टीले के रूप में परिवर्तित जिठानी मंदिर की संरचना पिछले वर्षों में कराये गये विभागीय कार्यों से स्पष्ट हुई। दोनों मंदिरों के गर्भगृह की मुख्य प्रतिमाएँ अप्राप्य हैं किंतु प्राप्त प्रतिमाओं और स्थापत्य अवशेष से तत्कालीन कला व शैव परंपरा की समृद्ध झलक मिलती है। 

विस्तृत जगती पर निर्मित पूर्वाभिमुख देवरानी मंदिर शिखर विहीन है, किंतु गर्भगृह, अन्तराल-मण्डप, अर्द्धमण्डप, सोपानक्रम तथा विभिन्न प्रतिमाओं की विशिष्टता रोचक है। द्वारशाखा के भीतरी पार्श्वों पर उमा-महेश्वर, शिव-पार्वती की द्यूतक्रीड़ा, भगीरथ अनुगामिनी गंगा आदि अंकनों में सुदीर्घ कलाभ्यास से प्राप्त उच्च प्रतिमान, दृश्यों को अत्यंत आकर्षक और सजीव बना देता है। इस मंदिर के परिसर में मयूरारूढ़ कार्तिकेय की दो प्रतिमाएँ, शिव प्रतिमा शीर्ष, नृत्यमग्न शिवगण, मेषमुख गण, प्रतिमाएँ भी धार्मिक विचारधारा के आयाम प्रस्तुत करती हैं। 

दक्षिणाभिमुख जिठानी मंदिर में पूर्व तथा पश्चिम सोपान क्रम से भी प्रवेश की व्यवस्था है। तल-विन्यास से ज्ञात इस मंदिर की स्थापत्य योजना अत्यंत विशिष्ट है। यहाँ से भी शैवधर्म संबंधी अंकन- स्वतंत्र प्रतिमाएँ तथा स्थापत्य खंड, उपलब्ध हुए हैं। स्वतंत्र प्रतिमाओं में मुख्यतः कार्तिकेय, शिव मस्तक, अर्द्धनारीश्वर-वक्ष, कृश उपासक शीर्ष, नंदिकेश्वर मुख, गौरी फलक तथा मंदिर स्थापत्य खंडों पर कार्तिकेय, गणेश, शिवलीला और शैव प्रसंगों के अंकन के अतिरिक्त नंदी, शिवगण आदि प्रमुख हैं। 

पाण्डव-सोम वंश: वस्तुतः तीन भिन्न राजवंशों, जिनका निश्चित एकीकरण संभव नहीं हो सका है, का प्रभाव इस क्षेत्र में लगभग पाँच शताब्दियों तक रहा। इनमें मेकल के पाण्डव वंश का काल लगभग ई. पाँचवीं सदी, कोसल के पाण्डव वंश का काल ई. छठीं-सातवीं सदी तथा कोसल के सोमवंश का काल ई. सातवीं से दसवीं सदी निर्धारित किया गया है। पाण्डव-सोमवंशी शासकों के ताम्रपत्रों पर शिवस्तुति तथा मुद्रा (seal) पर नंदी की अनेक प्रकार की आकृतियाँ प्राप्त होती हैं। पाण्डव वंश-काल में निर्मित चार प्रमुख शिव मंदिर इस जिले में विद्यमान हैं। इनमें से अड़भार के मंदिर का तल-विन्यास व प्रवेशद्वार सुरक्षित है। मल्हार का देउर मंदिर शिखर विहीन है। खरौद का इन्दल देउल अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित है और इसी स्थल के लक्ष्मणेश्वर मंदिर का वर्तमान स्वरूप पुनर्संरचना के फलस्वरूप है। 

मल्हार का पश्चिमाभिमुख देउर मंदिर महत्त्वपूर्ण और विशाल है। इस मंदिर में गर्भगृह, अंतराल-मण्डप तथा अर्द्धमंडप की भित्तियाँ कुछ ऊँचाई तक सुरक्षित हैं। गर्भगृह में लिंग पीठिका अवशिष्ट है। द्वारशाख के भीतरी पार्श्वों में उत्तरी पार्श्व पर शिवलीला के विभिन्न दृश्य हैं। दक्षिणी पार्श्व पर गजासुर-वध, शिव-विवाह तथा उमा-महेश्वर के अंकन में सूक्ष्म परिपूर्णता व मिथकीय सहजता के दर्शन होते हैं। मंदिर परिसर में स्थापत्य खंडों पर शैव-द्वारपालों की आकर्षक मानवाकार प्रतिमाएँ तथा उमा-महेश्वर भी हैं। इसी परिसर में पूर्ववर्ती काल की दो विशाल एवं विशिष्ट प्रतिमाएँ हैं। इन प्रतिमाओं को मुखलिंग तथा यज्ञोपवीतधारी आवक्ष शिव रूप में उत्कीर्ण किया गया है। 

खरौद का पश्चिमाभिमुख इन्दल देउल, तल-विन्यास में कोणीय योजना पर ईंटों से निर्मित है। मंदिर के पाषाण प्रवेशद्वार की शाख पर मानवाकार नदी-देवियों के साथ सिरदल पर त्रिमूर्ति की मध्य आकृति में नंदी सहित शिव-पार्वती प्रदर्शित हैं। मंदिर की बाह्य भित्ति पर गणेश उत्कीर्ण हैं। 

खरौद के पूर्वाभिमुख लक्ष्मणेश्वर मंदिर का स्थापत्य नवीनीकरण से विशेष प्रभावित है। गर्भगृह में अष्टकोणीय किंतु अत्यंत क्षत शिवलिंग है। उभय द्वारशाख के निचले अर्द्धभाग में शैव द्वारपाल हैं। मंडप के स्तंभ पर अर्द्धनारीश्वर तथा रावणानुग्रह प्रतिमाएँ अवनत तल में उत्कीर्ण हैं। खरौद के ही एक अन्य (शबरी) मंदिर में शैव द्वारपाल तथा अर्द्धनारीश्वर की चतुर्भुजी व्याघ्रचर्मधारी मानवाकार प्रतिमाएँ भी इसी काल की कृतियाँ हैं। 

अड़भार का पश्चिमाभिमुख शिव मंदिर ताराकृति अष्टकोणीय तल-विन्यास का है। प्रवेशद्वार में सिरदल पर कार्तिकेय तथा संभवतः उमा-महेश्वर का अंकन है। मंदिर परिसर में नंदी तथा अत्यंत आकर्षक अष्टभुजी नटराज शिव की प्रतिमा है, जो तत्कालीन कला प्रतिमानों में प्रतिनिधि प्रतिमा के रूप में प्रस्तुत की जा सकती है। 

कलचुरि वंश: त्रिपुरी के प्रसिद्ध कलचुरि वंश की शाखा ने अपनी स्वतंत्र सत्ता घोषित कर तुम्मान में राजधानी स्थापित की। कलचुरियों की यह शाखा, रतनपुर शाखा के नाम से प्रसिद्ध हुई और सुदीर्घ अवधि तक इस क्षेत्र पर राज्य करती रही। शैव धर्मावलंबी कलचुरियों के धार्मिक तथा लोक कल्याणकारी विभिन्न कृत्यों की सूचना अभिलेखों में उत्कीर्ण है। अभिलेखों के आरंभ में निर्गुण, व्यापक, नित्य और परम कारण शिव की भावपूर्ण वंदना है। कलचुरियों के शिवमंदिर निर्माण की परंपरा राजधानी तुम्मान से आरंभ होकर दो शताब्दियों तक निरंतर निर्वहित हुई। 

तुम्मान का पश्चिमाभिमुख शिव मंदिर कलचुरियों की रतनपुर शाखा के आरंभिक स्थापत्य का उदाहरण है। भू-सतह पर आधारित संरचना मूल से उन्नत तथा विशाल मंडप संलग्न है। खुले मंडप में पहुंचने के लिए पश्चिम, उत्तर व दक्षिण तीनों दिशाओं में सोपान व्यवस्था है। इस स्थापत्य विशिष्टता में उड़ीसा शैली के जगमोहन का साम्य दृष्टिगत होता है। प्रवेशद्वार में सिरदल के मध्य कोष्ठ में शिव का अंकन है, किंतु द्वारशाखाओं पर विष्णु के दशावतारों को प्रदर्शित किया जाना रोचक है। प्रवेशद्वार पर नदी देवियों के साथ परवर्ती परंपरा के दो-दो द्वारपालों से भिन्न मात्र वीरभद्र और भैरव की प्रतिमाएँ हैं। मंदिर परिसर में नंदी, नंदिकेश्वर, नटराज, उमा-महेश्वर आदि प्रतिमाएँ भी अवस्थित हैं। 

पाली का पूर्वाभिमुख शिव मंदिर मूलतः बाणवंशी शासक मल्लदेव के पुत्र विक्रमादित्य द्वारा निर्मित कराए जाने की सूचना मंदिर के सिरदल पर अभिलिखित है। कलचुरि शासक जाजल्लदेव प्रथम के काल में इस मंदिर का पुनरुद्धार हुआ। मंदिर की बाह्य-भित्ति आकर्षक प्रतिमाओं से सज्जित है, जिसमें विभिन्न शैव प्रतिमाएँ यथा-नटराज, अंधकासुर वध, गजासुर वध, हरिहर, अर्द्धनारीश्वर, कार्तिकेय अंकित हैं। गर्भगृह के प्रवेश द्वार पर शैव-द्वारपाल तथा शिव परिवार के विभिन्न अंकन हैं। द्वारशाख पार्श्वों पर शिव-पार्वती लीला तथा उपासना के दृश्य हैं। 

जांजगीर का पूर्वाभिमुख शिव मंदिर, प्रसिद्ध विष्णु मंदिर के निकट स्थित है। इस मंदिर का मूल स्वरूप नवीनीकरण के प्रभाव से लुप्तप्राय है किंतु मूल प्रवेशद्वार सुरक्षित है। सिरदल के मध्य में नंदी सहित चतुर्भुजी शिव का कलात्मक रूपायन है। नदी देवियों के साथ उभय पार्श्वों में द्वारपालों की प्रतिमाएँ हैं। शिव कथानक के कुछ अन्य दृश्यों के साथ गणेश व नटराज की प्रतिमाएँ भी हैं। 

मल्हार में कलचुरिकालीन दो शिव मंदिरों के अवशेष हैं। इनमें पातालेश्वर अथवा केदारेश्वर अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित अवस्था में है और डिडिनेश्वरी मंदिर का अधिष्ठान भाग अंशतः तथा मंडप व अर्द्धमंडप मात्र तल-विन्यास में ही दृष्टव्य हैं। पश्चिमाभिमुख केदारेश्वर मंदिर निम्नतलीय गर्भगृह का है किंतु मंडप की योजना पूर्वाेल्लिखित तुम्मान मंदिर के सदृश है, जिसमें तीन दिशाओं से प्रवेश किया जा सकता है। गर्भगृह में काले पत्थर की लिंगपीठिका के त्रिकोणीय विवर में लिंग स्थापना है। द्वारशाखों के भीतरी पार्श्वों पर द्यूत-प्रसंग, गणेश-वैनायिकी, नंदी पर नृत्त शिव, रेखांकित वीणाधर शिव, शिव विवाह, उमा-महेश्वर, नृत्त गणेश, अंधकासुर वध उत्कीर्ण है तथा सम्मुख में नंदी पर शिव-पार्वती, चतुर्भुजी शिव तथा अर्द्धनारीश्वर हैं। द्वारपालों के रूप में वीरभद्र तथा भैरव की प्रतिमाएँ हैं। 

पश्चिमाभिमुख डिडिनेश्वरी मंदिर के गर्भगृह की मुख्य प्रतिमा के स्थान पर राजमहिषी की प्रतिमा है। यह मंदिर नवीनीकरण से विशेष प्रभावित है। मंदिर के मंडप की भित्तियों में जड़ी शैव द्वारपाल तथा नटराज की प्रतिमा से, इस मंदिर का शैव होना अनुमानित था। मंदिर के संरक्षण हेतु विभागीय कार्य के दौरान लिंगपीठिका खंड व नंदी प्रतिमा प्राप्त हुई, जिससे यह मंदिर शिव मंदिर के रूप में सुनिश्चित हुआ। 

किरारी गोढ़ी का पश्चिमाभिमुख शिव मंदिर भी निम्नतलीय गर्भगृह योजना पर निर्मित है। मंदिर की पूर्व तथा उत्तर की भित्ति, जंघा तक अंशतः सुरक्षित है। मंदिर के संरक्षण हेतु विभागीय कार्य में गर्भगृह से लिंगपीठिका खंड प्राप्त हुई। जंघा की शैव देव प्रतिमाओं में नटराज, हरिहर-हिरण्यगर्भ हैं। मंदिर परिसर में गणेश, नंदी आदि प्रतिमाएँ भी अवस्थित हैं। 

गनियारी का पूर्वाभिमुख शिव मंदिर अत्यधिक भग्न है किंतु पुनर्संरचित प्रवेशद्वार लगभग सुरक्षित है। गर्भगृह में लिंग की स्थापना है। सिरदल पर शिव, पार्श्वों में द्वारपालों का तथा अन्य परंपरात्मक शैव अंकन भी हैं। बाह्य भित्ति में जंघा के भग्न होने से शिव के अन्य रूप वर्तमान संरचना में अनुपलब्ध हैं। 

सरगाँव का पूर्वाभिमुख शिव मंदिर कलचुरि स्थापत्य के परवर्ती उदाहरणों में लगभग सुरक्षित मंदिर है। निम्नतलीय गर्भगृह के प्रवेशद्वार में सिरदल व द्वार-पार्श्वों पर परंपरात्मक शैव प्रतिमाओं के अतिरिक्त जंघा पर नटराज, अंधकासुर, गणेश, हरिहर हिरण्यगर्भ की प्रतिमाएँ हैं। 

मदनपुर में भी सरगाँव के समकालीन मंदिर के अवशेष प्राप्त हुए हैं। जिले के अन्य स्थलों पर भी विभिन्न काल के शिव मंदिरों के अस्तित्त्व के पुष्ट प्रमाण मिलते हैं, इनमें कुटेसर नगोई, रैनपुर खुर्द, पंडरिया, रतनपुर, भाटीकुड़ा, वीरतराई, कनकी, बेलपान, बसहा आदि प्रमुख हैं।

Wednesday, March 23, 2022

अर्द्धबृगल

अर्द्धबृगल* : चार कविताएं

(एकाकी प्रजापति भी रमा नहीं, दूसरे की इच्छा की- बृहदारण्यकोपनिषद)

तुम

तुम
भूला सा पाठ
और खोई पुस्तक,
वह जिसे बार-बार दुहराने का मन करे।
तब परीक्षा पास कर,
जाने कहां रख गई किताब,
स्मृति में फड़फड़ा रहे पन्ने अब।


तुम-मैं
 
तुम मेरे लिए 
अपवाद की तरह जरूरी। 
अपवाद, नई संभावना। 
आपका, आप से अब तुम हो जाना, 
तुम का मैं हो लेना। 
तुम की जगह मैं, 
मेरे के बदले तुम्हारे, 
अपवाद या सिद्धांत, 
जरूरी या गैरजरूरी। 
दो नायिका, एक नायक अथवा 
एक नायिका दो नायक के त्रिकोण 
और कोणों पर बारी-बारी खड़े हो 
समग्र समेट लेने की आतुर व्यथा। 


तेरा होना 

तेरा होना
हो ना  में 
तेरे ‘न होने‘ में 
न ही तेरे ‘होने‘ में 
तेरा होना, तेरे हो जाने में। 
तेरा होना तेरे आने में, 
तेरे आने से पहले। 
तेरा होना तेरे जाने में, 
तेरे जाने के बाद भी। 
भूत और भविष्य के रिक्त में 
वर्तमान के आभास में। 
तेरा होना, हर हाल में होना है। 
हो जाने या न जाने 
तू माने या न माने 
तेरा आना, तेरा जाना 
हमने माना, 
तेरा होना। 


तेरा साथ 

साथ चलना है तो- 
मैं तुम्हारी बात मान लूं, 
या तुम्हें समझा कर सहमति बना सकूं, 
यदि नहीं तो- 
तुम मेरी बात मान लो, 
या मुझे अपनी बात समझाओ। 
हम यह भी तय कर सकते हैं कि 
जो तुम में है, मुझ में नहीं 
और मुझ में है, वो तुम में नहीं। 
फिर चलो, एक दूसरे के पूरक बनते, 
साथ चलना यूं ही सही। 

*अर्द्धबृगल-द्विदल अन्न का एक दल।

Monday, March 21, 2022

कविताई

आज ‘कविता दिवस‘ पर मन का मैल-मलाल।

कला, साहित्य, संस्कृति- एक होती है समझ में आने वाली और दूसरी समझने-समझाने वाली। अमूर्त कला, कुछ खास संगीत और अधिकतर कविता के लिए मेरी संकीर्ण सीमा है कि वह व्याकरण, नियम, सिद्धांत के आग्रह बिना सहज बोध से समझ में आए। इसलिए रथन्तर-मार्गी के बजाय वृहत्साम-देशी तक सीमित रहना भाता है। छंद-लय तो स्वाभाविक होता है, मात्रा गिन की गई (अजीब, चौंकाने वाली बेतुकी) तुकबंदी या जोड़-तोड़ कर बिठाए गए शब्दों से, कविता नहीं हो जाती। अपरा से भ्रम होता है कि जीवन की कविता के परा को, उसके व्याकरण और विन्यास सहित सीख-समझ/पा लिया है। बकौल प्लेटो, सुकरात का संवाद है- ‘ये (कवि) उन दिव्यदर्शी तथा भविष्यवक्ताओं जैसे ही हैं, जो बहुत-सी गूढ़ बातें कहते हैं, परन्तु स्वयं उनका अर्थ नहीं जानते।‘ या दूसरे शब्दों में ‘कवि ऐसी महान और ज्ञान भरी बातें कहते हैं जो वो खुद नहीं समझते।‘ यह कम रोचक नहीं कि स्वयं ‘कवि‘ प्लेटो कहता है कि आदर्श गणतंत्र में कवियों का कोई स्थान नहीं है। दूसरी तरफ प्लेटो के प्रति अरस्तू की अनेक शिकायतों में एक यह भी थी कि प्लेटो कवि था।

तुलसी, कभी न अबूझ लगे, न कठिन। तब भी जब शिव से कहलाते हैं- ‘सत हरि भजनु जगत सब सपना।‘ यह भी कहा गया है कि ‘शास्त्र केवल इंगित-भर करते रहते हैं। स्वयं तो वे केवल शब्दजाल हैं। . . . अपनी कल्पनाओं को ही तार्किक लोग ‘शास्त्र‘ माना करते हैं।‘ प्रस्थान-त्रयी में ‘स्मृति‘ महाभारत युद्ध के आरंभ में कही गई गीता है। युद्ध के पश्चात आश्वमेधिक पर्व में गीता से भी विस्तृत अनुगीता है, जिसकी भूमिका रोचक है। अर्जुन कृष्ण से कहते हैं कि आपने ज्ञान का उपदेश दिया था, वह भूल गया, अतः पुनः सुना दीजिए। कृष्ण कहते हैं कि तुमने अपनी नासमझी के कारण उसे याद नहीं रखा, यह मुझे अप्रिय है, तुम श्रद्धाहीन हो, तुम्हारी बुद्धि बहुत मंद जान पड़ती है। फिर मानों स्वयं भी स्वीकार कर रहे हों, कहते हैं- अब पूरा-पूरा स्मरण होना संभव नहीं जान पड़ता। उसको ज्यों का त्यों नहीं कह सकता, फिर से दुहरा देना मेरे वश की बात भी नहीं है। यहां अर्जुन का स्मृति-प्रस्थान श्रीमद्भगवतगीता का उपदेश भूल जाना, उसे कृष्ण का न दुहरा पाना, मानों ज्ञान का रहस्य रचते, श्रुति-स्मृति-न्याय की परतें भी खोल देता है।

महाभारत के एक प्रसंग में गंधर्व चित्रांगद, शांतनु पुत्र चित्रांगद से कहता है- राजकुमार! तुम मेरे सदृश नाम धारण करते हो, . . . नाम की एकता के कारण ही मैं तुम्हारे निकट आया हूं। मेरे नाम द्वारा व्यर्थ पुकारा जाने वाला मनुष्य मेरे सामने से सकुशल नहीं जा सकता। इस प्रसंग में व्यक्ति के अहम् और नाम-रूप को दुहरे चरित्र के सहज सूत्र से उजागर किया गया है। वाल्मीकि रामायण में केकय नरेश समस्त प्राणियों की बोली समझते हैं, तिर्यक् योनि में पड़े हुए प्राणियों की बातें भी उनकी समझ में आ जाती थीं। मेरे लिए इसका मर्म भी सहज ग्राह्य है, मगर . . .

अधिकतर आदरणीय कवियों से ले कर आधुनिक वालखिल्य-व्यास-वाल्मीकियों के मुझ प्रमाता-पाठक को कई बार ऐसा लगता है कि अजीब सी गुलजारनुमा बातें कहने का आत्मविश्वास भी कविताओं को जन्म दे सकता है। प्रेमचंदों को तो कोई ऐरा-गैरा भी पढ़ लेता है मगर मुक्तिबोध, श्रीकांत वर्मा और विनोद कुमार शुक्ल ऐसे नाम हैं, जिनका पाठक हो कर ही गौरवान्वित महसूस करता हूं, पसंद हैं ही, उनके प्रति आदर है, किंतु कई-कई बार आतंकित भी कम नहीं करते। ‘चांद का मुंह टेढ़ा है‘ की वक्रता मेरे लिए आज तक ज्यों की त्यों है, क्योंकि वहां ‘लटकी है पेड़ पर/ कुहासे के भूतों की सॉंवली चूनरी-/ चूनरी में अटकी है कंजी ऑंख गंजे सिर/ टेढ़े-मुॅंह चॉंद की।‘ चांद की सुंदरता में रोटी, हंसिया, बुढ़िया, खरगोश देखा जाता रहा है, मगर मुंह टेढ़ा यानि चांद को कुछ नापसंद है, मानव के चंद्र अभियान से रूसा-फूला है, या उसकी बनावट में ही कुछ गड़बड़ हो गई है, सीधे मुंह वाला चांद कैसा होता है! यह प्लास्टिक सर्जरी वाले डॉक्टर का विज्ञापन तो नहीं या ...! ‘कोसल में विचारों की कमी है‘ पढ़ कर सोच में पड़ जाता हूं कि विचारों में कमी की नाप कैसे संभव हुई होगी, क्या यह समूचे कोसलवासियों के लिए कही गई है या नियंता-नायकों के लिए। उस दौर में कहीं काशी, मगध, अवंती में विचारों की अधिकता भी रही होगी? क्या विचारों की कमी घातक होती है, तो विचारों की अधिकता कर्मनाशा तो नहीं हो जाएगी, फिर विचारों का सम क्या है? विचारों का सम, क्या सभ्यता को जड़ न कर देगा!

कई कवि और उनकी कुछ कविता, आपको रसिक पाठक होने की खुशफहमी से वंचित कर देने के लिए पर्याप्त होती हैं। ऐसी कविताओं का रस, समीक्षक ले पाते हैं या उनका जात-भाई, कोई अन्य कवि। कविता को हमारे शरीर जैसा होना चाहिए। शरीर में जिगर, गुर्दा न जानने वाला भी स्वस्थ, आनंदित रह सकता है और जानकार डाक्टर भी अपने शरीर के लिए समस्या पैदा कर लेता है। इसलिए बिंब, प्रतीक, रस, छंद, व्याकरण के शास्त्र से अनभिज्ञ, सामान्य समझ के पाठक भी रस पा ले वही सच्ची कविता अन्यथा एलीट साहित्य। 

अपनी कविता ‘नासमझी‘ के सिलसिले मे सर्वेश्वरदयाल सक्सेना‬ की कविता याद आती है। ‘धीरे-धीरे रे मना ...‘ और ‘शनैः कंथा शनैः पंथा ...‘ के साथ कैसा लगेगा जब पढ़े-
'धीरे-धीरे'
मुझे सख़्त नफ़रत है‪
इस शब्द से।
‪धीरे-धीरे ही घुन लगता है
अनाज मर जाता है,‪
धीरे-धीरे ही दीमकें सब-कुछ चाट जाती हैं‪
साहस डर जाता है।‪
धीरे-धीरे ही विश्वास खो जाता है‪
संकल्प सो जाता है।

इसी तरह कुँवर नारायण‬‬ के लिए मन में बात आती है कि ‘यह भी कोई कविता है महराज‘- ‪
कभी-कभी टहलते हुए निकल जाता हूँ‪
बाज़ारों की तरफ़ भी:‪
नहीं, कुछ ख़रीदने के लिए नहीं,
‪सिर्फ़ देखने के लिए कि इन दिनों
‪क्या बिक रहा है किस दाम
‪फ़ैशन में क्या है आजकल‬‬।

समझ नहीं पाता कि शमशेर बहादुर की इन पंक्तियों में आह-वाह वाली क्या बात है- 
‘‘वकील करो-
अपने हक के लिए लड़ो।
नहीं तो जाओ
मरो।‘‘

बहरहाल, विचारों के साथ यह भी होता है कि ‘वह आदमी नया गरम कोट पहिनकर चला गया विचार की तरह‘, जहां आदमी के धब्बे के अंदर आदमी है, पेड़ का धब्बा बिलकुल पेड़ की तरह है और रद्दी नस्ल के घोड़े का धब्बा रद्दी नस्ल के घोड़ा की तरह, पढ़ कर घबराहट होती है मगर ‘हताशा से बैठ गया व्यक्ति‘ और ‘अपनी भाषा में शपथ‘ जैसी सीधी बात, पसंद आती है। अज्ञेय और नागार्जुन जैसे दिग्गज शब्दों से खेल-खिलवाड़ करते रहे हैं, उससे आगे निराला की कवितानुमा ‘उटपटांग‘ पंक्तियों को माना जाता है कि मानसिक असंतुलन का परिणाम है, जबकि मुझे लगता है कि निराला ऐसी रचना से बताना चाहते थे कि कई बार वैसा ही प्रलाप, कविता मान ली जा सकती है।

अब, मेरी ऐसी कुछ पंक्तियां, जिन्हें कविताई के दावे की तरह रख रहा हूं-

पेड़, चिड़िया, तितली
नदी, बच्चे, मछली
बादल, चांद
आदिवासी, स्त्री, अल्पसंख्यक
दलितों, तुम्हें मालूम न होगा
क्या बेमानी और बेहूदा
खपाई जाती हैं तुम्हारे नाम पर
रूपक, बिंब, प्रतीक के साथ
कविता और विमर्श कह कर

रोटी, गरीब, भूख
शोषण, दोहन, उत्पीड़न का छौंक
कितना लजीज बनाता है।
कविता की तरह पेश
चटखारेदार बलात्कार
सैनिक, देशप्रेम और मां हो तो,
लिजलिजी सी बात के भी क्या कहने
किसकी मजाल है कि
आह-वाह न करे।

गुरुओं की नसीहत है, जो पसंद हैं, जिनके प्रति आदर हो, उन्हें प्रश्नातीत नहीं मान लेना चाहिए। सवाल और संदेह करते अपने समझ की धूल-गर्द साफ करते रहना चाहिए। यहां इसी का पालन करते हुए छत्तीसगढ़ के तीन कवि, जिनमें दिवंगत मुक्तिबोध और श्रीकांत वर्मा ने कविता के साथ पत्रकारिता और विविध, विपुल गद्य लेखन किया है। रचना-सक्रिय विनोद कुमार शुक्ल, अपने गद्य में भी कवि हैं, तीनों के प्रति आदर सहित यह ‘काव्यशास्त्र विनोदेन‘, कभी केदारनाथ सिंह ने भी प्रश्नाकुल किया था।

Sunday, March 20, 2022

मंगत रवीन्द्र

साहित्य अकादेमी का भाषा सम्मान, गैर-मान्यता प्राप्त भाषाओं में साहित्यिक रचनात्मकता के साथ ही शैक्षिक अनुसंधान को स्वीकार और बढ़ावा देने के लिए स्थापित है। छत्तीसगढ़ी भाषा के लिए अब तक यह एकमात्र मंगत रवीन्द्र को सन 2003 में दिया गया था। मंगत जी की उपलब्धियां और साधना की चर्चा कभी-कभार ही होती है। यह सम्मान मिलने पर सन 2004 में नन्दकिशोर तिवारी के संपादन में छत्तीसगढ़ साहित्य परिसद, बिलासपुर द्वारा पुस्तिका का प्रकाशन किया गया था, जिसमें मंगत रवीन्द्र की साहित्यिक यात्रा का परिचय, उनकी कहानी ‘बेटी‘ तथा कुछ कविताएं थीं। पुस्तिका का अंश यहां प्रस्तुत है- 

मंगत रवीन्द्र के साहित्य जात्रा 
-संजीव चंदेल 

जरूरत ले ज्यादा सांवर, छः फुटिया, मध्यम सोर के आंखी, कतिकुन लम्बा फेर चपटे असन नाक, सांकर माथा, घुंघरालू असन दीखत चुंदी अऊ मुचमुचात चेहरा वाला मनखे ल देख के दुरिहा ले चिन्ह डारे असन मुँह ले भाखा फूट परथे “आव भाई मंगत"। मंगत रवीन्द्र ल एक छिन म पहिचाने जा सकत हे। वोखर आंखी अउ ओंठ दुनों म एक अज़ीब किसिम के मुस्कान खेलत दिखथे, जाना-माना वो ह अपन जिनगानी मं जउन कुछू पाए हे वोमा संतुष्ट हे। सुख-दुःख दूनो ल ईस्वर के किरपा मान के एके बरोबर झेल लेथे। अइसनहे आदमील कर्मवीर कहे जाथे। मंगत रवीन्द्र कर्मवीर ऑय।

मंगत रवीन्द्र के जनम 4 अप्रेल सन् 1959 म गिधौरी (कोरबा) म होइस। उंकर ददा के नॉव मुनीराम अउ दाई के नॉव समारिन आय। ददा के इंतकाल होगे। दाई-ददा के आमदनी के साधन मजदूरी रहिस। अइसन आर्थिक बेवस्था म लइका मन ला पढ़ाना लिखाना कठिन होथे। तब्भो ले मंगत के ददा ओला स्कूल म पढ़ेबर भेज दिस। पहली कक्षा में भरती होय के बाद मंगत पहिलीच् दिन हिन्दी के स्वर अउ व्यंजन सिलहेट म लिख दिस। मंगत के गियान ल येतरा धरई ल देखके मंगत के गुरू जी मंगल ल रपोट लिस अउ पीठ ल थप-थपा के आसिर वाद दिस। मंगत के ऊमर के साथ पढ़ाई के दर्जा भी बाढ़त गिस। कठिन परिसरम आर्थिक तंगी के संघर्स म मेहनत के जीत होगे। मंगत रवीन्द्र ले दे के सन् 1977 म हायर सेकेण्डरी के परीच्छा पास करिस।

हायर सेकेण्डरी के परीच्छा ल पास करे के बाद सन् 1978 म आयुर्वेद रत्न, 1991 मं स्नातकोत्तर के डिग्री हासिल करिन। ये तरा हायर सेकेण्डरी के परीच्छा अउ एम. ए. के डिग्रीधारी आदमी बने मं तेरा साल लगिस।

ये तेरा बरिस ह मंगत रवीन्द्र के तेरा जुग के कथा असन हे। मेट्रिक पास करतेच् मंगत के बिहाव होगे। अपन बोझा ल संभाले के होस नइ आय रहिस के गृहस्थी सजगे। का करतिस मंगत। मेट्रिक के पढ़ते-पढ़ते गांव के जड़ी-बूटी के गियान ल सीख ले रहिस। उही ह अब ओखर आमदनी के जरिया बनगे। उही समें मंगत के जरी-बूटी के गियान के कारन करतला (कोरबा) के अस्पताल म पचास रूपया मानदेय म जनस्वास्थ्य रक्छक के नौकरी वोला मिल गे। पढ़ना अउ गियान ल बांटना मंगत रवीन्द्र के सौक आय। इही सौक ह सन् 1990 म मंगत ल विग्यान सहायक सिक्छक बना दिस। मंगत के पोस्टिंग अकलतरा तीर के गांव कापन म होइस। तबले मंगत रवीन्द्र कापन म रहिके स्कूल के लइका मन ल पढ़ाथें। खुद पढ़थें अउ सकेले गियान ल कागज मं लिखके बगराथे।

कापन म गुरुजी के नौकरी ह मंगत ल आरथिक संकट ले उबार-दिस । अब मंगत के दिन चर्या म साहित्य ह जुरगे। 
मंगत रवीन्द्र तरूण साहित्य परिसद, जांजगीर, दलहा साहित्य विकास परिसद, अकलतरा, भारतेन्दु साहित्य समिति, बिलासपुर के संपर्क म आइस। लेखक मन संग लेखक मिलिस अउ मंगत रवीन्द्र के रचना मन आकार पाय लगिन।

कापन मंगत रवीन्द्र के साधना स्थली ए। इहां वोहा 'काव्य-हंस सेवा सदन' नाम के संस्था बनाइस अउ छोट-छोट किताब छापना सुरु करिस। ये संस्था हं कईठों किताब छापिस जेमा - नव रात्रि गीत (1993) दोहा-मंजूषा (1994) होली के रंग गोरी के संग (1995) प्रमुख ए। 

गंवई गांव के रहइया लेखक के सामने प्रकासन के जबर समस्या रथे। एती-ओती करत मंगत रवीन्द्र के संपर्क सरदार त्रिलोचन सिंह, बुक सेलर्स, इन्दौर, अउ पंकज प्रकासन, मथुरा करा होइस। असली बात आय के इन प्रकासक मन के किताब छत्तीसगढ़ के मेला-ठेला म बेचाय बर आथे। मंगत रवीन्द्र अइसने चरचा करिस। प्रकासक मन मुंह खोलेच् रहिन अउ झट मंगत रवीन्द्र के किताब ल रख लिन। सबे अधिकार प्रकासक के। लिखना भर मंगत के। मंगत खुस। प्रकासक मन के सोंसन ल घलो अपन भाग्य मान के किताब उपर किताब देत गइस अउ प्रकासक छाप के पइसा कमात गइस। अइसने विपत्त ल सहत मंगत रवीन्द्र के छपे किताब मन के विवरण नीचे दिए जा रहे हे -

1. नवरात्रि गीत 1993 
2. दोहा मंजूषा - 1993 
3. छत्तीसगढ़ी व्याकरण - 1994 
4. होली के रंग गोरी के संग - 1995 
5. माता सेवा - 1997 
6. गीत-गंगार - 1998 
7. मयारू बर मया - 1999 
8. छत्तीसगढ़ी बियाकरण - 2000 
9. आधुनिक विचार ज्ञान गंगार - 2000 
10. सुगंध धारा - 2001 
11. सद्गुरू चालीसा - 2002 
12. रतन जोग - 2002 
13. चमेली डारा - 2004 
14. गुड़ ढिंढा - 2004 

उपर लिखे जमों किताब के समोखा लिए म अड़बड़ जघा अउ समय चाही। ये सेती मंगत रवीन्द्र के तीन गुन के चर्चा करना ही काफी होही। एक उंकर लिखे 'छत्तीसगढ़ी बियाकरण' के बारे में ये कहत निक् लागथे के छत्तीसगढ़ी बियाकरन के आने लिखइया मन के अधार ग्रियर्सन के छत्तीसगढ़ी बियाकरन हर आय। ओमा जमीनी पकड़ नइये। मंगत रवीन्द्र के बियाकरन छत्तीसगढ़ के भुईंया अउ ओखर भासा के चिन्हारी करत लिखे गय हे। 'छत्तीसगढ़ी लोकाक्षर' के बिद्वान समीक्छक डॉ. जागेन्द्र कुमार कुलमित्र लिखे हें - 

“बियाकरन के संबंध भासा ले होथे। बियाकरन के पढ़े अउ पढ़ाये के उद्देस्य भासा के सुद्ध रुप ल सीखना होथे। भासा म कई ठन कारन ले परिवर्तन होत रइथे। बियाकरन भासा के कानून-कायदा तको आय। बियाकरन ले हमन जान सकथन के कोन भासा के कउन रुप ह सुद्ध आय अउ कउन रुप ह असुद्ध। हिन्दी भासा म “मैने सब्जी खरीदा" जेमा 'क्रिया' के खरीदा रुप असुद्ध हावय काबर के 'सब्जी' स्त्रीलिंग के संग क्रिया के रुप 'खरीदी' होही। येखर सेती येमेर ओखर सुद्ध रुप 'मैंनें सब्जी खरीदी' होहय। अइसन कानून के बरनन बियाकरन मं करे जाथे। जेखर सेती हमन कह सकथन के बियाकरन वो सास्त्र आय जेखर ले हमला भासा के सुद्ध असुद्ध रुप के चिन्हारी मिलथे।

वोही बात ल गुन के भाई मंगत रवीन्द्र ह 'छत्तीसगढ़ी बियाकरन' पुस्तक ल लिख के हमर बहुत बड़े कमी ल पूरा करिन हे। ये बियाकरन पुस्तक ह लेखक के गहन चिंतन-मनन अउ मिहनत के फल आय। लेखक अपन कती ले भरपूर कोसिस करे हावय। छत्तीसगढ़ी बियाकरन म संग्या, सर्वनाम, क्रिया, विसेसन, क्रिया विसेसन, कारक, लिंग, वचन अउ काल ल समझाये बर। बड़ उदीम कर-करके समझाय हवंय। फेर मोला पर्यायवाची सब्द, लोकोक्ति, मुहावरा, जनउला अउ किसिम-किसिम के जानो जिनिस के छत्तीसगढ़ी नांव ह खुब्बेच भाईस। येखरो ले आगर ये पुस्तक के सब ले बड़े महात्तम छत्तीसगढ़ी सब्द कोस ले बाढ़थे। 

जेखर ले छत्तीसगढ़ी भासा के जनवइया अउ नई जनइया दूनों ल फायदा होहय। संगें संग स्कूल-कॉलेज के पढ़वइया लइका, सोध करइया मनखे अउ जम्मों छत्तीसगढ़िया मन के गियान के बढ़ोत्तरी मं पंदोली देहय।

आखिर मं कहे ल परही के 'छत्तीसगढ़ी बियाकरन' किताब संहराय के लाईक हावय। जेला पढ़के अपन गियान मं बढ़ोतरी अउ सुधार करे जा सकत हे।" 

दूसर बात छत्तीसगढ़ी कहानी के सम्बन्ध म हे। छत्तीसगढ़ कहानी म छत्तीसगढ़ी संस्कार जेला लोक कहे जा सकत हे, तउन सैली म कहानी लिखने वाला अकेल्ला मंगत रवीन्द्र हे। गांव के कथा, गांव के सैली म। ये सैली के विसेसता आय कथा कहत-कहत पद्य म कथा ल जोड़ना। कभू-कभू पद्य (दोहा) कूट भासा म भी हो जाथे फेर अइसना करे म सुनइया/पढ़इया के धियान हर टूटथे। थोकुन विसराम पाथे, फेर कथा के संग जुरथे। अइसे म कथा के आनंद दून हो जाथे। ये कथा सिल्प छत्तीसगढ़ी कहनी के प्रान तत्व ये। येखरे सेती छत्तीसगढ़ी के समीक्छक नन्दकिशोर तिवारी जी मंगत रवीन्द्र ल छत्तीसगढ़ी कहिनी के नवा सिल्प के प्रवर्तक मानथें।

तीसर मुख्य बात मंगत रवीन्द्र के लोक-साहित्य कोती रूझान होना हे। येखर उदाहरन उनकर 'माता-सेवा' गीत के किताब आय। ये किताब म गांव मं जेंवारा बैठारे के विधि, पूजा पाठ के कर्म कांड अउ गाए जानेवाला जसगीत मन ल सकेल के छपवाय गय हे। धनुआ भगत के पूरा गीत ये पुस्तक म हे। 

ये जम्मो गोठ के समोखा करके मंगत रवीन्द्र के बारे म कहे जा सकत हे के मंगत रवीन्द्र छत्तीसगढ़ी साहित्य के गौरव धन यें। उन भासा, साहित्य अउ लोक के संग्राहक यें। मंगत रवीन्द्र आयुर्वेदिक दवाई के ग्याता, संगीत, चित्रकला, मूर्तिकला घलो म विसेसग्यता रखथे। येला देख के कतकोन संस्था मन उनला सम्मानित करे हैं। जेमा प्रमुख हें - 

सम्मान अउ पुरस्कार : 

1. सम्मान : दल्हा साहित्य विकास परिषद अकलतरा/18.09.1999 
2. ऋतम्भरा साहित्य मंच कुम्हारी, जिला दुर्ग प्रशस्ति पत्र/21.08.02 
3. कार्यालय कलेक्टर राष्ट्रीय कार्यक्रम शाखा जांजगीर, सहभागिता प्रमाण पत्र/ 28.02.02 
4. सेवाजलि संस्था अकलतरा द्वारा सम्मान एवं प्रशस्ति पत्र/ 26.01.03 
5. आस्था कलामंच अकलतरा द्वारा सम्मान एवं अभिनंदन पत्र/ 29.01.03 
6. बिलासा कलामंच बिलासपुर द्वारा “बिलासा साहित्य सम्मान"/13.06.03 
7. श्री लखनलाल गुप्त स्मृति पुरस्कार छत्तीसगढ़ साहित्य विकास परिषद, रायपुर/01-07-03 
8. छत्तीसगढ़ लोकाक्षर के कहानी प्रतियोगिता में द्वितीय पुरस्कार प्राप्त / सन् 2001 
--00--