# टट्टी-1918 # राजस्थानी # गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

पद्म सूची

वर्ष 2020 के पद्म पुरस्कारों की घोषणा के साथ, छत्तीसगढ़ के पद्म अलंकृतों की संख्या 28 और पद्म अलंकरणों की संख्या 31 हो गई है। इस सूची के श्री हबीब तनवीर पद्मश्री, फिर पद्मभूषण और श्रीमती तीजनबाई पद्मश्री, पद्मभूषण फिर पद्मविभूषण अलंकृत हैं। श्री सत्यदेव दुबे के लिए संभवतः, सीधे पद्मभूषण घोषित हुआ।

सामाजिक कार्य के क्षेत्र में श्री धरमपाल सैनी, श्रीमती राजमोहिनी देवी, श्रीमती शमशाद बेगम और श्रीमती फुलबासन बाई यादव अलंकृत हैं। डॉ. दि्वजेन्द्र नाथ मुखर्जी, डॉ. अरुण त्र्यंबक दाबके व डॉ. पुखराज बाफना चिकित्सा के क्षेत्र में अलंकृत हैं। इनके अलावा इनमें से सभी अलंकरण साहित्य-शिक्षा, कला के क्षेत्र में (अथवा नाम के साथ उल्लिखित क्षेत्र में) कार्य-उपलब्धियों के लिए दिए गए हैं।

इनमें विभूतियां, जो छत्तीसगढ़ से जुड़ी थीं, किन्तु अन्य प्रदेश से निवासी के रूप में अलंकृत, उनमें डा. दि्वजेन्द्र नाथ मुखर्जी, बैरन बाजार, रायपुर निवासी थे। श्री हबीब तनवीर, रायपुर से, सुश्री मेहरुन्निसा परवेज, जगदलपुर से, श्री सत्यदेव दुबे, बिलासपुर से, श्री शेखर सेन, रायपुर से और श्री बुधादित्य मुखर्जी, भिलाई से संबद्ध रहे हैं।

नामों के साथ पद्म अलंकरण या राज्य के उपरोक्तानुसार तथ्य, के बाद पद्मश्री/राज्य स्वयं स्पष्ट है, अर्थात् अन्य नाम पद्मश्री अलंकृत तथा राज्य गठन के पूर्व मध्यप्रदेश और इसके बाद राज्य छत्तीसगढ़ से हैं।

अन्‍य रंग में उभरे नाम दिवंगत विभूतियों के हैं।

डा. दि्वजेन्द्र नाथ मुखर्जी -1965 (पश्चिम बंगाल)
पं. मुकुटधर पाण्डेय -1976 
श्री हबीब तनवीर -1983-पद्मश्री (दिल्ली1), 2002-पद्मभूषण (मध्य प्रदेश)
श्रीमती तीजनबाई -1988-पद्मश्री, 2003–पद्मभूषण तथा 2019-पद्मविभूषण
श्रीमती राजमोहिनी देवी -1989
श्री धरमपाल सैनी -1992
डा. अरुण त्र्यंबक दाबके -2004
सुश्री मेहरुन्निसा परवेज -2005 (मध्यप्रदेश)
श्री पुनाराम निषाद -2005
डा. महादेव प्रसाद पाण्डेय -2007
श्री जॉन मार्टिन नेल्सन -2008
श्री गोविंदराम निर्मलकर -2009
डा. सुरेन्द्र दुबे -2010
श्री सत्यदेव दुबे -2011–पद्मभूषण (महाराष्‍ट्र)
डा. पुखराज बाफना -2011
श्रीमती शमशाद बेगम- 2012
श्रीमती फुलबासन बाई यादव– 2012
स्वामी जी.सी.डी. भारती उर्फ भारती बंधु, कला - 2013
श्री अनुज (रामानुज) शर्मा, कला-प्रदर्शनकारी कला - 2014
सुश्री सबा अंजुम, खेल - 2015
श्री शेखर सेन, कला - 2015 (महाराष्ट्र)
श्रीमती ममता चन्द्राकर, कला-लोक संगीत - 2016
श्री अरुण कुमार शर्मा, अन्य (पुरातत्व‍) - 2017
श्री दामोदर गणेश बापट, सामाजिक कार्य - 2018
पंडित श्यामलाल चतुर्वेदी, साहित्य एवं शिक्षा - 2018
श्री अनूप रंजन पांडेय, कला - 2019
श्री बुधादित्य मुखर्जी, कला - 2019 (पश्चिम बंगाल)
श्री मदन सिंह चौहान, कला - 2020

No comments:

Post a Comment