# अद्वैत का द्वंद्व # जगन्मिथ्या # जन्म-जन्मांतर # राग मारवा # बिलासपुर की त्रिवेणी-1966 # भानु जी के पत्र-2 # भानु जी के पत्र-1 # गिधवा में बलही # चौपाल # टट्टी-1918 # राजस्थानी # गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Friday, July 27, 2018

एक थे फूफा


एक थे फूफा, बड़े-छोटे सबके, जगत फूफा। मानों फूफा रिश्ता नहीं नाम हो, इस हद तक फूफा। ... ... ...

'एक थे फूफा' 1 दिसंबर 2018 को आई और 20 दिन में सारी प्रतियां बिक गई, अब दूसरा संस्‍करण जनवरी 2019 में आ गया है।


आकस्मिक लेखक और आदतन पाठक, कभी-कभार टिप्पणीकार हूं। अपने लिखे 'एक थे फूफा' को इतने समय बाद पाठक की तरह पढ़ते हुए टिप्पणी करने का मन बना, इसलिए यह प्रयोग, स्वयं के लिखे पर पाठकीय नजरिए से टिप्पणी-

'फूफा‘ का अफसाना जहां से शुरू होता है, समाप्त भी होता है उन्हीं शब्दों ‘एक थे फूफा‘ पर, मानों जीवन-वृत्त, वही आदि वही अंत। शीर्षक का 'थे' यह अनुमान करा देता है कि आगे जो कुछ आने वाला है वह हो चुका है, बीत चुका है, यह बस दुहराया जा रहा है। पहले पैरा के अंश ‘अपने ही घर में फूफा‘ में अपने-इनसाइडर के बेगाने-आउटसाइडर हो जाने का संकेत मिलता है।

फूफा का 'फू-फा' और 'फूं-फा' और इसी तरह के अन्‍य शाब्दिक खिलवाड़ रोचक है, जिस तरह फूफा का अपने अधिकारों के प्रति सचेत होना 'जागते रहो' फिल्‍म देखकर और पारिवारिक मिल्कियत हाथ में लेना 'लैंडलार्ड' धोती पहनते हुए। छत्तीसगढ़ी के शब्दों और वाक्याशों का प्रयोग आंचलिक माहौल बनाता है, लेकिन कभी ठिठकने को मजबूर भी करता है, इसलिए छोटी रचना होने के बावजूद इसे एक बैठक में और रवानी के साथ पढ़ पाने में अड़चन होती है। जीवन-चक्र एक बार फिर, अपनी बातों-फैसलों के असर की परवाह न करने वाले फूफा के जीवन में पहले तेज-तर्राट छोटी बहू, फूफा की खांसी और तबियत की चिंता के आड़ में बिड़ी के बेवजह खर्च की बातें परदे से करती है, जो फूफा के कानों में पड़ती है और फिर जिस तरह फूफा ने लम्मरदारी बुजुर्गों से अपने हाथ में ली होती है, उसी तरह कहानी के उत्तरार्द्ध में कहा गया है कि ‘योग्य सुपुत्रों ने कोई खास काम उनके लिए छोड़ा न था।‘

बुआ और नोनीबाई का प्रसंग प्रत्येक पाठक-रुचि के अनुकूल है, लेकिन दोनों थोड़ी असमंजस वाली, खासकर नोनीबाई, जिसमें पाठक आगे क्या होगा का अनुमान के साथ व्यग्र रहता है और इस प्रसंग का अंत अप्रत्याशित होता है, किसी भी संभव अनुमान से अलग। दूसरी तरफ फूफा का अंत इतना पूर्वनिर्धारित होता है, पाठक मान सकता है कि कहानी उसकी ही तय की गई और लिखी हुई है।

बिड़ी पर इस बारीकी से शायद अब तक नहीं लिखा गया है, साथ ही चिड़ियों की बोली वाली बात मजेदार है जिसे समझने की वंशगत थाती को फूफा के पिता चोचला मानते थे कि अगल-बगल की बात तो समझ में आती नहीं और वाह रे चिड़ियों की बोली के ज्ञाता। काकभुशुंडी और शुकदेव, पौराणिक कथावाचक हैं तो कौआ पितरों का प्रतीक भी माना जाता है, वही फूफा के जन्म का संकेत देता है और उसी के साथ वंश आगे बढ़ने 'नामलेवा-पानीदेवा' की बात आती है तो दूसरी तरफ शुक-तोता को शुभ-अशुभ का संकेत देने वाले माना गया है और देह पिंजर में जीव-शुक के प्रती‍क को कहानी में सहज गूंथा गया है। उन्मुक्त पक्षियों की बोली का रस लेने वाले फूफा ने चौथेपन में पिंजरे वाली चिड़िया, तोता पाल लिया, सारी कवायद के बाद वह तोतारटंत टें-टें ही करता रहा, मानों जीवन का बेसुरा राग।

कहानी का प्रवाह उबड़-खाबड़ सा है, कुछ बातें-प्रसंग बेढंगी, जीवन की तरह। कहानी के बीच रेखाचित्र और खंड-शीर्षक इस उलझी सी बुनावट को कसावट देते हैं, फिर भी पूरा मसौदा ऐसा, जिसे सुगढ़ लेखन कतई नहीं माना जा सकता, शुरुआती लेखकीय वक्तव्य अपना बचाव करते दिखता है- 'पाठक नीर-क्षीर विवेक को सक्रिय न होने दे। और कहानी का परिशिष्ट ‘दस्तावेजी कच्चा-चिट्ठा‘ है, जिसमें इसे किसी डायरी के अंश की तथा-कथा बताया गया है, कि जिसमें कुछ खाली पन्ने भी हैं, ऐसी डायरी, जो समय के साथ ‘रद्दी‘-निरर्थक हो जाती है। यह भी तय नहीं हो पाता कि यह कहानी है, उपन्याेसिका, व्यसक्ति चित्र या कुछ और। कहीं लगता है कि 'ये लिखना भी कोई लिखना है लल्लूल' क्यों्कि लेखन में अनगढ़-अनाड़ीपन है।

अवसान, दिन का हो, जीवन का या कहानी का, उदास करता है। फूफा का अंत सहज-स्वाभाविक नियति की तरह है फिर भी तटस्थ भाव से कही जा रही कथा में पाठक फूफा के साथ खुद को जोड़कर ऐसी सहानुभूति महसूस करने लगता है कि फूफा की चिंता, पाठक की व्यथा बन जाती है। और कहानी खत्म होते ही पाठकीय मन लौटकर आ जाता है पहले वाक्य पर- एक थे फूफा।