# टट्टी-1918 # राजस्थानी # गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

अपने बारे में

नाम - राहुल कुमार सिंह
जन्मतिथि - 21.11.1958
शासकीय सेवा - 1984 से
वर्तमान पद - उप संचालक, संस्कृति एवं पुरातत्व, रायपुर, छत्‍तीसगढ़
समय-समय पर संस्कृति एवं पुरातत्व विभागाध्यक्ष के पद दायित्व का निर्वाह।

शिक्षा
  • स्वर्ण पदक सहित स्नातकोत्तर उपाधि (प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व)।
  • प्रावीण्यता सहित स्नातकोत्तर पत्रोपाधि (संग्रहालय विज्ञान)।
प्रशिक्षण
  • फेलो-1991, अमेरिकन इन्स्टीट्‌यूट आफ इंडियन स्टडीज, वाराणसी/नई दिल्ली,
  • 1981 में राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली,
  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के पुरातत्व संस्थान, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान, नई दिल्ली
  • प्रशासन अकादमी, भोपाल से अकादमिक-तकनीकी तथा
  • प्रशासन अकादमी, भोपाल एवं रायपुर से प्रशासनिक प्रशिक्षण प्राप्त।
  • छत्तीसगढ़ प्रशासन अकादमी में भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों बैच 2006 व 2008 के उन्मुखीकरण कार्यक्रम में प्रशिक्षण-व्याख्‍यान।
  • शालाओं, महाविद्यालयों, विश्वविद्यालय, विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग, इन्टैक, राष्ट्रीय सेवा योजना आदि के विभिन्न कार्यक्रमों में विशेषज्ञ-प्रशिक्षक के रूप में आमंत्रित।
शोध
  • 'जांजगीर का विष्णु मंदिर' तथा 'भारतीय संग्रहालय के कार्य' अकादमिक शोध-लेखन।
  • छत्‍तीसगढ़ के अभिलेखीय इतिहास के प्रामाणिक ग्रंथ 'उत्‍कीर्ण लेख' का सहलेखन।
लेखन-संपादन
  • छत्तीसगढ़ राज्य गठन के अवसर पर मध्यप्रदेश शासन, उच्च शिक्षा विभाग एवं म.प्र. हिन्दी ग्रंथ अकादमी के समवेत उपक्रम की पत्रिका 'रचना' द्विमासिक नवंबर 2000 अंक में 'छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़ी छत्तीसगढ़िया' शीर्षक से मुख्‍य लेख प्रकाशित। 
  • प्रसिद्ध नाटक 'जसमा ओड़न' का छत्तीसगढ़ी में अनुवाद।
  • ब्लॉग 'सिंहावलोकन'।
  • साहित्यिक एवं शोध पत्र-पत्रिकाओं, आकाशवाणी, दूरदर्शन के लिए कला, साहित्य, संस्कृति एवं पुरातत्व विषयों पर नियमित लेखन, वक्तव्य।
  • पुरातत्‍व की विभागीय शोध-पत्रिका 'कोसल' का संपादन।
  • 'संग्रहालय विज्ञान का परिचय' (2017), उपन्‍यासिका 'एक थे फूफा' (2018, 2019), लेख संग्रह 'सिंहावलोकन' (2019) प्रकाशित।
फिल्‍म
  • छत्‍तीसगढ़ के विशिष्‍ट समुदाय रामनामियों पर, फिल्‍म्‍स डिवीजन, भारत सरकार के लिए 2011 में 51 मिनट का वृत्‍त चित्र, श्री सुनिल शुक्‍ला और श्री कमल तिवारी के साथ मिल कर निर्माण, विशेषज्ञ के रूप में शामिल ।
  • छत्‍तीसगढ़ के विशिष्‍ट भौगोलिक-धार्मिक-पुरातात्विक-पर्यटन स्‍थल मदकू दीप पर डा. ब्रजकिशोर प्रसाद के साथ मिल कर शौकिया फिल्‍म निर्माण, विशेषज्ञ की भूमिका।
उत्खनन/मलबा सफाई/सर्वेक्षण/परियोजना
  • बिलासपुर - ताला (रूद्र शिव प्रतिमा)/ रायपुर - सिसदेवरी/ सरगुजा - डीपाडीह, कलचा-भदवाही और महेशपुर/ बस्तर - गढ़ धनोरा और भोंगापाल/ बलौदा बाजार - डमरू
  • ग्वालियर संभाग के राज्य संरक्षित स्मारकों तथा संग्रहालयों का अभिलेखन, परीक्षण व सत्यापन
  • लालबाग पैलेस, इन्दौर के विभाग को हस्तांतरण में भूमिका
  • ओरछा के विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन (डी.पी.आर.) तैयार करने में प्रमुख भूमिका
  • छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के 500 से भी अधिक ग्रामों का ग्रामवार पुरातत्वीय व सांस्कृतिक सर्वेक्षण।

  • संस्कृति में भूमिका
    • छत्तीसगढ़ राज्य गठन के पश्चात्‌ शासकीय दायित्व के क्रम में राज्योत्सव (राजधानी व जिलों में), संसद में, राज्य दिवस (प्रगति मैदान, नई दिल्ली में), गणतंत्र दिवस, स्वाधीनता दिवस आदि विभिन्न अवसरों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन एवं विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से कलाकारों, शिल्पकारों से सतत्‌ सम्पर्क।
    • इ.गा.रा.मानव संग्रहालय, भोपाल के राष्ट्रीय आयोजन 'चिन्हारी' 1995 में छत्तीसगढ़ के लिए समन्वय
    • IFAD (International Fund for Agricultural Development) के अंतर्गत बिलासपुर इकाई के गठन (सन्‌ 2000) में कोर ग्रुप सदस्य
    • IGNCA (Indira Gandhi National Centre for Art), Delhi और छत्तीसगढ़ शासन के MoU 2008 में 'Spirit of Chhattisgarh' परियोजना के लिए कार्य।
    अन्‍य
    • प्रतियोगी परीक्षाओं, विशेषकर राज्य प्रशासनिक सेवा के लिए कैरियर मार्गदर्शक के रूप में गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, जी 24 घंटे के लिए उड़ान में तथा अन्य संस्थाओं के लिए और स्वतंत्र रूप से निःशुल्क मार्गदर्शन।
    सम्मान
    • सन 2008 में बिलासा सम्मान से सम्मानित।
    • सन 2011 वर्ष के ''श्रेष्‍ठ ब्‍लॉग विचारक'' अन्‍तर्राष्‍ट्रीय हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मान 2012
    • इंडिया टुडे संस्कृति सम्मान 2019
    सम्पर्क - संचालनालय, संस्कृति एवं पुरातत्व
    महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय सिविल लाइन्स, रायपुर
    फोन - 07712234731(टेलीफैक्स), 07712537404 (कार्यालय)
    9425227484 (मोबाइल)
    ई-मेल rahulsinghcg@gmail.in
    ब्‍लॉग – सिंहावलोकन http://akaltara.blogspot.in



    7 comments:

    1. सर जी सबसे पहले आप अपने सम्मान के लिए बधाई .आप हंसते हुए बहुत अच्छे लगते हैं . आपको मेरी भी उम्र लग जाये . पारिवारिक फोटोग्राफ बहुत खुबसूरत .

      ReplyDelete
    2. इतनी सारी उपाधि और सम्मान के लिए बधाई,,,राहुल जी,,,, recent post हमको रखवालो ने लूटा

      ReplyDelete
    3. आज आपकी कार्य प्रणाली एवम आपकी उपलब्धियों के विषय में जानकर बहुत गर्व का अनुभव
      कर रही हूँ ,कि आप जैसा प्रतिभाशाली एवम निष्ठावान व्यक्तित्त्व , एक पुरात्तत्ववेत्ता के रुप में
      हम छत्तीसगढ-वासियों को उपलब्ध है । आपकी साधना स्तुत्य है । ईश्वर करे आप शिखर को
      छुयें ।
      सिद्धि स्वयं आकर पूछे बोलो "राहुल" क्या चाहते हो ?
      यह स्थिति भी चलकर आएगी क्या सहज स्वयं को पाते हो ?

      ReplyDelete
    4. Salutation to the deeds and achievements of our pioneer.

      ReplyDelete
    5. Just like a fruit laden tree bows to give, similarly a true seeker of knowledge like Rahul ji embraces humbleness.....My salutation and respects

      manoj misra

      ReplyDelete
    6. सर जी आपको सादर प्रमा आपकी उपलब्धि छत्तीसगढ़ के लिये गौरव की बात है

      ReplyDelete