Friday, September 23, 2022

किस्सा भंवर गणेश

बात कुछ पुरानी है, यही कोई तीस-पैंतीस साल हुए। इस दौरान बिलासपुर में पदस्थ सहकर्मी रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों, पहले श्री आनंद कुमार रिसबूड और उनके बाद श्री गिरधारी लाल रायकवार के साथ लावर-कोनी, इटवा-पाली की दो यात्राओं की अब गड्ड-मड्ड हो गई यादों के साथ और कुछ बातें।

एक शिलालेख की जानकारी मिलती थी, कलचुरि संवत 900 का कोनी शिलालेख। इस शिलालेख का अध्ययन-संपादन हो चुका था और वह प्रकाशित भी था, इसलिए पहले तो इसकी ओर ध्यान नहीं गया। किसी दिन बात होने लगी कि यह गांव, बिलासपुर कोनी तो है नहीं, फिर कहां है, और क्या शिलालेख अब भी वहां है, किस स्थिति में है। स्थानीय स्तर पर आसपास अरपा के बाएं तट पर कोनी नामक एक गांव की जानकारी मिली, मगर वहां किसी पुरावशेष या शिलालेख होने की पुष्टि किसी भी स्तर पर संभव नहीं हुई। संदर्भ ग्रंथों में विवरण मिला कि इस शिलालेख जानकारी जनवरी 1946 में डॉ. बी. सी. छाबड़ा, गवर्नमेंट एपिग्राफिस्ट के द्वारा प्रकाश में लाई गई थी। शिलालेख पृथ्वीदेव द्वितीय के राजत्व काल में कलचुरि संवत 900 तिथि गणना के आधार पर 20 अप्रैल 1148 के सूर्य ग्रहण की तिथि का है। यह भी पता लग गया कि यह ग्राम कोनी, बिलासपुर से लगभग 10 मील दूर अरपा नदी के बाएं तट पर है। इससे यह निश्चय हो गया कि ग्राम वही है, जिसकी बिलासपुर वाले कोनी से अलग पहचान के लिए, उसके पास के गांव के नाम के साथ जोड़ कर लावर-कोनी कहा जाता है।

यह पता लगते ही एक दिन श्री रिसबूड के साथ हमारी सवारी रवाना हो गई। अरपा के बाद पड़ने वाले नाले के किनारे बायीं ओर का कच्चा रास्ता था। प्राथमिक जानकारी के आधार पर आगे बढ़ते हुए हमको लावर के साथ कोनी गांव मिला। नदी किनारे गांव के बाहर सूने में एक आधुनिक मंदिर दिखा। हमें वहां पुजारी मिले। गांव वाले जो चढ़ावा, दान-दक्षिणा करते उससे गुजारा करते हुए भगवान की सेवा में लगे। पुजारी ने बड़ी आत्मीयता से स्वागत किया। जलपान पूछा। उनसे बात होने लगी तो उन्होंने बताया कि वे पहले लीलागर के किनारे कुटीघाट के हनुमान धारा मंदिर में थे, अब यहां आ गए हैं, अकेले रहते हैं। फिर शिलालेख की चर्चा हुई, उन्होंने शिलालेख दिखाया। परिसर में पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाएं भी रखी थीं, जिससे स्पष्ट अनुमान हुआ कि यह 12 वीं सदी ईस्वी का मूल प्राचीन स्थल है। एक अभियान पूरा हुआ।

इस ‘उपलब्धि‘ से संतुष्ट, हमारी गाड़ी आगे बढ़ी। इरादा था कि घूमते हुए मल्हार तक जाएंगे, जहां तक हो सके नदी किनारे-किनारे। इसके पीछे कारण यह भी था कि लावर-कोनी की तरह गांव जोड़ा नाम सुना था- इटवा-पाली। इन दोनों गांवों के नाम रोचक थे। जब भी अवसर होता, समय बिताने के लिए रायकवार जी से ग्राम नामों, उनकी व्युत्पत्ति तथा नाम के आधार पर पुरातात्विक स्थल होने का अनुमान पर बातें होती रहती थीं। पाली तो, रतनपुर-कटघोरा मार्ग पर प्रसिद्ध महादेव मंदिर वाला स्थान है। एक पाली महानदी और मांद संगम पर है- महादेव पाली, उसका भी एक किस्सा है, ‘उलेला पूरा‘ वह फिर कभी। इटवा नाम भी रोचक लगा था, क्योंकि मुझे झारखंड के इटखोरी, चतरा जाने का अवसर मिला था और अनुमान हुआ था कि इस तरह के नाम ईंट अवशेष वाले पुरातात्विक स्थल के होते हैं। इटवा पहुंचने के पहले पाली गांव आया और गांव के पहले ही पुरानी बसाहट के अवशेषों का अनुमान हुआ। वहां आसपास घूमते हुए प्राचीन मूर्ति दिखी, यह आकस्मिक हुआ। हम लोग मूर्ति देखकर अवाक रह गए यह एक काले बेसाल्ट पत्थर या ग्रेनाइट की मूर्ति थी, अंजलिबद्ध मानव रूप गरुड़ की स्वतंत्र प्रतिमा। यह वही मूर्ति थी, जो अब भंवर गणेश या भांवर गणेश के नाम से जानी गई है। प्रतिमा आकर्षक, कलात्मक और महत्वपूर्ण थी। इसके बारे में पहले कहीं भी, किसी प्रकार का उल्लेख हमलोगों की जानकारी में नहीं आया था। इसलिए पहली-पहल मान, अपनी खोज का रोमांच हो रहा था।

यहां दस-बारह साल का बातूनी बालक मिला, जिज्ञासु था और आसपास के गांवों, ऐसी विशिष्टताओं में रुचि लेने वाला, हमारे लिए स्थानीय सूचक। हम उसके साथ उसके घर गए। उनके पिता से मिले, मुझे ध्यान आता है कि वे डॉक्टर थे, नाम अहमद हसन खान था। उनसे बात होने लगी तो उन्होंने बताया कि वे मूलतः सीपत के पास नरगोड़ा गांव के रहने वाले हैं। उनसे मिली जानकारी के आधार पर बाद में हम लोग नरगोड़ा भी गए और वहां भी कुछ पुरानी मूर्तियां देखने का मौका मिला। इसी क्रम में नरगोड़ा, गोड़ी, गोढ़ी (बिल्हा के पास के अन्य प्राचीन स्थल, किरारी-गोढ़ी), और प्राचीन टीले वाला गांव गुड़ी मिला। यह टीला नहर रास्ते के पास गांव के छोर पर, चौड़ा तालाब के किनारे मंदिर अवशेष वाला है।

बातें समेटते हम आगे बढ़े, अपने अगले लक्ष्य, इटवा के लिए। इटवा में किसी खास पुरानी चीजों की जानकारी नहीं मिली। यहां एक आधुनिक मंदिर मिला। पूजित और मान्यता वाला धार्मिक स्थल, जो लोकप्रिय था। हमारी हर पूछताछ के जवाब में इसी का पता बताया गया था। वहां मंदिर के साथ, एक तालाब कुंड जैसा याद आता है। उसके बारे में बहुत रोचक मान्यता बताई गई कि उसमें बीच में कभी अचानक मंदार यानि गुड़हल के लाल फूल आते हैं वे फूल, जो शिवरीनारायण कुंड में चढ़ाए जाते हैं, डाले जाते हैं, वही यहां निकलते हैं और वे फूल जब यहां आते है तो एकदम ताजे होते हैं। हमलोग उस क्षेत्र की अन्य जानकारियों पर बात करते जितनी देर वहां रुके, हमारे रहते तक वहां कोई फूल नहीं आया और नहीं कोई इटवा में पुरानी चीजें देखने को मिली। यह अनुमान हुआ कि शिवरीनारायण मंदिर के साथ किसी परंपरा, आस्था या धार्मिक मान्यता का संबंध अवश्य है।

लगभग पूरा दिन बीत गया, इसलिए आगे मल्हार की ओर बढ़ने का इरादा छोड़कर वापसी की तैयारी करने लगे और रास्ते पूछने लगे। समय का दबाव न हो तो ऐसी यात्राओं में हम आमतौर पर प्रयास करते कि जिस रास्ते से गए, उसके बजाय अन्य रास्ते से लौटें, चाहे रास्ता कुछ मुश्किल और लंबा हो। वापस होते हुए अलग रास्ता लिया और इससे कुछ-कुछ नक्शा समझ में बैठा कि नदी के समानांतर एक रास्ता वह है, जिस पर हम चल कर आए। इसी के समानांतर खुंटाघाट बांध वाला नहर का रास्ता है, जो मुख्य मार्ग पर मस्तूरी में आता है। नहर रास्ते से जाएं तो, वेद परसदा गांव से दाहिने उतर कर इटवा पाली पहुंच सकते हैं। इसी तरह मस्तूरी-मल्हार वाली सड़क से भी वेद परसदा से दाहिने मुड़कर, नहर पार कर यहां पहुंचा जा सकता है।

पुरातात्विक अवशेष अपने परिवेश के साथ सार्थक और प्रासंगिक होते हैं, इसलिए उन्हें मूल स्थान पर ही सुरक्षित रखना प्राथमिकता होती है। किंतु सुरक्षा के अच्छे इंतजाम और चौकसी न होने पर चोरी या अन्य दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। इस प्रतिमा के रजिस्ट्रेशन के पहले सुरक्षा के लिए हम लोगों ने समझाइश दी थी। इसे संग्रहालय के लिए देने का प्रस्ताव ग्रामवासियों के समक्ष रखा गया था। स्थानीय तौर पर लोगों ने इसकी व्यवस्था तो की थी लेकिन व्यवस्था पर्याप्त नहीं थी। ऐसे अवसर पर, गांव के कई लोग जिम्मेदार बनते दिखते हैं, सामने आते हैं, लेकिन घटना होने पर कोई इसकी जिम्मेदारी नहीं लेता है। इसलिए संग्रहालय के लिए ऐसी वस्तु को एकत्र करना मुश्किल होता है। लोग यह बताने लगे कि कभी इस प्रतिमा को ले जाने का प्रयास किसी ने किया था, मगर गाड़ा का अछांद टूट गया और चोर इसे वहीं छोड़कर भाग गए थे। फिर ग्रामवासी अपनी धार्मिक भावना का हवाला देने लगे। हमारे लिए यही रास्ता रह गया कि सुरक्षा के लिए समझाइश दें, प्रतिमा का पंजीकरण कर लिया जाय, वह शासकीय दस्तावेजों में तो रहे किंतु अधिक ‘पेपरबाजी‘ न की जाए।

शिव मंदिर, ग्राम पाली (इटवा), जिला बिलासपुर की भंवर गणेश या भांवर गणेश नाम से जानी जाने वाली यह प्रतिमा रजिस्ट्रीकरण कार्यालय, बिलासपुर से क्र बीएलआर/एमपी/529/एम.पी., दिनांक 10.05.1985, पंजीकृत है। काले पत्थर की 65गुणा38गुणा8 सेंटीमीटर आकार की यह गरुड़ प्रतिमा पद्मपीठ पर वीरासन में, पद्मयुक्त अंजलिबद्ध है। कलात्मक प्रभामंडल, मुकुट, भुजाओं व पैरों में नागबंध और पारंपरिक आभूषण-अलंकरण वाली, चोंचनुमा लंबी और नुकीली नाक और श्मश्रुयुक्त (दाढ़ी-मूंछ वाली) है। रतनपुर की कलचुरि कला शैली की 12 वीं सदी इस्वी, प्रतिमा की तिथि निर्धारित की जा सकती है।

इस तरह प्रतिमा का रजिस्ट्रेशन और डॉक्यूमेंटेशन हम लोगों ने कर लिया था। बहुत बाद में मुझे यह ध्यान आता है कि उस प्रतिमा की चोरी हुई। ऐसी चोरी के पीछे मुख्य प्रेरक होता है कि प्रतिमा का महत्व बताने के लिए उसे लाखों करोड़ों की कह दिया जाता है जबकि वास्तविकता यह है कि इसका कोई ऐसा खरीददार नहीं होता। स्मगलिंग की बात भी फिल्मों में दिखाई जाती है वह अब कम से कम ऐसा नहीं है। कारण कि यूनेस्को का 1970 कन्वेंशन Means of Prohibiting and Preventing the Illicit Import, Export and Transfer of Ownership of Cultural Property तथा इसी क्रम में आगे 1995 में Unidroit Convention on Stolen or Illegally Exported Cultural Oblects आया।

1970 कन्वेंशन के बाद देश भर में रजिस्ट्रीकरण कार्यालयों की स्थापना हुई। सन 1975 में छत्तीसगढ़ में भी रायपुर और बिलासपुर में कार्यालय स्थापित किए गए। सन 1975 के बाद जब से रजिस्ट्रेशन एक्ट आया है तब से हकीकत यह है, खासकर ऐसी कोई मूर्ति जिसका रिकॉर्ड हो, उसकी चोरी, खरीद-बिक्री हुई हो, वह कहीं भी हो बरामद होती है, कार्यवाही हो सकती है। ऐसी कोई प्राचीन कलाकृति विदेश भी चली गई हो तो प्रत्यावर्तन नियमों के तहत वह उस देश को मूल स्थान में लौटना होता है। इसीलिए अब इस बात की आशंका न के बराबर है। दरअसल रजिस्ट्रेशन एक्ट स्थिति को रोकने के लिए आया और यह बहुत कारगर साबित हुआ है। उल्लेखनीय कि पिछले दिनों ब्रिटेन से वापस भारत लाई जाने वाली कलाकृतियों संबंधी समाचार में उल्लेख आया कि 2014 से अब तक 228 कलाकृतियां भारत को लौटाई गई हैं।

हास्यास्पद कि इसे एक खबर में ‘‘ग्रामीणों की मानें तो‘‘ जोड़ कर जिम्मेदारी से बचते हुए ‘बेशकीमती काले ग्रेनाइट व हीरे के मिश्रण से बनी‘ और बाजार में इसकी कीमत 12 से 14 करोड़‘ बताई जाने का उल्लेख किया गया है। ऐसी ही खबरें चोरी की इन घटनाओं में उत्प्रेरक का काम करती हैं। इससे यह धारणा अभी भी चलती है कि पुरानी मूर्तियां लाखों की, करोड़ों की होती हैं। रातों-रात करोड़ों बना लेने के फिराक में, लालच में आकर उठाईगिर या छोटे चोर, अपराध करते हैं, नुकसान कर बैठते हैं। चोरी के बाद, ग्राहक न मिलने पर समझ में नहीं आता कि क्या करें, तो बचने के लिए तोड़फोड़ या तालाब में फेंक देना, लावारिस छोड़ देना, जैसी हरकत करते हैं। मूर्तियों के लापता होने के पीछे कुछ स्थानों में एक अन्य कारण, पुजारी से मन-मुटाव होने की जानकारी भी मिलती है।

यह सब याद करने का प्रसंग बना कि 25 अगस्त 2022, गुरुवार को देर रात एक बार फिर इस प्रतिमा की चोरी हुई। इस मूर्ति की चोरी एक बार 26-27 जनवरी 2004 को हुई थी, चोरी की प्राथमिकी श्री रूपेश पाठक आत्मज श्री गोपाल प्रसाद पाठक, ग्राम पाली द्वारा दर्ज कराई गई थी, तब मस्तूरी थाना प्रभारी श्री सी.आर. टांडिया थे। इस क्रम में डॉ. जी.के. चन्द्रौल, श्री एस.एस. यादव, श्री जी.एल. रायकवार तथा राहुल कुमार सिंह (स्वयं) की समिति द्वारा अनुमानित मूल्य रु. पैंतीस हजार निर्धारित किया गया था। प्रकरण में प्रतिमा अन्वेषण की विभागीय कार्यवाही हेतु सूचना, असिस्टेंट डायरेक्टर (सी.आईयू.), एंटीक्विटी सेंट्रल ब्यूरो आफ इंविस्टिगेशन (को आर्डिनेशन), डिवीजन क्राइम रिपोर्ट विंग के साथ इंटरपोल विंग, असिस्टेंट डायरेक्टर (डी.आई.जी.) सी.बी.आई. नई दिल्ली, महानिदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, नई दिल्ली को देते हुए प्रयास किया गया। यह प्रतिमा मस्तूरी थाना द्वारा दिनांक 14 फरवरी 2005 बरामद की जा कर संबंधित धारक को सौंप दी गई थी। पुनः 20-21 अप्रैल 2006 को चोरी हुई थी, जिसकी रिपोर्ट श्री जगन्नाथ पटेल पिता श्री महेत्तर पटेल द्वारा मस्तूरी थाना में लिखाई गई थी। थाना प्रभारी मस्तूरी ने इस संबंध में अवगत कराया था कि दिनांक 12 मार्च 2007 को मूर्ति का पुनः मंदिर में स्थापित होने की सूचना पर मूर्ति जप्त की गई एवं सुरक्षार्थ सुपुर्दनामा में ग्रामवासियों को दिया गया।

गरुड़ की इस प्रतिमा से अनुमान होता है कि यह किसी विष्णु मंदिर के समक्ष स्थापित रही होगी। परंपरा, गरूड़ स्तंभ की भी रही है, जिसमें देवालयों के सामने परिसर में स्तंभ पर गरुड़ प्रतिमा स्थापित की जाती है। हमलोगों ने इस बात पर भी विचार किया कि इसे स्थानीय जन ने भंवर या भांवर गणेश नाम क्यों दिया होगा। संभवतः चोंच जैसी लंबी नाक को सूंढ मान कर प्रतिमा को गणेश मान लिया गया। भंवर, भौंरे या मधुमक्खी को कहा जाता है, प्रतिमा का रंग भौंरे की तरह काला है, क्या इसलिए भंवर कहा गया? भौंरा-भ्रमर के साथ यह भी संभव कि गणेश, भांवर लगाने वाले यानि परिक्रमा-अव्वल देवता हैं। यह प्रतिमा भी भांवर लगाकर वापस आती रही है, आशा है अब भी वापस आएगी और अब सुरक्षित रहेगी।

कुछ पुराने नोट्स के तथ्यों के साथ यहां आई अन्य बातें याददाश्त के आधार पर लिखी गई हैं, इसलिए इसे किस्सा कहा है, जिसका उद्देश्य मुख्यतः रेखांकित करना कि पुरावशेषों की चोरी के पीछे सामान्यतः किस प्रकार की गफलत मानसिकता होती है।

Monday, September 19, 2022

तलवा से प्राप्त सिक्के

सन 1995 का मई माह। अपने नोट्स और कुछ स्मृति के आधार पर कुछ बातें। किसी सुबह कलेक्टर, बिलासपुर श्री एम.के. राउत का फोन आया। उन्होंने बताया कि बाराद्वार थाने के किसी गांव से सोने के सिक्के मिले हैं, जिन्हें जब्त कर सक्ती अनुविभाग में जमा कराया गया है। स्थल का निरीक्षण और सिक्कों का परीक्षण किया जाए, बाराद्वार और सक्ती के संबंधित कार्यालयों को अवगत कराया गया है, मौके पर किसी तरह की कठिनाई हो तो उनसे संपर्क किया जावे। बाराद्वार थाने से प्राथमिक जानकारी मिल गई। और सक्ती में श्री कार्तिकेय गोयल, आइएएस ने अपने समक्ष सिक्कों का परीक्षण मुझे (संग्रहाध्यक्ष, जिला पुरातत्व संग्रहालय, बिलासपुर को) कराया। उक्त निर्देशों के परिपालन में की गई कार्यवाही/प्रतिवेदन- 

ग्राम तलवा, बिलासपुर से लगभग 105 कि.मी. दूर बाराद्वार-जैजैपुर मार्ग पर बस्ती बाराद्वार के निकट सक्ती-तहसील, थाना- बाराद्वार के अंतर्गत प.ह.नं.- 16 में स्थित है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम तलवा के तीन कृषि मजदूर क्रमशः हरिहर व हरिसिंह आ. कार्तिक तथा बुधराम आ. भोकलो को कृषि कार्य के दौरान खेत से धातु पिण्डों की प्राप्ति हुई थी जो माह मई 95 के प्रथम सप्ताह में जब्त कर तहसील कार्यालय सक्ती में लाकर जमा किये गये हैं।

उक्त सिक्कों का कथित प्राप्ति स्थल ग्राम-तलवा के दक्षिणी भाग में स्थित पनखत्ती तालाब के निकट है। तालाब के दक्षिण-पूर्वी पार के फूट जाने से इस मार्ग से तालाब की जा निकासी हुई थी जिससे संलग्न खेत में मिट्‌टी पट गई थी। खेत को पुनः समतल बनाते हुए उक्त सिक्के प्राप्त हुए बताये जाते हैं। सिक्कों का अवलोकन करने पर ज्ञात हुआ कि उक्त सिक्के 5वीं-6वी सदी ईसवी काल से संबंधित है। अवलोकन विवरण निम्नानुसार है :-

0 हरिहर आ. कार्तिक से मिले 56 स्वर्ण सिक्के विभिन्न आकार के सिक्के 1.9 से.मी. से 2.8 से.मी. तक के हैं। सिक्कों के ऊपरी भाग पर गरूड़ अंकित है तथा निचले भाग पर तत्कालिन पेटिकाशीर्ष शैली की ब्राह्मी में शासकों के नाम महेन्द्रादित्य तथा प्रसन्नमात्र अंकित है। सिक्के-उत्पीड़ितांक या ठप्पांकित (Repousse) शैली के है। 

0 हरिसिंह आ. कातिक से मिले 24 नग सिक्के जिनका न्यूनतम आकार लगभग 1.8 से.मी. तथा अधिकतम 2.2 से.मी. है। अंकित लिपि एवं चिन्ह पूर्व वर्णित सिक्कों के अनुरूप है। 

0 बुधराम आ. भोकलो से मिले एक सिक्का तथा दो सलाई (Sticks) हैं। यह सिक्का भी पूर्व वर्णित सिक्कों के अनुरूप है जिस पर श्री महेन्द्रादित्य उत्कीर्ण है। दो सलाइयां संभवतः स्वर्ण सिक्कों को ही गलाकर बनाई गई होगी जिनका आकार 5.3x.7x.5 से.मी. तथा 2.5x.5x.35 से.मी. है।

इस प्रकार उक्त प्राप्तियों में कुल 81 स्वर्ण सिक्के तथा 2 सलाइयां है जिसका कुल वजन लगभग 125 ग्राम है। जिनमें से सिक्के पुरातत्वीय महत्व के है, किन्तु सलाइयों का कोई पुरातात्विक-ऐतिहासिक कलात्मक महत्व नहीं है। पुरातात्विक महत्व के 81 सिक्कों के अधिक विस्तृत व गहन अध्ययन की आवश्‍यकता है जो उक्त सिक्कों की रसायनीकरण (साफ-सफाई) के पश्चात संभव हो सकेगी।

ठप्पाकित शैली के अब तक प्राप्त सिक्कों के परिप्रेक्ष्य में तलवा से प्राप्त निधि की स्थित इस प्रकार हैः-

ठप्पांकित प्रकार के सिक्के हमारे देश में सर्वप्रथम 1926-27 में प्रकाश में आये बहरामपुर, जिला-कटक (उड़ीसा) से 47 प्रसन्नमात्र के सिक्के (स्वर्ण) सर्वप्रथम दर्ज ठप्पांकित सिक्के हैं।

अब तक कुल 306 ठप्पांकित सिक्के प्राप्त हुए है। तलवा निधि से प्राप्त सिक्कों को जोड़ने पर यह संख्‍या अब 387 हो गई है। इस प्रकार के सिक्के मूलतः दक्षिण कोसल (छत्तीसगढ़) तथा सीमावर्ती क्षेत्रों से प्राप्त हुए हैं।

रायपुर जिले के खैरताल से 54 सिक्के पितईबंद से 49 सिक्के, ग्राम रीवां से 39 सिक्के सिरपुर उत्खनन से 1? सिक्का तथा महासमुन्द व सिरपुर क्षेत्रों में फुटकर 4 सिक्के प्राप्त हुए हैं। बस्तर जिले के एडेंगा से 32 सिक्के, दुर्ग जिले के कुलिया से 30, रायगढ़ जिले के साल्हेपाली से 1 सिक्का तथा बिलासपुर जिले के मल्हार से 2 (1 स्वर्ण व 1 ताम्र), ताला से 1 (रजत) तथा नन्दौर से 1 सिक्का प्राप्त हुआ है।

उड़ीसा में बहरामपुर से प्राप्त 47 सिक्कों के अतिरिक्त कालाहांडी जिले से बहना से 10 सिक्के मारागुडा से 8 सिक्के तथा मदनपुर रामपुर से 1 सिक्का प्राप्त हुआ है। महाराष्ट्र के भंडारा जिले से 12 सिक्के प्राप्त हुए हैं, बिहार में शाहाबाद जिले से 1 तथा अन्य फुटकर 6 सिक्के (नागपुर संग्रहालय को बिहार शासन से प्राप्त) उत्तरप्रदेश में लखनऊ संग्रहालय में 5 सिक्के तथा पश्चिम बंगाल में कलकत्ता के निजी संग्रहालय में 2 सिक्के हैं।

इस प्रकार तलवा से प्राप्त 81 सिक्कों की निधि संख्‍या की दृष्टि से अब तक प्राप्त सभी निधियों से अधिक है।

पूर्व में प्राप्त ठप्पांकित सिक्कों पर अंकित शासकों का नामवार वर्गीकरण इस प्रकार हैः- महेन्द्रादित्य 137 सिक्के, क्रमादित्य 4 सिक्के, (संभवतः क्रमशः कुमारगुप्त प्रथम व स्कन्दगुप्त), प्रसन्नमात्र के 24 सिक्के (शरभपुरीय शासक), वराहराज के 29 भवदत्त के 3, अर्धपति के 3, नंदनराज के 1, स्तंभ के 1 (सभी नलवंशी शासक) तथा अन्य 4 सिक्के जो संभवतः कुषाण तथा गुप्त शासकों से संबंधित है। 

तलवा निधि में प्राप्त सिक्कों में आरंभिक अनुमान के अनुसार 78 सिक्के महेन्द्रादित्य तथा 3 सिक्के प्रसन्नमात्र के हैं। इस प्रकार महेन्द्रादित्य की कुल सिक्कों की संख्‍या अब बढ़कर 215 तथा प्रसन्नमात्र की कुल सिक्कों की संख्‍या 127 हो जावेगी।

पूर्व में प्राप्त निधि संयोगों में महेन्द्रादित्य के सिक्के कुषाण व गुप्त शासकों के साथ प्राप्त हुए हैं तथा क्रमादित्य, प्रसन्नमात्र व अन्य नल शासकों के सिक्के साथ भी प्राप्त हो चुके हैं। ठप्पांकित प्रकार के सिक्के सामान्य तौर पर स्वर्ण धातु के ही हैं किन्तु अपवादस्वरूप प्राप्त चांदी तथा ताम्बे के 1-1 सिक्के बिलासपुर जिले के क्रमशः ताला एवं मल्हार से प्राप्त हुए हैं।
- - - - -
यह प्रतिवेदन संचालनालय संस्कृति एवं पुरातत्व, छत्तीसगढ़ शासन, रायपुर के शोध जर्नल ‘कोसल-12‘ वर्ष 2021 में Notes & News में पेज 214-216 पर प्रकाशित है। इसके साथ संपादकीय नोट इस प्रकार है-

टीप :- उल्लेखनीय है कि तलवा के इस महत्वपूर्ण मुद्रानिधि के संबंध में जानकारी का एकमात्र स्रोत लेखक द्वारा प्रस्तुत यह प्रतिवेदन आलेख ही है। इसमें लेखक ने तलवा मुद्रानिधि पर प्रतिवेदन के साथ ही तत्समय देश के विभिन्न क्षेत्रों से ज्ञात ठप्पांकित सिक्कों पर गंभीर शोधपरक जानकारी भी प्रस्तुत की है, जो पुरातत्त्वीय सर्वेक्षणकर्त्ताओं के कार्य हेतु मार्गदर्शी है। - संपादक

Sunday, September 18, 2022

रायपुर संग्रहालय के सिक्के-1961

श्री बालचन्द्र जैन
20 नवंबर 1924 - 06 जून 1995

रायपुर का महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय, प्राचीन सिक्कों और अभिलेखों के संग्रह और प्रकाशन के कारण प्रतिष्ठित है, इस दिशा में सर्वाधिक उल्लेखनीय और महत्वपूर्ण कार्य बालचन्द्र जैन जी का है। संग्रहालय और उनके काम की एक झलक यहां है। इसी विशेषांक में पेज 303-308 पर विदिशा से प्राप्त किए गए सिक्कों पर लेख, जिनका उल्लेख इस लेख में है, भी पृथक से है। 

1960 का एक अन्य संदर्भ प्राप्त होता है, महंत घासीदास स्मारक संग्रहालय (उद्भव, संगठन और कार्यकलाप) पुस्तिका तब सहायक संग्रहाध्यक्ष रहे बालचन्द्र जैन जी ने तैयार की थी। इस पुस्तिका में 1956-57, 57-58 तथा 58-59 में अवाप्त प्रदर्शन सामग्री के आंकड़ों में सिक्के की संख्या क्रमशः 73, 61 व 1000 बताई गई है। यहां रायपुर संग्रहालय के भारतीय सिक्कों पर NUMISMATIC SOCIETY OF INDIA, VARANASI के GOLDEN JUBILEE VOLUME में प्रकाशित उनका लेख, शब्दशः –

THE COLLECTION OF INDIAN COINS IN THE RAIPUR MUSEUM
BALCHANDRA JAIN

The museum at Raipur was established in the year 1875 by late Mahant Ghasidas, the then ruling chief of the Nandgaon State, now a tahsil of the Durg district of Madhya Pradesh. In 1953, the management of the museum was taken over by the State Government and the new institution, named the Mahant Ghasidas Memorial Museum, came into existence, in which the old Raipur Museum was merged. Accordingly, along with other exhibits, a small collection of 102 coins and 41 medals Was transferred to the new museum which formed the nucleus of its coin-collection. The above coins are said to have been found in the Balaghat district and various places of the Chhattisgarh, while the medals which belong to the Indo-British period of the Indian history, were received from the Secretary to the Chief Commissioner of the former Central Provinces. 

During his term of appointment as the Asstt. Curator of this museum, Shri V. P. Rode (1953-56) made numerous efforts to increase the collection and he succeeded in acquiring 117 coins. These were received from the Deputy Commissioner, Raigarh district (A/ 9, R 2, and E 3), Shri Bhura, a businessman of Seoni (A1 and E 9), Shrimati Doongaji, Raipur (A 19), Shri Narayanlal Parmar, Raipur (B. 1), Shri Banjari, Raipur (E 13) and Dr. Kothari of Raipur (60 foreign coins including ancient Roman coins). 

Thus, the strength of the coin-collection of the museum at the end of the month of October 1956, when the writer of these lines, assumed charge of it, was: 219 coins, 41 medals and 2 tokens. 

I had come on transfer from the Central Museum, Nagpur where I was holding charge of a collection consisting of about 10,000 coins that represents almost all the periods of Indian history. Naturally, I was not satisfied with the then strength of the collection of the Raipur Museum and I decided to make fresh efforts to build up a representative collection of coins of the various periods. Fortunately, in the early months of 1957, the discovery of a gold coin in the Betul district was reported and ultimately, the coin was presented to the Raipur Museum by the Deputy Commissioner of that district under the orders of the Commissioner of the Bhopal division. The coin when examined was found to be the issue of the Bahamani king Mahmud II, son of Muhammad II. That was a good beginning. 

In the same year, Shri Vidya Charan Shukla M. P., Nagpur, donated to the museum, one tiny gold and five copper coins from the collection of his father, late Pandit Ravi Shankar Shukla, the former Chief Minister of Madhya Pradesh. The copper coin included an ancient Chinese coin found in the Bilaspur district and four uninscribed local coins of ancient South Kosala. Similarly, Shri Ramchandra Swarnakar of Katni (M. P.) was pleased to spare from his collection, 2 silver and 32 copper coins of the British period. At the same time, thirteen Ellichpur mint copper coins of Mughal emperor Muhammadshah and six other coins of the modern Indian States were acquired by me from various sources, Thus the strength of the collection of the museum on the 31st of March 1958 was : gold 11, silver 70, copper including bronze etc. 206 and medals 43. A list of these was prepared and published in March 1958. 

The financial year 1958-59 witnessed the largest acquisitions; in all 6 gold, 256 silver and 898 copper coins were added to the collection during that year. Of these 2 gold coins of Kalachuri Gangeyadeva which were found at village Karitalai in the Murwara tahsil of the Jabalpur district and 167 silver Mughal coins were presented by the Collector, Jabalpur district; 15 silver coins including the issues of the English East India Company having the names of William IV and queen Victoria and those of the old Bhopal State (Shahejahan Begum) were received from the Tahsildar of Raisen (M. P.); while a lot of 30 silver and 8 copper coins of the Sultans of Malava came from the Collector, Sehore district. It was in that year that 4 gold, 10 silver and 25 copper coins were purchased from the museums of Nagpur, Lucknow and Madras while two silver coins of Victoria, one bronze Pañchala coin and five coins of the modern Indian States were obtained locally. 

Shri S. N. Bhargava of Nagpur possesses a very good collection of ancient and modern Indian coins. Acceding to my request, he very kindly presented 54 copper coins and a clay sealing to the museum. His donation of a few early indigenous coins called for the immediate endeavour to enrich the collection by acquiring the early cast, and uninscribed coins, and coins of cities, guilds, republics and early dynasties. Incidentally, in the month of April 1958, when I was on a tour of Bhopal in my private capacity, I met a coin-collector of Vidiśã who possessed about 2,000 ancient Indian coins collected by him from Vidiśã and Ujjain. The collection was examined jointly by Shri K. D. Bajpai, the then Curator of the Archaeological Museum, Mathura, and myself. We purchased the lot comprising about 1,700 coins for our respective museums for a total price of Rs. 500/-. The collection was divided in two equal shares, and the one which came to the Raipur Museum contained 32 silver and 803 copper coins including the silver punch-marked, early cast and uninscribed, tribal coins of Eran and Ujjain, coins of the city of Vidisa, coins of Ramagupta, Western Kshatrapas, Naga kings of Padmavati and many other ancient Indian coins.¹ 

In 1959-60, the first coin added to the collection of the museum was a gold coin of Narasimhagupta which was purchased from Varanasi. Coins found in the Sirpur excavations of 1956 (one gold coin of Prasannamatra, one Chinese copper coin) and 104 copper Kalachuri coins and that of Paseva (117 billon coins of the Sultans of Delhi and one Śrīdāma coin) were also added to the cabinet in that year. The most important acquisition of the year was the hoard of 46 gold coins of Mahendraditya and 3 gold coins of Kramāditya discovered in the village Pitaiband of Raipur district. During last year (1960-61), the Collector, Raipur district, presented two hoards consisting of 119 silver coins of the Mughal emperors and 84 silver coins of the Bhonsle rulers of Nagpur (issued in the name of Ahmedshah from Katak mint ?). Third hoard was received from the Tahsildar of Sibora, district Jabalpur. It contained 138 copper coins of the Sultans of Malava, most of which are the issues of Hosangshah. Similarly, three silver seals of the old Bastar State and one Indo-British medal were transferred to the Museum from the Jagdalpur treasury under the orders of the State Government. Twenty coins were received in donation from private sources. 

The strength of the coin-collection of the Museum has now increased to 73 gold, 432 silver and 1493 copper coins, from a nucleus collection of 143 coins and medals which existed on the 21st March 1953, the day of opening of the Museum. 

1. Some of them are being published in this Volume. See pp. 303-308, ante. 
2. JNSI, Alt. Comm. Vol., pp. 184-187.

यहां यथासंभव शुद्धता का ध्यान रखा गया है, किंतु गंभीर शोध-अध्ययन में उद्धृत करने, संदर्भ के लिए कृपया मूल स्रोत का उपयोग करें।