Monday, December 5, 2022

डीपाडीह - वेदप्रकाश

वेदप्रकाश नगायच
1988 से 1990 सरगुजा में पुरातत्वीय गतिविधियों के उल्लेखनीय वर्ष हैं। इस दौरान डीपाडीह के स्मारक, पुरावशेष अनावृत्त हुए। इस कार्य में जी.एल. रायकवार जी के साथ, लगभग पूरे समय मेरी सहभागिता रही। आरंभिक चरण में बारी-बारी शामिल विभाग के अन्य अधिकारी में वेदप्रकाश नगायच जी की उपस्थिति महत्वपूर्ण रही। काम के साथ, विभिन्न प्राप्तियों पर विस्तार से विचार-विनिमय होता। नगायच जी ने इन अधपकी चर्चाओं को करीने और सलीके से अपने अनुभव का आधार दे कर लेख का स्वरूप दिया, जो ‘मध्यप्रदेश संदेश‘ के 25 फरवरी 1989 अंक में प्रकाशित हुआ, यहां प्रस्तुत-

डीपाडीह
मंदिरों का नगर

मध्यप्रदेश के पूर्वी अंचल में स्थित सरगुजा जिला प्राचीन इतिहास की अनेक श्रृंखलाओं को अपने में समाहित किये हुये है। सरगुजा का संपूर्ण क्षेत्र अलौकिक सौंदर्य से ओत प्रोत है। ऐसा प्रतीत होता है कि प्रकृति ने वनों, पर्वतों, नदियों एवं सरोवरों की नैसर्गिक छटा यहां बिखेर दी हो। संभवतः इसी से इसे ‘स्वर्गजा‘ की संज्ञा से विभूषित किया गया एवं पश्चातवर्ती काल में अपभ्रंश होते हुये इसका नाम सरगुजा हो गया।

इस जिले के पुरातत्वीय महत्व के स्थलों में रामगढ़ स्थित जोगीमारा एवं सीतावेंगा की गुफायें तथा पहाड़ पर ही स्थित विश्व की सबसे प्राचीन नाट्यशाला है जो तीसरी दूसरी शती ईसा पूर्व की है। जिसका अभिलेखीय साक्ष्य भी है। इसके अतिरिक्त मुख्य पुरातत्वीय स्थलों में महेशपुर, लक्ष्मणगढ़, सतमहला, देवगढ़, सीतामढ़ी, हरचौका, बेलसर, एवं डीपाडीह है। परंतु ये सभी स्थल पुरातत्वीय संपदा से सम्पन्न होते हुये भी रामगढ़ की विश्व विख्यात कीर्ति के समक्ष अपनी पहचान व महत्व के लिये उपेक्षित ही बने रहे।

हाल ही में मध्यप्रदेश पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के आयुक्त श्री के. के. चक्रवर्ती ने इन उपेक्षित स्थलों का निरीक्षण करते हुये प्रथम दृष्टया डीपाडीह को पुरातत्वीय अन्वेषण का केंद्र बनाया। यहां के टीलों में दबे पड़े मंदिरों, मूर्तियों, परावशेषों को अनावृत्त करने हेतु राज्य पुरातत्व विभाग के अधिकारियों द्वारा मलवा सफाई का कार्य उनके निर्देशन में जारी है।

ग्राम डीपाडीह जिला मुख्यालय अंबिकापुर से ७३ कि.मी. उत्तर की ओर स्थित है जो कुसमी तहसील के अंतर्गत आता है। डीपाडीह की स्थिति अत्यन्त मनोरम है. चारों ओर से पहाड़ियों से घिरा हुआ तथा कन्हर, सूर्या तथा गलफुल्ला नदियों के संगम के किनारे बसा है। जहां सूर्या नदी का पानी गर्म है वहीं कन्हर एवं गलफुल्ला नदियों का पानी ठंडा है। समुद्रतल से डीपाडीह की ऊंचाई लगभग २९०० फीट है जिस से यहां का मौसम काफी सुहावना रहता है।

ग्राम डीपाडीह से करीब २ कि.मी. पर शाल वृक्षों के घने झुंडों के मध्य मुख्य रूप से शिव मंदिरों के करीब २० टीले एवं एक बावली है। इस स्थल को यहां के लोग सामत सरना कहते हैं। यहां की प्रचलित लोक-कथा के अनुसार बिहार प्रांत के टांगीनाथ से यहां के सामत या सम्मत राजा का युद्ध हुआ था जिसमें टांगीनाथ ने अपनी कुल्हाड़ी फेंककर सामत राजा पर वार किया और वह यहीं वीरगति को प्राप्त हुये थे, जिनकी यहां स्थित विशाल प्रतिमा को लोग पूजते हैं। वस्तुतः यह परशुधर शिव की प्रतिमा है जो कालक्रम में कई भागों में भग्न हो गई जिसे ग्रामवासियों द्वारा इस स्थल के विविध टीलों (मंदिरों के) से अलंकृत प्रस्तर खंड व प्रतिमाएं लाकर घेरकर एक लघु मढ़िया का रूप दे दिया है तथा सामत राजा के नाम से इन्हें पूजते हैं व आदिवासी लोग यहां अपने समाज की बैठकें किया करते हैं।

सामत सरना में टीलों के ऊपर भी प्रतिमाएं यत्र-तत्र बिखरी है जिनमें गणेश, भैरव, वीरभद्र, शिवगण, नदी-देवी, महिषासुरमर्दिनी, चामुण्डा व विविध शिल्पखंड प्रमुख हैं।

सामत सरना से थोड़ा आगे उरांवटोली (उरांव लोगों की बस्ती) स्थित है। सामत सरना एवं उरांव टोली के मध्य करीब ७-८ टीले तथा एक पक्का रानी तालाब भी है। सामत सरना से करीब १ कि.मी. पश्चिम की ओर कन्हर नदी के किनारे भी दो मंदिरों के भग्नावशेष हैं जिस में मंदिरों की द्वार चौखटें तथा अलंकृत शिल्पखंड यत्र तत्र बिखरे हुये हैं।

इस प्रकार डीपाडीह के ४-५ कि. मी. के क्षेत्रफल में करीब ३० मंदिरों के टीले हैं जो स्पष्टतया डीपाडीह के मंदिरों का नगर होना प्रमाणित करते हैं। अभी तक डीपाडीह के उरांवटोली स्थित एक विशाल टीले तथा सामत सरना के ३ टीलों की मलवा सफाई कार्य संपन्न हुये हैं जिनसे मंदिर के वास्तु एवं प्रतिमा विधान के नये आयाम स्थापित हुये हैं।

उरांवटोली जो कन्हर एवं गलफुल्ला नदियों संगम के समीप स्थित है, के विशाल टीले की मलवा सफाई में शिवमंदिर के ध्वंसावशेष प्रकाश में आये हैं। मंदिर का शिखर एवं मंडप भाग पूर्णतः धराशायी हो चुके हैं मंदिर की जगती एवं अधिष्ठान अपने मूलरूप में अनावृत्त हुये हैं।

मंदिर निर्माण योजनानुसार एक विशाल चबूतरे पर जिसमें मंडप, अंतराल एवं गर्भगृह तीनों अंग स्पष्ट हुये हैं। पूर्वाभिमुख इस मंदिर के मंडप में तीन सीढ़ी चढ़कर पहुंचते हैं। मंडप १६ स्तंभों पर आधारित रहा होगा। चार स्तंभों की तीन पंक्तियां हैं जिनकी कुंभियां अपने मूल स्थान पर हैं तथा उत्तर व दक्षिण दिशा में दो दो दीवाल स्तंभ हैं।

अंतराल खंड में एक एक शार्दूल प्रतिमा शार्दूल मंडप में स्थापित थी जिसमें एक शार्दूल मंडप में रखा पाया गया है। अंतराल की उत्तरी दिशा में नदी देवी गंगा तथा दक्षिणी दिशा में यमुना की प्रतिमायें प्रदर्शित थी जो वर्तमान में मूल स्थान से हटकर पायी गयी हैं। मात्र गंगा की प्रतिमा का निचला खंड भाग मूल स्थान पर है।

मंदिर की द्वार चौखट में मात्र दो द्वार शाखायें हैं जिनमें विद्याधरों का पुष्पहार लिये अंकन है। इस प्रकार का अंकन राजिम (रायपुर) एवं मल्हार (बिलासपुर) के मंदिरों में भी पाया गया है। 

मंदिर का गर्भगृह वर्गाकार है तथा बीच में स्लेटी प्रस्तर का विशाल शिवलिंग गोलाकार जलहरी सहित मूल स्थान पर भग्नावस्था में स्थापित है। 

मंदिर की बाह्य भित्ति पर खुरभाग में गोधा, सर्प, विच्छू, केला खाते बंदर, सर्प, मयूर, युद्ध, कमंडलु, व दंड को एक ओर रखे उपासक की लेटे हुये तथा मुक्तालड़ी युक्त मयूरों आदि का अंकन है। सामान्यतया छत्तीसगढ़ क्षेत्र में इस प्रकार का अंकन नगण्य है। मालवा की परमार कला में ही ऐसा अंकन पाते हैं। मंदिर के जंघा भाग पर कमलफुल्लों, पुरुष शीर्ष, चैत्यगवाक्ष में उमा महेश्वर युगल आदि का अंकन है। 

इस मंदिर की मलवा सफाई में प्राप्त प्रतिमाओं में दंडधारिणी कीचक, नदी देवी गंगा, एक सिर दो धड़ युक्त सिंह, मिथुन युगल, अर्ध उत्कटासन में बैठा पुरुष, चैत्य गवाक्ष में सूर्य, कुत्ते पर सवार त्रिशूल लिये भैरव तथा नक्काशीदार शिल्पावशेष प्रमुख हैं। 

यह मंदिर मूर्तिविद्या एवं स्थापत्य के आधार पर लगभग ८वीं शती ई. के उत्तरार्द्ध में निर्मित प्रतीत होता है। 

सामत सरना स्थित विशाल टीले की मलवा सफाई के पश्चात् इसका वर्गाकार गर्भगृह, द्वारचौखट, वर्गाकार मंडप, विशाल एवं अद्वितीय प्रतिमायें प्राप्त हुई हैं। इसी के सामने ध्वस्त आयताकार नंदी मंडप मिला है जिसमें अतिसुंदर एवं विशाल नदी का भक्तिभाव से अपने आराध्य एवं स्वामी शिव की ओर निहारते हुये रखा है। मलवा सफाई में निकले इस शिव मंदिर की जगती दोहरे चबूतरे युक्त है तथा ऊंचे चबूतरे पर मंडप की दीवार बनी है।


यह पूर्वाभिमुख सप्तरथयुक्त मंदिर विशाल वर्गाकार मंडप, अन्तराल तथा गर्भगृह इन तीन अंगों वाला है। वर्गाकार मंडप आठ स्तंभों पर आधारित रहा है जिसके दो स्तंभों की कुंभियां अपने मूल स्थान पर है। मंडप से प्राप्त दो स्तंभों पर जो गोलाकार है, नीचे से ऊपर तक चारों ओर मान्मथ अंकन है। मंडप के उत्तरी एवं दक्षिणी भित्ति से लगी प्रतिमाओं के ४-४ पादमूल (पेडेस्टल) पाये गये हैं जिनमें उत्तरी भित्ति के केवल दो पादमूलों पर १० भुजी महिषासुर मर्दिनी, १० भुजी भैरव, प्रतिमा प्रदर्शित पायी गयी तथा दक्षिणी भित्ति के एक पदमूल पर गौरी की (दो भागों में विभक्त) प्रतिमा है। पूर्वी भित्ति के प्रवेश द्वार के दोनों ओर भी एक- एक पादमूल पर क्रमशः नृवराह तथा कल्याण सुंदर मूर्ति (शिव विवाह दृश्य का आधा खंड भाग ही) प्रदर्शित है। इस प्रतिमा में ब्रम्हा को पुरोहित का कार्य करते एवं अग्नि द्वारा भी मानव रूप में विवाह दृश्य देखने का लोभसंवरण न कर पाना स्पष्टतः अंकित है। गणेश एवं कार्तिकेय भी विवाह में उपस्थित हैं व नंदी भी प्रसन्न होकर निहार रहा है। 

मंदिर के अंतराल एवं गर्भगृह में प्रविष्ट होने हेतु प्रस्तर निर्मित विशाल द्वार चौखट है जिसका उदुम्बर अपने मूल स्थान पर है जिसमें मध्य में चंद्रशिला अर्धपद्माकृति में है तथा दोनों ओर ढाल तलवार लिये योद्धा एवं गज पर पीछे से हमला करते हुये सिंह का अंकन है। प्रवेशद्वार की द्वार शाखायें त्रिशाल हैं। दायीं ओर की द्वारशाखा में वाहन मकर पर सवार नदी देवी गंगा का अनुचरों सहित अंकन है बीच में वानर एवं ऊपर वीणाधारिणी बनी है तथा लता पत्रावली का सुरुचिपूर्ण अंकन है। ऐसा ही अंकन बायीं ओर की द्वारशाखा नदी देवी यमुना वाहन कच्छप के अंकन सहित है। सिरदल भी त्रिशाख है मध्य में गजलक्ष्मी का अंकन है तथा दोनों ओर माला लिये विद्याधरों का अंकन है। दायें किनारे पर नंदी पर आरूढ़ चतुर्भुजी नृत्य शिव तथा बायीं ओर चर्तुभुजी परशुधर शिव अंकित है। ऊपर व नीचे के शाख पर लता-पत्रावली का अंकन है।

वर्गाकार गर्भगृह के बीच में चौकोर जलहरी के मध्य विशाल सिलेटी प्रस्तर का भग्न शिवलिंग है। मलवा सफाई में मंदिर के मंडप की बाहय भित्तियों के पास नृत्यगणेश, कार्तिकेय, विराट स्वरूप विष्णु, ब्रम्हा की अतिसुंदर एवं विशालकाय प्रतिमायें पायी गयी हैं जो समानुपातिक एवं कलात्मक हैं तथा गर्भगृह की बाह्य भित्तियों के मलवे में गौरी प्लेक एवं विविध देव सिर, अर्धनारीश्वर, भैरव, शिव, विष्णु उमा-महेश्वर, शिवगण, सूर्य, शार्दूल, गणेश आदि की प्रतिमायें व प्रतिमा खंड मिले हैं।

इस शिव मंदिर का चबूतरा जगती एवं अधिष्ठान मलवा सफाई में प्रकाश में आये हैं। अधिष्ठान में पद्मपत्र अलंकरण युक्त अधिष्ठान बंध है। अधिष्ठान बंध के ऊपर जंघाभाग में लघु स्तंभों पर आधारित मंडपिकाओं का अंकन है जिनके छाद्य में कमल पत्रों पर लघु कलशों का अंकन है। इनके ऊपर मध्य रथिका में चैत्य गवाक्ष का क्रमिक अंकन है। अधिष्ठान बंध के ऊपर कुड्य स्तंभों से बनी मंडपिकाओं पर बीच में बने पद्म अलंकरण युक्त दो घंटों के दोनों ओर सिंह (शार्दूल) अंकन है। यह अंकन मंदिर की तीनों ओर की बाह्य भित्ति पर हुआ है उत्तरी दिशा में अधिष्ठान बंध में कीर्तिमुख अंकन युक्त जलहरी बनी है।

इस मंदिर का शिखर एवं मंडप पूर्णतः धराशायी हो चुका है जिनके भग्नावशेष एवं शिल्पखंड चारों ओर पाये गये हैं। प्रतिमाओं एवं स्थापत्य विधा को देखते हुये इस मंदिर का काल लगभग ९वीं शती ई. का निर्धारित होता है। इस मंदिर के दक्षिणी पार्श्व में ५-६ लघु मंदिर, लघु शिवलिंग की स्थापना सहित चबूतरे पर स्थापित हैं।


सामत सारना स्थित मुख्य शिव मंदिर के उत्तरी पार्श्व में तीन गर्भगृह वाला मंदिर समूह मलवा सफाई में निकला है जो पूर्वाभिमुख हैं तथा एक दीवाल से दो भागों में विभक्त है जिस से एक मंडप व एक गर्भगृह का एक मंदिर तथा एक मंडप दो गर्भगृह के दो मंदिर के रूप में यह दीवाल विभक्त करती है। ये मंदिर समूह मात्र अधिष्ठान तक ही चारों ओर है शेष भाग पूर्णतः ध्वस्त हो चुका है।

दक्षिणी ओर के एक गर्भगृह वाले मंदिर का प्रवेश सादा सिल पर है, जिस पर पूर्व में द्वारशाखा रही होगी। मंडप वर्गाकार है जिसमें ४ कुंभियां अपने मूल स्थान पर है पर स्तंभ नहीं, तथा दीवारों के किनारे दो प्रतिमाओं के पादमूल है पर प्रतिमायें नहीं हैं। मंडप के दोनों ओर दीवारें मात्र एक मीटर तक ही ऊंची हैं। आयताकार अंतराल भाग में दक्षिणी ओर शिव एवं उत्तरी ओर चतुर्भुजी शिव की स्थानक भग्नसिर प्रतिमायें पादमूल पर स्थापित हैं।

इस शिव मंदिर के गर्भगृह की द्वारशाखा में दायीं ओर कूर्मवाहना नदी देवी यमुना एवं बायीं ओर नदी देवी गंगा है जिसके वाहन का अंकन पादमूल पर नहीं हुआ है दोनों को घट एवं छत्र सहित अंकित नहीं किया गया है, पर दोनों हाथ में माला लिये सौम्य मुख मुद्रा एवं अलंकरण युक्त हैं। गंगा एक कान में चक्र कंडल एवं दूसरे में पोंगी पहने हुये हैं। यहां की काफी प्रतिमाओं के कानों में पोंगी का अंकन प्रभूत मात्रा में हुआ है। आज भी उरांव जनजाति की स्त्रियों के कानों में पोंगी पहनने का प्रचलन पाते हैं।

गर्भगृह छोटा वर्गाकार है जिसकी जलहरी ३-४ भागों में भग्न मंडप में शिवलिंग प्रतिमा सहित पायी गयी। गर्भगृह भी साल वृक्ष के कारण ध्वस्त है व करीब २ मीटर ऊंचा ही शेष है। 

इस मंदिर के बाह्य दक्षिणी पश्चिमी किनारे पर चतुर्भुजी परशुधर शिव की अद्वितीय प्रतिमा लगी है जो हाथों में नागपाश, त्रिशूल, अक्षमाला तथा परशु लिये हैं तथा उनका दायां पैर परशु पर रखा है। पीछे पर्वत का अंकन है तथा शिव की जटायें लहराते हुये. अंकन है। यह प्रतिभा विज्ञान की दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण मूर्ति है।

मूर्तिविद्या एवं स्थापत्य की दृष्टि से यह मंदिर व प्रतिमायें ८ वीं शती ई. की निर्धारित की गयी है। 

इस मंदिर के उत्तरी पार्श्व में दो गर्भगृह एवं एक मंडप युक्त शिव मंदिर मलवा सफाई में निकाला गया है। पहले मंदिर की तरह इन दोनों के गर्भगृह भी एक ही सीध में हैं। ये दोनों भी साल वृक्ष के कारण ध्वस्त हैं। इसका मंडप आयताकार हैं जिसमें ४ स्तंभों की कंुभियां मंडप के मध्य हैं पर स्तंभ प्राप्त नहीं हुये हैं। मध्य मंडप का धरातल कुछ ऊंचा है मंडप के दोनों ओर की दीवालें मात्र १ मीटर ही ऊंची हैं मंडप की उत्तरी दीवारों एवं दक्षिणी से लगी ४ प्रतिमाओं में से तीन ही पायी गयी हैं। जो ठीक आमने सामने हैं। दक्षिणी दीवाल से लगी चतुर्भुजी नृत्यगणेश एवं समपाद स्थानक विष्णु की प्रतिमायें हैं इन दोनों के सिर भग्न हैं। उत्तरी दीवाल से लगी नृत्य गणेश प्रतिमा के ठीक सामने सूर्य प्रतिमा का निचला भाग है जिस में गमबूट पहने पैरों व नीचे सप्त अश्वों का अंकन मात्र ही है। चौथी प्रतिमा का मात्र पाद्मूल ही शेष है। 

पहले गर्भगृह की दायीं द्वार शाखा में नदी देवी यमुना को वाहन कूर्म पर सवार एवं हाथ में माला लिये अंकन है। यमुना बांयें कान में पोंगी व दांयें में चक्र कुंडल पहने हैं तथा केयूर, कंकण, हार, पाजेब आदि अलंकरण भी धारण किये हैं। बायीं द्वारशाखा की नदी देवी गंगा मूल स्थान पर नहीं है। मात्र सादा पादमूल ही है। सादा गर्भगृह लघु एवं वर्गाकार है पर ध्वस्तावस्था में है। इसके पार्श्व के दूसरे गर्भगृह का उत्तरी भाग ध्वस्त है जिसकी दायीं ओर की सादा द्वारशाखा ही शेष है।

केवल एक शिवलिंग एवं जलहरी (भग्न) ही इस मंडप में मलवा सफाई में प्राप्त हुई है।

पूर्व मंदिर की तरह यह भी कालक्रम में ८वीं शती ई. का है।

मंदिर समूह के ठीक पीछे पश्चिम में स्थित टीले की मलवा सफाई में चारों कोनों पर चार छोटे मंदिर अवशेष अनावृत्त हुये हैं जिनमें छोटे छोटे खंडों में शिवलिंग स्थापित है। मध्य टीले से मुख्य मंदिर एवं उसके चारों ओर पक्के फर्श का प्रदक्षिणा पथ प्रकाश में आया है जिसके मध्य में मंडप रहा है तथा यह मंदिर उत्तराभिमुख है। गर्भगृह के मध्य चामुंडा प्रतिमा तीन भागों में भग्न प्राप्त हुई है। इसका पादमूल सादा आयताकार प्रणालिका युक्त पाया गया है जबकि प्रणालिका शिवलिंग वाले मंदिरों में ही पायी जाती हैं। 

चबूतरे पर चारों ओर निर्मित लघु मंदिर एवं मध्य में प्रमुख मंदिर युक्त यह पंचायतन मंदिर भी ८वीं शती ई. का है। 

यहां के शेष टीलों का मलवा सफाई कार्य जारी है।

डीपाडीह के पूर्वाेत्तर में करीब २ कि. मी. पर चैला पहाड़ है जो इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि यहां पर प्राचीन शिल्पकारों ने पहाड़ से चट्टान काटकर शिल्पाकृतियां तैयार की थी तथा यहीं से ले जाकर डीपाडीह के सामत सरना व उरांव टोली के मंदिरों का निर्माण एवं मूर्तियां स्थापित की गयी।

इस पहाड़ को तीन स्तरों में काटकर शिल्पियों ने समतल स्थान तैयार किये व शिल्पांकन किया। इनका नीचे से ऊपर की ओर क्रमिक स्तरीकरण पाते हैं निचले स्तर पर शिल्पांकन चिन्ह, मध्य स्तर पर एक स्थल पर ‘ॐ नमः विश्वकर्मायः‘ अभिलेख तथा बालि सुग्रीव युद्ध, हाथी, पुरुष, वज्र आदि का अंकन तथा ऊपर के स्तर पर अनगढ़ कुबेर, नंदी आदि की प्रतिमायें व शिल्पांकन चिन्ह पाये गये हैं। इन तीनों स्तरों पर चट्टानों, पत्थरों की छीलन व सादा सपाट कार्य करने के चबूतरे ऐसी झलक देते हैं कि शिल्पी कार्य करके अभी ही गये हों।

- वेद प्रकाश नगायच

Friday, December 2, 2022

बिलासपुर भास्कर: कल, आज और कल

सितंबर 2022, पहला हफ्ता। रात साढ़े दस बज गए हैं, फोन आता है। यह अक्सर अखबार वालों के फोन का समय होता है, फोन पर बात पूरी करने के बाद बता-दुहरा दिया करता हूं कि नींद से उठकर बात कर रहा हूं और ‘जागते रहो‘ वाला रिटर्न गिफ्ट दूंगा, कल सुबह-सुबह फोन कर के। मगर इस बार ऐसा नहीं हुआ। फोन बिलासपुर वाले हर्ष पांडेय जी का था, दुआ-सलाम और एकाध औपचारिक बातों के साथ, बिलासपुर भास्कर प्रकाशन के 29 वर्ष पूरे होने पर पांचेक सौ शब्द में बिलासपुर कल, आज और कल, जैसा कुछ लिख कर देने का आग्रह।


बिलासपुर भास्कर के 1993 वाले आरंभिक दिनों को याद करता हूं। हमारे दफ्तर और संग्रहालय के बीच रास्ते, रेस्ट हाउस के सामने, तहसील चौक पर भास्कर प्रेस होता था। हर दूसरे चौथे दिन हमलोग, बिलासपुर के आयोजन पुरुष रामबाबू सोनथलिया जी और प्रेस के लोगों से मिलने वहां ठहर जाते। बिलासपुर भास्कर से इस तरह का पड़ोसी रिश्ता तब भी बना रहा, जब वह नार्मल स्कूल-हाई कोर्ट के सामने आ गया। यह मेरे निवास का पड़ोस था। मेरे लिए श्री बुक डिपो और कोचिंग के रास्ते के बीच। यह करीबी रिश्ता बना रहा। सुशील पाठक जैसे तब के कुछ साथी अब नहीं रहे। भास्कर परिवार के दिवाकर मुक्तिबोध, संजय द्विवेदी, अविनाश कुदेशिया, मनीष दवे से मोल-जोल बना रहा।

प्राण चड्ढा जी से लगभग रोज की मुलाकात थी। वे बरास्ते फोटोग्राफी और वन्य-जीवन, शौकिया अखबारों से जुड़े और भास्कर के संपादक रहे, सेवानिवृत्ति के बाद भी भास्कर परिवार से जुड़े रहे। छत्तीसगढ़ राज्य बनने की आहट थी, उनके और प्रेस परिवार के मशविरे पर योजना बनी कि छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विशिष्टता पर भास्कर के लिए लिखूं। शीर्षक तय हुआ ‘छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़ी, छत्तीसगढ़िया‘। छत्तीस दिनों में छत्तीस नोट तैयार करने थे। इनमें से बीस नोट 9 से 29 मई 1998 के बीच प्रकाशित हुए। भास्कर के प्रवीण शुक्ला जी, सुनील गुप्ता जी जैसे साथी अब संपादक हैं। इस दौरान खबर मिली की हर्ष जी ने भी सिटी चीफ से संपादक तक का सफर तय कर लिया है, उन्हें बधाई।

हर्ष जी की बात पर लगा कि इस दौरान थोड़ी आमदरफ्त और लिखना-पढ़ना हाथ में लिया हुआ है कि तुरंत नहीं कर पाया तो यह पक्का लटका रह जाएगा। इसलिए उनसे फोन पर हुई बात का ही सूत्र पकड़ कर ब्रह्म मुहूर्त में नोट्स लेने लगा। यह ध्यान में था कि लोग सामान्यतः विवरणात्मक लिखेंगे, इसलिए दुहराव न हो, कुछ अलग हो। अलग इतना भी न हो कि अप्रासंगिक हो कर, हास्यास्पद हो जाय, सहज पठनीय प्रवाहमय, अपना-अपना सा लगे। नोट पूरा करते हुए देखा कि यही 500 शब्द हो गए हैं तो बस सुबह-सुबह साढ़े छह बजे, फोन आने के आठ घंटे बाद, जिसमें लगभग सात घंटे नींद के थे, जो रिटर्न गिफ्ट वाट्सएप पर भेजा वही यहां-

बिलासपुर: कल आज और कल

छत्तीसगढ़ के दोनों प्रमुख शहर, रायपुर और बिलासपुर से मेरा ताल्लुक लगभग बराबर रहा है। शहरों का अपना मिजाज होता है, अपनी पहचान होती है और वह सिर्फ भवनों, सड़कों, प्रतिष्ठानों से ही नहीं, शहर के निवासियों से अधिक होती है। बिलासपुर के आत्मीय स्वभाव और रायपुर के कामकाजी-व्यावसायिक स्वभाव को फोन पर होने वाली बात से समझने का प्रयास करें। रायपुर में अभिवादन और कुशल-क्षेम के बाद फोन करने वाला, फोन करने के प्रयोजन पर न आए तो अगला उससे पूछ लेता है, ‘अच्छा, ठीक है, बताओ फोन कैसे किया?‘ दूसरी तरफ ठेठ बिलासपुर के फोन वार्तालाप में दो-चार मिनट देश-दुनिया, आगत-विगत की बात होती है और कई बार तो विदा भी, तब दूसरी बार फोन आता है कि ‘असल में फोन इसलिए किया था ...‘। यह पहचान किसी व्यक्ति-विशेष के गुण-दोष से नहीं, समय के साथ, अपने-आप, शहर की अपनी पहचान-‘सिगनेचर‘ जैसा विकसित होता है। मेरे लिए बिलासपुर, एक ऐसा ही आत्मीय शहर है।

शहरों के साथ इतिहास का वैसा आग्रह उचित नहीं होता कि उसके शिलान्यास और लोकार्पण की तिथि और मुख्य अतिथि निर्धारित करने लगें। उसका तो वैसा ही होना फभता है, जैसा बिलासपुर के साथ है, यानि आस्था और विश्वास से सराबोर मान्यता-दंतकथा। बिलासपुर, रतनपुर राज का कैम्प रहा, वहां जाजल्लदेव जैसे राजा भी हुए, जिनके नाम पत्थर पर खुदे हैं, प्राचीन राजधानी महामाया मंदिर के साथ वाहरसाय के नाम का शिलालेख है, मगर वह पत्थरों पर खुदी इबारत बन कर जड़ है। दूसरी तरफ, गोपालराय बिंझिया या गोपल्ला वीर और कल्याण साय का नाम, लोगों के मन-प्राण और जबान पर रहा, अमूर्त, और चला आ रहा है। कह सकते हैं- तू कहता पत्थर की लेखी, मगर आंखों की देखी हो न हो, मन में तो बसी और कायम है, ऐसा ही जीवन-स्पंदन नाम है ‘बिलासा‘, जिससे बिलासपुर शहर की धड़कन और असल पहचान है।

अरपा और जवाली नाले का संगम बसाहट का मंच बना। अरपा के दाहिने और जवाली के दाहिने, जुना बिलासपुर के साथ किला वार्ड, तो जवाली के बांयें शनिचरी पड़ाव। पहले-पहल तीन मालगुजारी गांव- बिलासपुर, चांटा और कुधुरडांड, यानि अब के जुना बिलासपुर, चांटापारा और कुदुदंड मिलकर आधुनिक बिलासपुर बने। रेलवे के साथ पेट्रोलियम डिपो, डीपूपारा बना, रेलवे की ही सीमा पर तार-घेरा के दूसरी ओर तारबाहर और चहारदीवारी सीमा के बाहर देवालबंद या दयालबंद। कतियापारा, गोंडपारा, तेलीपारा, घसियापारा, करबला, टिकरापारा, मसानगंज पर नगर, वार्ड, कॉलोनी की परतें चढ़ने लगीं और एसईसीएल, रेल-जोन, संस्कारधानी, न्यायधानी नई पहचान बनी। मगर शहर के दिल की आदिम धड़कन, जो जुना बिलासपुर और गोलबाजार-गोंडपारा में थी, सरकंडा तक फैल गई अब भी उसी तरह यहीं धड़कती है। खांटी बिलसपुरिहा भाषा और लहजे से जान लेता है कि अगला गोंडपारा वाला है या नदी पार का। शहर का मिजाज, उसकी नब्ज आज भी यहीं आसानी से टटोली जा सकती है। फैलते शहर में शामिल होते गांव, कॉलोनी और सोसाइटी में बदलते जा रहे हैं, बदलते जाएंगे, मगर शहर की पहचान, उसकी अंतर्धारा, उसकी आत्मीय उष्मा जस की तस बनी रहे।

Wednesday, November 9, 2022

संस्कृति संवाहक सरिताएं

‘अ हो देवी गंगा‘ भोजली गीत है। मोक्षदायी गंगा पवित्र है, साथ ही 'गंगा', नदी या प्राकृतिक जलप्रवाह का पर्याय शब्द भी है। ‘अटकन बटकन ...‘ सब से लोकप्रिय बालगीतों में से एक, जिसके छत्तीसगढ़ी रूप में पंक्ति है- चल चल बेटी गंगा जाबो, गंगा ले गोदावरी। 

पहाड़ी की कोख-कंदरा में पला सभ्यता-शिशु, क्रीड़ा करते तलहटी से मैदान में आ कर नदी के किनारे ठहरता है। यों सड़क और नदी, बसाहट के लिए परिवहन का रास्ता, नस-नाड़ी हैं। सड़क, स्थितिज है, जिस पर गति होती है और नदी गतिज, स्वयं भी चलायमान, जीवन-रेखा भी, संस्कृति-संवाहक।

‘छत्तीसगढ़ की संस्कृति संवाहक सरिताएं‘ राष्ट्रीय संगोष्ठी का अयोजन 16 से 18 सितंबर 2022 को संचालनालय संस्कृति एवं पुरातत्व, छत्तीसगढ़ द्वारा घासीदास स्मारक संग्रहालय सभागार, रायपुर में किया गया। आयोजन के दूसरे दिन, छठें सत्र का संचालन डॉ. आशुतोष चौरे ने किया और अध्यक्षता, राहुल कुमार सिंह यानि मेरे जिम्मे थी। इस अवसर पर यहां प्रस्तुत मेरे वक्तव्य में थोड़ी दुरुस्ती की गई है। नदी-संगम वाले महादेव पाली का उलेला पूरा और मउहाडीह का भेड़ू प्रसंग वाला, जैसे कुछ अंश, जो समय-सीमा के कारण तब नहीं कहे गए थे, को शामिल किया गया है, मगर स्वरूप यथासंभव वक्तव्य जैसा ही रखा गया है-

आप सभी का सादर अभिवादन। 

मुझे नदी पर कुछ बातें करनी थी, आयोजकों की ओर से प्रस्ताव आया कि सत्र की अध्यक्षता करूं और उसके साथ ही जोड़ कर अपनी बात कहूं। आयोजकों ने मेरे लिए यह संयोग बनाया, जो बातें कहना चाह रहा था, कुछ बातें सोन पर, कुछ हसदेव के लिए, संयोग कि उन्हीं विषयों पर इस सत्र में ज्यादातर परचे पढ़े गए। इसलिए आसानी होगी कि जो परचे पढ़े गए उन पर अलग-अलग कहने के बजाय, उनसे मिलती जुलती बातें और अपनी थोड़ी बात के साथ ... इस सत्र के निष्कर्ष तक पहुंचने का प्रयास कर रहा हूं।


आज और कल के भी सत्रों में नदियों पर चर्चा हो रही थी, उस पर विचार आ रहा था कि हम अक्सर प्रकृति और जिसमें नदी भी है, उसके साथ कभी मानों शीत युद्ध और कभी आमने सामने मुकाबिल होने का प्रयास करते हैं और ऐसे प्रकृति पर विजय पाने जैसी भावना मन में लाते हैं। हमने कई जगहों पर नदियों पर उस तरह से ‘विजय‘ पाई है। नदी हमारा राह रोकती थी, बाधक थी, हमने उस पर पुल बना दिए। नदी में बाढ़ आती थी हमने बांध बना दिए, नहर बना दिए। हमने बहुत सारे इसी तरह के काम नदी-प्रकृति पर ‘विजय‘ पाने वाले किए हैं इसलिए स्वाभाविक ही सभ्यता जो एक तरह से गुमान में रहती है कि उसने नदियों पर विजय पा ली है, हम हर साल देखते हैं कि वह नालियों से हार रही है। नालियों का पानी बरसात में घर में घुस जाता है, पूरी कॉलोनी डूब जाती है, जीवन मुश्किल हो जाता है। बैगलोर शहर की खबरें आपने देखी होंगी कि वहां क्या स्थिति हुई है, पहली बार वहां ऐसा हुआ बताया जा रहा है। बंबई की स्थिति देखिए। कोई भी महानगर ऐसा नहीं है, जहां इस तरह की स्थिति न बनती हो। जैसाकि कहा जाता है कि प्रकृति को न तो विजेय रूप में देखा जा सकता है और न ही आराध्य रूप में। आशय कि सभ्यता के क्रम में, प्रकृति में मानवीय दखल तो होगा ही, मगर वह प्रकृति के साथ मेल वाला होना चाहिए। मानव उद्यम कहीं न कहीं प्रकृति को प्रभावित तो करेगा, लेकिन सभ्यता प्रकृति के साथ जितना सहजीवन में होगी, उससे मेल वाली होगी, उसके साथ मिल कर चलेगी, विकास उतना ही सम्यक होगा, संतुलित होगा।

आपका ध्यान गया हो, यों तो कालिदास का मेघदूत, पूरा ही प्रकृति-मैत्री का काव्य है। बादल को संदेश के लिए दूत बनाया गया है। इस काव्य के दो अंशों का विशेष रूप से उल्लेख करना चाहूंगा। कवि मेघ से कहता है- जब तुम वहां पहुंचकर गरजने लगोगे तो सिद्धांगनाएं घबरा कर अपने-अपने प्रियतम के गले से लिपट जाएंगी। इस घबराहट भरे आलिंगन को पा कर सिद्धजन तुम्हारा उपकार मानेंगे (पूर्वमेघ, 23)। इसी तरह जो स्त्रियां अपने यारों से मिलने के लिए घनी अंधेरी रात में निकली होंगी, उन्हें जब सड़कों पर कुछ न सूझता हो, तुम कसौटी पर सोने के समान दमकने वाली अपनी बिजली चमकाकर उन्हें रास्ता दिखाना। मगर गरजना-बरसना नहीं, वरना वे घबरा जाएंगी (पूर्वमेघ, 41)। ऐसा ही कुछ वे कुमारसंभव में भी कहते हैं कि वर्षा के समय रात की घनी अंधियारी भयावह नगर-मार्गों पर बिजली की कड़क से डर जाने वाली कामिनियों को उनके प्यारों के घर अब तुम्हारे सिवाय कौन पहुंचाएगा (सर्ग-4, 11) यही बात 1945 की फिल्म ‘मेघदूत‘ के गीतकार फैयाज हाशमी ने इस तरह कहा है- ‘देख अंधेरा, पिया मिलन को, चलेगी छुप कर कोई गोरी। बस तुम बिजली चमका कर, खोल न देना उसकी चोरी‘। पं. मुकुटधर पाण्डेय द्वारा किया गया इस अंश का छत्तीसगढ़ी समर्थ अनुवाद है- ‘उहां रात म प्रीतम के घर जावत होहीं नारी, अउ मारग म छाए होही जब बिरबिट अंधियारी। चमक, कसौटी कसे सोन कस बिजली डहर देखाबे, डर म उठि हीं झझक, गरज के झन पानी बरसाबे।। बिजली चमकने को किस मित्र-भाव से देखने की हमारी परंपरा रही है। कालिदास का ही एक और उदाहरण कुमारसंभव से, जिसमें वे कहते हैं कि जब वहां किन्नरियां शरीर पर से वस्त्र हट जाने के कारण लजाने लगती हैं, तब बादल उन गुफाओं के द्वारों पर जा कर परदा का रूप धारण कर लेते हैं (सर्ग-1, 14)।

प्रकृति, चाहे नदी हो, पहाड़ हो उसके साथ हम अपने सहजीवन को किस तरह निभाते हैं। गंगा और यमुना यहां चित्र में हैं, प्रतीक रूप में मंदिरों में, यहां मल्हार का चित्र आप देख रहे हैं। माना जाता है कि हम दर्शन के लिए जाएं तो दोनों द्वार शाख पर गंगा और यमुना की प्रतिमाएं होती हैं यह मनस-शुद्धि है, अभिषेक और स्नान उतना आवश्यक नहीं होता है जितना मनस-शुद्धि, चित्त की शुद्धि आवश्यक होती है और उसके लिए प्रतीक रूप में गंगा और यमुना, प्रत्येक मंदिर के द्वारशाख पर होती हैं। इस संगोष्ठी में भी इसी तरह पवित्र विचार आएं, इसी उद्देश्य से आयोजित किया गया है। गंगा और यमुना पर एक-दो छोटी-छोटी बातें कहना चाहूंगा, थोड़े परिप्रेक्ष्य अलग हैं।


गंगावतरण की कहानी ... शिव को गंगाधर कहा जाता है, बातें आती हैं कि पार्वती उनसे सौतिया डाह भी रखती हैं कि गंगा को सिर पर चढ़ा रखा है, किस्म की बात लोक में और अन्यथा भी आती हैं, बहुत सुंदर ढंग से आती हैं, लेकिन शिव के जटाजूट में गंगा, गंगाधर शिव की एक बहुत सुंदर व्याख्या है, वह पर्यावाण का, उस क्षेत्र उत्तर भारत का, वहां जो पतले-नुकीले पत्ते वाले वृक्ष होते हैं, बरसात-पानी के लिए मुश्किल होते हैं, क्योंकि उन पर पानी रुकता नहीं है, जैसे पतले सुलझे बाल हों। जबकि जो जटाएं हैं, शिव की जटाएं हैं वह ऐसा चौड़े पत्ते वाले पेड़ का जंगल है, जिनके कारण बरसाती पानी पत्तों पर रुककर, ठहर कर आता है। सीधे जमीन पर नहीं आता, मिटटी नहीं कटती। आजकल एक बहुत कामचलाउ शब्द इस्तेमाल होने लगा है, ग्रीन कवर, इस ग्रीन कवर में हम हरियाली, शायद अपने बगीचे की उस घास को भी मान लेते हैं, जो सिंथेटिक लॉन है। यह महत्वपूर्ण है, जब हम पर्यावरण की बात करते हैं, कि वह ग्रीन कवर किस तरह का है, वह ब्रॉड लीफ है या कि वह पाइन है। ऐसे वृक्ष जिनके पत्ते बड़े-चौड़े और घने होते हैं, जब बरसात होती है, तब पानी देर तक पत्तों पर रुका रहता है, टपकते-रिसते उतरता है, इसी तरह गंगावतरण है, शिव के जटा-जूट में ठहरती हुई आती है। ऐसे वृक्षों वाले घने वन, इस तरह पर्यावरण की रक्षा में सहायक होते हैं।

यहां किसी ने नदी के किनारे वृक्षारोपण की बात कही, वह तो अच्छी बात है, उसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन नदियों के जीवन के लिए बहुत आवश्यक होता है हम उसके उद्गम के जंगल को, जो वनस्पतियां है, उद्गम स्थल पर, उसे कायम रखा जाए। हमारे गुरुतुल्य रायकवार साहब यहां है, हमलोग जब कभी सर्वेक्षण में जाते थे तो यह मैंने उनसे सीखा है और हमारे जितने भी पुराने अधिकारी थे वे बताया करते थे कि सर्वेक्षण में नदियों के उद्गम और संगम को जरूर देखें। मुझे यह समझ में नहीं आता था, मगर बाद में लगा कि यह पवित्र माने जाते हैं, प्राचीन आस्था के केंद्र होते हैं इसलिए पुरातत्व की दृष्टि से तो महत्वपूर्ण हैं हीं, हमारी संस्कृति, हमारी आस्था, हमारे पर्यावरण, इन सभी के लिए आवश्यक है। रायकवार साहब से अक्सर इस बात के लिए बहस हो जाती थी, नदी के आसपास से गुजर रहे हों तो बोलते थे कि नदी जल का स्पर्श किए बिना नहीं जाएंगे। लगता कि हम बेवजह आधे घंटे खर्च कर रहे हैं। अब मैं उसका महत्व समझ पाता हूं, उस समय अपनी नादानी से उनसे बहस कर लेता था, जबकि वे गुरु हैं, उन्होंने कई जगहों पर सिर्फ पुरातत्व ही नहीं, जीना भी सिखाया है।

एक दूसरी बात यमुना पर। यमुना के साथ बलराम भी याद आते हैं, बलराम का एक नाम संकर्षण है, कर्ष जो शब्द आता है। कर्ष का मतलब थोड़ी खींचतान, चालू भाषा में कहें, बलराम खींचतान वाले देवता हैं। कृषि के तो देवता हैं ही, उनका एक उल्लेख आता है, संकर्षण नाम, क्योंकि गर्भ प्रत्यारोपण जैसी बात उनके साथ जुड़ी हुई है। उनका एक नाम यमुनाकर्ष भी है, इसलिए कि कहा जाता है कि व्याख्या होती है तो जो नारीवादी लोग हैं वे मान सकते हैं कि बलराम व्याभिचारी थे, कहा जाता है कि उन्होंने हल से या यमुना को पकड़ कर उसके साथ जबरदस्ती की और उसको मथुरा ले आए। हमारी इस तरह से पौराणिक कथाओं को देखना चाहिए, उसके प्रति जो दृष्टि होनी चाहिए। दरअसल इस पूरी कहानी में विष्णु पुराण में आई कथा सावधानीपूर्वक पढ़ें तो यह स्पष्ट है कि एक व्यक्ति जो कृषक है, जो हलधर है, वह कृषि की आवश्यकता के लिए, जल की व्यवस्था के लिए, यमुना के पानी की धारा को मोड़ कर, यमुना से कोई नहर निकालने का उद्यम कर रहा है। नारी विमर्श के नजरिए कथा पढ़ें तो लग सकता है कि बलराम ने यमुना नाम की कोई कन्या थी, उसका बलात्कार किया था। आधुनिक विमर्शवादी लोग हैं, उनसे सावधान रहने की जरूरत है। हम अपनी परंपराओं में यह कथा प्रतीक रूप में, सुंदर ढंग से आती है।

कुछ अन्य बातें, जिन पर चर्चा हुई है, सोन की बात हो रही थी। निसंदेह अमरकंटक में सोन और मुड़ा, दो नदियां हैं, कहा जाता है कि वह सोन का उद्गम है लेकिन भूगोल के जितने भी गंभीर अध्ययन हैं, उनमें यह सिद्ध और प्रमाणित है कि सोन बचरवार, बिलासपुर से रतनपुर हो कर जो रास्ता पेंड्रा को जाता है, उस पर कारीआम के पास है, वहां सोन का उद्गम है। हम आज भी चर्चा कर रहे थे कि एक जगह उद्गम होता है फिर सूख जाता है, फिर दूसरी जगह दिखता है। नदियों के उद्गम को ले कर गड़बड़ियां होती हैं, उनकी धार्मिक आस्था को ले कर, कि उद्गम है तो वहां पर दुकानदारी बन गई, फिर उसके भी पीछे एक जगह खोज ली गई कि इसका वास्तविक उद्गम तो यहां है। मैं जब महानदी का उद्गम, मुझे आज भी स्पष्ट नहीं है, मैं भूगोल वालों से बार-बार यह समझना चाहता हूं कि महानदी का उद्गम जिस जगह को बताया जाता है, सिहावा पहाड़ी के नीचे तो मुझे दिखता है कि नदी तो उसके बहुत पीछे से आ रही है, फिर इसको उद्गम क्यों माना जाता है।

नदियों का उद्गम न सिर्फ भौगोलिक रूप से, बल्कि सांस्कृतिक रूप से ध्यान कराती है और सोन की जो बात हो रही थी, देव कुमार मिश्र जी की पुस्तक है ‘सोन के पानी का रंग‘ मेरा ख्याल है हिंदी में लिखी हुई, नदियों पर जिस व्यापक दृष्टि से और जिस समग्रता के साथ, संस्कृति हो, पुरातत्व हो, पर्यावरण हो, धार्मिक आस्था हो, विभिन्न केद्र हों ‘सोन के पानी का रंग‘, मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी से प्रकाशित पुस्तक है। देवकुमार मिश्र सोन की परिक्रमा किया करते थे। नर्मदा के परिक्रमा की अक्सर, बहुत चर्चाएं होती हैं, पुस्तकें भी हैं, ढेर सारा काम हुआ है, लेकिन सोन की जिस तरह परिक्रमा और प्रकाशन हुआ है। एक बहुत सुदर प्रकाशन, जब हम पुरातत्व की बात करते हैं, जो पुरातत्व के महानिदेशक रहे हैं, राकेश तिवारी साहब, वे शौकिया तौर पर नाव चलाया करते थे, किंतु उन्होंने 62 दिन में दिल्ली से यमुना, यमुना से गंगा से कलकत्ते तक की यात्रा उन्होंने बासठ दिन में की थी, खुद अकेले नाव चलाते हुए ‘सफर एक डोंगी में डगमग‘, इस तरह का जो साहित्य रचा गया है।

ऐसे साहित्य का और इस शोध संगोष्ठी की आवश्यकता क्यों है? हम अपने नदी से रिश्तों को पुनर्जीवित करने का, जैसा मैंने कहा पुल बन गए हैं, नदी से हमारा रिश्ता, हमने नदी को जीत लिया, नदी से हमारा ताल्लुक नहीं रहा, अब हमें पुल से गुजर जाना है, नदी जब तक हमारे जीवन का हिस्सा नहीं रहेगी अभी तक जो हो रहा था, नदी कि किनारे जो अनुष्ठान होते हैं, नदी की पूजा होती है जो सबसे ज्यादा स्वाभाविक है निषाद, आस्ट्रिक कुल के आग्नेयवंशी हैं उनके लिए नदी का सबसे ज्यादा महत्व है, उनका पूरा जीवन ... एक बहुत रोचक बात है कि हम भड़भूजा कहते हैं, चना, मुर्रा, लाई हम सभी हमारे यहां आती थीं केंवटिन बेचा करती थीं, करी लड्डू, मुर्रा लड्डू, चना, मुर्रा ये सब बेचा करती थीं, एक हमारे बुजुर्ग ने कही थी, जो मेरे ध्यान में कभी नहीं आई थी, जब एक केंवट, एक निषादराज, नाव ले कर नदी में समुद्र में हेल जाता है तो उसे कितना वक्त लगेगा, वह कितने दिन बाद आएगा मालूम नहीं, खाने का क्या इंतजाम होगा पता नहीं तो हम एक बहुत ही न्यूनतम प्रासेस से, हम बिना किसी प्रिजर्वेटिव के अगर कोई खाद्य सामग्री कई दिनों तक सुरक्षित रख सकते हैं तो वह चना-मुर्रा है, इसीलिए केवटिन एक्सपर्ट होती थीं, अपने केंवट पति को चना-मुर्रा, करी लड्डू दे पाती थीं। तो ये हमारी जीवन शैली में किस तरह, ऐसी बहुत सारी बातें, कल बात हो रही थी।

बात हो रही थी बइहा पूरा या उलेला पूरा की यानि उड़ेला पूरा, जैसे पानी उड़ेल दिया गया हो। उलेला पूरा पहाड़ी नदियों में होता है। नदी पाटो-पाट बहने लगती है, और लीलागर तो ऐसी नदी है, जिसमें उलेला पूरा आता है तो पानी, पाट के बाहर तक छलकता है। एक बहुत सुंदर प्रकरण है, देवधर महंत जी अपने परचे में हसदेव नदी की चर्चा कर रहे थे। इस संदर्भ में उस गांव का नाम आना चाहिए, जहां पर हसदेव या हसदो नदी का संगम महानदी से होता है, वह गांव है मउहाडीह। छत्तीसगढ़ की प्रमुख नदियों में यह नदी का संगम इसलिए विशेष उल्लेखनीय है कि वह अकेला ऐसा संगम है, जहां हसदेव नदी, महानदी पर नब्बे अंश के कोण पर मिलती है। मेरे ध्यान में और कोई दो मुख्य नदियां ऐसी नहीं हैं जो नब्बे अंश के कोण पर संगम बनाएं। हसदेव धीरे-धीरे अब बहाव की दिशा बदल रही है, पुराना कोर्स भी दिखता है, नया कोर्स भी। तेज बहाव वाली यह नदी चोर बालू के लिए भी जानी जाती है। लोग बताते हैं कि कोरबा में दर्री बराज बन जाने के बाद बहाव की दिशा भी बदली और पूरा भी तभी आता है, जब गेट खोल दिया जाता है। हसदेव अपने बायीं ओर मउहाडीह की जमीन, मरार समाज के लोग हैं, वे लोग परेशान होते हैं, जमीन कटती है, पट्टा दिया जाता है। बहुत रोचक कि नदी हमारे जीवन का हिस्सा कैसे है, हम जब वहां गए थे, कुछ पुरातात्विक सामग्री और विद्यालय की बात जो महंत जी अपने परचे में कही, मउहाडीह ऐसा गांव था, जहां लगभग सौ साल पहले टेलीफोन की लाइन थी, और उसका कारण कि वहां पुराना चर्च था, उसकी बुनियाद आज भी वहां बची है। हमलोगों ने वहां से बिलासपुर संग्रहालय के लिए दुर्लभ ‘लज्जा-गौरी की प्रतिमा संग्रह की।

वहां एक बुजुर्ग से हमारी मुलाकात हुई। नदी कैसे हमारे जीवन का हिस्सा है, उन्होंने बहुत सारी बातें बताई उसमें से एक रोचक बात थी, जब हमने हसदेव और महानदी की बात कही तो उन्होंने ... देखिए एक साहित्यिक व्यक्ति होता तो कहता कि महानदी धीरा है, गंभीरा है, मैदानी क्षेत्र से आती है, लेकिन हसदेव पहाड़ी क्षेत्र से मैदान में आती है, उसके बाद बांगो हसदेव बांध है, आदि ... मगर यहां मिले वे याद कर रहे थे उसके पहले के समय को हम नदी को क्या महसूस करते हैं, हम तो कुछ देर समझ नहीं पाए उनकी बात को, वो बताने लगे हमन बसे हन हमन ल घुंचे बर परथे, अउ पानी चउमास म तो का बर, दुनों बहुरिया के झगरा, हमने पूछा क्या बहुरिया के झगरा, कहा कि बड़की हर तो थिराए रथे, बड़की हर नइ रिसावय, कतको कहिबे ओ हर सहत रथे, बिचारी बड़की हर। छोटकी फनफनही हे, एक घरी होइस तहां फनफन फनफन। बड़की बिचारी हर जतका सहे सकथे सहथे, लेकिन ओहू हर तो आखिर एक झन आदमिच्च आय। सहत सहत म कभू ओ कर मिजाज बिगड़ गे, त हमन कथन अब जी नइ बांहचय। अब दुनो बहुरिया के फदक गे। होता यह है कि तेज ढलान वाले उफनते हसदेव का पानी, आसानी से महानदी के चौड़े पाट में समाहित होता जाता है, मगर महानदी भी बढ़ी रही, तो पानी का ठेल, उलट मारता है और हसदेव अपने बायें तट पर दूर तक डुबाती-फैलती जाती है।

प्रसंगवश, यही कोई पैंतीस साल पुरानी दो घटना। दोनों महानदी की। एक मांद का संगम और दूसरा हसदेव संगम।

किसी बरसाती सुबह हमलोगों ने राह पकड़ी बालपुर की। मंजिल थी, पं. लोचन प्रसाद और पं. मुकुटधर जी का गांव। चंदरपुर पहुंचने के पहले ही रास्ते में लोगों ने बताया ऐसी बरसात है, नाले पूर होंगे, वहां तक नहीं पहुंच पाएंगे। हम आगे बढ़ते गए। महादेव पाली से आगे नाले ने रास्ता रोक लिया तो वापस महादेव पाली आ कर वहीं काम से लग गए। नाम रोचक था, महादेव और पाली भी। पूछताछ करते हुए पुराने अवशेषों की जानकारी मिली। प्राचीन कलात्मक स्थापत्य खंड मिल गए। बताया गया कि कुछ अवशेष नदी में अंदर भी हैं। इस तरफ नदी का पाट काफी उंचा था, मगर बांयें पाट से एक स्थान पर नदी में उतरने का रास्ता था, पानी बरस जाने के कारण, फिसलन भरा। किसी तरह नदी में उतरे। नदी के पाट की चौड़ाई में दो तिहाई रेत, उसके बाद महानदी संगगम की दिशा में एक तिहाई चौड़ाई में छिछली धारा। दाहिनी ओर पुल, जिसे पार कर महादेव पाली आए थे। कैमरा साथ था, तस्वीरें ले रहे थे, एक बुजुर्ग महिला नाराज हुई कि फोटो ले रहे हैं, कहीं-कहीं यह माना जाता है कि जिसकी फोटो उतारी जाती है, चित्र या पुतला बनाया जाता है, उसके साथ अनिष्ट होता है, उसकी उम्र कम हो जाती है। रेत-रेत काफी आगे जा कर पानी की धारा थी। कुछ आगे एक जगह थोड़े पत्थर इकट्ठे थे। कोई खास बात नहीं थी। चहलकदमी करते लौटने लगे। जल-प्रवाह का स्पर्श किया।

रायकवार जी ने तटस्थ भाव से, लेकिन भविष्यवाणी की तरह कहा नदी का पानी बढ़ रहा है। ध्यान से देखने पर समझ में आया, सचमुच पानी बढ़ रहा था, बहुत धीरे-धीरे। फिर उनकी दूसरी भविष्यवाणी हुई, हमें बाहर निकल जाना चाहिए, पानी तेजी से बढ़ सकता है। हमलोगों ने समझना चाहा कि ऐसा वे किस आधार पर कह रहे हैं। उन्होंने बताया कि बुलबुले तेजी से आ रहे हैं, हमें सावधानी बरतनी चाहिए। हंसी-ठिठोली होती रही, कि अचानक दूर पाट के उपर पेड़ पर चढ़े दो लड़के चिल्लाने लगे, अफरा-तफरी मच गई, हमें कुछ समझ में आए तब तक देखा कि हमारे साथ आ गया एक कुत्ता किनारे की ओर भाग रहा है। ध्यान गया, नदी का पाट सात-आठ फुट पानी सर्पफण लहरों के साथ भरता, घरघराता, गर्जन करता आ रहा है। सारे खतरे-आशंकाओं के बावजूद रायकवार जी, कैमरा के अपरचर पर राय करना चाह रहे थे और क्लिक कर के ही माने। सब के सब जान बचा कर भागे, स्थानीय मांझी-मल्लाहों की मदद से किसी तरह बाहर निकल पाए। वापस आ कर देखा कि हम नदी में जिस जगह पानी में बुलबुले आता देख रहे थे अब वहां पांच-सात फुट पानी था। बुजुर्ग महिला अब फिर से बड़बड़ाने लगी। किसी साथी ने पूछा कि न निकल पाले तो क्या होता, उन्होंने सहज भाव से कहा, कल आफिस बंगाल की खाड़ी में लगता।

दूसरा प्रसंग मउहाडीह का है, अधिकतर मरार जाति के सौ-एक परिवार का गांव। तिवारी जी मिले, इसी गांव के बाशिंदे। सब्जी-बाड़ी वाले मरार, जिनका उत्पादन वाया बिर्रा, कोरबा जाता हैै। हसदेव के बहाव की दिशा बदलने से इस गांव के सैकड़ों एकड़ जमीन नदी में समा गई है। गांव वालों ने बताया कि कोरबा के दर्री बराज की तैयारी में सन 1965-66 में पूरी बस्ती नदी के दूसरे पाट पर केरा गांव में जमीन पट्टा दे कर बसाई गई थी, मगर बात न बनी। इनलोगों को ठीक-ठीक पता नहीं कि उनका गांव, अब सरकारी रिकार्ड में है या नहीं और वे खुद कागजों में केरा में हैं, अपने गांव में या पड़ोस के गांव सिलादेही में। फिर गांव वाले 1980 की बाढ़ याद करते हैं, शायद बिना पूर्व सूचना के दर्री बराज के गेट खोल दिए गए और यह पूरी बस्ती दसेक दिन के लिए जल-मग्न हो गई थी, तब बिर्रा वालों ने आसरा दिया था। तिवारी जी बइहा पूरा और उसके साथ ‘भेंड़ू‘ ले कर उफनती नदी में हेल जाने का किस्सा सुनाने लगे। चाय, हमारे मना करने पर भी तय कर दिया दूध वाली, कम शक्कर की। भेंड़ू, सेमल की लकड़ी का तख्ता होता है, ‘फ्लोट बोर्ड‘, फाउंटेन पेन की निब के आकार का, लगभग चार फुट लंबा। एक बालक को कहते हैं और वह हमें दिखाने के लिए भेंड़ू दिखाने के लिए दौड़कर जाता है और भेंड़ू ले कर वापस आ जाता है। बाढ़ की मुश्किलों के साथ, उससे जूझने के आनंद की भी स्मृतियां कम नहीं हैं। बगल में बैठे बुजुर्ग की ओर इशारा कर बताते हैं, देखिए ‘पूरा‘ सुन कर कैसे इनकी आंखों में चमक आ गई है, अभी भी बाढ़ आ जाए तो कमर में रस्सी बांध, भेंड़ू ले कर बौराई नदी में छलांग लगा देंगे।

फिर बताने लगे कि किस तरह कोरिया राज के बड़े-बड़े पेड़ और ढेर कुछ बाढ़ में बह कर आता था। गांव के लोग भेंड़ू ले कर नदी में समा जाते और बह कर आ रह पेड़ के साथ बहते, कमर की रस्सी खोल उसे बांध लेते और भेंड़ू से चिपके तैरते-उतराते, मील-दो मील बहते धीरे-धीरे किनारे लगते। जमीन छूते ही टिक जाते। फिर आसपास जिस गांव में होते वहां के लोगों की मदद ले कर गाड़ा-भंइसा में सामान लाद कर गांव वापस लौटते। गड़हा को आग्रहपूर्वक एक रात रोक लेते, खाना-पीना होता फिर विदा। सामान्यतः नदी बहाव की दिशा में नीचे के निवासी, उपर वालों को अग्रज की तरह सम्मान देते हैं और उपर वाले उन पर, अनुज की तरह स्नेह लुटाते हैं। हमने पूछा बाढ़ में और क्या-क्या बह कर आता था। इस पर तिवारी जी ने याद किया कि एक बार किसी दुकानदार का पचासों टीपा तेल-घी बह कर आया था। कई भेंड़ू-वीर, भिड़ गए और सारा कुछ बचा लिया। तीन-चार दिन बाद व्यापारी अपना माल पता करते आया, तो उसे सारा माल लौटा दिया। कुछ टीपा खर्च हो गया था, व्यापारी ने उतना ही और छज्ञेड़ दिया, बाकी माल ले कर वापस लौटा। फिर याद किया कि कभी एक बछिया बहते हुए आ गई थी, किसी तरह उसकी जान बची, मगर उसे लेने उसका मालिक नहीं आया, गांव में ही रह गई। तब तक चाय आ गई थी, पंडित जी ने कहानी को नाटकीय ट्विस्ट वाला क्लाइमेक्स दिया कि उसी बछिया के पीढ़ी के दूध की चाय आपलोग पी रहे हैं।

यहां पढ़े गए परचों में चर्चा हो रही थी, उस संदर्भ में एक जरूरी नाम, ठाकुर जगमोहन सिंह का है। वे शिवरीनारायण में तहसीलदार थे, महानदी में 21, 22 और 23 जून 1885 को आई बाढ़, जिसे उन्होंने बूड़ा या पूर कहा है, ‘प्रलय‘ शीर्षक लंबी कविता रची, जिसमें में तिथि बताई है- ‘रविवासर उजियार जेठ मास दूजो सुभग। ईकइस जून विचार सन पचासी-आठ दस।‘ इसी तरह महानदी के उससे भी पहले (1835?) के बड़ा पूर-बाढ़ का उल्लेख राजिम में दो पंक्तियों के शिलालेख में मिलता है- ‘जे दिन वियापेउ अंम्बु छुटत शिव गिरि गहि रहैउ जगतिराउ तहं षंभ, शंभु सुषासन रहेउ तहं।‘ बताया जाता है कि बड़ा पूर आने पर मंदिा में रहने वाले साधु ने पेड़ पर तीन दिन काटे थे और जिसे याद करते यह लेख खुदवाया था। ऐतिहासिक तथ्य है कि खरौद परगना, जो शिवरीनारायण तहसील बना था, 1891 में जांजगीर तहसील बना। इसी तरह सिमगा 1906 तक तहसील था, वह शिवनाथ नदी से प्रभावित होने के कारण बदल कर बलौदा बाजार चला गया।


और बात हो रही थी जोंक नदी की, खारुन नदी की। एक दौर था, जब नदियों की यात्रा, खारुन नदी की यात्रा, पेटेचुवां से सोमनाथ तक यात्रा की गई थी या जोंक (जोग, जौंगी, जुंगिया नाम भी मिलता है।) नदी की यात्रा या शिवनाथ के अंश की यात्रा की गई थी। जोंक का पुरातत्वीय सर्वेक्षण डॉ. शिवाकांत बाजपेयी और डॉ. अतुल प्रधान ने किया। इसी तरह शिवनाथ का सर्वेक्षण डॉ. केपी वर्मा ने किया है, जिसका प्रतिवेदन पुस्तक रूप में प्रकाशित भी है। बिलासा कला मंच के सदस्य अरपा यात्रा किया करते हैं। ‘बोलती नदी‘ वाले युवा आमिर हाशमी ने लगभग 90 किलोमीटर लंबी संकरी नदी की यात्रा कर, वृत्त-चित्र बनाया है। शिव राजपूत ने केलो की उद्गम-संगम यात्रा कर ‘केलो कपूत‘ बन गए हैं। ऐसी यात्राएं इन्टैक किया करती थी, लोग किया करते हैं, यह सब नदी से रिश्ता है। आपका नदी से रिश्ता नहीं रहा तो यह मान कर चलिए कि नदी का बचना संभव न होगा। पता नहीं, हो सकता है हम भविष्य में नदी के बजाय किसी दूसरी चीज के लिए बहुत रोमांटिक हो जांय, और दूसरी चीजें हमारे जीवन का हिस्सा बन जाएं, पांच सौ साल बाद क्या हो, पता नहीं, लेकिन जो अभी पिछले पचास साल में मेरे अनुभव में मैंने देखा है, नदी और सूखती नदियों की बात अशोक तिवारी जी कर रहे थे, वह ...।

यह मैंने महानदी पर देखा है, नांदघाट के पुल पर भी देखा है और बलौदा बाजार से कसडोल जाते हुए नाले आते हैं, उन पर भी। बहुत शांत ढंग से कुछ चीजें होती हैं, जिन पर अगर आपका ध्यान न जाए तो अच्छा है, अगर आपका ध्यान जाता है तो दिल दहल जाता है, दिल दहल जाने वाली बात यह कि उन पुलों पर तीर का निशान लगाया गया था और नीचे लिखा था, बहाव की दिशा। हम नदियों के, नालों के बहाव की दिशा पुलों पर दर्शाने के लिए मजबूर हो गए हैं, क्योंकि उसमें पानी नहीं होता, कि बहाव की दिशा देख सके, वह संकेत में आ गई है, नदी में बारहमासी पानी, इतिहास की बात हो गई है।


इस सिलसिले में 03 अगस्त 2016 को छपी खबर का उल्लेख, जिसमें बताया गया था- ‘छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के केवई नदी को हसदो नदी से जोड़ा जाएगा। इसके फलस्वरूप जल संरक्षण और संवर्धन के साथ ही चिरमिरी और मनेन्द्रगढ़ क्षेत्र में जल संकट की स्थिति नहीं आएगी। साथ ही ग्राम रोकडा, लोहारी, महाई, धरमपुर, बांही एवं ग्राम मुसरा को सिंचाई एवं निस्तारी सुविधा मिलेगी। उल्लेखनीय है कि केवई नदी का उद्गम कोरिया जिले के ग्राम बैरागी (विकासखंड मनेन्द्रगढ़) में और हसदो नदी का उद्गम इसी जिले के ग्राम मेन्ड्रा (विकासखंड सोनहत) में है।‘

नदियों को जोड़ने से क्या होगा, पता नहीं, यह जरूर कहा जा सकता है कि नदियों से खुद को जोड़े रखने से..., अपना रिश्ता महसूस करते रहें, उसकी संस्कृति, जीवन शैली, जो हमारी संवेदनाओं को, मानवता को बहुत समृद्ध करती है, मुझे लगता है कि यह पूरा सेमिनार इसी से संबंधित है। कई बार होता यह है कि लोग कहते हैं कि इस सबसे होता क्या है और मेरा हमेशा यह कहना होता है कि जन्मदिन मनाने से किसी की उम्र नहीं बढ़ जाती, लेकिन फिर भी जन्मदिन मनाया जाता है, मनाने के कई आशय होते हैं, वैसे ही इस आयोजन के भी।

धन्यवाद आप सभी का।

Monday, November 7, 2022

केलो

रायगढ़, हमारे राज्य गीत ‘अरपा, पइरी के धार ...‘ में मंउरे मुकुट है। रायगढ़ की पहचान, केलो नदी की गौरव गाथा में मेरी स्मृति में बारेननाथ बैनर्जी का नाम आता है। स्टेशन से निकलते ही सबसे पहले उनके निवास पर जाते। वे सदैव चुस्त, तत्पर मिलते। इसके साथ यहां प्रस्तुत रचना में आए नामों के साथ देवेंद्र प्रताप सिंह, वेदमणि सिंह ठाकुर, डॉ. बिहारीलाल साहू, हरिहर सिंह, रवि मिश्रा, जगदीश मेहर, शिव राजपूत ‘केलो कपूत‘, अजय आठले, डॉ. अतुल श्रीवास्तव, विनोद पांडेय, राजू पांडेय, प्रताप खोड़ियार, डॉ गंगा डनसेना भी मेरे लिए रायगढ़ के साथ जुड़े रहे हैं। 

अनुपम कुमार दासगुप्ता, लंबे समय तक 'नवभारत' समाचार पत्र के सम्मानित प्रतिनिधि रहे। 13 मार्च 1978 को प्रकाशित रायगढ़ के इस विवरणनुमा कविता के रचयिता के साथ किसी का नाम नहीं है, मगर उनसे होने वाली बातों-मुलाकातों से यह अनुमान आसान कि ये पंक्तियां उन्हीं की हैं। 

नहीं थमा है, केलो तुम्हारा प्रवाह अभी... 

केलो तुम एक प्रवाह हो 
तुम्हारे सुरमय तट के घनघोर हरियाली मध्य 
शिलाओं पर उकेरता है आदिमानव 
सभ्यता का अमूल्य धरोहर 
विंध्याचल की इन पर्वत श्रृंखलाओं में जीवन्त है 
मनुष्य में जन्म लेती 
सभ्यता का प्रथम कलात्मक हस्ताक्षर 
कलात्मक अनुभूति/रंग और भावनाओं की 
प्रागैतिहासिक पाषाण पाण्डुलिपि 
सिंघनपुर, कबरा, कर्मागढ़, भैसगढ़ी से टेरम तक 
तुम्हारी तटीय सभ्यता के प्रथम दस्तावेज आज भी है। 


केलो तुम एक धारा हो 
उत्तर वैदिकाल में 
तुम्हारे सघन वनप्रान्तरों से ही होकर गुजरे थे 
चौदह वर्षीय वनवासी राम 
आखिर तुम प्रवाहित होती हो 
सरगुजा की सीता बेंगरा, जोगीमारा गुफाओं से 
दण्डकारण्य के रास्ते के मध्य। 
तुम्हारे तट पर बसे मुकडेग, केसला, आमगांव में 
यत्र तत्र बिखरी पड़ी है 
मोहनजोदड़ो सा वही प्रस्तर शिल्प-पाषाण स्तंभ 
कर्मागढ़ का पाषाण सिंह द्वार 
महाभारत कालीन प्रस्तर शिल्प का साक्ष्य। 
मौर्यों ने दक्षिण पथ की विजय यात्रा 
तुम्हारे तट से होकर की थी 
मौर्यों ने तुम्हारे ही तट पर बौद्ध धर्म का प्रसार किया था 
नेतनागर, कलमी बुनगा से पुजारी पाली तक फैला है 
जैन धर्म के प्रभाव का साक्ष्य 
तुम्हारे तट से कुछ दूर जमरगी में 
सहज ही मिलते हैं विश्व के प्राचीनतम महाजनपदकालीन आहत सिक्के 
तुम्हारे तटीय भू-भाग पर शासन करते रहे 
सातवाहन, शरमपुरी, सोमवंशी, कलचुरि, नल, नागवंशी नरेश। 

केलो तुम इतिहास के कालचक की मूक साक्षी हो 
अलिखित इतिहास हो 
कोई चार शताब्दी पहले 
तुम्हारे ही तट पर किसी राज्य की नींव रखी थी, 
चांदा के नागवंशी गोड़ों ने 
हटराज साय के स्थापित इस राज्य में 
जुझारसिंह, देवनाथ सिंह थोड़ा बहुत जुझे जरूर 
पर जिसे युद्ध कहा जाए वह कभी हुआ नहीं 
भूपदेवसिंह ने जिस कला परम्परा की आधार शिला रखी
... त कर गए चक्रधर सिंह 
कला साहित्य संस्कृति की दृष्टि से 
इस शताब्दी का वह चौथा दशक 
आज भी तुम्हारे तट पर बसे इस नगरी का 
कहते हैं वह स्वर्णकाल था 
तुम्हारे इस शासक के 
अवसान और अकाल मृत्यु का कारण न पूछो 
इतिहास के कुछ तथ्य नेपथ्य में रहने दो 
व्यक्ति कालजयी नहीं होता 
उसका ललित कला प्रेम चिरस्थायी रह गया। 

केलो तुम एक संस्कृति हो 
तुम्हारे तट की इस कला धनी नगरी में 
उस काल में कौन नहीं आया 
संगीत ऋषि विष्णु दिगम्बर पुलस्कर से मल्ल सम्राट राममूर्ति तक 
गायक मनहर बर्वे, नृत्याचार्य लच्छू महाराज, अच्छन महाराज, सितारादेवी, 
डा. रामकुमार वर्मा, जानकी वल्लभ शास्त्री, पं. माखनलाल चतुर्वेदी, आनन्द मोहन बाजपेई। 
चक्रधर पुरस्कार के अधिकारी बने 
कवि जगन्नाथ ‘भानु‘/डा. रामकुमार वर्मा/कवि अंचल 
और अनेकों नाम हैं 
प्रति वर्ष लगता था महाव्यापी गणेश मेला 
पर अब वह अतीत की बाते हैं 
तुम्हारे इस नरेश को सद्बुद्ध देने विद्वानों का साथ था 
मानस मर्मज्ञ डा. बल्देव मिश्र/दीवान जे. एन. महंत प्रभृति विद्वान थे 
पर ये सभी राजशाही के अंग भी थे 
दबाव के उनके अपने तरीके थे 
इसीलिए लोकमत तेजी से जागा नहीं 
आजादी के बिना मन रमा नहीं 

केलो तुम एक प्रेरणा हो 
तुम्हारे तट के महल में 
माटी के कलाकारों ने ऊंचाई को छुआ 
कार्तिक/कल्याण/बर्मन/बडकू मिया/जगदीश सिंह ‘दीन‘ 
बहुत कुछ सीखा और पीढ़ियों में बांटा। 
अनन्तराम पाण्डेय ने हिन्दी में प्रथम सानेट लिखा 
डॉ. बलदेव प्रसाद मिश्र ने तुलसी दर्शन की रचना की 
पं. लोचन प्रसाद पाण्डेय ने भारतीय इतिहास की खोई कड़ियों को कालक्रम से एकबद्ध किया। 
पं. मुकटधर पाण्डेय ने हिन्दी में छायावाद को अवतरित किया 
चिरंजीव दास ने गीत गोविन्द हिन्दी में रचा 
बनमाली प्रसाद शुक्ल ने हिन्दी को प्रथम बीजगणित दिया 
इससे भिन्न कलमकार सजग प्रहरी की तरह रहे 
राजपथ से जनपथ की दिशा देते रहे 
महादेव प्रसाद मिश्र ‘अतीत‘/मनोहर प्रसाद मिश्र/अमरनाथ तिवारी, बन्दे अली फातमी
अपने कलम का पैनापन बराबर दर्शाते रहे, जगाते रहे 
किशोरी मोहन त्रिपाठी हर दौर में साथ रहे 
कभी सामने रहे कभी नेपथ्य में रहे 
आजादी के बाद नये कलमकार आए 
... धूमकेतु की तरह छाये 
... ... तेवर उभरे 
...प्रकृति के नये गीत गाए 
किरोड़ीमल ने शहर को नया रूप दिया 
पालू ने पंच का दायित्व निबाहा 
रामकुमार ने सामंती विरोध को जनवादी तेवर दिया 
उमाशंकर ‘दद्दू‘ ने नई पौध को विचारों का रंग मंच दिया 
राममूर्ति बचई यायावर की तरह जीया। 

केलो तुम्हारे तट की प्रतिभाएं कहीं कुठित नहीं हैं 
प्रमोद वर्मा, गुरूदेव कश्यप, अशोक झा, प्रभात त्रिपाठी ने 
इस शहर को फिर प्रसिद्धि दी है 
मुस्तफा/जीवतसिंह ठाकुर/दिनेश पाण्डेय/डा. महेन्द्र परमार/डा. बल्देव/
अम्बिका वर्मा/ मुमताज भारती/हरिकिशोर दास/हेमचन्द्र पाण्डेय/रवीन्द्र चौबे अभी सजग हस्ताक्षर हैं 
यहां राजनीति का तेवर अभी वाम नहीं है 
राजशाही से वर्तमान तक खंडित पहचान नहीं है 
कल जो रंक थे आज वे वक्त के शहजादे हैं 
कल जो खास थे आज वे खाक हो रहे हैं। 
बढ़ते शहर को, बढ़ते विचारों को 
अभी तेज चलना है 

केलो तुम्हारा प्रवाह अभी थमा नहीं है। 
अभी तुम्हें और बहना है, और बहना है।

रायगढ़ के साथ मेरी स्मृति में स्थायी दर्ज यह चित्र।
सन 1948 में बने श्री गौरीशंकर मंदिर में
दशावतारों के बीच नेहरू-गांधी हैं।


Sunday, November 6, 2022

खजानों की खोज

पुरातत्व के साथ रहस्य, गुफा, सुरंग और चमत्कारों की कहानी, उसमें रंग भरती है। खुदाई, हनुमान छाप, राम दरबार सिक्के ठगी के साधन बनते हैं। अभिलेख और चित्रों-आकृतियों को बीजक, गुप्त खजाने का पता मान लिया जाता है। रमल, नजूमी, ज्योतिष, बैगा, आंख में खास तरह का काजल आंज कर जमीन में गड़ा धन देख लेने वालों की भी जाने-अनजाने हवा बनाई जाती है।

पुरातत्व में खजाना, चोरी, ठगी और इससे जुड़े अपराध से दो-चार होना पड़ता है। ऐसे कई प्रकरणों में से एक, 1997 में जबलपुर की घटना है, जिसमें भेड़ाघाट के रास्ते में बड़ी तादाद में गड़ा धन, सिक्के मिले थे। तत्कालीन विभागीय मुद्राशास्त्री जे.पी. जैन जी के द्वारा इस दफीने की सामग्री के परीक्षण में मैं साथ था। ‘कनक कनक ते सौ गुनी...‘ पता लगा कि जिन्हें भी यह सामग्री मिली, बंटवारा हुआ, उसमें से लगभग सभी के साथ कोई न कोई हादसा हुआ और इनमें से एक अनिष्ट आशंकाग्रस्त ने तो कुछ सोने की अशरफियां थाने ला कर खुद जमा कराईं।

ऐसी घटनाओं से पुरातत्व में लोगों की रुचि पैदा की जा सकती है, यह बिलासपुर के वरिष्ठ पत्रकार महेन्द्र दुबे जी ने रेखांकित किया। राजिम अंचल के निवासी दुबे जी, संत कवि पवन दीवान के सहयोगी रहे। छत्तीसगढ़ी अस्मिता के घोर-प्रबल हिमायती। दुबे जी, नवभारत समाचार पत्र से जुड़े रहे, बल्कि तब के संपादक गोविंदलाल वोरा जी से। समय बदल रहा था, बिलासपुर के नवभारत संवाददाता बी.आर. यादव जी विधायक और फिर मंत्री बने। मोतीलाल वोरा जी मुख्यमंत्री बने, तब उनके भाई गोविंदलाल वोरा जी ने अपना समाचार पत्र ‘अमृत संदेश‘ आरंभ किया। दुबे जी ‘अमृत संदेश‘ में आ गए। सामान्यतः कम बोलने वाले, मुस्कुराते दुबे जी की सजगता की चुगली उनकी चंचल आंखें कर देती थीं। मुलाकातों में समाचार, खबर-असर, न्यूज-व्यूज जैसी प्रेस-पत्रकारिता बातों-बातों में कह जाते। ऐसी ही बातों के दौरान कटघोरा में घटी घटना के समाचार एंगल से अलग, उन्हें इसमें एक्सक्लूसिव दिखा। लंबी बैठक की, नोट्स लिए और यह सामने आया-

बिलासपुर अंचल के ऐतिहासिक खजानों की चोरियां इस तरह हुयीं

भाजपा नेता श्री कृष्णकुमार पांडे को कटघोरा पुलिस ने उनके साथियों सहित कल्चुरी शासकों की प्रथम राजघानी तुमान से ५ कि.मी. दूर जटाशंकरी नदी एवं झाबर नाला के संगम पर स्थित नगोई ग्राम के ऐतिहासिक महत्व के टीले में खजाने की खोज में खुदाई करते हुये गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि तुमान में निवास कर रहे एक साधु ने श्री पांडे को उक्त टीले में खजाना होने की जानकारी दी थी। इसके पूर्व भी साधु ने तुमान गांव के एक कृषक को ऐतिहासिक स्थल सतखंडा महल के समीप खजाना होने का संकेत दिया था जहां कृषक को मात्र सूर्य की एक मूर्ति मिली।

ईसा पूर्व ७ वीं शताब्दी से लेकर आज तक की ऐतिहासिक किवदंतियों से भरपूर इस अंचल में खजाने की खोज कोई नयी बात नहीं है। बैगा गुनिया या तथा कथित ग्रामवासियों ने ऐतिहासिक स्थलों की खुदाई की परंतु खजाना उन्हें नहीं मिला। खजाना उन्हीं को मिला जिन्होंने इस के लिये हाथ पैर नहीं मारे। पुरातत्व विभाग के एक संदर्भ ग्रंथ के अनुसार आजादी पूर्व १९३० में सोनसरी ग्राम में सोने के ६०० सिक्के मिलने के प्रमाण मिलते हैं। ये सिक्के त्रिपुरी के कल्चुरी शासक गांगेयदेव, रतनपुर के कलचुरी शासक जाजल्लदेव, रत्नदेव, पृथ्वीदेव, बस्तर के नागवंशी शासक सोमेश्वर एवं गोविंद चंद्र के काल के हैं। तब सभी सिक्के नागपुर संग्रहालय में जमा करा दिये गये। राज्य शासन को चाहिये कि अंचल के सिक्के को नागपुर से यहां स्थानांतरित करे।

अंचल में खजाना मिलने और उसके गायब होने की एक दिलचस्प घटना जांजगीर के समीप पचेड़ा गांव की है जहां एक बैगा की सलाह पर मनहरण बसाइत, गिरजानंद, पंचराम, माखन, शिवनारायण, बुडगा, कौशल, गेंदराम चौहान आदि ९ व्यक्तियों ने घोर अंधेरी रात्रि में एक खेत की खुदाई की। खेत मालिक मनहरण ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया कि खेत की खुदाई में सोने के सिक्कों से भरा हुआ एक बटलोही मिला। रात में ही बटलोही घर लाया गया और बैगा के सामने सिक्कों की गिरजानंद के घर में गिनती प्रारंभ हुयी। अभी वे ४०० सिक्के गिन ही पाये थे कि माखन बैगा ने उसे प्रसाद दिया जिसके खाने से वह मूर्छित हो गया और सारे सिक्के गायब हो गये। पुलिस जांच के दौरान गिरजानंद ने भी स्वीकार किया कि बटलोही में ३६००० सिक्के थे। ये सिक्के कहां गये यह आज तक पता नहीं लग सका है। अलबत्ता पुलिस ने निष्कर्ष निकाला कि शिवनारायण, बुडगा, कौशल, गेंदराम नैला से गायब हैं। ये सभी अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। पुलिस ने मनहरण के बड़े भाई गौकरण से भी पूछताछ की थी जिन्होंने स्वीकार किया कि उसकी मां ने खेत में खजाना होने की जानकारी दी थी परंतु हमने कभी खुदाई करने की आवश्यकता नहीं समझी। खेत बंटवारा के समय मनहरण और उसके बीच यह तय हुआ था कि जब कभी भी खजाने की खुदाई की जावेगी प्राप्त धन दोनों के बीच बराबर बंटवारा होगा। बटवारे में खेत मनहरण को मिला था। 

पचेडा गांव के इस रहस्यमय खजाना की प्रथम सूचना २६.१२.७७ को जांजगीर थाने में स्वयं मनहरण ने दर्ज कराई थी। पुलिस अधिकारियों के अतिरिक्त जांजगीर के तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी श्री मित्तल ने भी स्थल का निरीक्षण किया और जिला प्रशासन को प्रेषित रिपोर्ट में स्वीकार किया कि खेत में ७ फीट गड्ढा खोदा गया है। गड्ढे के आकार से आभास मिलता है कि यहां बटलोही रही होगी। परंतु सिक्के के बारे में उन्होंने भी चुप्पी साध ली। इसी तरह बैगा की सलाह पर कमरीद गांव के एक कृषक घसिया कुर्मी ने जमीन की खुदाई की जिसमें एक सोने की मूर्ति एवं सिक्के से भरा एक हंडा निकला। चर्चा रही कि उक्त कृषक ने मूर्ति के मात्र सिर भाग को ही नैला में १३००० रुपये में बेचा इस प्रकरण की भी पुलिस में रिपोर्ट हुयी परंतु खजाना हाथ नहीं लगा। अलबत्ता इस खजाने की एक अन्य जानकार उसी परिवार की एक महिला की रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु हो गयी।

कहते हैं कि किसी की तकदीर खुलती है कि अनायास खजाना उसके हाथों में आ जाता है। आठ वर्ष पूर्व ऐसे ही शिवरीनारायण के समीप केरा गांव के कुछ लोगों की तकदीर खुली और खजाना उनके हाथों में आ गया। गांव का एक कृषक मकालू पिता बुडगा गढ़ी जाने के रास्ते में स्थित एक झाड़ के नीचे पड़े एक पत्थर के ऊपर २१ अगस्त ७८ को प्रातः दस बजे बैठा हुआ था कि उसको विचार कौंधा कि क्यों न इस गड्ढे बने गोल पत्थर को ढेंकी का बाहना बनाने के लिये घर ले जावे। इस विचार के साथ ही जमीन से करीब ३ ऊपर उठे गोल पत्थर के मुंह में भरे हुये मिट्टी को निकालने के लिये हाथ चलाया तो उसके हाथों में अनायास मिट्टी से सने सोने के सिक्के लग गये। पहले तो उसकी समझ में नहीं आया और सिक्कों को पुनः रगड़ा तो सोने की चमक देख उसकी आंखें चौंधिया गयीं। फिर तो उसने जल्दी जल्दी मिट्टी हटाई और जितना उसकी जेब में आ सकता था खोल से सिक्का निकाला और घर चला गया। इस अनायास हाथ लगे खजाने की जानकारी गांव के अन्य लोगों को मिली तो वे भी तकदीर अजमाने के लिये उस ओर दौड़ पड़े। भय एवं आश्चर्य के वातावरण में जिससे जितना बन पड़ा पत्थर की खोल से सिक्का निकाला और घर की राह ली। इस बीच विद्यानंद ग्रामीण को समझाते रहा कि यह मकालू के भाग से मिला है उसे दे दो परंतु इसे सुनने का समय किसके पास था। सब अपनी जेब गरम करने में लगे हुये थे। मकालू पुनः घर से आया और जेब भरकर पुनः चला गया। इस भाग दौड़ के बीच खजाना मिलने की जानकारी जब गांव के कोटवार को लगी तो वह शिवरीनारायण थाने की ओर दौड़ा। रास्ते में ही उसे थानेदार मिल गया। 

जानकारी मिलते ही थानेदार भी बदहवास तकदीर अजमाने गांव की ओर दौड़ा और घटनास्थल पर १२ बड़े ४२ छोटे सोने के सिक्के जब्त किया। इसी तरह से जांजगीर के तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी श्री पी.सी. जैन को जब इस खजाने की भनक मिली तो वे भी गांव पहुंचे और ग्रामीणों को डांट डपट एवं जमीन देने का लालच देकर मकालू, विद्यानंद, लक्ष्मीप्रसाद, विजय, रमेश, चांदमल, झुमरु, मंगल बाई, जानकीदास, संतोष, मनहर, राजकुमार आदि से ४९ सिक्के बरामद किये। कहते हैं कि थानेदार एवं एस.डी.ओ. के हाथों इससे भी ज्यादा मात्रा में सोने के सिक्के हाथ लगे परंतु अधिकारियों ने इतनी ही बरामदगी बताई। गांव वालों के कथनानुसार एक फीट से अधिक गहरे पत्थर के खोल से करीब १० किलो वजन सोने के सिक्के निकले थे। बहरहाल यहां प्राप्त रतनपुर के कलचुरी शासकों जाजल्वदेव, रत्नदेव एवं पृथ्वीदेव कालीन ११ वीं एवं १२ वीं शताब्दी के २०० ग्राम वजन के १०३ सिक्के आज भी जबलपुर के संग्रहालय में छत्तीसगढ़ के वैभव पूर्ण अतीत को उजागर कर रहे हैं परंतु अतुल संपति को सदियों से अपने में समाहित किया खोल युक्त पत्थर के ढेंकी का बाहना तो नहीं बन सका अलबत्ता जिला कचहरी के नाजरात में पड़ा अपने अतीत पर अवश्य आंसू बहा रहा है।

Saturday, November 5, 2022

गुड़ी-सीपत

गुड़ी से पहले सीपत, जिसने यह राह दिखाई। अब एनटीपीसी के लिए जाने गए सीपत के साथ बीच के दौर में पं. रमाकांत मिश्र, पं. बद्रीधर दीवान, अरुण तिवारी, चंद्रप्रकाश बाजपेयी का नाम जुड़ा रहा। पचासेक साल पहले तक रामेश्वर शर्मा के नाम से जाना जाता था, मगर शर्मा जी का नाम उर्फ ‘सूचीपत्र‘ के साथ पूरा होता था। बताया जाता है कि उन्हें यह नाम बैरिस्टर साहब यानि ठाकुर छेदीलाल जी ने दिया था, इसलिए कि उनसे कुछ पूछने पर वे व्यक्तियों, वस्तुओं के नामों को सरपट गिनाते थे, इस पर बैरिस्टर साहब, हंसी में कहते- ‘महराज, तूं तो पूरा सूचीपत्तर आव‘। यही आगे उनका उपनाम बन गया। बैरिस्टर साहब के दिए कुछ नाम, इसी तरह ऐसे प्रचलित हुए कि लोग वास्तविक नाम भूल से गए, जिनमें एक नंदेली वाले बाजा मास्टर हैं। बैरिस्टर साहब के पिता का नाम पचकौड़ सिंह था, जो बाजा मास्टर का भी नाम था। पिता के हमनाम, नंदेली वाले संगीतज्ञ का नाम न लेना पड़े इसलिए ‘बाजा मास्टर‘ पुकारने लगे और यही नाम प्रचलित हो गया।

राजनीति में सक्रिय रामेश्वर शर्मा जी, मध्यप्रदेश में सिंचाई मंत्री रहे। भोपाल और दिल्ली में भी निवास था। उनके नाक के पास बड़ा सा मस्सा था, बताते थे कि यह अच्छा तो नहीं लगता, लोग कहते है कि निकलवा दूं, मगर मैडम (श्रीमती इंदिरा गांधी) मुझे इसी से पहचानती हैं। उनसे मिलने जाता हूं तो मस्से पर उंगली फिराता रहता हूं, उनकी नजर इस ओर जाती है और पूछती हैं, कैसे हैं शर्मा जी? 1980 के दशक के आरंभिक वर्षों में चुनाव लड़कर फिर किस्मत आजमाना चाहते थे और टिकिटार्थी बने रहे।

मुलाकात होने पर मुझे मेरे परिवार-जन से जुड़े किस्से और अपने बारे में ढेरों बातें बेलाग बताया करते थे। 1967 का विधानसभा चुनाव, आज का बेलतरा, इसके पहले सीपत और उससे भी पहले बलौदा विधानसभा क्षेत्र था, जहां वे प्रत्याशी थे। याद करते हुए बताते कि वोटों की गिनती के दौरान पिछड़ते जा रहे थे। जीतने की संभावना न के बराबर थी। मतगणना स्थल छोड़ कर जाने लगे तो मेरे पिता 'संत बाबू' ने ढाढस बंधाया कि अभी हमारे प्रभाव वाले मतदान केन्द्रों की गिनती बाकी है। आप देखिएगा कि यह अंतर आसानी से न सिर्फ कवर हो जाएगा, बल्कि हम जीतेंगे भी। ऐसा ही हुआ और मामूली अंतर से, मगर जीत हुई।

यहां प्रसंग सीपत वाले उनके भाई रामाधीन शर्मा जी से जुड़ा है। अनुमान होता था कि दोनों भाई के बीच रिश्ते सहज नहीं हैं। रामाधीन महराज, भक्त-साधक किस्म के व्यक्ति थे। गांव-समाज में आना-जाना कम। बिलासपुर न्यायालय में अक्सर आते। 1985-90 के बीच का दौर। पेशी से समय निकलता तो सीपत वाला शिलालेख पता करते, अन्य मूर्तियां देखने जिला पुरातत्व संग्रहालय आ जाते। संग्रहाध्यक्ष रहते हुए, मैं लगभग हर हफ्ते संग्रहालय की दर्शक पंजी देखता था। रामाधीन जी से इसी माध्यम से संपर्क हुआ। पंजी में उन्होंने टिप्पणी की थी कि उनके घर में कुछ प्राचीन अवशेष हैं, जिसे वे संग्रहालय को देना चाहते हैं। हमलोग, यानि मैं रायकवार जी के साथ सीपत उनसे मिलने गए।

पहली, दूसरी, तीसरी फिर मुलाकातों में उनकी नेकदिली और आत्मीयता देखने को मिली। हमलोगों को उनके घर में अंदर तक आवाजाही की छूट मिल गई, चाय-पान कराते। सहज भाव से कहते यह जीवन व्यर्थ जा रहा हे। ईश्वर की भक्ति न कर सका। मोह माया में पड़ा रह गया। मनाता हूं अगला जन्म मिले तो भगवान में मन रमे। बताते कि इस जीवन में तंत्र-मंत्र-यंत्र सब आजमाया है। वेंकटेश स्टीम प्रेस या ऐसे ही किसी अच्छे प्रकाशक से किताब मंगाया। उसमें मंत्र दिए थे। परीक्षण के लिए मोहन-मारण आजमाने लगा। सभी मंत्र सच्चे निकले, सध गए। आजमाने के लिए जिस पर मोहन का प्रयोग किया था, उसे किसी तरह समझा-बुझा कर बच गए। मारण मंत्र, आजमाने के लिए आह्वान कर लिया, मगर अपराध-बोध हुआ, बात खुद पर आने लगी, जान छुड़ना मुश्किल हो गया। तब हनुमान चालीसा से काम नहीं बना, हनुमान बाहुक और बजरंग बाण से बात बनी। पेशी से लौटते हुए आफिस आते। मधुमेह, मगर शक्कर वाली चाय और एक सिगरेट पीते। फिर गांव वापस। हम छेड़ते- लइका मन, महराजिन गम पाहीं त हमन बर रिस करिहीं, सदा गंभीर मुख-मुद्रा, मगर यह सुन कर चेहरे पर दुर्लभ मुस्कान आती।

संग्रहालय के लिए स्वयं पहल कर मूर्तियां दीं ही, साथ सीपत गांव में पड़े प्राचीन अवशेषों को दिखाया। गांव के बाहर खेतों में, तालाब के पास के अवशेष और तब मंदिर के बच रहे ढांचे को भी दिखाया, जो बाद में ढह गया। उन्होंने ही खबर दी कि मंदिर गिरने के कुछ देर पहले ही शिव-भक्त उनके ज्येष्ठ पुत्र वहां से लौटे थे। इस ढांचे से कलचुरि मंदिर-स्थापत्य समझने का अवसर मिला। जानकारी मिलती थी कि इस काल के मंदिरों की जंघा दो परतों में होती है। बाहिरी परत में मूर्तियां और भीतरी परत सादी चिनाई वाले पत्थर। और इन दोनों के बीच पत्थर के कत्तल-टुकड़े भरे होते हैं। इस संरचना में मंदिर के अंदर वाली परत बची रह गई थी और इसके विपरीत बिल्हा के पास स्थित किरारी गोढ़ी मंदिर में बाहिरी मूर्ति वाली परत है, अंदर की परत नहीं है।

रामाधीन जी ढेरों ज्ञान-विज्ञान, धर्मशास्त्र की बातें बताते। जाते-आते हमलोगों ने अनुभव किया कि सीपत में चाय का स्वाद अलग ही होता है। इस आसपास में ऐसा स्वाद हमारे अनुभव में सिर्फ गतौरा के दूध में है। रामाधीन महराज ने बताया कि मवेशी के चरने के लिए खुले मैदान, उपयुक्त वनस्पति हो तो दूध का स्वाद अच्छा होता है। रायकवार जी ने पुष्टि की, जिसे बाद में मैंने स्वयं भी अनुभव किया कि बनगवां राज में चैत-बैसाख, महुए के दिनों में दूध-चाय में महुए का स्वाद आ जाता है। पास के गांव नरगोड़ा के बारे में पता चला था कि वहां भी तालाब के किनारे कुछ पुरावशेष हैं। नाम भी रोचक लगा। पास-पास गांव, गुड़ी और (नर)गोड़ा। गुड़ी के पुरावशेषों के बारे में भी रामाधीन जी ने बताया।

अब आते हैं गुड़ी। छत्तीसगढ़ के मैदानी गांवों में गलियों का मेल, केंद्र, जहां सामान्यतः बीच बस्ती वाले ग्राम देवता का स्थान होता है, गुड़ी कहा जाता है। बस्तर का गुड़ी-गुड्डि, इससे मिलता-जुलता मगर कुछ अलग होता है। यहां गांव का नाम ही गुड़ी है और रोचक कि जिस टीले के कारण हमलोगों का ध्यान आकर्षित हुआ वह जिस तालाब के किनारे है, उस तालाब का नाम ‘चौड़ा‘ है। इस टीले के अवलोकन से संभावित काल, संरचना स्पष्ट हुई थी, जिसका प्रतिवेदन तब मेरे द्वारा तैयार किया गया था। इसके साथ स्व. सीतेश जी की याद।

खरौद निवासी सीतेश द्विवेदी जी मेरे परिचितों में, वास्तविक अर्थों में ‘श्रमजीवी‘ पत्रकार थे। बिलासपुर नवभारत की नींव की मजबूती में उनका नाम अविस्मरणीय रहेगा। जीवन में निरंतर मुश्किलों से जुझते हुए भी बाल-जिज्ञासु और प्रौढ़ रचनाशील बने रहे। हमलोगों के अभिन्न थे ही।

यहां उनके नाम से नवभारत, रायपुर, संपादकीय पृष्ठ पर 4 सितंबर '90 को प्रकाशित यह अंश, जिसे उन्होंने हमारे कार्यालयीन प्रतिवेदन के तथ्यों को यथावत रखते हुए, उसके आधार पर तैयार किया था।

टीले से निकलेगा प्राचीन विष्णु मंदिर अवशेष

बिलासपुर जिले के सीपत समीप ग्राम गुड़ी के टीले से प्राचीन विष्णु मंदिर का ध्वंसावशेष निकलेगा। पुरातत्वविदों का मानना है कि १२वीं-१३वीं शताब्दी के आसपास निर्मित इस कलचुरी कालीन मंदिर के अवशेष का छत्तीसगढ़ (म.प्र.) के लिये विशेष महत्व का है। क्योंकि विष्णु मंदिरों की संख्या यहां न्यून है। टीले के नीचे दबे पुरावशेष को जानने सभी उत्सुक हैं।


यूं तो 'गुड़ी' से तात्पर्य किसी ग्राम का वह स्थान होता है जहां पंचायत बैठती है, पर यह उस ग्राम का नाम है जो बिलासपुर से २२ किलो मीटर दूर सीपत-बलौदा मार्ग पर स्थित है। जनसंख्या लगभग ढाई हजार है। अन्य ग्रामों की भांति यह भी सामान्य है। इसके उत्तर पश्चिम बाहरी भाग में ठरकपुर जाने वाली सड़क के किनारे वृक्ष एवं छोटी झाड़ियों से आच्छादित एक टीला है। यह टीला दूर से सामान्य व साधारण प्रतीत होता है। इसके आसपास कुछ पत्थर बिखरे पड़े है। इस टीले के समीप पहुंचने एवं बिखरे पत्थरों को देखने से उसके महत्व का आभास होता है।

ये पुरावशेष हैं, जो इतिहास की धरोहर हैं। बिखरे पत्थरों में से एक पर चतुर्भुजी विष्णु भगवान की प्रतिमा है, दूसरे पर हंस पंक्ति, तीसरे पर भी हंस पंक्ति, चौथे पर मिथुन युगल, पांचवें पर अश्वारोही, छठवें पर मंदिर शीर्ष, सातवें पर नारी आदि। टीले का दक्षिणी भाग अंशतः स्पष्ट है। ये सब विष्णु मंदिर के अवशेष. हैं। कालकम से प्रभावित होकर यह टीले के रूप में बदल चुका है। मिट्टी एवं पेड़-पौधों से ढंके इस टीले से प्राचीन विष्णु मंदिर का ध्वंसावशेष निकलेगा। पत्थरों पर की गई कलाकारी से इसका निर्माण १२वी-१३वीं शताब्दी के आसपास होने का अनुमान होता है। इनसे कलचुरि शैली स्पष्ट परिलक्षित होता है।

यह टीला एवं पुरावशेष लगभग १००० वर्ग मीटर में फैला है तथा अक्षांश मा २०-१० उत्तर एवं देशांश ८२-२० पूर्व पर स्थित है। गुड़ी ग्राम से होते नियमित निजी यात्री बसें चलती है। ग्रामीण बरसों से इस टीले को सिद्ध बाबा एवं देउर के रूप में दशहरा के समय विशेष पूजा करते आ रहे हैं। इस स्थल को प्राचीन व पवित्र मानते हैं। ग्राम देवता स्थान भी माना जाता है। यह पर्व त्यौहारों पर यहां धार्मिक कार्यक्रम यथा नवधा रामायण, कथा पारायण, प्रवचन आदि का आयोजन किया जाता है। प्राचीन काल से मंदिर होने की बात भी प्रचलित है।

यह टीला भू-सतह से लगभग ८ मीटर, ऊंचा, पूर्व पश्चिम में २३ मीटर लंबा एवं उत्तर-दक्षिण में लगभग १.? मीटर चौड़ा है। टीले पर विभिन्न प्रकार की वनस्पतियां उग आई है। इन वनस्पत्तियों और मिट्टी पत्थर से टीला पर्याप्त रूप से ढंक चुका है। किन्तु दक्षिणी पार्श्व का एक भाग उघड़ा हुआ है जिससे अधिष्ठान की संरचना अंशतः परिलक्षित होती है।

टीले के पूर्व में चौड़ा तालाब है, पश्चिम में एक नहर प्रवाहित है, जबकि अन्य ओर यह खेतों से घिरा हुआ है। समीप ही गुड़ी से ठरकपुर जाने वाली सड़क है। यह मैदांनी भू भाग है। इस टीले में ध्वस्त मंदिर होने की बात ग्रामीण बरसों से पुरखों से सुनते आ रहे हैं। पर पुरातत्वीय और ऐतिहासिक महत्व के इस स्थल का विवरण अब तक अप्रकाशित रहा।

इस टीले पर पड़े अवशेषों एवं दक्षिणी खुले भाग से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि ध्वस्त मंदिर १२वीं सदी ईस्वी में बनाया गया रहा होगा। मंदिर के पूर्वाभिमुख तथा सप्तरथ तल विन्यास योजना (चतुरंग) में होने का अनुमान स्पष्ट किया जा सकता है। वैसे छत्तीसगढ़ में विष्णु मंदिरों की संख्या न्यून है। जांजगीर एवं शिवरीनारायण में अवश्य इसके अच्छे प्रमाण हैं। अतः इस स्थल का विशेष महत्व है।

यह स्थल छत्तीसगढ़ की प्राचीन राजधानी रतनपुर से पूर्व दिशा की ओर लगभग १६ कि.मी. सीपत जूना शहर-शिव मंदिर से, आठ कि.मी. एवं बछौद गढ़ से लगभग १४ कि.मी. दूर स्थित है। ये तीनों प्राचीन ऐतिहासिक स्थान है। रतनपुर राजधानी, सीपत शिव मंदिर एवं बछौद गढ़ तीनों ध्वस्त हो गया है। समीपवर्ती इन तीनों प्राचीन स्थलों के बीच यह टीला विद्यमान है।

काल के किसी अज्ञात क्रम में ध्वस्त हुये, गिराये या दबाये गये इस मंदिर के अवशेषों को मिट्टी एवं पेड़ पौधों ने ढंक लिया है। कुछ अवशेषों को ग्रामीण अपने घरों में द्वार, सीढ़ी या दीवाल बनाने ले गये है, कुछ ने पनघट एवं श्मशान घाट में पुरावशेषों का उपयोग किया है। तो कुछ सिंघरी तालाब एवं चौड़ा तालाब के किनारों पर पड़े हैं। प्रकृति की बारहमासी मार को चलते ये अवशेष नष्ट भ्रष्ट होने जा रहे हैं। बलुआ पत्थरों से बनी अधिकतर पाषाण प्रतिमायें खंडित है इसलिये इनका क्षरण दर भी अधिक है।

सतह पर पड़ी कुछ प्रतिमाओं में प्रमुख ये है जिनमें प्रायः सभी बलुआ पत्थरों पर बनी खंडित एवं क्षरित है-
(१) सिरदल में खंडित नवग्रह पटल मध्य चतुर्भुजी विष्णु।
(२) मिथुन युगल प्रतिमा- जिसकी भंगिमा और कलात्मक सौंदर्य विशेष उल्लेखनीय है।
(३) अर्द्ध स्तम्भ पर नारी की खंड़ित प्रतिमा यह संभवतः किसी मुख्य देव प्रतिमा के पार्श्व उत्कीर्ण परिचारिका या पार्श्व देवी का अंश है।
(४) हंस पंक्ति-पंक्तिवार उत्कीर्ण हंस अत्यंत संतुलित और नियमित है।
(५) एक और पाषाण पटल में हंस पंक्ति है जिनमें पूर्व की भांति साम्यता एवं हंसों के उकेरण में लयात्मकता और व्यतिक्रम उल्लेखनीय है।
(६) एक पाषाण फलक पर तीन अश्वारोही हैं। संभवतः किसी वीर सैनिक या सती की स्मृति में यह बनाया गया होगा।
(७) टीले के नीचे पड़े दो पत्थर मिले है जो गर्भगृह एवं सभा मण्डप में ऊपर लगने वाले शीर्ष पत्थर है।
(८) टीले के ऊपर दो विशाल पत्थर भी रखे है संभवतः ये तरासकर मंदिर सभा मंडप के खंभे बनाये जाते।

टीले पर से खड़े होकर देखने पर चारों ओर का वातावरण मनमोह लेता है। दो ओर खेत, पास में बहती नहर, एक ओर तालाब, दूसरी ओर हरा-भरा मैदान। खेतों के पार दूर पहाड़ियों की श्रृंखला।

१२वीं- १३वीं शताब्दी के आसपास निर्मित पूर्वाभिमुख विष्णु मंदिर के ध्वंसावशेष की पूर्ण प्राप्ति, स्थल मलबा सफाई एवं उत्खनन से संभव है। हालांकि दो वर्ष पूर्व शासन ने इस स्थान को संरक्षित स्थल घोषित कर दिया है। पर अभी तक कोई रक्षक यहां नियुक्त नहीं किया गया है। निर्जन स्थान पर मैदानी भाग में टीले व आसपास बिखरे पुरावशेषों की सुरक्षा के लिये चौबीसों घंटे सुरक्षा आवश्यक है। स्थल मलबि सफाई एवं उत्खनन से मुख्य विष्णु प्रतिमा सहित अन्य पुरा-प्राप्तियां मिलने की संभावना है। तभी मंदिर की शेष संरचना एवं इतिहास का पता चल पायेगा। प्रकृति एवं विभिन्न कारणों से खंडित व क्षरित हो रही प्रतिमाओं की सुरक्षा के लिये पत्थरों का रासायनिक उपचार भी आवश्यक है।

पुरातत्व विभाग का कहना है कि आदेश की प्रतीक्षा में हैं। पर आसपास के ग्रामीण सहित स्वयं पुरातत्व विभाग टीले में दबे मंदिर अवशेषों को जानने अविकल है।

- सीतेश कुमार द्विवेदी

Tuesday, November 1, 2022

छत्तीसगढ़ के बाइस बछर

छत्तीसगढ़ के राज्य बनना, प्रशासनिक अउ राजनैतिक घटना आय, मगर संस्कृति के हिसाब से छत्तीसगढ़ के अपन पहिचान बहुत पुराना आय। हमर आज के छत्तीसगढ़ के कई रूप, कई आकार अउ नक्शा रहे हे। घटत-बढ़त बदलत रहे हे। दक्षिण कोसल, चेदि देश के साथ जुड़े रहे हे ते इलाका आज के बस्तर आय, याने दक्षिणी छत्तीसगढ़। ए इलाका दंडकारण्य आय, महाकान्तार कहे गए हे। राम भगवान के बनवास होए या राजा नल के किस्सा, ए इलाका के नाम आत रहे हे।

इतिहास म समुद्रगुप्त दक्षिणापथ अभियान म निकलथे, त सब ले पहिली राज्य कोसल के राजा महेन्द्र ल जीतथे, फेर महाकान्तार के व्याघ्रराज ल। फेर आगू तेलंगाना, आंध्र होत धुर दक्षिण निकल जाथे। महाभारत म भी ऋषभतीर्थ के नाम आथे, जे आज के गुंजी-दमउदहरा आय। उत्तरी सरगुजा अंचल, एक तरफ बघेलखंड से जुड़े रहे हे साथ ही मिर्जापुर इलाका से। जशपुर, रामनुजगंज अउ उदयपुर याने धरमजयगढ़ झारखंड-छोटा नागपुर से जुड़े रहे हे। इतिहास अउ भूगोल के साथ छत्तीसगढ़ के इतिहास अउ संस्कृति के संदर्भ म भी एकर ध्यान रखना जरूरी होथे।

छत्तीसगढ़ नाम, बीच के मैदानी हिस्सा, धान के कटोरा अउ कलचुरि-मराठा काल के पहिचान आय, जे ल छत्तीसगढ़ ‘गढ़‘ माने छत्तीसगढ़ किला मान लिए जाथे, जबकि बहुत साफ चर्चा मिलथे कि शिवनाथ नदी के उत्तर म अठारह अउ दक्षिण म अठारह, जे ल मोटा-माटी कहे जा सकथे, बिलासपुर राज अउ रायपुर राज। पुराना छत्तीसगढ़ म देशी रियासत के अलावा अइ दू जिला रहे हे।

राज्य से बाहिर के लोग मन बर, छत्तीसगढ़ माने बस्तर या भिलाई रहे हे। धान के कटोरा, मैदानी छत्तीसगढ़ के प्रमुखता हमेशा से रहे हे, मगर ए कारण से सरगुजा के पहिचान, लग रहे हे। छत्तीसगढ़ के बात करत हुए अक्सर सब कुछ मैदानी छत्तीसगढ़ म सिमट जाथे, बस्तर-सरगुजा पिछड़ जाथे, अउ विकास प्राधिकरण बनाए के जरूरत समझ म आथे।

छत्तीसगढ़ राज्य बनिस त यहां संस्कृति, पुरातत्व, अभिलेखागार, राजभाषा के साथ पर्यटन ल भी जोड़ के संचालनालय बनाए गइस। मध्यप्रदेश म संस्कृति के लगभग सब काम, परिषद, अकादमी अउ पीठ के माध्यम से होत रहिस। ओ कर से भी पहिली के स्थिति सुरता कर लेना चाहिए कि रायपुर म देश के सब ले पुराना संग्रहालय मन म से एक है। सीपी बरार-मध्यप्रदेश म पुरातत्व के काम पहिली, सामान्य प्रशासन, फेर शिक्षा अउ कुछ समय बर लोक निर्माण विभाग म रहे हे। संग्रहालय के मुख्य काम रायपुर से होत रहिस अउ सिरपुर खुदाई के दौरान यहां विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी के भी कार्यालय रहिस।


राज्य के बंटवारा म तय होइस कि जे परिषद, अकादमी, पीठ के जिहां मुख्यालय हे, ते ओ राज्य के बांहटा म, उहें रइही। त छत्तीसगढ़ के बांहटा म सिर्फ बख्शी सृजन पीठ आइस। अउ संस्कृति के कुछ अधिकारी कर्मचारी, जे मन बाद म वापस मध्यप्रदेश चले गइन। फेर बात आइस नीति के, त देश भर के कला-संस्कृति के विशेषज्ञ आमंत्रित होइन अउ उन सबके राय के निचोड़ आइस, ते आधार म तय होइस, कहे गइस- ‘राज्य की कोई विशेष या औपचारिक नीति के स्थान पर परंपराओं एवं मान्यताओं का समावेश एवं उनका पोषण संवर्धन करना है।‘ ए ल नीति के बजाय संकल्प भी कहे गइस।

संस्कृति बर ए क्षेत्र के लोग मन ही असली अगुवा होथे, सरकार ल ओ मन के अनुसार चलना होथे। छत्तीसगढ़ म धीरे-धीरे संस्कृति के मुख्य काम मंचीय आयोजन हो गे। बेहिसाब कार्यक्रम, कलाकार मन के मानदेय म देरी अउ कटौती। भाषा म जादा ध्यान छत्तीसगढ़ी अउ, ओ कर संविधान के आठवीं अनुसूची म शामिल कराना रहिस। हलबी, गोंड़ी, भतरी, कुडुख, सरगुजिहा, सादरी, पंडो बर कम ध्यान दिए गइस। राजभाषा, बोलचाल की भाषा, सरकारी कामकाज की भाषा, पढ़ाई की भाषा, मानक भाषा बर विद्वान मन सोचत-लिखत-पढ़त हावयं। हकीकत आय कि छत्तीसगढ़ी मंच-माइक अउ भाषण म बाढ़त जात हे, फेर आपसी बोलचाल, खोर-गली, घर-घर म नंदावत जात हे। 

संस्कृति के संरक्षण अउ प्रोत्साहन बर राज्य म पं. सुंदरलाल शर्मा, चक्रधर, दाउ मंदराजी, के साथ कला-संस्कृति के क्षेत्र म सम्मान-पुरस्कार बर विभूति मन के नाम जुड़त जात हे, देवदास बंजारे, किशोर साहू, लक्ष्मण मस्तुरिया, हबीब तनवीर, खुमान साव। जे ल सम्मान मिलथे, ते निर्णायक मंडल म आ जाथे, मगर अइसे भी होथे कि जे निर्णायक मंडल म हे, तेही बाद म पुरस्कार पा जाथे, सम्मान-पुरस्कार संग विवादित होना तो स्वाभाविक आय, मगर ए कर स्थापना म क्षेत्र के बजाय विभूति मन के नाम आधार होथे, तओ एक क्षेत्र के व्यक्ति कई क्षेत्र म पुरस्कार बर पात्र हो जाथे, एके व्यक्ति ल दू बार सम्मान मिल जाथे, तओ लगथे कि हमर राज्य म प्रतिभा के कमी हे का? अउ कहूं नइ रहिन, नइ मिलिन? किशोर साहू के नाम म दू ठन सम्मान हे, जे म के एक दस लाख रुपिया वाला आय, जबकि राज्य सम्मान मन 2-2 लाख रुपिया के आयं, अउ पं लखनलाल शर्मा के नाम से दिए जाने वाला पुरस्कार के पात्रता पुलिस विभाग तक सीमित हे, नागरिक सम्मान नो हय, अउ राशि भी मात्र पचीस हजार रुपिया हे।

छत्तीसगढ़ म पारंपरिक तिहार, खान-पान, पारंपरिक खेलकूद उपर ध्यान दिए जात हे, तीजा-पोरा, हरेली, नवाखाई हमर पहिचान आय। हमर राज्य म माटी तिहार, पंडुम हे त सरना, गंगा दशहरा भी हे। कहूं के दशहरा देवी पूजा आय त कहूं गढ़ जीतना, अउ कहूं रावण के मूर्ति अउ पूजा भी होथे। हमन ल अपन राज्य के ए बारामिंझरा, रिगी-चिंगी विविधता के आनंद लेत रहना हे, अइ हमर असली पहिचान आय, थाती ए, धरोहर आय।

संस्कृति बर परिषद के गठन किए गए हे, जे कर माध्यम से गतिविधि चलत हे। योजना आयोग के अंतर्गत भी कई समिति, उपसमिति, वर्किंग ग्रुप बने हे। बइठक भी होत हे। ध्यान रहना चाहिए कि संस्कृति-पुरातत्व के क्षेत्र म नया सोचे, करे से जादा जरूरी होथे, चले आत हे, ते व्यवस्था हर नियमित हे, ओ म कोई बड़चन तो नइ आत हे, याने ए म रख-रखाव के जरूरत अधिक होथे। कुछ समय पहिली संस्कृति बर अलग संचालनायल के मंजूरी होए हे। ए कर जरूरत बहुत समय से रहिस। का बर कि पुरातत्व के काम पिछड़ जात रहिस, सब अधिकारी-कर्मचार संस्कृति के काम म लगे रहंय। ते कारण पुरातत्व के काम मानदेय, मानद, प्रतिनियुक्ति से चलत रहे हे। अब संस्कृति बर नया रायपुर म जगह भी ठउका लिए गए हे, त जरूरी हे कि जल्दी से जल्दी संस्कृति बर अलग अधिकारी के नियुक्ति हो जाय, नइ त साना-घटा चलत रइही, सरकार जे सोच के ए निर्णय लेहे हे ते कार्यरूप म नइ आही।

कहूं मौका म श्रीकांत वर्मा जी, श्रीमती इंदिरा गांधी से पूछिन- ‘क्या आप मानती हैं कि समाज को लेखक या कि बुद्धिजीवीनेतृत्व प्रदान करता है, राजनेता नहीं? त ओ जवाब दिहिन- ‘जिस नेतृत्व की चर्चा मैं कर रही हूं वह समाज को राजनेता नहीं दे सकता। राजनेता की दिलचस्पी बहुत तात्कालिक और व्यावहारिक प्रकृति के सवालों में होती है, जबकि लेखक-बुद्धिजीवी ज्यादा गहरे प्रश्नों से साक्षात्कार करता है। उसकी चिंता का क्षेत्र मनुष्य और उसका समाज तथा उसकी नियति होती है। सांस्कृतिक समाज अउ राजनीति या सरकार के आपसी संबंध, कोन कहां, का बर, कतका जरूरी आय, साफ ढंग से कहे गए हे, ए ध्यान रखे वाला बात आय। अउ ए आधार म जरूरी होथे कि दुनों पक्ष एक-दूसर के महत्व ल समझय-मानय अउ सम्मान दय।

कला, संगीत, साहित्य, पुरातत्व के क्षेत्र म सुनइया, देखइया के पसंद, लोकप्रियता के महत्व हे, लेकिन ओ कर मुख्य होना ठीक नो हय, का बर संस्कृति तो जीवन के अंग आय, ओ हर प्रदर्शन तक, अउ ओकरे बर सीमित हो जाही, ते ल ठीक नइ माने जा सकय। संस्कृति म प्रगति, विकास अउ निर्माण अलग तरह से होथे, ओ हर दरअसल परिवर्तन होथे, हमर जीवन के परिस्थिति के अनुसार, धीरे-धीरे, कि पता नइ लगय, सहजता से बदल जाथे। समय के साथ बहुत अकन बात अउ चीज के छूटना जरूरी हो जाथे अउ समय के साथ नया के जुड़ना भी ओतके जरूरी हो जाथे। संस्कृति बर लोग अगुवा रहंय अउ जहां तक हो सकय सरकार ए काम बर ओ कर अनुसार ही चलय, त सबके कल्याण होही।

द सूत्र‘ वाले याज्ञवल्क्य जी की जिद का मैं सम्मान करता हूं, इसके बदले वे मेरी मनाहियों को बरदाश्त करते रहते हैं। पिछले हफ्ते कुछ दिन का समय देते हुए उन्होंने ऐसा कुछ लिखने को कहा। मैंने कहा कि इतना समय हो तो यह संभव न हो सकेगा। यदि फोन रखते ही इसी काम में जुट जाउं तभी संभव हो सकेगा। फिर पुरौनी आया कि छत्तीसगढ़ी में होना चाहिए, शब्द-सीमा भी। वे मेरी मनाही का मान रखते हैं, इसलिए जवाबी, उनकी जिद पूरी करना कठिन हुआ, पर जैसे-तैसे पूरी कर सका, लगभग वही उनकी सहमति से यहां प्रस्तुत।

Friday, October 28, 2022

कथा गढ़ते झारा-शिल्पी

एकताल, रायगढ़ जिले का अनूठा गांव है। छोटी सी आबादी वाले गांव में बहुत से राष्ट्रपति पुरस्कृत शिल्पी और शिल्प गुरु गोविंदराम झारा का गांव। मोमक्षय विधि से पीतल की आकृतियां गढ़ने वाले शिल्पी कथाएं भी गढ़ते हैं। पायली, दिया जागर और लक्ष्मी बनाने वाले कलाकार, करम झाड़ के बाद कथाओं को शिल्प का रूप देने लगे और शिल्प की कथा भी गढ़ने लगे। ‘विद्वान कला समीक्षकों‘ के सवालों के साथ धीरे-धीरे, उन ‘विशेषज्ञों‘ का मन पढ़ना भी इन शिल्पियों ने सीख लिया। शिल्प-कृति कोई भी हो, हर-एक आ कर पूछता है, इसकी कहानी क्या है। सरकारी मुलाजिमों की पूछ-परख का ध्यान रखते कुछ वैसी योजनाओं को भी आकार देने का प्रयास। शिल्पियों ने जान लिया कि सिर्फ कथाओं को शिल्प में गढ़ने से काम नहीं सधेगा, कलाकृति की कथा भी सोचनी, गढ़नी, कहनी पड़ेगी।

गोविंदराम झारा, जैसे हुनरमंद शिल्पी हैं, उतने ही किस्सागो और लोक गायक भी कम नहीं। अब बाकी ने भी कथाकारी सीख ली है और कई तो शिल्पी से अधिक कथाकार हो गए हैं। शंकरलाल, पुन्नीबाई, पटेल कुमार, संतोसिनी, शत्रुघन से बातें करता हूं, वे अब लिखा प्रिंट आउट किस्सा सौंप देते हैं, दसेक साल पुरानी बात। मैं फिर भी उनसे मुंह-अखरा किस्सा सुनने का आग्रह करता हूं। वे किस्सा सुनाते हैं, कागज की लेखी और कही-सुनी ...

शंकरलाल-पुन्नीबाई और पटेल सपरिवार

शंकरलाल चौथी कक्षा तक पढ़े भजन गायन भी करते हैं। गायकी और शिल्पकारी माता-पिता से सीखी। उड़िया, छत्तीसगढ़ी और हिन्दी बोलते हैं। ‘संसार सार गीता‘ का विशेष अध्ययन किया है। अपने शिल्प के बारे में बताते हैं-

सतयुग में विष्णु का अवतार से शेषनाग के उपर में अनंत सज्या समुद्र के उपर में साथ में आदि माता की कहानी प्रस्तुत करता हूं। 

नाभि कमल से ब्रम्हा निर्माण, 
साथ वाहन गरूड़ जी,
मधु और कैटप नामक राक्षस विष्णु जी के मैल से जन्म की कहानी, 
शंखासुर नामक राक्षस का जन्म और उसका उपद्रव।

इसके साथ उन्हीं के शब्दों में-


विष्णु भगवान के दस अवतार

(1) मत्स्य अवतार में जन्म और उनके द्वारा शंखासुर का अंत।
(2) कछप अवतार में पृथ्वी को अपने पीठ पर धारण करना। 
(3) वराह अवतार में अपने खीशे से पृथ्वी को धारण करना।
(4) नरसिंह अवतार में हिरण्यकश्यप राक्षस का वध।
(5) वामन अवतार में बली राजा से तीन पग भूमि दान का याचना करना।
(6) परशुराम अवतार में 21 बार पृथ्वी को निःक्षत्रिय करना। 
(7) राम अवतार में रावण का वध।
(8) कृष्ण अवतार में कंश का वध। 
(9) बुद्ध अवतार में मौन रूप धारण। 
(10) कलंकी अवतार का कलीयुग में जन्म।


भगवान विष्णु का ‘‘मतस्य अवतार और शंखासुर का वध’’ की कहानी-

अनंत कोटी कोटी कल्प युग के बाद धरती की युग अनुसार अनंत कोटी जीव जन्तु ज्ञात हुआ और बहुत सारे पशु पक्षी कीट पंतग जीव दानव-मानव तथा राक्षसों का जन्म हुआ और सागर में शंखासुर नामक राक्षस का जन्म हुआ और वह राक्षस अपने बाहुबल से ब्रम्हा आदि सभी दवताओं एवं सुर साधुओं के वेद पुराण शास्त्र सर्व सम्पद का हरण कर लिया। ब्रम्हा ने वेद पुराण के बिना हवन पूजा-पाठ आदि सभी कार्य करना बंद कर दिया। हवन न होने के कारण गंधर्व, नारद ऋषि मुनियो का जीना मुश्किल हो गया। ऋषि मुनी वर्ग में देवताओं ने एक साथ मिलकर बैकुण्ठ में जाने का प्रस्ताव किया। उस समय भगवान विष्णु अनंत शयन में थे। लक्ष्मी माता चरण चाप कर रही थी। शंखासुर का अत्याचार और देवताओं का कष्ट भगवान विष्णु को दिव्य ज्ञान से ज्ञात हो गया था। और इस बात को लेकर भगवान विष्णु ने लक्ष्मी माता पर ध्यान देकर ब्रम्हा आदि ऋषियों के बारे में सोच रहे थे। इसी समय ब्रम्हा अपने साथ सब ऋषि और देवताओं को लेकर बैकुण्ठ पहुंच गये। और भगवान विष्णु को जगाने का प्रयास किया लेकिन भगवान विष्णु खुद जाग गये और कहने लगे कि अब तुम्हारा सब दुख दूर हो जाएगा। अब चिंता की कोई बात नही। मैं छल-बल से शंखासुर का वध करके आपका वेद पुराण वापस लाउंगा। यह कहकर ब्रम्हा जी ने सबको आराम से विश्राम करने को कहा।

दक्षिण समुद्र के पास सरस्वती नामक नदी थी। उस नदी के पास विध्य नामक पर्वत था। उस पर्वत में कश्यप नामक ऋषि रहते थे। कार्तिक मास में ऋषि प्रतिदिन नदी में स्नान करने जाते थे। एक दिन ऋषि प्रातः स्थान करके अपने पितृ पिता को अर्ध्य देकर सूर्य देवता के लिये अंजलि कर में जल का अर्पण कर रहे थे। उस समय प्रभु नरसिंह भगवान ने छोटा सा मत्स्य रूप धारण कर ऋषि के हाथ में आ गये उसे देखकर ऋषि ने उसे अपने कंमडल पर रख दिये। उस छोटे से मत्स्य के रूप स्वयं विष्णु भगवान थे। ऋषि को उसका ज्ञान नही था। कमंडल में रहते हुए मछली ने कहा कि मुझे सारस खा जाएंगे, मेरा काया बड़ा होने जा रहा है मुझे बड़ा जघा चाहिए। ऋषि ने सोचा कि मछली सारसों के डर से मेरे शरण में आ गया है, इसे सुरक्षित रखना चाहिए। ऋषि ने अन्य सभी ऋषि-मुनियों को बुलाया और कहा कि इस मत्स्य ने कमंडल में रहते हुए कह रहा है कि यह जगह छोटा पड़ रहा इसलिये मुझे रहने के लिये बड़ा जगह चाहिए। ऋषियों ने विचार कर कहा कि इसे सरोवर में छोड़ देना चाहिए। मत्स्य सरोवर से भी बड़ा होने लगा, कहा मुझे और भी बड़ा जगह चाहिए। सब ऋषियों ने विस्मित होकर सोचने लगे कि यह भगवान विष्णु की लीला है, इसे समुद्र में छोड़ देना चाहिए। फिर सबने मिलकर मत्स्य को समुद्र मे छोड़ दिया। मत्स्य ने अपना स्वरूप धारण करके काया विस्तार करने लगा और स्वर्णमय मत्स्य रूप धारण करके सब देवताओ को बुलाया। छोटा बड़ा मीन का रूप लेकर समुद्र में प्रलय किये। मत्स्य ने उथल पुथल कर हुंकार करके छलांग लगाकर समुद्र का पानी खत्म कर दिये। जल खत्म होने के कारण सब मछलियों इकट्ठा होकर सोचने लगे शंखा मछलियों के साथ बहुत गाभिर में छुपा था। उसे देखकर भगवान विष्णु ने उसके पास पहुंच स्वंय रूप धारण किया शंखासुर को लेकर बद्रिका चल पड़े। गोविंद ने उसका भुजा पकड़ करके शंखासुर को पटक दिया शंखा चुर्ण चुर्ण होकर इधर उधर चारों दिशाओं में बिखर गया, धरती डगमगाने लगा, पर्वत हिलने लगे, भगवान विष्णु ने सांत्वना देकर कहा कि डरने की कोई बात नहीं मैने शंखासुर का वध कर दिया है। सब खुशी से झुमने लगे स्वर्ग से देवताओं ने पुष्प वृष्टि की। ब्रम्हा विष्णु आदि सभी देवताओं ने अपना अपना वेद पुराण, शास्त्र पाकर बहुत खुश हुए और अपना-अपना हवन शुरू किया। तत्पश्चात सभी देवगण अपने-अपने धाम पहुंच गये। संसार में सभी सुखपूर्वक रहने लगे।

इसलिये लोग कार्तिक माह में एकादशी के दिन विष्णु जी की पूजा सत्यनारायण निराकार के रूप में उपवास करके ब्रत किया जाता है। भगवान विष्णु शंखासुर को कार्तिक माह में मारकर बैकुण्ठ का उद्धार किये।

आद्य अवतार भगवान विष्णु जी की जय।

पटेल झारा के पिता, भाई और भाभी यानि घर के तीन सदस्य राष्ट्रपति पुरस्कृत हैं, उनकी लेखी कहानी, उनकी जबानी- 

धरती सृजना और पृथ्वी जन्म एवं मानव जन्म, मानव उधार - 
दुखयारी मां और दुखयारी चटीयन पक्षी की कहानी


धरती सृजना एवं धरती उधार -

जिस समय धरती विनाशकारी प्रलय से घिरा हुआ था। वह समय राजा सत्यवर्त एक दीन गनडूकी नामक नदी में स्नान कर सूर्य को जल दे रहे थे, तभी हाथ में एक छोटी-सी मछली हाथ में आ गयी और बोलने लगी की हे राजा! मुझे समुद्र एवं नदियों में बडे़-बड़े मछली और मगरमच्छ खा जायेेंगे मेरी रक्षा करो तभी राजा मछली को पकड़ कर महल पर ले गया और एक छोटे से कटोरी में रखा और राजा आगे बढ़ा पलट कर देखा तो मछली बहुत बड़ी हो गयी, और मछली, राजा को बोली कि मुझे इसमें घुटन एवं चलने-फिरनें के लिये दिकतें हो रही है। तभी राजा और उससे भी बड़ा-सा कटोरा मंगावा कर मछली को रखा और फिर मछली देखते ही देखते और अधिक बड़ी हो गयी, इतने में राजा सत्यवर्त को समझने में देर नहीं लगा, राजा बोला हे मछली तु कौन है, कृपा कर आप सही रूप में दर्शन देने का कष्ट करें। तभी मछली के रूप में भगवान विष्णु राजा सत्यवर्त को दर्शन दिया । और कहा हे! राजन् आज से सात दिन बाद धरती विनाश प्रलय में डूब जायेगा। तुम समस्त ऋषि मुनि जीव-जन्तु को नाव पर सवार करना जब धरती प्रलय के समीप होगा तभी मैं मछली के रूप नाव पर सवार ऋषि मुनि जीव-जन्तु का रक्षा करूंगा। यह कहकर अतर्ध्यान हो गये, देखते ही देखते धरती प्रलय से डूबने लंगा और धरती का विनाश हो गया। उस समय ब्रम्हा, विष्णु, महेश चारों वेद पुराण से धरती का निर्माण हुआ साथ हि साथ मानव का भी जन्म हुआ, यह सही एवं सत्य है। इस प्रकार है।

वासुकी धरती माता -

यह इस प्रकार है कि भगवान सर्वत्र हैं अर्जुन भगवान के स्थान के खोज में निकले तभी अर्जुन वासुकी धरती माता के पास पहुंचे और बोला की हे नागवली मुझे अंदर जाने दो तभी नागवली अंदर जाने के लिये मना कर दिया। अर्जुन गुस्से में बोला कि मैं सारे नागवली मेरे एक ही तीर में विनाश कर दूंगा। तभी वासूकी धरती माता बोली हे अर्जुन तुझमें इतना साहस है मैं यह धरती को सुख एवं दुःख भरी समस्त प्राणी सहित धरती को अपनी सिर में उठाई हूं, अगर तूझमें साहस है तो इस धरती को सात दिन तक उठा कर देख तभी अर्जुन अपने धनुष के टंकक से धरती को उठाया और अंत में अर्जुन नागवली के साथ विवाह किया।

दसावतार

मछावतारः- मच्छ रूप में जब शंकासूर ने पृथ्वी सहित चारों वेद पुराण को लेकर समुद्र के अंदर छिपा तभी भगवान मच्छ अवतार लिये शंकासूर का वध किया।

कछवतारः- जिस समय देव और दानव मिलकर समुद्र मंथन किया उसमें लक्ष्मी, अयरावती, अष्टापसरा का जन्म हुआ साथ-साथ हलाल से निकला व विष को पीकर भगवान शंकर नीलकंठ कहलाये एवं सारंग धनुष का जन्म हुआ। जिससे शिव प्राप्त किया, लक्ष्मी को विष्णु ने विवाह किया। 

बराहावतारः- इस अवतार में पृथ्वी उधार एवं हिराणाक्ष का वध किया। 

परशुरामावतारः- इस अवतार में अपने अस्त्र-शस्त्र से अनेकों राजाओं एवं क्षत्रियों को अपनी खड़क से सिर काटा एवं देवों का उध्धार किया। 

नरसिंहावतारः- नरसिंह अवतार में हिरणकस्यपू का उध्धार एवं भक्त प्रहलाद को राजा। 

बावनोवतारः- जब बली नामक का एक राजा था जो धर्मिक राजा के साथ-साथ चक्रवर्ती भी थे एवं सत्यवंत राजा थे, जब बलीराजा ब्रम्हयंज्ञ कर रहे थे तब वहां भगवान ब्राम्हण के रूप में पहुंचा और देखा कि राजा तीन सत्य कर रहे हैं तभी राजा देख ब्राम्हण को बोले आपको क्या चाहिये उन्होने बोले कि मुझे आपसे तीन पांव जमीन चाहिये, जब ब्राम्हण एक पैर आगे बढ़ाया तो एक ही पैर से पूरे धरती को नापा और दूसरा पैर स्वर्ग में रखा एवं तीसरे पैर बली राजा के सिर में रखा।

रामअवतारः-इस अवतार में राम 14 वर्ष बनवाश एवं रावण व और राक्षसों का विनाश किया। इस प्रकार रामअवतार है। 

कृष्णावतारः- इस रूप में गीता भगवत् प्रेम सागर के प्रेम से लीन राधा कृष्ण का मिलन एंव आजीवन करावास कंश वध देवकी उद्धार। 

बुधावतारः- बुध रूप में दुनिया के शांति के लिये एवं ऋषि मुनियांे के रक्षा के लिये भगवान बुधावतार में बैठे। 

कलंकी अवतारः- कलंक में भाई-भाई में दूश्मन एवं एक-दूसरे में नफरत माता-पिता का न ही आदर-सम्मान और न ही विश्वास करते है। यह कलंकी अवतार है। 

मानव शादी-विवाह पति-पत्नि के जीवन कई जन्म का बंधन इस प्रकार है- 

समाज में लड़की पुरया घर की होती है, जब लड़की 18-19 वर्ष का हो जाती हैं तो दूर-दूर के रिस्तेदार जाति-समाज के लोग आते हैं। जाति वर्ग सुलझाते हैं। दोनों लड़का-लड़की का विवाह पक्की कराते हैं। मांगनी (सगाई) करते हैं आदिवासी क्षेत्र में शादी चार लकड़ी के खंबा को चारों दिशा में गाड़ते हैं और बीच में एक मौउहा के पेड़ के डाल को गाड़ते हैं और चारों दिशा में कलश रखते हैं। ऊपर में जामुन के टहनीयं को बिछाते हैं शादी में चूरका को शाम के समय करते हैं। जिसमें देवुल गुड़ी में जाकर पूजा करतें हैं वहां जूठन चावल हल्दी को लाकर लड़का-लड़की के शरीर में लीप करते हैं। शादी में तीन दिन तक लिप किया जाता हैं। लड़का-लड़की एक दिन के लिये उपासना रहते हैं। लगातार तीन दिन शादी के उत्सव में खाना-पिना एवं मास-मदिरा कर समाज के बुजूर्ग महिला एवं पुरूष नाच-गान करती हैं जिसमें पुरूष वादयंत्र ढोलक बजाते हैं और एक ओर महिला समूह में नृत्य करते हैं। लड़का अपनी विवाहित कन्या को अपनी गोद में बैठाकर लड़का को साथ दोनो को नहलाते हैं, कपड़ा के जरीये तब दोनों को नये वस्त्र पहनाकर शादी मंडप में बैठा कर दोनों को जीवन भर के लिये पति-पत्नि बना देते हैं। वहीं पर लड़का और लड़की विवाह के कई जन्मो के लिये बंधन में बंध जाते हैं वहीं से दोनों की नई जीन्दगी शुरूवात हो जाती है। सही एवं सत्य है।

जेजकी महिला

जब महिला गर्भवती होती है तो शिशु को जन्म देती है। 

गर्भवती महिला की दर्द भरी कहानी इस प्रकार है। लड़का हो तो दस महिना दस दिन मां अपनी पेट में रखती हैं वह महिला न तो ठीक से सो पाती है और न ही पेट भर खा नहीं पाती और ठीक से रह नहीं पाती। दसवां महिना दसों दिन तक तखलीफ झेलती है। जब दसवां महिना और दस दिन पूरे होते हैं तब महिला शिशु को पैदा करने के लिये घर में महिला उसकी सहायता के लिये आ जाते हैं। गर्भवती महिला को एक महिला सामने और दूसरी महिला पिछे कमर को दबाती हैं। जब महिला को अधीक तखलीफ होती है तो अपनी मन में हे धरती माता हे भगवान मुझे तकलीफ न दो कह कर सहन करती है। इसके बाद शिशु को खून में लतपत धरती में गिराती है। एक दो मिनिट बाद महिलाएं एक कांसे के बर्तन को लेकर बजाते हैं खून में लतपत लांभी को काटकर शिशु के स्नान करते हैं और पहली मां का दूध अमृत दूध कहलाता है। जब तक अपने परिवार को कोई भी महिला नहीं बताती है कि उसकी बेटा या बेटी हुई है। इसके बाद 10 मिनिट बाद बताते है कि लड़का है या लड़की। 

जेजकी महिला को कपड़ा पहनाते हैं इसके सात दिन तक देख-भाल में 3-4 महिलाये गर्भवती महिला के पेट को जारा नामक पत्ता को आग में सेंक कर पेट की सिकाई करते हैं। जेजकी महिला को केवल सुबह खाना दी जाती है, ताकि किसी प्रकार के बीमार में ना पड़े तब 21 दिन बाद या सात दिन बाद जन्म शिशु का नामकरण एवं नया जीवन नाम रखने के लिये दूध दही दारू घांस चावल एवं नये वस्त्र पहनाकर शिशु के शिर के बाल मुंडन कर उसे जाति समाज के बैठे के बुजूर्गों के सामने शिशु को लाया जाता है और कांसे के बर्तन में रखी पानी बच्चे के हाथ-पैर धोते हैं इसके बाद कांसे के बर्तन में रखी पानी में घांस और चावल को छोड़कर बुजूर्ग बोलते हैं कि नाति-पाति छन्ति यह तीन पार्ट बाद आया शिशु को बोलकर पानी में तैरते हुए घांस के पिछे चावल को छोड़कर घांस को दौड़ने के लिये बोलते है। जब चावल घांस को पकड़ लेता हैं तो उसे अपने पिता के तीन पाठ कहकर कोई अच्छा सा नाम देते हैं। तब खुसी-खुसहाली में बुजूर्ग गीत गोविंद कर नृत्य करते हैं। यह सारी तखलीप को मां सहन करती है। और कहती है कि मार खुद कुड़ा बापर सुनामुड़ अर्थात मां कहती है 10 महिना 10 दिन बच्चे को पेट में रखते है। और बच्चे को जन्म देती है और कहती है, कि तू 40 या 50 साल का भी हो तो मेरे लिए लाल बेटा एवं कलेजे का टुकटा ही होगा। इस प्रकार का कहानी सही एवं सत्य है।

छोटा परिवार सुखी परिवार 

इस प्रकार है कि छोटा परिवार सुखी परिवार अत्यन्त सुखमय परिवार है एक विवाहित पती-पत्नि के दो बच्चे थे। जिसमें एक लड़का और लड़की जो खुशी परिवार सुख शान्ति से रहने खाने पिने आंनद जींदगी व्यतीत करती है । इस प्रकार माता कहते है कि हम दो हमारे दो। सही एवं सत्य है। पिता - कहते हैं कि हम दो हमारे दो। सही एवं सत्य है।

बड़ा परिवार दुखी परिवार 

इस प्रकार है कि बड़ा परिवार में दुख के सिवाय कुछ भी नही है बड़ा परिवार न तो चैन से रह सकते है न तो अपने आप को शान्ति से रहना पड़े। एक ऐसे परिवार जिसमें 6 बच्चे और माता-पिता सहित 8 परिवार में परेशानी ही परेशानी है। बड़ा परिवार के सदस्य अर्थाथ बच्चों की सुख सुविधा के लिए अधिक परिश्रम करनी पड़ती है। बच्चों की आवश्यकताओं को पूरा करने नही पाते है। अशिक्षित परिवार जो शान्ति से जीवन व्यतीत नही कर पाते हैं। बच्चों की आवश्यकता के लिए माता-पिता मजदूरी से पेट भरने के लिए परिश्रम करते है परन्तु समाज में उनका कोई महत्व नही रहता इनको सहारागी नही मिलता व बीमारी तथा तंगी से परेशान रहते है इनकें बच्चे न तो ठीक से पढ़ लिख सकते है और चिथड़े में पड़े रहते हैं। उनके बच्चे आगे बढ़ने के लिए कुछ भी उन्निती कर नही पाते उनके बच्चे चोरी, चपाटी कर एवं मार पिट, गाली गलौच का सामना ग्लाज करना पड़ता है। उनका पिता इन सब बच्चों के कार्य को परेशानी को देखकर परेशान और तखलीव होकर सिर पकड़ कर बैठे सोच में डूबे रहते है। मन ही मन हम दो और हमारे दो होते वो यह सुखमय जीवन में हमारे नसीब होता बड़ा परिवार में दुखी एंव अशान्तिय परिवार होती है। अर्थाथ बड़ा परिवार दुखी परिवार एवं छोटा परिवार यह सही एवं सत्य है।

मां और एक गोरियान (चोटिया) पक्षी

दोनों की अत्यन्त दुख दर्द भरी कहानी इस प्रकार है कि एक छोटा सा सुखमय परिवार रहते थे उनके छोटे छोटे दों बच्चे थे उसमें एक लड़का और एक लड़की थी। उनके माता-पिता खेती किसानी का कार्य करते थे वह दोनो पति-पत्नि खुशी-खुशियाली एवं शांति से रहते थे एक दिन गरीब किसान की पत्नि घर के अंदर अपनी बच्चों को खाना खिला रही थी उसी समय उनके घर में में दरवाजे के सामने दो गोरियान पक्षी (चाटिया और चटियन) एक एक घास एवं तिनका से उनके रहने एवं बसने के लिए एक घोसला बनाये और अंत में दोनों पक्षी (पति पत्नि) सुख जीवन बिताते थे। गोरियान (चटियन) पक्षी ने गर्ववर्ती हुई और दो पक्षी गोरयान पक्षी ने दो पक्षी बच्चों को जन्म दिया उन दोनों पक्षी पति-पत्नि सुखमय जीवन बिताते थे। उन दोनों पक्षी को गरीब किसान की पत्नि और उसकी पति दोनों, रोज सुबह शाम पक्षी परिवार को देखकर बहुत ही आंनद से रहते थे। एक दिन अचानक किसी शिकारी ने गोरियान पक्षी (चोटियन) को मार दिया। तो चटिया ने अपनी पत्नि के वियोग में इधर-उधर रोते विलकते रो रही थी गरीब किसान की पत्नि अपने बच्चें को खाना खिला रही थी तभी किसान की पत्नि की नजर पक्षीयों पर पड़ा और रोते विलकते पक्षीयों को देख किसान की पत्नि सोचा की चटिया की चुटियन को किसी ने दुष्ट शिकारी ने मार दिया। इसके बाद उसने सोचा बच्चों के लिए दूसरी मां शादी की बच्चों के लिए वह दूसरी मां लाया तथा अपने लिए प्रमिका लाया। किसान की पहली वगवास पत्नि के दो बच्चे थे जो सौतेली मां रोज उन बच्चों के साथ गाली-गलौच मार पिट कर दोनों बच्चो को दुख देती थी। उन दो बच्चो सौतेली मां भर पेट खाना नही देती है। एक दिन दोनों बच्चो को खाने में जहर मिलाकर बड़े लाड़ प्यार से गोद में उठाकर खिलाने की कोशिश की परन्तु दोनों बच्चों ने अपने स्वर्गवास मां की याद में खाना नही खाये और इस प्रकार बिना मां बाप के बच्चे पूरे संसार में जीवन जीने के लिए अत्यन्त कठिनाई एवं दुख दर्द सहन करना पड़ता है।

प्रौढ़ शिक्षा अभियान

आज से 40-50 साल पहले प्रौढ़ शिक्षा अभियान लागू किया गया था। उस समय गांव-गांव में न स्कूल था इसलिए गांव के लोग साक्षर नहीं थे। अशिक्षित लोग पढ़ने वाले 30-40 साल के महिला एवं पुरुष और बुर्जग पढने के लिए पेड़ पौधों के नीचे बैंठकर पढ़ते थे, तथा रात में लालटेन के नीचे पढ़ा करते थे। भारत में अशिक्षित से शिक्षित बनने के साथ साथ भारत के उन्नती थोड़ा बहुत भी विकास हुआ इस प्रकार कहानी है। जो सही एवं सत्य है।

आंगनबाड़ी कार्यालय

घर में बच्चे मां से सबसे पहले मां शब्द कहने के लिए सीखते है। इसके साथ साथ बच्चों को एक बूंद जीदंगी के लिए अर्थात् पल्स पोलियो पिलाया जाता है। एक साल के बच्चे को केवल पांच बार पिलाया जाता है। चार साल बाद आंगनबाड़ी में जाकर अपनी गुरु माता से अ, आ, इ, ई पढ़ते है, और इसके बाद ही आगे उनकी पढ़ाई करने को जाते है। यही आंगनवाड़ी का कार्य है।

कामकाजी शिल्पियों के किस्सों का खजाना अकूत है। अब वापस दुनियादार में जुटने का समय, उनका और मेरा भी। अगली किश्त तक के लिए। कही-सुनी है, इसलिए शोध प्रयोजन के लिए उपयोगी नहीं। शोध हेतु प्राथमिक स्रोतों पर अर्थात सीधे इन शिल्पियों से सुनना चाहिए।