Monday, November 29, 2021

Coinage of Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के प्राचीन सिक्कों पर पं. लोचन प्रसाद पांडेय का गंभीर अध्ययन रहा। इन्हें सूचीबद्ध करने की दृष्टि से बालचंद्र जैन जी द्वारा तैयार की गई इन्वेटरी, जर्नल आफ न्यूमिस्मेटिक सोसाइटी आफ इंडिया 1957 में प्रकाशित है। इसके अलावा सुस्मिता बोस मजुमदार द्वारा सन 2000 में मल्हार के सिक्कों पर प्रकाशित पुस्तिका और इस क्रम में छत्तीसगढ़ के प्राचीन सिक्कों पर अब तक लगातार गंभीर अध्ययन प्रकाशन किया जा रहा है। यहां प्रस्तुत डा. लक्ष्मीशंकर निगम का लेख-

Coinage of Chhattisgarh

L.S. Nigam
[Former Professor and Head, Sos in A.I.H.C and Arch. Pt. R.S.U. Raipur, Chhattisgarh. (Note: Present Article is a Key-Note Address delivered by author in National Seminar (16th-18th Sep. 2016) at Raipur organised by Directorate of Culture and Archaeology, Govt. of Chhattisgarh). Purāmanthana: Current Advances in Indian Archaeology Number 9, 2018]


Chhattisgarh is a state which came into existence on 1st November, 2000 by bifurcating the state of Madhya Pradesh. Geographically, Chhattisgarh is situated in the heart of India. The state is situated in the northern latitude in between 17°46' to 24°5' and eastern longitude between 80°15' to 84°20'. The total area of the state is 1,35,133 sq.km. The state is surrounded by Jharkhand and Odisha on the eastern side Uttar Pradesh on the northern side, Madhya Pradesh and Maharastra on the western side and Telengana on the southern site. The area of Bastar, south to the Telinghat was forming the territory of ancient Dandakaranya or Mahakantara and remaining portion of Chhattisgarh, was part of Dakshina Kosala, in which present areas of Sambalpur, Kalahandi and Bolangir of Odisha were also included. The South Kosala and Dandakanya were having separate identification in ancient times but at present area is known as Chhattisgarh which is having the same territory split from Madhya Pradesh.

Chhattisgarh is full of natural beauty, wild life, minerals and tribal heritage. It also having very rich in cultural traditions and archaeological wealth. We should remember the contribution of Raibahadur Dr. Hiralal, Pt. Lochan, Prasad Pandey, Dr. V.V. Mirashi, Dr. D.C. Sircar, Prof. K.D. Bajpai, Dr. M.G. Dixit, Dr. A.M. Shashtri, B.C. Jain, Dr. Sudhakar Pandey, Dr. R.N. Mishra and Dr. V.S. Thakur in the field of Ancient History and Archaeology of Chhattisgarh. We know much more about the art, architecture and epigraphy of this state but a study of numismatic seems to be in the margin. Even though some significant contribution done by various scholars must be mentioned here. Pt. Lochan Prasad Pandey is known for his contribution in this field. He has very good interactions with the prominent scholars of his time. These scholars have thrown light on the coins of Chhattisgarh for which raw material was provided by Pt. Lochan Prasad Pandey. Next to him the contribution of B.C. Jain is remarkable. Even some scholars of the present time also contributing on various aspects of numismatic of Chhattisgarh.

The origin and antiquity of the coinage in India is well discussed by the scholars therefore it is not needed to discuss this issue here. However, the actual period of the origin of coins in India is not conclusively known. Let it be said at the outset that the coins are sure index of economic condition of the region in particular and the country in general. There was probably no state coinage system in initial stage and the coins were minted by private individuals or guilds who gave their own impressions on the coins, it is therefore conclusively believed that the earliest coins of India were Punch marked sliver or copper pieces. Coins of this pattern were discovered in quite a large number from various part of the country; earliest of them are those, which are found only in a particular area or locality. These coins were issued by the Janapadas or Mahājanpadas, which existed after the Bharat war and later on gradually merged by the great rising of Magadha Empire, which rose in 5th-6th century BC. The kingdom of Magadha spread over the whole country by the end of 4th century BC. Some are probably many of Janapadas or Mahājanapadas, have been using the metal as currency or money during the period of Brahmaņas and Upanişadas, i.e. circa 8th century BC. Thereafter sometimes, the idea of coins might have been originated in some of these states. Thus, it can be safely presumed that coins of these states were current in these states prior to 5th century BC and gradually disappeared by the end of 4th century BC when Magadha Empire expanded.

The Punch marked coins, issued prior to rise of Magadha empire, are known as local coins. In the Chhattisgarh, coins of these patterns were discovered first time at Tārāpur1 in Raipur district. These coins are having four symbols viz.- 1) Elephant, 2) Standing bull, 3) a pallet surrounded by girdle of dots and 4) Kosalan symbols or Golangala (a pair of bulls with plough). These coins weigh 1.0254 to 1.1773 grammes (approximately 12 rattis). A hoard of the coins of this variety was also discovered at Dhapewārā2in Balaghat district. Recently coins of this pattern have also been found at Arang3 and Udela4 both situating in Raipur district. These coins may be assigned as Şaņā5 or Pādakārsāpaņa of pre Nand Maurya period because of the weight of Kārsāpaņa in this time was fixed 32 rattis, subsequently the ardhakārsāpaņa happens to be of 16 rattis. Moreover the number of symbols found in the coins of Nand-Maurya period is five. Coins of Nand-Maurya age have been also found at Bayer (of Bar)6, Akaltarā7, Thathāri8 and Bilaspur9. The Akaltarā hoard was consisting of 253 silver (of them 85 were minute coins of māșaka series and 2 copper coins, out of which only 233 could be acqulred and distributed to various museums. 177 coins of this hoard are rectangular and 29 are round in shape and having five symbols on the obverse belonging to B.M.C. classes 2 and 6, while minute silver coins (No. 85) having different solitary symbol of class 9 of B.M.C. From the hoard of Thathari, 259 silver Kārsāpaņa and Masaka coins were found. These coins belong to B.M.C. classes 1.1, 2.II, 2.IV, 6II and 6.III. Thus coins of this style found from various places of Chhattisgarh came in the circulation under the sovereignty of Mauryan Two light weight Punch marked coins with four symbols placed at the cornerns along with assembles similar to taurine or Ma of Brāhmi script are found at Malhar10.

After the decline of Mauryan kingdom, the area of South Kosala was probably come under the control of Sātavāhanas. No coins of any Sātavāhana ruler is discovered from this region. One coin of Āpīlaka was found at Bālpur11 and two coins were discovered from Malhār12. It is believed the name of this ruler is found in Puranic list of Andhra kings with slight variation with period of 12 years reign. This coin is round in shape with size of 1 inch and weight of 65 grains, on the obverse an elephant standing right is depicted, in front of elephant, above a symbol is found with legend round the edge of coin, rāno sivasiris- Āpilakasa. K.N. Dixit13 has assigned this coin belonging to the end of second century or beginning of third century A.D. but according to Puranic description this ruler seems to be earlier and occurs in eighth place in the genealogy. The reading of legend is revised by P.L.Guptal4 as Sāpilaka whereas Susmita Bose Majumdar15 reads the name of King Silalusirī. Coins of Achadasiri and Dhamabhada who seem to be local rulers of Malhār. Coins of some Magha rulers bearing the names Maghasirī, Sirīya Magha and Sivamagha are also known from Malhar16. Some coins of discovered from Malhar have been identified as Bhūmitra are Śarbha but Susmita Bose Majumdar suggested that these coins should be considered as the coin of Bhaliga. 

A hoard of 20 copper square, inscribe coins, is also discovered from village Bālpur, out of which four coins are published by A.S. Altekar17. On the obverse of the coins, rudely stretched elephant is found, while the reverse, Naga or standing female is depicted. Altekar feels that these coins have been issued by the local rulers after the downfall of Sātavāhanas, hence they have tried to imitate the coins of Sātāvahanas. B.C. Jain has suggested that these coins may be considered as local coins of South Kosala, when he published 12 coins of this pattern preserved in M.G.M. museum, Raipur18. Few more coins of this class are also found at Bālpur19 and Malhar20. Availability of these coins clearly indicates the Sātavāhanas sovereignty in this region. The fact is also evidently proved with various inscriptions and accounts of famous Chinese pilgrim Yuawn-Tsang21.

Discovery of sufficient number of Kuşāna copper coins from Chhattisgarh is a surprising problem of the history of this area. Kuşāna coins are found at Kenda22 Jhajhapuri23 Pendhrawa24 Bilaspur25 and Malhar26. The excavations at Tarighat and Damru have also yielded copper coins of Kuşānas. A copper coin of Yaudheya republic was also associated in the Pendharawan hoard. Nothing is known by any other sources about the Kuşāna sovereignty in this region. Simultaneously the discovery of Roman gold coins from Bilaspur district is interesting. Total 6 gold coins have been so far known, out of 4 from Bilaspur27 itself and belonging to Roman rulers Hardin, Seotemivs, Seoverus and Commodus, rest two coins are found at Chakarbeda28 and issued by Commodus and Divus Marcus Aurelius, Antonius respectively. Probably these coins migrated in this part of country by the travellers and traders. Malhar has yielded some imitation of Roman coins, one coin is made of base gold and another is of copper.

The Sovereignty of Imperial Gupta is well known in the Chhattisgarh29. In 1969, a hoard was discovered in village Banabarada30 of Durg district containing 9 gold coins of Gupta kings, out of which one belongs to Kācha, seven to Chandragupta II (Archer type-6, horseman type-I) and remaining one to Kumārgupta I (Archer type). This hoard is very important because of coins of Kācha are found either with Chandragupta-Kumardevi type of coins or with the coins of Samudragupta. In this present hoard both of these coins are absent. A silver coin of Kumaragupta I is also known from Arang31.

In the Gupta and post-Gupta period the area of Chhattisgarh was ruled by the various local dynasties. During this period few of them have issued most unusual type of gold coins. They are thin in fabric and repousse in technique weigh about 19-20 grains. This type of coins are unknown elsewhere in India in any other period of history. The coins bear within a circle of dots a device described below in the upper half of the coin while in the lower half, name of issuer in box-headed Brahmi script of 5th-6th century A.D. are found. At least eight rulers are known issuing this type of coins32. The coins of three rulers Prasannamātra, Mahendrāditya and Kramāditya bearing the device of Garūļa. Prasannamātra is famous ruler of Sarabhapuriya dynasty. Recently a solitary coin of this king bearing Chakra symbol is found at Madaguda33. One silver coin of Prasannamātra is discovered from Tala during debris clearance and one copper coin is in possession of Gulab Singh of Malhar34. Identification of Mahendrāditya and Kramāditya is not beyond the controversy. A group of scholars attribute them as Gupta kings Kumārgupta I and Skandagupta on the basis of their titles and Garuda emblem, while other scholars feel that these coins must be assigned to some local dynasties. Second category of repousse gold coins is bearing the device of bull. Coins of three rulers, Varāharāja, Bhavadatta and Arthapati belonging to the Nala dynasty of Bastar, were discovered from Edenga hoard35. Earlier on the basis of epigraphic record Bhavadatta was known as a first king of this dynasty but by the discovery of this hoard information regarding his predecessor Varāharāja came into knowledge. Simultaneously the Kulia hoard36 introduced two new rulers Nandanrāja and Stambha, both having device of bull. Nandanrāja is not known from any record of this region but so far the Stambha is concern, he may be identified with a prince of Nala dynasty, mentioned in Podāgarh inscription of Bhavadatta. His name is earlier restored as Skandavarman. In the light of discovery of this coin inscription may be correctly reread. These two rulers may be suggested, probably belonging to Nala dynasty of Bastar-Koraput region, on the basis of style and pattern.

Few Chinese coins have also been discovered from Chhattisgarh region. One copper coins of Kai-Yauan (713-741A.D) was found in Sirpur excavation37. It is evidence that even after the Yuwang-Tsang Sirpur was point of attraction for the Chinese pilgrims. Three silver and one copper Chinese coins are also known from Bālpur38

After the Šarabhapurias and Nalas the Pānduvamsis established their power in this region. Archaeological materials of this period are quite large found in entire Chhattisgarh but no coins belonging to this dynasty is discovered so far. A solitary gold coin bearing legend Kesari found at Bālpur39. L.P. Pandey believes that probably he was brother of Mahāśivagupta Balarjuna but nothing can be positively suggested in absence of definite evidences. 

Nothing is known about the coinage of Chhattisgarh after this period and prior to the establishment of Kalchuri power but few hoards consisting of the coins of some rulers of other regions are worth to be referred. A hoard having three silver Adivarāha drammes was found at village Bastar40 in 1887. Similarly 139 Indo-Sussanian copper coins were acquired from village Sirsa4l of Durg district. 

Number of coins of Kalchuri rulers, discovered from various places, is quite a large42. It is well known that Krisṇarāja, the founder of Mahişmati branch of Kalchuris, has issued silver coins but Chhattisgarh was not under this control therefore no coins of this ruler is found from this region. After Krişnarāja, next ruler, who issued the coin was Gāngeyadeva of Tripururi branch of Kalchuris. He has issued coins in gold, silver and copper. 

The Kalchuris of Ratanpur were under the suzerainty of Gāngeyadeva. His nine coins have been so far discovered from Chhattisgarh, two of them from Sonsari hoard43, three from village Geji44 of Sarguja district and reaming four from Tingamali45. Recently some coins of this ruler have been also discovered from Chhattisgarh. All these coins are made of gold and of usual type with a figure of four-armed Laxmi seated within a dotted circle on the obverse. The Goddess is holding lotuses in her upper hand and her lower hand are spread out at her sides. On the reverse side name of the ruler is engraved in three lines as (1) śrīmadgā (2) ñgeyada (3) vāh.

During the reign of Jājalladeva I, Ratanpur branch of Kalchuris became too much powerful. To indicate his strength, he issued the coins in his name. This practice was continued by his successors Ratnadeva II, Pritvīdeva II and Pratāpmalla. Jājalladeva I have issued the coins in gold and copper coins of Ratnadeva II and Pritvideva II are made of gold, silver and copper46, while Pratāpamalla has issued the coins both in gold and copper. Gold coins of these rulers are of two denominations. Weight of bigger coins are 61-62 grains and size about 0.8 inch. The smaller coins having weight about 15 grains and size about 0.5 inch. In all the coins a lion attacking on an elephant is depicted on the obverse side while reverse side is bearing legend in two or three lines in brahrni script as Śrīmad Jājalladeva, Śrīmadratnadeva and śrīmadprithvideva. Silver coins issued by the Ratnadeva II and Prithvideva II are in the design and style of their gold coins. Copper coins are issued by four rulers Jājalladeva I, Ratnadeva II, Prithvīdeva II and Pratāpamalla. In the obverse side of these coins various devices such as, effigy of Hanumana, flying or trampling on demon, figure of lion or a Purāmanthana: Current Advances in Indian Archaeology symbol of sword are depicted while reverse side of coin bearing the legend in usual form. Coins hoards of these rulers are found from various places of Chhattisgarh. 

In the Bastar region, Naga dynasty was ruling contemporary of Kalchuris of Ratanpur. From the Sorisari47 hoard four gold coins of Someswara of Naga family were found. On the obverse of the coins, their dynastic insignia - a roaring tiger and a dagger in the front and sun and moon above is placed while on the reverse side name of ruler Śrīmadasomeśvaradevasya is engraved in three lines. 

The above mentioned Sonsari hoard is quite important because it bears 600 gold coins out of which 501 are belonging to kings of Ratanpur branch of Kalchuris; remaining of the coins belonging to Govindachandra Gahadawal of Kanauj [2 coins], Gāngeyadeva of Tripuri [2 coins) and Someśvara of Bastar [4 coins). This hoard is consistent with the other known facts of history. Ratanpur stone inscription of Jājalladeva I, refers that he has established friendly relations with the kings of Chedi, Kānyakubja and Jejākabhugti. Simultaneously rivalry between the Kalchuris of Ratanpur and Chhindaka Nagas of Chakrakota (Bastar) is referred in the inscriptions of both dynasties. Similarly relation between the Kalchuris of Ratanpur and Telgu-chod-ganga rulers is also reflected in their inscriptions. Ratnadeva II has made failure the tremendous attack of Ananta-varman-chodganga, one of the most powerful king of that period. Discovery of a hoard, from Raipur48 containing 32 gold coins of Anantavarman is also an evidence of this incidence. 

It is worth to mention that few copper Coins datable to Circa 11th century A.D. were discovered from village Malhar49, out of which one square coin bears the legend Kumāghabhijhubha. No proper identification has been made above this coin untill. 

Very little information is available on the history of Chhattisgarh after Pratāpamalla but well known rājaprasasti of Hemadrišo informs that Singhna, the Yadava king of Devagiri has 'captured an elephant crop belonging to king Jajalla. Thus we have come to know about a king named Jājalla (III) who ruled after Pratāpamalla. The victory of Singhana is proved by the discovery of Parsadih hoard51, containing five gold coins out of which three belong to Singhana, one unidentified and another is a muhara of Nasiruddin Mohammad I. 

During the downfall of the Kalchuri very few of them and their cotemporary rulers have issued the coins from Chhattisgarh. One coin discovered from Balpur52 is bearing legend Vikramsāi. Detail of this coin is not available even then it was suggested that this ruler seems to be some later chief of Ratanpur branch of Kalchuris. 

The excavations at Pachrahi have thrown new light on the numismatic history of Chhattisgarh by discovery of Coins of Phaņi Nāgvamshis. For the first time the excavation revealed five coins of this deynasty53. Among these coins, one, gold coin is of Nakkaņadev is very significant and remaining is made of silver belonging to Śrīdhar dev and Dharanidhar dev. Name of these rulers are mentioned in Madwa Mahal inscription of V.S.140654. Similarly another new king of this dynasty came in to the knowledge by a hoard discovered at village Sondra55 in Raipur district. The coin is made of gold and within dotted end linear circle, a figure of king in walking posture and holding a sword in his right hand is depicted on the obverse side. On the reverse side of the coin name of the issuer, Mahārāja Śrī Satimadeva is engraved in three lines. Along with these coins, 31 gold coins in style of Padama-tankas of Yadavas of Devagiri were also found. Earlier the king was considered as a ruler of Raipur branch of Kalchuris because of this name was not available in any record. The problem of identification of this ruler is now solved by the discovery of Madwa Mahal Sati Pillar inscription of V.S 1407 (1349/50AD) which records the name of ruler Satimadeva56

After sometimes Chhattisgarh came under the control of Marathas and ultimately to British administration. During this period, coins popular in the other parts of country were in circulation, even in this region.

Thus, it is clear from above studies that Chhattisgarh in the numismatic history of India, is quite significant. The glorious tradition of the coinage originated here along with the origin of the coins itself in India and continued all the arrivals of the Marathas and Britisher. The coins of this are, are not only minted in various metals such as gold, silver, copper and billon but they are finest examples of workmanship and art of early history of India.

Notes and References

1. Journal of Andhra Historical Research Society (J.A.H.R.S), III, p.181; Journal of Numismatic Society of India (J.N.S.I.),XIX, p.108; Jain, B.C., 'Numismatic Notes and Monographs', No.5, entitled- Inventory of the hoards and finds of coins and seals from Madhya Pradesh. Varanasi, 1957. (Here in after referred as N.N.M. No.5) P.1
2. N.N.M. No.5, p.1.
3. Six coins discovered from Arang are now preserved in MGM Museum, Raipur (Acc. No. 15080-85). These coins are presented by Dr. R.N. Mishra.
4. Seven coins were discovered by Shri Vinay Kumar Nigam of Saraipali, who has sent these coins to the author.
5. For Sana, please see, Agrawal, R.C., 'Sana as a weigh denomination', J.N.S.I. XV, p. 151-52, Sircar, D.C, 'The Sana', J.N.S.I, XIV, p. 40 ff.
6. J.N.S.I, XXVII, p.139.
7. N.N.M. No. 5, p. 2; M.G. Dikshit has mentioned only 215 coins. There is lot of confusion regarding the number of coin see his book, Madhya Pradesh Ke Pruattatva Ka Ruparekha, (in Hindi), p.43. Mr. Rahul Kumar Singh, the then curator of Bilaspur Museum has also discovered five silver punch marked coins in 1981 and sent to the author.
8. Allan, J., Catalogue of coins in the British Museum, Ancient India introduction, iii.
9. N.N.M., No. 5, p. 4, Nine Silver coins are known from the hoard and belong to BMC Class 2.
10. Bose Majmdar, Susmita., Coins of Malhar, Anjaneri, Nasik, 2000, p. 3.
11. Numismatic Supplement, XLVII, article No. 344; J.A.H.R.S., X. p. 225.
12. Raizada, Ajit., “Inscribed Coins from Malhar” in The Bounteous Tree-Treasures in Indian Art and Culture (ed.) K.K. Chakravarti, 1994, p. 204.
13. Numismatic Supplement, XLVII, article No. 344.
14. Gupta, P.L., “Three Malhar coins revisited” Numismatic Digest, Vol. 14, pp. 10-11.
15. Bose, Majumdar, Susmita, op. cit.
16. Ibid.
17. J.N.S.I, IX, p. 31 ff.
18. Ibid. XIX, p. 72-73.
19. Indian Archaeology-A Review (IAR), 1958-59, pp. 107-08.
20. Bajpai, K.D & Pandey, S.K., Malhar, p. 34.
21. Watters, T.W., On Yuwang-Travels in India, Part II, p. 200 ff.
22. J.N.S.I, XVII, p. 109 ff.
23. Ibid.
24. Ibid.
25. N.N.M., No. 5, p. 10.
26. Bajpai & Pandey, op.cit.
27. N.N.M., No. 5, p. 23.
28. J.N.S.I, VII, p. 6-10. p. 28-37.
29. Nigam, L.S., "Chhattisgarh men Gupta Adhisatta", (in Hindi) Medha, Raipur, No. 10. 
30. Ibid, Foot note no. 39, Sharma, R.K., Madhya Praesh Ke Puratatva Ka Sandarbha Granth, in Hindi), p.446, S.N.2350/1.
31. Prāchya-Pratibhā, Vol.V. No. II, p.198. 
32. For details of Repousse Gold Coins, Please refer Nigam, L.S., “Numismatography of Rapousse Gold Coins to be published in Prof. K.D. Bajpai Felicitation Volume, Delhi”.
33. J.N.S.I., XLIII, part II, p. 40
34. Ibid, Vol. L, p. 30-32.
35. Ibid, I, p.31 ff.
36. Prāchya-Pratibhā, Vol.V, No.1, p. 69-74, J.N.S.I, XI, Part-II, p. 108.
37. I.A.R, 1955-56, p. 60-61, J.N.S.I, XVIII, p. 64-66.
38. J.N.S.I, X, p.161.
39. J.A.H.R.S. III. p. 181.
40. N.N.M., No. 5, p. 14.
41. I.A.R., 1954-55, p. 63.
42. For detail of Kalchuri Coinage, please refer Mirashi, V.V. C.I.I. Vol IV introduction.
43. J.A.H.R.S. XII, Part-III, p. 177-78, J.N.S.I, III, p. 27. Ibid. XVII. p. 54.
44. Mr. Salimuddin, Curator, MGM Museum, Raipur informed that total 4 gold coins found from this place are belonging to Gangeyadeva and another coin is Gajapati coin.
45. J.N.S.I, X, XLII, Part-II, p. 72ff. 
46. No Silver coin of Ratnadeva wa earlier known. For the first time, Ku.Usha Jain has published coin of this ruler (J.N.S.I, XLIII, Part-II, p. 70ff.). She feels that this ruler must be of Ratnadeva I, while Dr. Lallanji Gopal says that identification of Ratnadeva of Silver coin with Ratnadeva I or II should be substantiated by other evidences. (Ibid, Foot note-2). Author is in view to accept this coin as an issue of Ratnadeva II. Recently two gold coins of Pratarnpalladeva retrieved from the excavation at Pachrahi,dist.Kabirdham
47. J.N.S.I, XVII, p. 54ff.
48. N.N.M. No. 5. p.20
49. IAR, 1976-77, p.71.
50. Please see, Bhandarkar, R.G., Early History of Deccan, p. 540.
51. J.N.S.I, VIII, p. 147ff.
52. I A R, 1958-59, p. 66.
53. Yadav, S.S and Pradhan, A.K., Excavations at Pachrahi (2007-09), Raipur, 2010, p. 55.
54. Hiralal, Inscriptions in C.P and Berar, No. 305.
55. MP Cronicle and Nav-Bharat (Hindi) daily News papers published from Raipur, Dated 5.12.1982. 56. Jain, B.C., Utkriņ Lekh (Revised edition by Raikwar, G.L, and Singh, Rahul), Raipur, 2005, p. 232.

Friday, November 26, 2021

जशपुर

जशपुर जिला जनजातीय संस्कृति तथा विशिष्ट भौगोलिक संरचना के कारण प्रसिद्ध है। इस जिले की प्रमुख नदियां शंख तथा ईब है। पुरातत्वीय साक्ष्यों के अभाव के कारण इस अंचल का प्राचीन राजनैतिक इतिहास, अभिलेख-सूचनाओं की दृष्टि से समृद्ध नहीं है, किंतु परंपरा और मौखिक इतिहास की दृष्टि से उतना ही संपन्न। प्रागैतिहासिक संस्कृति के स्फुट अवशेष शंख तथा ईब नदी के तटवर्ती क्षेत्रों में मिलते हैं।

ईब नदी के तट पर सोने के कण मिलते हैं, स्थानीय झारा जनजाति के लोग इन कणों को एकत्र करते हैं। यहां की मुख्य जनजातियों में उरांव, कंवर, गांड़ा, खैरवार, पंडो, पहाड़ी कोरबा, बिरहोर, चिकवा आदि हैं। पहाड़ी वन्य भूमि और ऊंचे पाट के कारण यहां की जलवायु सुखद है। शरद ऋतु में यहां के पाटों में अत्याधिक शीत पड़ती है। कुनकुरी, तपकरा, बागबहारा, कांसाबेल, बगीचा तथा पत्थलगांव जशपुर जिले के महत्वपूर्ण नगर तथा प्रशासनिक केन्द्र हैं। जनजातीय समाजोद्धारक गहिरागुरू के सामजिक नवोत्थान केन्द्र के रूप में बगीचा स्थित आश्रम, जिले का सांस्कृतिक तथा धार्मिक केन्द्र हैं। पंडरापाट स्थित खुड़िया रानी, कोरवा जनजाति का प्रमुख आस्था केंद्र है। वहीं कुनकुरी का इसाई गिरजाघर प्रसिद्ध है।

8 जून 2017, दिन गुरुवार। शंख नदी के बाएं किनारे जशपुर जिले का गांव पिल्खी। यह छोटी पहाड़ी श्रृंखला और वन क्षेत्र में है। स्थानीय किंवदंती के अनुसार यहां डोम राजा का राज्य था। बाद में डोम राजाओं के इलाके को स्थानीय राजवंश के पूर्व पुरुषों द्वारा जीत लिया गया। गांव के पास जतरा पहाड़ (डोंगुल पहाड़) स्थित है। सामने गांव दिख रहा है, ढोलडुबा। पास ही एक और गांव, नाम बताया गया मांदरटंगा। यानि ताल वाद्य ढोल डूबा हुआ और मांदर टंगा हुआ?

पिलखी ग्राम की पहाड़ी तलहटी में समतल मैदान में जला हुआ तथा कोयले के रूप में परिवर्तित जमाव है। ग्रामवासियों के द्वारा चिह्नांकित इस स्थल पर कोयले के रूप में परिवर्तित चांवल के दानों के साथ अल्प मात्रा में खपरे तथा ईंट के टुकड़े मिलते हैं। स्थल अवलोकन कर, आसपास के मिट्टी के जमाव को खोद-खुरच कर परीक्षण किया गया। परीक्षण से ज्ञात हुआ कि इस स्थल के एक निश्चित भाग पर सतह से लगभग छः इंच की गहराई में जली मिट्टी के साथ चांवल के दाने मिल रहे हैं। 

स्थल पर किसी सांस्कृतिक स्तर का प्रमाण स्पष्ट न होने से इन जले हुये चांवल के दानों की प्राचीनता निश्चित नहीं होती है। स्थानीय सूचनाओं के अनुसार पास की पहाड़ी पर डोम राजाओं का गढ़ स्थित था। इस आधार पर इन जले हुए चांवल के दानों का काल लगभग 200-300 वर्ष प्राचीन अनुमानित है। स्थानीय युद्ध, आखेट अथवा उजाड़ स्थिति में इस स्थल पर अग्निकांड होने से चावल के दाने जलकर मिट्टी के साथ मिल गए होने का अनुमान है। 

हल्की बारिश के साथ खेती का काम शुरू हो गया है। आज बतर भी है, यानि खेती के काम के लिए एकदम उपयुक्त समय। यों यह क्षेत्र पिछड़ा माना जाने वाला जनजातीय बहुल है। खेती के कामकाज के लिए ट्रेक्टर का उपयोग कम दिखा है। सीमित जोत वाले किसान, हल-बैल/भैंस से खेती का काम करते हैं। इस अंचल की सभ्यता में अभी कृषि-गोप संस्कृति के दर्शन आसानी से हो जाते हैं।

किसान खेतों में व्यस्त हैं, लेकिन हल जुते बैल-भैंस कहीं नहीं दिख रहे। बातचीत में पता लगा कि इस पूरे अंचल में गुरुवार का दिन गोवंश के अवकाश का दिन होता है, उनसे काम नहीं लिया जाता। अनुमान हुआ कि इस अंचल में वनवासी सेवा आश्रम, जशपुर रियासत- दिलीप सिंह जूदेव और सोगड़ा आश्रम वाले अवधूत श्री राम का व्यांपक प्रभाव रहा है, इनमें से कोई कारक संभव है, जिस कारण गो-धन के प्रति ऐसी व्यवस्था अपनाई गई होगी। पूछने पर बताया गया कि यह इन सब से पुरानी परम्परा है।

यों हरेली और अन्नूकूट जैसे सालाना पर्व पर गोवंश की पूजा की जाती है, लेकिन गाय-भैंस के लिए साप्ताहिक अवकाश का चलन संभवतः अन्यन कहीं नहीं। गोवंश के अवकाश के लिए तय दिन गुरुवार है, यह लक्ष्मी का दिन माना गया है। अगहन माह में जब फसल कट कर आने लगती है और किसान का घर धन-धान्य से भरपूर होता है तब प्रत्येक गुरुवार को लक्ष्मी-पूजा की जाती है। प्राचीन काल में गौ के मुद्रा की तरह उपयोग की जानकारी मिलती है। वैदिक परम्परा से ले कर कृषक संस्कृति में गौ, लक्ष्मीस्वरूपा तो है ही।

जशपुर से चरईडांड (कुनकुरी) अप्रचलित निर्माणाधीन सड़क मार्ग पर स्थित स्थानीय पर्यटन स्थल दमेरा के पास सड़क पर लगभग 6 फीट लंबा, एवं चार फीट मोटा पत्थर का बेलन (रोलर) रखा है। यह रोलर कठोर पत्थर का है, जिसके दोनों ओर केन्द्र में लोहे का मोटा राड फंसाने के लिए छेद है। जिस चट्टान से इस विशाल आकार के बेलन को तराश काटकर बनाया गया है, उस पाषाण खंड के दोनों ओर के मूल भाग समीप में रखे हुए हैं। पत्थर का यह रोलर असामान्य बड़े आकार का है। इस रोलर का निर्माण रिसायत काल में क्षेत्रीय राजाओं के द्वारा सुरक्षा कार्य के लिए अथवा सड़क/मैदान समतल करने के लिए करवाया गया होगा। यह रोलर आकार के कारण उल्लेखनीय है।

कांसाबेल तहसील के बागबहार ग्राम में स्थानीय परंपरा एवं मान्यताओं वाला विशिष्ट मंदिर है- पीपलदेवधाम मंदिर, पीपलधाम, या पीपलदेव। मैनी और कुरकुट नाला के तट पर बागबहार, जशपुर के फरसाबहार से 12 किलोमीटर। कोई सौ साल पहले यहां के जमींदार ने मांस-मदिरा त्याग के लिए पूरे इलाके को प्रेरित किया था। अब, पांच-सात साल पहले लोगों ने बस्ती के बाहर विशाल पीपल पेड़ को अपना देव मान लिया, यही धाम बन गया। पीपल का यह वृक्ष 100 वर्ष से भी अधिक पुराना जान पड़ता है। इस वृक्ष के चारों ओर चबूतरा तथा साथ में लोहे का जालीदार सुरक्षा घेरा और लोहे का गेट है। गेट के बाहर एक छोटा सा आधुनिक शिवलिंग स्थापित है।

सरना की परम्परा वाले छत्तीसगढ़ का उत्तर-पूर्वी हिस्सा, यानि मुख्यतः सरगुजा, जशपुर और झारखंड का सीमावर्ती इलाका। इस अंचल की संस्कृति का अंग, सरना पूजा है। सरना- सरई यानि शाल का पवित्र वनखंड। सरना क्षेत्र विभिन्न आस्थामूलक परंपराओं का आयोजन तथा आराधना स्थल होता है। इस पूरे क्षेत्र में रास्ते के साथ-साथ आम के पेड़ भी कम नहीं और अमराई भी। यहां ‘पर्यावरण जागरूकता अभियान‘ का नारा नहीं है, न ही ऐसा कोई ‘बौद्धिक विमर्श‘।

देवता के नाम पर कोई मूर्ति नहीं, सिर्फ पीपल का पेड़ और संरचना के नाम पर कोई मंदिर नहीं, बस चबूतरा। सरपंच रवि कुमार परहा (कंवर) जी ने गांव वालों की अगुवाई की और पूजा-सेवा का जिम्मा लिया गुलाब साय यादव जी ने। अब यही पीपल बाबा देव है, यही मंदिर और यही धाम। बताया गया कि इस पेड़ पर कभी-कभी एक पत्रवृंत पर जुड़वा पत्ते भी आते हैं। यानि गुरुवार के दिन मवेशी को खेती के काम से साप्ताहिक अवकाश देने वाले किसानों के इस अंचल में स्वर्ण, सर्प, हाथी और टमाटर के अलावा भी बहुत कुछ है।

प्रकृति, वृक्षपूजन की ऐसी व्यवस्था अपने में अकेली-अनूठी होने का रिकार्ड बनाए, न बनाए, प्रेरक और उल्लेखनीय अवश्य है। और जो न अभिव्यक्त हो सकता, न महसूस कराया जा सकता, वह है यहां का समूचा परिवेश, दिव्य।

कांसाबेल तहसील के ग्राम रेड़े से तीर्थंकर की प्राचीन भग्न प्रतिमा, आवासीय स्थल के चिन्ह एवं प्राचीन सरोवर की जानकारी प्राप्त हुई है। शीर्षविहीन तीर्थंकर की स्थानक प्रतिमा ग्राम के बाह्य भाग में सरोवर के समीप निर्माणाधीन सड़क मार्ग पर पीपल पेड के नीचे प्रस्तर खंडों के साथ अपूजित स्थिति में रखी हुई है। तीर्थंकर प्रतिमा का आकार 80X40X18 सेंटीमीटर है। इस प्रतिमा का शीर्ष भाग तथा ऊपरी तोरण अनुपलब्ध है। इस प्रतिमा के साथ यक्ष-यक्षिणी/ आराधक-पूजक अंकित नहीं है। इस प्रतिमा खंड के रिक्त भाग तथा अधिष्ठान में सर्वत्र कमल पत्र निर्मित हैं। तीर्थंकर की ऐसी प्रतिमा छत्तीसगढ़ अंचल में अज्ञात है। अधिष्ठान पर धर्मचक्र निर्मित है। इस प्रतिमा का निर्माण काल लगभग 12वीं-13वीं सदी ईसवी अनुमानित है।

ग्राम रेड़े में एक प्राचीन वृत्ताकार गहरा सरोवर है। ग्रामवासी इसे असुर तालाब कहते हैं। गरमियों में भी इसमें पानी रहता है। असुर तालाब के एक ओर कृषि भूमि के रूप मे परिवर्तित मैदानी क्षेत्र के बीच उभरे सतह पर मृदभांड के टुकड़े बिखरे हुए हैं। ये ठीकरे 12वीं-13वीं सदी ईसवी के ज्ञात होते हैं। इसी स्थल पर पत्थर से निर्मित प्रणालिका के आकार लगभग ढेड़ से दो फुट लंबा प्रस्तर खंड है। ऐसी अनेक प्रणालिकाओं के अवशेष ग्रामवासियों के कथनानुसार मैदान के मेड़ में दबे हुए हैं।

साथ के गांव बसंतपुर ग्राम में परवर्ती काल का जगन्नाथ मंदिर व शिवमंदिर भी स्थित हैं। जशपुर अंचल में ग्राम रेड़े पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थल है। अब तक इस जिले में तीर्थंकर प्रतिमा अन्य स्थलों से जानकारी में नहीं है। संभवतः यह स्थल जैन धर्मावलंबियों द्वारा निवेशित तथा अंचल का व्यापारिक केंद्र रहा होगा।

मई 2017 में अपने अंबिकापुर प्रवास और जशपुर के तत्कालीन अधिकारियों से हुई चर्चा के अनुक्रम में जून 2017 को जशपुर प्रवास पर रहा था। इस बीच बलरामपुर जिले की सीमा के निकट जशपुर जिले में स्थित बगीचा विकासखंड के नन्हेसर स्थित देउरकोना प्राचीन मंदिर तक भी गया। इस मंदिर की जानकारी 1989-90 में डीपाडीह में खुदाई काम के दौरान मिली तब यहां आ चुका था। उस दौरान रानीझूला पहाड़, पहाड़ी कोरवा समुदाय, कुसमी सामरी पाट का उल्टा पानी और झारखंड के नेतरहाट, महुआडांड, टांगीनाथ तक भी हो आया था, ताकि डीपाडीह के प्राचीन संदर्भों को समझने में मदद हो।

जून 2017 में जशपुर और आसपास भ्रमण-अवलोकन के दौरान जिला प्रशासन के डिप्टी कलेक्टर, पुरातत्व शाखा के प्रभारी अधिकारी श्री एन.एस. भगत के अलावा, तहसीलदार, श्री शेखर मंडाई, डॉ. विजय रक्षित, श्री शशिकांत पांडेय, श्री विश्वबंधु शर्मा व स्थानीय ग्रामवासियों का सहयोग मिला। विभागीय सहयोगी श्री जी.एल. रायकवार तथा श्री प्रवीण तिर्की रहे। वनमंडलाधिकारी, श्री मनोज पाण्डेय तथा कलेक्टर, जशपुर डॉ. प्रियंका शुक्ला द्वारा उत्साहवर्धक रुचि ली गई। लोग अब भी पुराने अधिकारियों में मनोज श्रीवास्तव जी को याद करते हैं और नयों में नीलेश क्षीरसागर जी को। इसी क्रम में लिए गए नोट्स पढ़ते हुए याद आ रही कुछ बातें।

कुछ और यादें- 

मुख्यतः रायगढ़ और जशपुर के रहवासी सोनझरों का काम रेत से तेल निकालने सा असंभव नहीं तो नदी-नालों और उसके आसपास की रेतीली मिट्टी को धो-धो कर सोने के कण निकाल लेने वाला श्रमसाध्य जरूर है। इन्हें महानदी के किनारे खास कर मांद संगम चन्दरपुर और महानदी की सहायक ईब व अन्य सहायक जलधाराओं के किनारे अपने काम में तल्लीन देखा जा सकता है। बस्तर में भी इन्द्रावती नदी में बाढ़ का पानी उतरने के बाद झिलमिल सुनहरी रेत देख कर इनकी आंखों में चमक आ जाती है। इन्हें शहरी और कस्बाई सराफा इलाकों की नाली में भी अपने काम में जुटे देखा जा सकता है।

सोना झारने यानि धोने के लिए सोनझरा छिछला, अवतल अलग-अलग आकार का कठौता इस्तेमाल करते हैं। इनका पारंपरिक तरीका है कि जलधाराओं के आसपास की तीन कठौता मिट्टी ले कर स्वर्ण-कण मिलने की संभावना तलाश करते हैं, इस क्रम में सुनहरी-पट्टी मिलते ही सोना झारते, रास्ते में आने वाली मुश्किलों को नजरअंदाज करते, आगे बढ़ने लगते हैं। ऐसी मिट्टी को पानी से धोते-धोते मिट्टी घुल कर बहती जाती है और यह प्रक्रिया दुहराते हुए अंत में सोने के चमकीले कण अलग हो जाते हैं।

कोई तीस साल पहले हथगढ़ा, कुनकुरी में सोनझरों को काम करते पहली बार देखा था। हथगढ़ा की प्रसिद्धि कथित प्राचीन स्तूप और कांस्य प्रतिमा के लिए सुन चुका था। पता लगा कि सोने के सिक्के मिले हैं, जो पुलिस द्वारा जब्त किए जा कर, जशपुर में फौजदारी मामले में अदालत में सीलबंद पेश किए गए हैं। हमलोग, यानि मैं और रायकवार जी को मिलने स्थल निरीक्षण के लिए जाना था। रायगढ़ पहुंचकर कलेक्टर जे.पी राय जी से मिले। उनका निवास कार्यालय देर रात तक चलता था, हमें यह कहते हुए कि आराम से बात होगी, समय दिया गया रात 9 बजे का। दूसरे दिन सुबह हथगढ़ा जाना तय हुआ, हमारे साथ कलेक्टर साहब भी जाने वाले थे, कुछ और भी लोग।

अन्य प्राथमिकताओं के चलते कलेक्टर साहब का जाना टला, तो एक-एक कर सवारी कम होने लगी। हमारे साथ आखीर तक मोरचे पर बारेन दा यानि बारेंद्रनाथ बैनर्जी जी डंटे रहे। हमलोग समय-साध्य सफर तय कर कुनकुरी पहुंचे, फिर पूछताछ करते हथगढ़ा। निसंदेह यह एक प्राचीन स्थल है। यहीं सोनझरों से मुलाकात हुई फिर सोने के सिक्के मिले स्थान का मौका-मुआयना और उसकी दास्तान। बताया गया कि जिन्हें यह मिला था, उसके अलावा इसकी खबर किसी को नहीं थी। फिर पता कैसे चला? हुआ यह था कि सिक्के मिलने के बाद उस परिवार के लोग कुनकुरी गए और लाउड स्पीकर किराए पर ले कर आए। लगातार रोज लाउड स्पीकर पर गाने बजते थे। पीना-खाना भी बदस्तूर हो रहा था। गांव वालों ने पूछा, क्या हुआ है? कोई गमी-खुशी, छट्ठी-बरही? कुछ भी नहीं, बस मौज। बात गले नहीं उतर रही थी, कुनकुरी पुलिस तक पहुंच गई। पुलिस ने दबिश दी और पूछा कि यह रोज-रोज क्या चल रहा है। देर नहीं लगी और बात खुल गई कि सोने का हंडा मिला है।

इस सिलसिले के अगले चरण में दूसरी बार फिर जाना हुआ। अबकी बार जशपुर तक। निर्देश था, सिक्कों का परीक्षण कर उनकी प्राचीनता, पुरातात्विक महत्व निर्धारित करना है। रायगढ़, फिर छात्र जीवन के साथी रहे, तब वहां पदस्थ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एन.के.एस. ठाकुर जी मिल गए, उनके सहयोग से पत्थलगांव तब अगले दिन जशपुर पहुंचा। न्यायाधीश महोदय से मिला, उनके इतिहास-पुरातत्व ज्ञान से प्रभावित होता रहा, किंतु मेरा ध्यान सिक्कों के परीक्षण का काम पूरा करने की ओर था। मेरे दुबारा-तिबारा आग्रह पर न्यायाधीश महोदय ने सिक्कों के परीक्षण की मेरी बात पर ध्यान दिया और शायद खिन्न हो कर कहा कि अभी इसकी जरूरत नहीं है, आप जा सकते हैं। जब जरूरत होगी, आपको बुलवा लिया जाएगा। बस फिर तो ‘लौट के बुद्धू घर को आए‘।

दसेक साल पहले बगीचा में महादेव डांड के पास बोडापहरी पंचायत में छिरोपरा में छछान यानि शिकरा पाले हुए कुछ लोग हैं। वहां शिकरा पाले एक युवक से मुलाकात हुई। लोगों ने बताया कि यह शिकारी चिड़िया है, इसे छोटी चिड़िया का शिकार कराने के लिए पाला जाता है। युवक ने बताया कि ऐसा कुछ नहीं है, उसने इसे शौक से पाला है। मुझे उसकी बात में संदेह हुआ, क्योंकि बचपन में पाला हुआ छछान लिए बगेरी चिड़िया बेचने वालों से मैं औरंगाबाद, बिहार में मिला था। लेकिन उसकी बात पर विश्वास भी हो रहा था, क्योंकि ऐसा अजीब लगने वाला शौक मैंने और भी देखा है। सरगुजा, कलचा भदवाही कैंप के दौरान कौआ पाले व्यक्ति से मिला हूं, रोज मिलता था। वह हमारे कार्य स्थल और डेरे के बीच रास्ते में था। कागा, अपने आका की आवाज पहचानता था। उसके कागा-कागा पुकारने पर जवाब देता था।

आगे उस रास्ते से गुजरते हुए सन्ना रुका। वहां अगहन नवमी से पूर्णिमा तक का मेला पूरे शबाब पर था। पता लगा कि जतरा के सिलसिलेवार ठौर हैं, जिनमें गढ़वा, झारखंड से बलरामपुर जिले में प्रवेश होता है, पौष पूर्णिमा पर तातापानी में स्नान, पूजा के बाद नारियल फोड़ा जाता है और फिर उमको, दीवाली के आसपास चांदो, सामरी, कुसमी, भुलसी, डीपाडीह, दुर्गापुर, शंकरगढ़, बगीचा। साप्ताहिक बाजार के दिनों में इस दौरान जतरा का सालाना बड़ा मेला होता है। जशपुर पहुंच कर पूछताछ करने पर क्रम बताया गया- सन्ना, छिछली, कूटनी, डीपाडीह, शंकरगढ़, तातापानी, गोविंदपुर, मनोरा, जशपुर, दुलदुला, रायकेरा, केराडीह, नारायणपुर, गोरिया, रनपुर, कलिबा, सहीडांड, बगीचा, महादेवडांड, मरोल, कांसाबेल, जुमईकेला, दोकड़ा, बंदरचुंवा, कुनकुरी, कुंजारा, तपकरा, अंकिरा और पंडरीपानी।

आगे पूछताछ करने पर उस अंचल के साथियों ने बताया कि जतरा मेला की यात्रा से पूरे जिले के सभी अंचलों की भी परिक्रमा होती है। झारखंड के सीमावर्ती क्षेत्रों से मेले का दल जशपुर जिले में प्रवेश करता है। जतरा मेला की पहली यात्रा डुमरी क्षेत्र से होते हुए जिले के मनोरा, सन्ना होते हुए जशपुर पहुंचती है। वहीं दूसरी यात्रा सरगुजा के सीतापुर होते हुए बगीचा पहुंचती है। दोनों यात्राएं बगीचा में मिलती हैं। सबसे बड़ा मेला जशपुर का होता है। दोनों यात्राओं के द्वारा प्रमुख रूप से मनोरा, सन्ना, बगीचा, जशपुर, दुलदुला, कुनकुरी, तपकरा व पत्थलगांव में मेले का आयोजन किया जाता है। जतरा मेला का दल यहां के बाद झारखंड व उड़ीसा के सीमावर्ती धार्मिक स्थलों पर मेले का आयोजन करता है। यह अब मीनाबाजार नाम से जाना जाने लगा है। इसे प्रारंभ करने की तिथि माघ चतुर्थी होती थी।

कुनकुरी से आगे जशपुर की ओर बढ़ते हुए लोरो घाट के बाद जशपुर की ओर उंच घाट और कुनकुरी की ओर नीच घाट, जिसे हेंट घाट भी कहते हैं। यह हेंट शब्द, सूचक जैसा भी है। इसका सामान्य उच्चारण करने वाले का गैर होना, सादरी जबान के अभ्यस्त कान, आसानी से पकड़ लेते हैं। हेंट के सादरी उच्चारण में ‘हें‘ पर खिंचाव वाला जोर और ‘ट‘ ‘ठ‘ के करीब सुनाई पड़ता है। ठीक वैसे ही खल्खो या खेस के उच्चारण से कुड़ुख, अपने और गैर का फर्क आसानी से कर लेते हैं, जिसके ‘ख‘ में ‘क‘ की ध्वनि कम और ‘ह‘ पर हल्के झटके वाला जोर होता है। वे आपस में बात करते हुए आसानी से समझ लेते हैं कि अगला ‘सरना‘ है या नहीं।
विशिष्ट आकृतियां, देसदेखा पहाड़ी पर
(वस्तुतः दसदेखा, कहा जाता है कि इस पहाड़ी पर से
दस गांव या दस कोस दूर तक दिखाई पड़ता है,इसलिए यह नाम है।)
ऐसी आकृतियां दमेरा पहाड़ी पर भी बताई जाती हैं।
यह चित्र परिचितों ने उपलब्ध कराया है।


आगे कुछ और बातें फिर कभी।

Wednesday, November 24, 2021

समडील ताम्रपत्र

इस ताम्रपत्र की जानकारी समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, शोध-जर्नल तथा ‘उत्कीर्ण लेख‘ पुस्तक के परिवर्धित संस्करण, 2005 में प्रकाशित है।

जाजल्लदेव द्वितीय का समडील से प्राप्त ताम्रपत्र लेख कलचुरि संवत्: 913
- राहुल कुमार सिंह, बिलासपुर
तब कागज-पेन का अभ्यास था, अपने लिखे का,
टाइप से अधिक साफ और त्रुटिरहित का भरोसा होता था।

दो ताम्रपत्रों का यह सेट सन 1992 के जुलाई माह में जिला मुख्यालय बिलासपुर से 25 किलोमीटर दूर समडील नामक ग्राम (गनियारी के निकट) में स्थानीय कृषक श्री लखनलाल पटेल आत्मज श्री अमृतलाल पटेल को कृषि कार्य के दौरान प्राप्त हुआ था1 जिसे जिला पुरातत्त्व संग्रहालय, बिलासपुर के वरिष्ठ मार्गदर्शक श्री ए.एल. पैकरा ने 27 दिसम्बर 1994 को स्थल से संकलित किया2। ये ताम्रपत्र वर्तमान में जिला पुरातत्त्व संग्रहालय, बिलासपुर के संग्रह में सुरक्षित हैं, जिनका सम्पादन मूल ताम्रपत्रों के आधार पर प्रथमतः यहाँ किया जा रहा है3

उक्त दोनों ताम्रपत्रों का समानान्तर अधिकतम आकार 30.5X20.5 सेंटीमीटर तथा वजन कुल 3 किलोग्राम है। दोनों पत्रों को आपस में सम्बद्ध करने के लिए प्रथम पत्र के निचले एवं द्वितीय पत्र के ऊपरी हिस्से में छेद है, किन्तु ताम्रपत्रों के साथ राजमुद्रा-छल्ला प्राप्त नहीं हुआ है। दोनों पत्रों के अन्तःपृष्ठ उत्कीर्ण तथा वाह्य पृष्ठ सपाट हैं। प्रत्येक पत्र का किनारा, अक्षरों को घिसने से बचाने के लिए उठा हुआ है। ताम्रपत्र लेख संतोषजनक संरक्षित स्थिति में है। 

ताम्रपत्रलेख के प्रथम पत्र पर 18 पंक्तियाँ तथा द्वितीय पत्र पर 17 पंक्तियाँ, इस प्रकार कुल 35 पंक्तियाँ उत्कीर्ण हैं। लेख की लिपि नागरी तथा भाषा संस्कृत है। तत्कालीन अन्य कलचुरि लेखो4 की भांति इस लेख में भी ‘श‘ के स्थान पर ‘स‘ तथा ‘ब‘ के स्थान पर ‘व‘ जैसी भूलें हुई हैं। आरंभ व अंतिम भाग के अतिरिक्त पूरा लेख 22 श्लोकों में छन्दोबद्ध है। 

लेख के आरंभ में5 ब्रह्म का नमन है। प्रारंभिक 12 श्लोकों में, तत्कालीन अन्य कलचुरि लेखों की भाँति शिव स्तुति तथा रत्नपुर शाखा के कलचुरियों की वंशावली है। इसके पश्चात के 3 श्लोकों में लेख का उद्देश्य निहित है, जिसके अनुसार अत्रि कुल में उत्पन्न जास्त के पौत्र तथा राणि के पुत्र राजसिंह को सूर्यग्रहण के अवसर पर एवडी मंडल में स्थित खूडाघट नामक ग्राम, जाजल्लदेव (द्वितीय) द्वारा दान दिया गया। बाइसवें अंतिम श्लोक में लेख के रचयिता वास्तव्य वंश में उत्पन्न वत्सराज के पुत्र नयतत्त्ववेत्ता धर्मसिंह का नामोल्लेख है। अंत में तिथि, कलचुरि संवत् 913 के माघ मास का सूर्यग्रहण तथा लेख उत्कीर्ण करने वाले का नाम चंद्रक आया है।

पूर्व लेखों में6 रचयिता का नाम धर्मराज तथा जंडेर ग्राम का उल्लेख मिलता है। इस लेख में जंडेर ग्राम का उल्लेख नहीं है तथा लेख रचयिता का नाम धर्मसिंह आया है, उसे पूर्व लेखों के रचयिता से अभिन्न मानना चाहिए। इसी प्रकार इस लेख को उत्कीर्ण करने वाले का नाम चंद्रक को पूर्व लेखों7 के चंद्रक से अभिन्न माना जा सकता है। लेख में आये स्थान नामों में एवडी मंडल पूर्व ज्ञात है8 यह क्षेत्र बिलासपुर-मुंगेली तहसील का पूर्वाेत्तर हिस्सा होना चाहिए9। दान में दिए गए ग्राम खूडाघट नाम का समीकरण रतनपुर के पास स्थित बांध स्थल खुंटाघाट या ग्राम खुटाडीह से किया जा सकता है10

लेख का काल, कलचुरि संवत 913 (ईस्वी सन् 1161-62) विशेष महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके पूर्व अमोरा ताम्रपत्र11 से जाजल्लदेव द्वितीय की तिथि कलचुरि संवत 912 मानी गई थी, किन्तु बाद में ब्रह्मदेव के रत्नपुर शिलालेख12, कलचुरि संवत् 915 को जाजल्लदेव द्वितीय के पिता पृथ्वीदेव द्वितीय के राजत्वकाल का माना गया और मुख्यतः इसी आधार पर अमोदा ताम्रपत्र की तिथि कलचुरि संवत 919 मान ली गई13। पूर्व प्राप्त अभिलेखों से14 पृथ्वीदेव द्वितीय के राज्यकाल की अंतिम सुनिश्चित तिथि कलचुरि संवत 910 है। ब्रह्मदेव के रत्नपुर शिलालेख, कलचुरि संवत 915 का कुछ हिस्सा पूरी तरह घिसा हुआ है और इसके संपादन के अवसर पर भी मूल शिला के धैर्यपूर्वक परीक्षण से ही पूरे लेख का सामान्य अनुमान कर पाना संभव हो सका था15। इस लेख में पृथ्वीदेव (द्वितीय) का नामोल्लेख अवश्य है, इसीलिए अन्य प्रमाणों के अभाव में इसे, उसके काल का मान लिया गया होगा, किन्तु लेख के घिसे हिस्से में जाजल्लदेव द्वितीय के राजत्व काल होने का उल्लेख अवश्य रहा होगा।

इस प्रकार इस ताम्रपत्र लेख की प्राप्ति से कलचुरियों की रत्नपुर शाखा के इतिहास में जाजल्लदेव द्वितीय के राजत्वकाल की तिथि सुनिश्चित होती है, जिसके आधार पर अन्य उपरोल्लिखित अभिलेखों की तिथि व शासक-राजत्वकाल का निर्धारण सुगमतापूर्वक संशोधित हो जाता है।

टिप्पणियाँ
1. ग्राम के पूर्वी हिस्से में शिवसागर तालाब के किनारे आधुनिक मंदिर में कलचुरि कालीन शिवलिंग स्थापित व पूजित है तथा ग्राम से अन्य स्फुट पुरावशेष व ई. 3-4 सदी के ताँबे के चौकोर गज-देवी प्रकार के सिक्के भी प्राप्त हुए हैं, जो स्थल की प्राचीनता प्रमाणित करने में पर्याप्त हैं। 
2. संकलन में स्थानीय सरपंच श्री विष्णु जायसवाल एवं बिलासपुर के श्री रमेश प्रसाद जायसवाल का सहयोग प्राप्त हुआ था।
3. ताम्रपत्र संबंधी आरंभिक जानकारी स्थानीय समाचार पत्रों में तथा ‘कलचुरि राजवंश और उनका युग‘- 1998 में लक्ष्मीशंकर निगम के लेख ‘दक्षिण कोसल के कलचुरि‘ पृ.- 126 पर दी गई है।
4. कार्पस इन्सक्रिप्शनम इण्डिकेरम - 1955, खंड-IV , भाग-II के लेख।
5. यथोक्त - अन्य लेखों की भांति सिद्धि चिह्न नहीं है।
6. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 99 तथा प्राच्य प्रतिभा V (I) जनवरी ‘77 पृ. 105-111।
7. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 92 तथा 94।
8. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 89।
9. एवडी मंडल के ग्राम पंडरतलाई की पहचान, वर्तमान के मुंगेली अनुविभाग के ग्राम पांडातराई से होती है।
10. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 95 में पर्वत (तल) को बांधकर सरोवर निर्मित कराये जाने का उल्लेख है।
11. एपिग्राफिया इंडिका, भाग-XIX, पृष्ठ 209-214।
12. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 96।
13. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 99।
14. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 95।
15. का.इ.इ. IV (II) लेख क्र.- 96।
राइस पेपर पर बॉल पेन से
पांच प्रतियां बन जाती थीं, इस तरह।

• कलचुरियों की राजधानी रतनपुर के पास, खारंग नदी पर बांधा गया खारंग जलाशय, ‘खूंटाघाट बांध‘ नाम से जाना जाता है। बांध के बाद खारंग नदी, अपना नाम-पहचान खोई सी बिलासपुर की ओर बढ़ती है और लाल खदान के आगे अरपा नदी में मिल जाती है। दो धाराओं के इस संगम स्थल के गांव का नाम ही दुमुंहानी है। कहा जाता है इस जलाशय में कुछ गांव, डूब में आए और झाड़-झरोखे भी। पानी में डूबे पेड़ ठूंठ बन गए, खूंटों की तरह और नाम पड़ा खूंटाघाट। इससे लगता है कि यह नाम 'खूंटाघाट', बांध बनने के समय का, सिर्फ सौ साल पुराना है। जबकि इस ताम्रपत्र और अन्य अभिलेखों से यह स्पष्ट होता है कि रतनपुर में सात-आठ सौ साल पहले कोई बांध था, खूडाघट नामक गांव भी था और उसी की स्मृति-छाया, वर्तमान खूंटाघाट बांध और खूटाडीह ग्राम है।

हकीकत का अफसाना- कोई 30 साल पहले किसी दिन बिलासपुर, गोंड़पारा यानि राजेंद्रनगर वाले अपने दफ्तर में मेज पर के कागज-पुरजों की छंटाई करते हुए एक परची मिली, जिस पर कुछ लिखा हुआ था, जिज्ञासा हुई कि अजनबी सी यह किसकी लिखावट है। पूछने पर बताया गया कि कुछ दिन पहले एक किशोर आया था, उसने यह छोड़ा था, बताना भूल गए थे। मेरी पूछताछ का कारण था कि पुरजे पर की लिखावट, पुरानी नागरी लिपि की नकल है, साफ तौर पर पहचानी जा सकती थी। तुरंत हरकत जरूरी हो गया। कार्यालय के सहयोगियों ने याद कर बताया कि रमेश जायसवाल नाम था, सिंधी कालोनी में कहीं रहता था। उसकी खोज में निकले, ज्यादा मशक्कत नहीं हुई, रमेश मिल गए। बताया कि मामा के यहां समडील गए थे, तांबे के स्लेट पर लिखावट की जानकारी मिली, देखने गए और कुछ हिस्से की नकल बना ली थी, वही पुरजा छोड़ कर आए थे।

अगले ही दिन सुबह रमेश को साथ ले कर समडील जा कर गांव के देव-स्थलों, खेत-खार देखते लखन पटेल के घर पहुंचे। लखन ने ताम्रपत्र सहजता से दिखा दिया, फोटो और नाप-जोख भी करने दिया। बातें होने लगी। इस पर उसने बताया कि उसके कोई आल-औलाद नहीं थी। कुछ बरस पहले खेत जोतते यह मिला, उसे वह घर ले आया, पूजा-पाठ की जगह पर रख दिया। इसके बाद संतान प्राप्ति हुई, तब से इस ताम्रपत्र की पूजा-प्रतिष्ठा और बढ़ गई। ताम्रपत्र को संग्रहालय के लिए प्राप्त करना था, लेकिन लगा कि मामला संवेदनशील है, नियम-कानून के लिए बेसब्री करना ठीक नहीं होगा और करना भी हो तो, अभी वह अवसर नहीं है।

वापस बिलासपुर लौटकर इस ताम्रपत्र के मजमून पर मशक्कत शुरू हुई। कार्यालय के वरिष्ठ मार्गदर्शक श्री पैकरा साथ नहीं जा पाए थे, अफसोस करने लगे और जा कर स्थल और ताम्रपत्र देखने की इच्छा व्यक्त की। लोक-व्यवहार वाले कामों में श्री पैकरा की कार्य-कुशलता को मैंने अधिकतर अपने से बेहतर पाया है। मैंने उन्हें काम सौपा कि वहां जाएं तो स्वयं भी ग्राम और स्थल निरीक्षण का एक नोट बनाएं (उद्देश्य था कि पहले गांव और लोगों से मिलते-जुलते स्वयं वहां से आत्मीयता महसूस करें) और लौटने के पहले ताम्रपत्र देखने लखनलाल से मिलने जाएं। साथ ही यों मुश्किल है, लेकिन प्रयास करें (ऐसी चुनौती से उनका उत्साहवर्धन होता है) कि बिना किसी दबाव के ताम्रपत्र संग्रहालय के लिए प्राप्त हो जाए।

पैकरा जी तालाब, डीह, खेत-खार करते गांव में घूम-फिर कर लखनलाल के पास पहुंचे। लखनलाल ने ताम्रपत्र दिखाया और उसके साथ का किस्सा पूरे विस्तार से सुनाया। ताम्रपत्र मिले हैं तब से जमीन खरीद ली, लंबे समय बाद संतान हुआ। कुछ गांव वाले भी आ गए। उन्हें लगा कि इस ‘बीजक‘ में जरूर किसी खजाने का पता है, जिसके चक्कर में आया कोई फरेबी है। उत्तेजित गांव वालों को श्री पैकरा ने समझाइश और थोड़ी अमलदारी का रुतबा बताया। बातचीत होने लगी। पैकरा जी ने अपना पूरा नाम बताया अमृतलाल, संयोग कि लखनलाल के पिता का नाम भी अमृतलाल ही था। लखनलाल को फैसला करते देर न लगी। पुरखों का आशीर्वाद, वंश चलाने अब बाल-बच्चे, लोग-लइका तो आ ही गए हैं और पिता-पुरखा के सहिनांव पिता-तुल्य अमृतलाल इस ताम-सिलेट को लेने आ गए हैं। सहर्ष ताम्रपत्र पैकरा जी को सौंप दिया।

ताम्रपत्र, बिलासपुर संग्रहालय के संग्रह में है। रमेश जायसवाल, बिलासपुर निगम के पार्षद बने, जन-सेवा में लगे हैं। श्री पैकरा अब मुख्यालय रायपुर में उपसंचालक पद का दायित्व निर्वाह कर रहे हैं। समडील के तत्कालीन सरपंच विष्णु जायसवाल जी के पुत्र हेमंत जी से पता लगा, लखनलाल जी घर-परिवार सहित राजी-खुशी हैं। मैंने ताम्रपत्र पर तब शोध-पत्र लिखा और अब आपके लिए ‘पेशे-खिदमत‘ यह किस्सा कह रहा हूं।

Tuesday, November 23, 2021

हेराफेरी

समाचार पत्र ‘महाकोशल‘ रायपुर में 1 अप्रैल 1975 को मुखपृष्ठ पर प्रकाशित खबर-

पुरातन कालीन सोने के सिक्कों की हेराफेरी: नकली सिक्कों का प्रदर्शन

घासीदास संग्रहालय के भू.पू. क्यूरेटर महेश श्रीवास्तव को ४ वर्ष की कैद व जुर्माना


रायपुर, सोमवार (न० प्र०)। सोने के पुरातन कालीन सिक्कों की हेराफेरी करने व असली सिक्कों के स्थान पर नकली सिक्कों को म्यूजियम में रखने के आरोप में महंत घासीदास संग्रहालय के भूतपूर्व क्यूरेटर को धारा ४०९ व भ्रष्टाचार निरोध अधिनियम के तहत पृथक-पृथक ४ वर्ष व १ वर्ष की सजा दी गई है।

सतर्कता विभाग की रायपुर शाखा द्वारा इस सनसनीखेज मामले को जांच के बाद मामला न्यायालय में पेश किया गया या तथा शासन द्वारा नियुक्त विशेष सत्र न्यायाधीश श्री व्ही० डी० वाजपेयी ने इस मामले में घासीदास संग्रहालय के भूतपूर्व क्यूरेटर महेशचन्द श्रीवास्तव को दोषी फरार देते हुए धारा ४०९ के तहत ४ वर्ष की कैद व १ हजार रु० का ज़माना न भष्टाचार निरोध नियम के तहत १ वर्ष की कैद व एक हजार रु० के जुर्माने की सजा दी है। जुर्माना न पटाने की स्थिति में आरोपी को १ वर्ष की अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

इस प्रकरण में सतर्कता विभाग के निरीक्षक श्री खालिद द्वारा प्रस्तुत किए गए अभियोग पत्र के अनुसार वर्ष १९६० में राजिम के निकट पितई में राजा महेन्द्रदत्त के काल के ५वीं शताब्दी के ४६ सोने के सिक्के खुदाई के समय मिले थे। संग्रहालय के तत्कालीन संग्रहाध्यक्ष श्री बालचन्द जैन ने सिक्कों का परीक्षण भी किया था तथा इसे संग्रहालय को अवाप्ति पंजी में दर्ज किया गया। इसकी जानकारी जनरल आफ न्यू(मिस्)मेस्टिक सोसायटी आफ इन्डिया नामक पत्रिका में भी प्रकाशित की गई थी। श्री जैन के तबादले के बाद श्री बी० के० बाजपेयी व एच० के० कुदेशिया ने इन सिक्कों को चार्ज में लिया था। इनके स्थानांतर के बाद १४।६।६८ को महेशचन्द्र श्रीवास्तव ने इन सिक्कों का चार्ज लिया था।

१९६७ में यात्रा के दौरान नागपुर में श्री जैन को इन सिक्कों की गड़बड़ी की जानकारी मिलने पर उन्होंने इसकी सूचना पुरातत्व विभाग को दो थी बाद में विभाग के उप संचालक द्वारा १६-११-६८ को इस मामले की जांच की थी। जांच के दौरान पाया गया कि ज महेन्द्र दत्तया काल म ४६ सोने के सिक्कों में से ३ सिक्कों को बदल दिया गया था तथा उनके स्थान पर नकली सिक्के बनवाकर रख दिये गये था इसकी कीमत ३ हजार रु. बताई गई थी। इसके अतिरिक्त प्रसन्ना माप के काल का एक सोने का सिक्का गायब पाया गया था। इनके बाद प्रकरण को जांच हेतु सतकर्ता विभाग को सौंप दिया गया था जांच वधि में ही महेन्द्र श्रीवास्तव को बर्खास्त कर दिया गया प्रकरण को जांच के बाद जब मामला कोर्ट में पेश किया गया तो क्यूरेटर महोदय फरार हो गये थे सतर्कता जांच के दौरान निम्न तथ्य प्रकाश में आये थे।

०० गोविन्दचंद्र के काल का जो सिक्का रखा गया था वह नकली था तथा असली सिक्के का नकल कर उसे अन्य धातु से बनाया गया था।
०० कुशाणवंश का एक अन्य सिक्का भी दूसरी धातु से बना पाया गया।
०० महेन्द्र दत्ता काल का ही एक अन्य सिक्का सोने के स्थान पर अन्य धातु का नकली पाया गया। इस सिक्के के पीछे दबाव से आकृति उभारी गई थी। नकली सिक्का नागरी लिपि में था जबकि ५वीं सदी के काल में सिक्कों में ब्राम्ही लिपि र ती थी।
०० महेन्द्र दत्ता काल के एक अन्य सिक्के के स्थान पर प्रसन्न मात्र का टूटा हुआ सिक्का मिला था। इसी काल के एक अन्य असली सिक्के को बदलकर उसके स्थान पर नकली सिक्का मोटा पाया गया था जिसमें पीछे में लक्ष्मी जी की प्रतिमा अंकित थी।

यह सिक्का मोटा पाया गया जबकि असली सिक्का पतला था और उसमें वरूण की प्रतिमा थी। इसके अतिरिक्त जब क्यूरेटर को बर्खास्त किया गया तो उसने चार्ज देने में आना कानी की। सिक्कों के गायब होने के संबंध में जब उससे स्पष्टीकरण मांगा गया तो उसने कहा कि स्पष्टीकरण शासन को भेज दिया गया है। न्यायालय में बयान के समय श्रीवास्तव ने अपनी सफाई में कहा था कि उसके विरुद्ध षड़यंत्र रचा गया है वह नया आदमी होने के कारण सिक्कों की पहचान से अनभिज्ञ था।

प्रकरण में निसंदेह जिम्मेदारी श्री श्रीवास्तव की थी, किंतु सफाई में उनके द्वारा कही गई बात पर न्यायालय के बाहर अधिकतर को भरोसा था और षड़यंत्रकारी का नाम तब लोगों के जबान पर आम हुआ करता था।

Tuesday, November 16, 2021

छोटे डोंगर

छोटे डोंगर की पुरासम्पदा - नरेश कुमार पाठक

मध्यप्रदेश के दक्षिणी भाग में स्थित बस्तर जिला अपनी जनजातीय संस्कृति एवं वन्य सम्पदा के लिए प्रसिद्ध है। प्राचीन साहित्य एवं अभिलेखों में इस अंचल का उल्लेख दण्डकारण्य एवं महाकान्तार के रूप में मिलता है। पूर्व मध्यकाल में इसे चक्रकोट के नाम से सम्बोधित किया जाता था। यह क्षेत्र अपनी दीर्घ ऐतिहासिक परम्पराओं तथा पुरातात्विक सम्पदा के लिये भी विख्यात है। बस्तर की भौगोलिक स्थिति के कारण यहां की पुरातात्विक सामग्रियों का विस्तृत सर्वेक्षण पूर्व में नहीं हो सका है, अतः सर्वेक्षण एवं नवीनतम शोधों के माध्यम से प्राचीन पुरावशेषों की जानकारी लगातार प्रकाश में आ रही है। इसी क्रम में बस्तर जिले के नारायणपुर तहसील में स्थित छोटे डोंगर का उल्लेख किया जाना समुचित होगा। छोटे डोंगर रायपुर से लगभग 240 किलोमीटर दूर रायपुर-जगदलपुर-जैपुर राष्ट्रीय मार्ग क्रमांक 43 पर बस्तर जिले का कोण्डागांव नगर स्थित है एवं कोण्डागांव से लगभग 51 किलोमीटर दूर कोण्डागांव-अन्तागढ़ मार्ग पर बस्तर जिले का तहसील मुख्यालय नारायणपुर है। नारायणपुर से दक्षिण पश्चिम में लगभग 50 किलोमीटर दूर नारायणपुर-ओरछा मार्ग पर छोटे डोंगर नामक गांव अवस्थित है।

छोटे डोंगर की बस्ती के बाहर नई तराई तालाब के किनारे एक प्राचीन स्मारक भग्नावशेष अवशिष्ट है, इन अवशेषों का निरीक्षण सर्वप्रथम भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी श्री के.के. चक्रवर्ती (वर्तमान आयुक्त, पुरातत्व एवं संग्रहालय, मध्यप्रदेश) ने सन 1987-88 में रायपुर के पुरातत्ववेत्ता श्री वेदप्रकाश नगायच के साथ किया था। उस समय तालाब के पश्चिमी किनारे पर गोलाई लिये एक सामान्य आकार का उन्नत टीला स्थित था जिसमें ध्वस्त स्मारक के अवशेष दृष्टव्य हो रहे थे। इसके समीप तालाब की ओर ढलान वाले भाग में दो प्रतिमायें एवं एक शिलालेख भी पड़े हुए थे। इस प्राचीन स्थल में विलुप्त प्राचीन संस्कृति को प्रकाश में लाने के लिए आवश्यक था कि यहां स्थित टीलों की सफाई कार्य प्रारंभ किया जावे। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुये, मार्च 1988 में मध्यप्रदेश पुरातत्व एवं संग्रहालय के तत्वावधान में डा. जी.के. चन्द्रौल, उपसंचालक, पुरातत्व एवं संग्रहालय, रायपुर, रायपुर में पदस्थ पुरातत्ववेत्ता द्वय सर्वश्री वेदप्रकाश नगायच एवं श्री राजाराम सिंह एवं श्री नरेश कुमार पाठक, संग्रहाध्यक्ष, जिला पुरातत्व संग्रहालय, जगदलपुर द्वारा टीले की मलबा-सफाई कार्य सम्पन्न कराया गया।

इस प्राचीन टीले के सतह पर जमी हुई मिट्टी, खंडित स्थापत्य खंड एवं प्रस्तरों के टुकड़े धीरे-धीरे हटाये जाने के उपरान्त एक प्रस्तर निर्मित आयताकार चबूतरा निकल आया। कार्य के आगे बढ़ने के साथ ही पाषाण निर्मित द्वार चौखट अपने मूल स्थिति में प्राप्त हुआ। द्वार के वाम एवं दक्षिण दोनों पार्श्व की द्वार शाखाएं टूट कर गिर चुकी थीं, वे चबूतरा के ऊपर सफाई कार्य के दौरान प्राप्त हुई हैं। उन्हें यहीं रखा गया है। इससे यह स्पष्ट हो गया कि यह एक प्राचीन मंदिर का अवशेष है तथा यह मंदिर पूर्वाभिमुखी है।

यह प्राचीन मंदिर 9वीं 10वीं शती ईस्वी में निर्मित हुआ प्रतीत होता है। इसके सूक्ष्म परीक्षण से ज्ञात होता है कि यह मंदिर शिव मंदिर था। यद्यपि गर्भगृह में जलधारी व शिवलिंग प्राप्त नहीं हुए हैं, किन्तु यहां से पूर्व दिशा में लगभग 200 मीटर की दूरी पर स्थित रामसागर के किनारे आम पेड़ के नीचे दो गोल शिवलिंग युक्त जलधारी तथा एक प्राचीन चौकोर जलधारी रखी है, जो सम्भवतः इसी ध्वस्त मंदिर की मूल जलधारी प्रतीत होती है, जिस पर शिवलिंग प्रतिष्ठापित रहा होगा। इसके शिव मंदिर होने का एक दूसरा प्रमाण भी है, कि उमा-महेश्वर प्रतिमा मंदिर के चबूतरे पर पूर्वी दीवार के समीप 0.70 मीटर की ऊंचाई पर प्राप्त हुई है, तथा तीसरे इस टीले के पूर्व ढलान वाले भाग से गणेश प्रतिमा का निचला खण्ड प्राप्त हुआ है।

बस्तर क्षेत्र में तालाब एवं पोखरों (तराईयों अथवा तलाईयों) का बाहुल्य है, क्योंकि ये जल प्राप्ति के प्रधान स्रोत रहे हैं। अतः इस क्षेत्र में पूजा स्थल भी तालाब के किनारे अधिकता से मिलते हैं। छोटे डोंगर का यह मंदिर भी इसी परम्परा में निर्मित किया गया प्रतीत होता है।

वर्तमान में मलबा सफाई करने के पूर्व मंदिर के निर्माण के समय बनाये गये प्लेटफार्म (चबूतरे) का रूप स्पष्ट मिला है, जो 5.40 मीटर लम्बा 4.10 मीटर चौड़ा रहा। इसके उपर सामने 1.60 मीटर छोड़कर गर्भगृह बनाया गया। सम्भवतः इसका उपयोग खुले मण्डप के रूप में किया जाता रहा होगा। मंदिर के सम्मुख भाग को छोड़कर शेष तीनों ओर 75 सेंटीमीटर का स्थान चबूतरे में गर्भगृह के बाहर रिक्त है। अतः अनुमान किया जा सकता है कि यह प्रदक्षिणा पथ के रूप में प्रयुक्त होता रहा होगा।

मंदिर पूर्वाभिमुखी है तथा इसका बाह्य आकार 3 मीटर पूर्व-पश्चिम, 2.60 मीटर उत्तर-दक्षिण में है। गर्भगृह की अन्तमिती (अन्तःभित्ति?)का आकार 1.90 मीटर पूर्व-पश्चिम, 1.50 मीटर उत्तर-दक्षिण है। इसका फर्स छोटे पत्थरों के टुकड़ों को चूने के साथ मिला के कूटकर बनायी गई है, जिसपर शिवलिंग की स्थापना की गई होगी। वर्तमान में जलधारी व शिवलिंग प्राप्त होने से उसकी सही स्थिति स्पष्ट नहीं की जा सकती, गर्भगृह की उत्तरी दीवार का पूर्व उत्तरी कोने के पत्थर अपने मूल स्थान पर खड़े मिले हैं, जिनकी ऊंचाई जगती सहित 1.70 मीटर है। इसके पास ही एक दूसरा पाषाण खंड मिला है जो कि संभवतः इसी दीवार का हिस्सा रहा होगा जो कि 1.45X.60X.18 मीटर का है। गर्भगृह के प्रवेश द्वार की चौड़ाई 50 सेंटीमीटर है।

मूर्तियां
छोटे डोंगर के उल्लिलित मंदिर एवं निकट स्थित गढ़पारा के आसपास महत्वपूर्ण मूर्तियां एवं कलावशेष बिखरे पड़े हैं, जिनका विवरण निम्नानुसार है-

शिव: यह मूलतः एक बलुआ पत्थर का स्थापत्य खण्ड है, जिसे कालान्तर में शिव की प्रतिमा के रूप में परिवर्तित किया गया है। इस प्रतिमा में (100X38X16 सेंटीमीटर) शिव को द्विभुजी प्रदर्शित किया गया है। शिव को जटा मुकुट, कुण्डल, सर्पाहार आदि अलंकरणों से युक्त प्रदर्शित किया है।

उमा-महेश्वर: गढ़पारा से प्राप्त कृष्ण पाषाण में निर्मित इस प्रतिमा (60X18 सेंटीमीटर) उमा-महेश्वर का है जिसमें बैठे हुये महेश्वर का दायां पैर भग्न है। बायीं जंघा पर उमा आलिंगन मुद्रा में बैठी हुई है। शिव की भुजाओं में दक्षिणाधः (दक्षिणात्य) क्रम से मातुलिंग, त्रिशूल, सर्प धारण किए हुए एवं उमा के बायें उरोज का स्पर्श किये हैं। देव जटा-मुकुट, चक्र कुण्डल, ग्रैवेयक एकावलीहार, बलय (वलय?), मेखला एवं नूपुर धारण किये हैं। उमा की भुजा दक्षिणात्य क्रम से शिव के दायें स्कंद पर स्थित है। शेष भुजाओं में अंजन लगाने की सलीका (शलाका?), दर्पण एवं अर्ध चन्द्राकार कंधा से मुक्त है। देवी सुन्दर मुकुट, अलंकृत केश, चक्रकुण्डल, एकावली लोकिट युक्त ग्रैवेयक, उरोज तक फैली एक अन्य हारावली, बलय, मेखला, नूपुर एवं उत्तरीय धारण किये हैं। दायें ओर का पादपीठ भग्न है, बायें पादपीठ पर एक खण्डित पूजक आराधनारत अंकित है।

उमा-महेश्वर: गढ़पारा से ही प्राप्त यह प्रतिमा (68X50 सेंटीमीटर) कृष्ण पाषाण पर निर्मित है। इसमें सव्य(?)ललितासन महेश्वर की बायी जंघा पर उमा आलिंगन मुद्रा में प्रदर्शित है। शिव की भुजाएं दक्षिणाधः क्रम से मातुलिंग, सर्प का फणयुक्त त्रिशूल, सर्प एवं उमा के बायें उरोज को स्पर्श करते हुये प्रदर्शित है। शिव जटा मुकुट, चक्र कुण्डल, लटकन (ताबीज) युक्त एकावली, ग्रैवेयक, दोवली अन्य हार, बलय, मेखला, नूपुर एवं उत्तरीय धारण किये हैं। उमा की भुजाओं में दक्षिणाधः क्रम से शिव के दाये स्कंद पर अंजन लगाने की सलीका, दर्पण एवं अर्ध चन्द्राकार वस्तु सम्भवतः कंधा लिये हैं। पार्वती सुन्दर मुकुट से अलंकृत केश, चक्र कुण्डल, लोकिट युक्त ग्रैवेयक उरोज तक फैली दोवली हार, सोलह चूडियों युक्त बलय, मेखला, नूपुर, उत्तरीय एवं अधोवस्त्र धारण किये हैं। नितान में दोनों ओर मालाधारी विद्याधर पादपीठ पर शिव के बीच उनका वाहन नन्दी एवं पार्वती के नीचे उनके वाहन सिंह का अंकन है।

उमा-महेश्वर: यह प्रतिमा (40X31X15 सेंटीमीटर) मंदिर के मलबा-सफाई में प्राप्त हुई थी वर्तमान में जिला पुरातत्व संग्रहालय, जगदलपुर (अवाप्ति पंजी कमांकः 29) में संग्रहित है। हरे रंग के पत्थर पर निर्मित प्रतिमा काफी खण्डित अवस्था में हैं। सव्य ललितासन में बैठे हुये शिव की बायी जंघा पर उमा आलिंगन मुद्रा में बैठी हुई है। महेश्वर का दायां पैर, दायी भुजायें व सिर टूटा हुआ है। बायीं उपरी भुजा में सम्भवतः सर्प एवं बायीं नीचे भुजा में सम्भवतः उमा के बायें कंधे पर है। धर, यज्ञोपवीत व मेखला से सुशोभित है। उमा की दायी भुजा शिव के दायें स्कंद पर बायी भुजा अपने बायें पैर की जंघा पर रखे हुये है। देवी का मुख टूटा है। यह केश, हार, मेखला व नूपुर से अलंकृत है। पार्श्व में दायीं ओर खट्वांग पुरुष बायीं ओर चंवरधारिणी खड़ी है। शिव और उमा के नीचे उनके वाहन नन्दी एवं सिंह क्रमशः अंकित है। सामने चार अस्पष्ट प्रतिमा बैठी हुई है। वितान में तीन लघु प्रतिमा सम्भवतः त्रिदेव की है। दोनों ओर मालाधारी विद्याधर और उनके नीचे दोनों पार्श्व में एक-एक पूजक अंजली हस्त मुद्रा में बैठे हुये शिल्पांकित है। प्रतिमा को शिल्पी ने पूर्णरूप न देकर अर्धगढ़ित छोड़ दिया है।

गणेश: गढ़पारा से प्राप्त कृष्ण पाषाण पर निर्मित (150X32 सेंटीमीटर) चतुर्भुजी गणेश सव्य ललितासन में बैठे हुये अंकित है। गणेश की भुजाओं में दक्षिणाधः क्रम से दन्त, परशु, पुष्प एवं मोदक लिये हैं। गणपति मुकुट, पुष्प एवं मोदक लिये हैं। गणपति मुकुट, सूपकर्ण, दन्त, ग्रैवेयक, यज्ञोपवीत, बलय व नूपुर धारण किये हुये है। सूढ बायी ओर को मुड़ी हुई मोदक पात्र को स्पर्श कर रही है। पादपीठ पर नीचे गणपति के वाहन मूषक का अंकन है। यह प्रतिमा अपराजितपृच्छा के विवरण से काफी साम्यता लिये हैं, जिसके अनुसार गणेश चार भुजाओं में से दायी भुजाओं में कमल कलिका एवं मोदक पात्र होना चाहिये।

गणेश: गढ़पारा से ही प्राप्त चतुर्भुजी आसनस्थ गणेश सव्य ललितासन में बैठे हुये हैं। दायी नीचे की भुजाओं में दन्त लिये हैं। शेष तीन भुजायें भग्न है। देव यहां मुकुट, सूपकर्ण, हार केयूर एवं नूपुर धारण किये दृष्टव्य है। सूंड टूट चुकी है। प्रतिमा भग्न अवस्था में है। 50X32 सेंटीमीटर आकार की यह प्रतिमा कृष्ण पाषाण पर निर्मित है।

नृत्य गणेश: छोटे डोंगर से प्राप्त कृष्ण पाषाण की नृत्य गणेश की यह प्रतिमा दो खंडों में प्राप्त हुई है (110X50X25 सेंटीमीटर) प्रतिमा का उपरी भाग भग्न है, जिसे छोटे डोंगर के गढ़पारा में रखा गया है। नीचे का भाग मंदिर के टीले के निकट से प्राप्त जिला पुरातत्व संग्रहालय, जगदलपुर (अवाप्ति पंजी क्रमांकः 30) में संग्रहित है। द्विभंग मुद्रा में अंकित चतुर्भुजी गणेश की बायी ऊपरी भुजा में अक्षमाला नीचे की भुजा में कमल कलिका है। बायीं दोनों भुजायें भग्न है। देव करण्ड मुकुट, रूपकर्ण, ग्रैवेयक, सर्प यज्ञोपवीत, केयूर, बलय, मेखला एवं पैजनी धारण किये हैं। पार्श्व में दायी ओर एक पूजक अंजली मुद्रा में बैठा हुआ है। बांयी ओर उनका वाहन मूषक का आकर्षण मुद्रा में अंकन है। पादपीठ पर देवनागरी लिपि में लेख उत्कीर्ण है, जिसे डा. विवेकदत्त झा ने ‘श्री गणराज प्रतिमा प्रतिष्ठा‘ पढ़ा है। तथा इसका काल 11 वीं शताब्दी ईस्वी निर्धारित किया है। वस्तुतः लेख का पाठ ‘श्री उग्रवराहस्य प्रतिष्ठाः।।‘ लिपि के आधार पर इसे 9 वीं शताब्दी ईस्वी का माना जाना समुचित प्रतीत होता है।

कार्तिकेय: गढ़पारा में पीपल के वृक्ष के नीचे 51X25 सेंटीमीटर कृष्ण पाषाण में निर्मित कार्तिकेय की अत्यन्त कलात्मक प्रतिमा अवस्थित है। यह प्रतिमा क्षरित स्थिति में है। देवता की दोनों भुजाएं तथा मुख मण्डल खण्डित है। द्विभंग मुद्रा में खड़े कार्तिकेय मुकुट, कुण्डल, ग्रैवेयक, केयूर कटि मेखला और धोती से सुसज्जित है। उनके वाहन मयूर के ले हुये पंखों का मनोहारी अंकन देवता के पीछे किया गया है।

महिषमर्दिनी: गढ़पारा से अलीढ़ मुद्रा में अंकित देवी महिषमर्दिनी का नीचे का भाग टूटा है। अष्टभुजी देवी की सभी भुजाएं टूटी है। भगवती, मुकुट, सुन्दर प्रभामण्डल, कर्ण कुण्डल, हार, ग्रैवेयक, केयूर, बलय, कटि मेखला बनमाला साड़ी से सुशोभित है। देवी महिषासुर का मर्दन करने की मुद्रा में प्रदर्शित है। भावांकन की दृष्टि से प्रतिमा को वीर रस की ओजस्वी अभिव्यक्ति माना जा सकता है। कृष्ण पाषाण पर निर्मित प्रतिमा आकार 28X21सेंटीमीटर है।
(इसके अतिरिक्त लेख में 5 सती स्तंभ और 3 योद्धा प्रतिमाओं का आकार सहित उल्लेख है।)

अभिलेख: छोटे डोंगर के शिव मंदिर के टीले से एक शिलालेख और पूर्व में वर्णित प्रतिमा पादपीठ लेख प्राप्त हुए हैं। शिलालेख वर्तमान में जिला पुरातत्व संग्रहालय, जगदलपुर में संरक्षित है। यह खण्डित शिलालेख कृष्ण पाषाण पर 69X48X21 सेंटीमीटर आकार का है। इसमें प्रस्तर के दोनों ओर लेख अंकित है। अग्रभाग में कुल 6 पंक्तियां हैं तथा पृष्ठ भाग में 9 पंक्तियां हैं। डा. विवेकदत्त झा के मतानुसार इसमें ‘वंखकादित्य‘ नामक राजा का उल्लेख है। जो राजमल्ल का उत्तराधिकारी था। अभिलेख में पृष्ठ भाग में ‘परद्वार विषय‘ के संबंध में जानकारी है। डा. झा इस लेख को 9 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध का मानते हैं। प्रस्तुत अभिलेख के वाचन से स्पष्ट होता है कि इसमें राजा का नाम का अंश वस्तुतः ‘श्री कदितमि देनुज‘ का उल्लेख है। इसी प्रकार पृष्ठ भाग में परद्वार विषय के ’परद्वार विषय‘ अधिक शुद्ध पाठ है। श्री जी.एल. रायकवार के अनुसार सम्भावित तद्समय हरद्वार विषय होगा। यह संभवतः विषय वर्तमान में अबूझमाड़ का प्राचीन नाम रहा होगा। इस प्रकार यह अभिलेख बस्तर के इतिहास पर नवीन प्रकाश डालता है।

छोटे डोंगर के काल निर्धारण में कलावशेषों तथा अभिलेखीय साक्ष्यों के आधार पर करने का प्रयास किया गया है। जगदलपुर संग्रहालय में संरक्षित अभिलेख (कमांकः -) तथा प्रतिमा पादपीठ लेख (क्रमांकः 30) संग्रहित है। प्रतिमा पादपीठ पर अंकित लेख 9 वीं क्रमांक शताब्दी ई. का है। अतः प्रतिमा का काल भी यही निर्धारित किया जा सकता है। अन्य प्रतिमायें भी इसके समकालीन प्रतीत होती है। सती स्तम्भ एवं प्रतिमाएं 14-15 वीं शताब्दी की प्रतीत होती है। एक पाषाण खण्ड को 18 वीं शताब्दी में शिव प्रतिमा के रूप में परिवर्तित किया गया है। अतः यह निर्विवाद रूप से कहा जा सकता है कि छोटे डोंगर में 9 वीं शताब्दी से लेकर 18 वीं शताब्दी तक की कला परम्परा विद्यमान रही है।

श्री पाठक ने प्रकाशन हेतु यह लेख डा. ए.एल. श्रीवास्तव को अगस्त 1995 में प्रेषित किया था, जिसके प्रकाशित होने की जानकारी मुझे नहीं है। लेख में टाइपिंग की कुछ भूलें हैं, जहां स्पष्ट हो सका वह संशोधित करते हुए शेष मजमून यथावत रखा गया है। लेख के साथ पाद टिप्पणियां भी हैं, जिसमें श्री पाठक ने अपने गुरुवर डा. लक्ष्मीशंकर निगम के मार्गदर्शन एवं सुझाव हेतु आभार व्यक्त किया है। साथ ही ‘श्री उग्रवराहस्य प्रतिष्ठाः‘ वाले लेख पाठ के लिए मेरे नाम का, मेरी तत्कालीन पदस्थापना सहित (श्री राहुल कुमार सिंह, संग्रहाध्यक्ष, बिलासपुर) आभार उल्लेख किया है।

Sunday, November 14, 2021

हाथी

छत्तीसगढ़ के हाथियों का पहला और रोचक उल्लेख आठवीं सदी ईस्वी के उद्योतनसूरिकृत ग्रंथ ‘कुवलयमाला‘ में आया है। मधुरान्तक देव का राजपुर, बस्तर से प्राप्त ग्यारहवीं सदी ईस्वी के ताम्रपत्र में अनूठा उल्लेख है कि ‘आकाश (वर्षाजल) से उत्पत्ति वाले, भूगर्भ में स्थित खनिज, और जंगली हाथी भी दान में दे दिए गए हैं। प्रसंगवश, वाल्मीकि रामायण, अयोध्या कांड के सौवें सर्ग के पचासवें श्लोक में राम भरत से प्रश्न करते हुए आश्वस्त होना चाहते हैं कि हाथी उत्पन्न होने वाले जंगल सुरक्षित हैं? संभव है, इसमें दक्षिण कोसल सम्मिलित हो।

आइने अकबरी में हाथियों के संदर्भ में उल्लिखित बरार के विभिन्न स्थान नाम, छत्तीसगढ़ से संबंधित हो सकते हैं, किंतु उनकी सुनिश्चित पहचान निर्धारित नहीं हो सकी है, तथापि बस्तर और रतनपुर का स्पष्ट उल्लेख है। मुगल काल में कलचुरियों द्वारा और देशी रियासतों के दौर में राजाओं द्वारा छत्तीसगढ़ के हाथी उपहार में दिए जाने की जानकारी मिलती है। 15 वीं सदी के अंतिम दौर में रतनपुर के कलचुरि शासक वाहरेन्द्र के 1000 अश्व के साथ 60 हाथियों का अभिलेखीय उल्लेख मिलता है। 1939 के ऐतिहासिक त्रिपुरी (जबलपुर) कांग्रेस अधिवेशन में शोभायात्रा के लिए 25 हाथी महाराजा सरगुजा ने अपने खर्च पर भेजे थे।

सुश्री डॉ. कुन्तल गोयल ने मध्यप्रदेश सन्देश में ‘इतिहास के पृष्ठों को समेटे सरगुजा की वनश्री‘ शीर्षक से प्रकाशित लेख में बताया है- ‘स्वाधीनता संग्राम के अंतिम दिनों में महाराजा रामानुजशरण सिंह देव ने अपनी सेना से 100 हाथी महात्मा गांधी के आयोजन को सफल बनाने के लिए रांची भिजवाए थे। महाराजा द्वारा यहां के हाथी पन्ना, छतरपुर, ग्वालियर, झांसी, आदि बुन्देलखण्ड के महाराजाओं को भेंट स्वरूप भी दिये जाते थे।

1990-91 में अपने मुझे डीपाडीह, सरगुजा प्रवास के दौरान सुनने में आया कि कुसमी के रास्ते पर हाथियों का पूरा झुंड है, छोटा नागपुर में कहीं, शायद बेतला नेशनल पार्क से भटक कर आ गए हैं। ग्रीन आस्कर विजेता ‘द लास्ट माइग्रेशन‘ फिल्म वाले माइक पांडेय रायपुर आए, तब उनसे मुलाकात में बातें हुई थीं। पार्वती बरुआ के नाम और काम की खबरें मिलती रही हैं। अंबिकापुर के अमलेन्दु मिश्र, प्रभात दुबे का नाम भी हाथियों के प्रसंग में आता है। पता लगा था कि जशपुर-सरगुजा में अब भी, खासकर तपकरा के लोग हैं, जिनका हाथियों से पुश्तैनी रिश्ता है, जो हाथी को रास्ता दिखा देते हैं, बिना झिझक खदेड़ सकते हैं।

बिलासपुर- जगदलपुर वाले वकील साहब शरदचंद्र वर्मा जी से जब भी मुलाकात होती, बातचीत का मुख्य विषय हाथी होते। वे कैप्टन जे फॉरसिथ की पुस्तक ‘द हाइलैंड्स आफ सेन्ट्रल इंडिया‘ का जिक्र करते, जिसमें छत्तीसगढ़ के हाथियों से जुड़े तथ्य और ढेरों रोचक जानकारियां हैं। यहां प्रस्तुत उनका लेख अमृत संदेश, रायपुर में रविवार 25 जनवरी 1987 को छपा था। जैसाकि लेख में बताया गया है, यह मुख्यतः फॉरसिथ की पुस्तक के अंश की हिंदी में प्रस्तुति है। बाद में इससे अलग फॉरसिथ की पूरी पुस्तक का हिंदी अनुवाद दिनेश मालवीय द्वारा किया गया, जो वन्या प्रकाशन की ओर से राजकमल प्रकाशन द्वारा 2008 में ‘मध्यभारत के पहाड़ी इलाके‘ शीर्षक से प्रकाशित हुआ है।

इस भूमिका के साथ शरदचंद्र वर्मा का लेख-

मध्यप्रदेश के अंतिम हाथी बिलासपुर में

मध्यप्रदेश के बिलासपुर जिले ये ऊंचे घने पहाडी वनों में इस सदी के तीसरे दशक तक हाथी वास करते थे। ए.ए. डनबर ब्रन्डर १९२३ में ... अपनी पुस्तक वाइल्ड एनिमल्स आफ सेन्ट्रल इंडिया‘ में लिखा कि बिलासपुर जिले के उत्तर पूर्व में स्थित जमींदारियों के जंगलों में अभी भी कुछ हाथी हैं। यह मध्यप्रांत का अकेला भाग है, जहां पर मैंने जंगली हाथियों को देखा है और मेरा मत है कि यह एकमात्र भाग है जहां पर ये अभी भी हैं। वर्षा के दिनों में ये हाथी कभी-कभी पश्चिम की ओर मंडला जिले तक निकल जाते हैं।

बिलासपुर के वृद्ध लोग बतलाते हैं कि उन हाथियों को सरगुजा के राजा पकड़ कर ले गये। सरगुजा राज में जंगली हाथियों को पकड़ने की पुरानी परम्परा रही है। यहां के मदनेश्वर शरण सिंह देव ने हाल की एक भेंट में बतलाया था कि उनके यहां १९३० में, जिस वर्ष उनका जन्म हुआ आखिरी बार हाथी पकड़ा गया था। अंबिकापुर के वरिष्ठ अधिवक्ता समर बहादुर सिंह ने भी बतलाया कि बिलासपुर जिले के मातन (मातंग का अपभ्रंश) के जंगल में हांककर लाया गया विशाल एक दंता हाथी १९३० में सरगुजा राज के द्वारा मैनपाट के पास दरीमा जंगल में पकड़ा गया था। इस प्रकार उस वन अंचल में हाथी मिलने और उनको पकड़ने की एक परम्परा ही समाप्त हो गई। उपलब्ध साहित्य और जनसम्पर्क के माध्यम से उस समाप्त हो चुकी परम्परा को समझने के प्रयास में केप्टेन जे. फारसाइथ की ‘हाई लेंड्स आफ सेन्ट्रल इंडिया‘ से संबंधित अंश का सारः

आज से सवा सौ साल पहले १८६० में फारसाइथ अपने एक हाथी के साथ संबलपुर से बिलासपुर २८ अप्रेल को पहुंचे। उस समय अमरकंटक (उस समय पेंड्रा जमींदारी का एक भाग था) के उत्तर और पूर्व के पहाड़ी जंगलों में हाथियों के बड़े-बड़े दल थे। वे हाथी छत्तीसगढ़ मैदान के लगे हुए भागों में फसल पकते समय उतर वहां की खड़ी फसल को बर्बाद करते जिसके कारण कृषि के प्रयासों में बाधा उत्पन्न होती थी। फारसाइथ यात्रा का एक उद्देश्य यह भी था कि उन हाथियों के प्राकृतिक वास में जाकर उनकी संख्या का अनुमान लगा उनके नाश का उपाय सुझाना। चूंकि वह विस्तृत, विशाल साल वन क्षेत्र बियावान, निर्जन प्राय था वहां भूमिया लोग की दूर दूर बिखरी, बिरली बसी बस्तियां थी जहां पर किसी प्रकार का रसद सामान मिलने की आशा नहीं थी, इसलिये उसका प्रबंध बिलासपुर में ही करना पड़ा। उस समय के छोटे से बिलासपुर में जितना चाहो अनाज मिलता था और वह भी बहुत सस्ता, एक शिलिंग में लगभग सौ पौंड। भरपूर मात्रा में गेहूं, चावल और चना खरीद वहां उपलब्ध बंजारा लोग के बैलों में लदवाकर ३ मई को छत्तीसगढ़ की प्राचीन राजधानी रतनपुर की ओर रवाना हुए। दुर्भाग्यवश यहां पहुंचते ही फारसाइथ छोटी माता के प्रकोप से बीमार पड़ गये। दूसरे दिन यद्यपि वह बीमार थे, फिर भी उसी हालत में अगले पड़ाव की ओर बढ़े। अगले दिन तबियत अधिक खराब होने के कारण उनको छह मील दूर आगे की ओर (लाफा) ले जाया गया। उस हालत में वह दृढ़ निश्चय थे कि जब तक हाथी को देखने की उनकी इच्छा पूरी होने की थोड़ी भी आशा है, तब तक वह वापस नहीं लौटेंगे। आगे लगभग सात मील दूर तक शंकवाकार पहाड़ी के शीर्ष पर मुकुट के समान एक पुराना किला लाफागढ़ स्थित है। उसकी ऊंचाई समुद्र सतह से लगभग ३००० फुट है। वहां ऊपर पानी और छाया के साथ साथ ठंडक भी थी, इसलिये उनको वहां ले जाने का निश्चय किया गया। अगली सुबह गढ़ के नीचे, बीच पहाड़ में बसे एक गांव में ले जाया गया। उस गांव तक जाने से लिये पहाड़ में एक संकरा सा रास्ता बना था। उस स्थान की समुद्र सतह से ऊंचाई उच्च दाब मापी यंत्री में २४५० फीट थी। वहां एक विशाल बरगद पेड़ की छाया में फारसाइथ के लिये एक बड़ी झोपड़ी बनाई गई थी। बातचीत में वहां भूमिया लोग ने बताया कि जंगली हाथी, सचमुच में उनके देश के राजा और राक्षस दोनों ही है। जब जिधर मन में आता है, उधर निकल पड़ते है और डाही धान की फसल को तहस नहस कर देते हैं। जैसा कि स्वाभाविक है, प्रकृति की अनियंत्रित आक्रमक शक्तियों को इन जन-जातियों के द्वारा देवी देवता का रूप दे उनको पूजा, भेंट से प्रसन्न करने का प्रयास किया जाता है।

दूसरे दिन सुबह उनको पहाड़ के ऊपर ले जाया गया। यहां तक पहुंचने का पगडंडी रास्ता खड़ा और आड़ा तिरछा लगभग ७३० फुट की ऊंचाई लिये था। एक छोटे तालाब के किनारे छायादार पेड़ के नीचे तम्बू गाड़ा गया था। पहाड़ का सबसे ऊंचा भाग तम्बू के ऊपरी ओर पर था, उसकी ऊंचाई समुद्र सतह से ३४१० फुट थी। यहां आये लाफा के ठाकुर ने जंगली हाथियों के बारे में काफी कुछ बतलाया। वे हाथी उसकी और पास की मातन और उपरोड़ा जमीदारियों के जंगलों में स्वछन्द विचरण करते थे। ठाकुर को केवल एक घटना मालूम थी जिसमें कोई जंगली हाथी किसी भूमिया के द्वारा मारा गया हो। वह हाथी बूढ़ा नर था। उसका एक दांत टूट गया था। पेड़ पर रखवाली के लिये बैठे एक भूमिया ने हाथी की सूंड़ में एक बिसर (विषैला बाण) उस समय मारा जब हाथी उसके धान के खेत में आकर फसल का नुकसान कर रहा था। घायल हाथी कई दिनों तक आसपास के जंगल में भटकता रहा। उस बीच वह दुबला और कमजोर हो गया था। एक दिन, हाथी पानी के एक स्रोत में प्यास बुझाने और अपनी देह पर पानी डालने के लिये पहुंचा। पर वहां एक बार जो बैठा तो दुबारा उठ नहीं सका। उसकी खबर मिलते ही पड़ोस के एक ठाकुर ने वहां पहुंचकर अपनी भरमार बंदूक से उस पर अंधाधुंध गोलियां चलाई। हाथी के मरने के बाद उसकी देह से ढेर सारी गोलियां निकाली गई थीं।

जहां पर फारसाइथ का डेरा लगा था, उसके दक्षिण दिशा में छत्तीसगढ़ का खुला मैदान जहां से होकर वह लाफागढ़ पहुंचे थे और उत्तर दिशा में हाथी देश का महाविशाल हरा वन क्षेत्र था जहां पर बीच-बीच में अलग से उभरी दिखती पहाड़ियां थी। इस भाग में गढ़ के तल से आरंभ होकर एक लम्बी घाटी है जिसमें बसाहट के लिये जंगल साफ किया गया भाग बीच बीच में स्पष्ट दिखता था। १५ मई तक लाफागढ़ में विश्राम करने के बाद कुछ चलने फिरने लायक होते ही एक हाथी पर सवार हो मातन की ओर पहाड़ उतर कर बढ़े। पर यहां पहुंचते ही फिर बीमार हो गये। गांव के पास के एक स्रोत में कई हथनियां पानी पीने के लिये रोज आती थीं। वह स्थान एक मील से भी कम दूरी पर था। उस समय नर हाथी को छोड़कर किसी हथनी या अन्य को मारने पर सरकार द्वारा प्रतिबंध था क्योंकि उनको खेदकर जीवित पकड़ने का विचार था। पर वहां पर एक पुराना बदमाश हाथी था जिसने कई लोगों को पकड़कर मार डाला था। इसलिये कुछ भूमिया लोगों को उसका पता लगाने के लिये भेजा गया।

दूसरे दिन रात में गर्मी से राहत पाने के लिये फारसाइथ अपने तम्बू के बाहर सो रहे थे कि कोलाहल से उनकी नींद टूट गई। कुछ देर बाद उनकी समझ में आया कि पास की पहाड़ी की ढाल के जंगल में हाथियों के एक दल की चीख चिल्लाहट से वह कोलाहल हो रहा था। हाथी दल सारी रात सूर्याेदय से कुछ पहले तक वहां बांस को तोड़ने-खाने में लगा रहा। बीच बीच में चीखना चिल्लाना भी चलता रहा। उस सबसे फारसाइथ के पालतू हाथी बहुत बेचैन हो गये थे, इसलिये सावधानी के लिये उनको रस्सों से बांधा, साथ ही उनके पास कुछ लोगों को भाला लेकर खड़ा किया गया ताकि भड़कने की स्थिति में उन पर काबू रखा जा सके। शाम को वह उस पहाडी की ओर गये। वहां का वह भाग पूरी तरह से सपाट, चौपट हो गया था। जगह-जगह बांस को तोड़, खींच गिराया, कई को दांत से चबा कर छोड़ दिया और बहुत से के कोमल भाग को खा लिया गया था। सलई और उथली जड़ वाले अन्य पेड़ों को उखाड़ गिरा दिया गया था। उनकी ऊपरी डगालों की नर्म छाल को खींच छील कर निकाल दिया गया था। उन हाथियों की पेड़ को उखाड़ फेंकने की क्षमता आठ इंच के घेरे वाले पेड़ों तक ही सीमित लगी। स्वतः के पालतू हाथियों के साथ भी वैसा ही अनुभव था। वहां वे पेड़ जड़ से उखाड़ फेंके नहीं गये थे बल्कि मस्तक और सामने के एक पैर की सहायता से शरीर अथवा जैसे कि यहां के लोगों ने बतलाया पीठ के भार से उन पर बल डालकर झुकाये गिराये गये थे। अफ्रीका की यात्रा कर आये लोगों का कथन है कि वहां हाथी बड़े बड़े पेड़ों को उखाड़ कर फेंक मारने के काम में लाये जाते हैं, केवल कपोल कल्पना है। एक ने तो यहां तक कहा है कि उसने वहां अठारह इंच के घेरे के दो पेड़ों को उखाड़ कर दस बारह गज की दूरी तक फेंकते देखा था। जंगल के दल में से हाथी जिस ओर गया था, वहां एक चौड़ा रास्ता सा बन गया था। दल ने जहां पर मातन नदी को पार किया था, वहां पर सूखी रेत में हाथियों के विभिन्न आकार के पांव के चिन्ह, दंतैल के डेढ़ फुट व्यास से ले कर बच्चे के चाय के प्याला तक दिख रहे थे। उन हाथियों की संख्या पचास साठ तो थी ही। तबियत ठीक न होने के कारण फारसाइथ ने उनका पीछा नहीं किया।

अगले दिन दोपहर में जब वह सो रहे थे, भूमिया लोग ने आकार बतलाया कि आधा मील से भी कम दूरी पर एक अकेला दंतैल है। खबर सुनकर, अपनी अस्वस्थता के बाद भी वह अपने आपको रोक नहीं पाये। जैसे थे वैसे ही एक घोड़ा में सवार होकर कम से कम उस हाथी को देख पाने का लालच किये चल पड़े। वह हाथी मातन नदी के बलुआ तट पर खड़ा था। यहां पर उसने एक बड़ा गहरा गड्ढा खोद कर उसकी गीली बालू को मक्खियों से बचने के लिये अपनी देह पर पोत लिया था। वह एक बहुत बड़ा दंतैल, आकार में नेपाली हाथी के समान था। उसके और पालतू हाथी के बीच में जो अंतर स्पष्ट दिखा- वह था उसकी गर्दन और अग्रभागों का अधिक मांसल होना। वह अन्तर वन भैंसा में भी दिखा। हाथी नदी की एक कगार से अपने दांत टिकाये खड़ा था अपनी पूंछ को धीरे-धीरे इधर-उधर डुला रहा था। वह झपकी ले रहा था। उसके पास पहुंचने का कोई रास्ता नहीं था और किसी हाथी पर गोली चलाने के लिये लगभग डेढ़ सौ गज का अंतर बहुत अधिक था। इसलिये वहां बैठे बड़ी देर तक उसे इस आशा में देखते रहे कि वह उस स्थान से हटेगा पर वैसा हुआ नहीं। तब चलकर उस स्थान को ढूंढ़े जहां से होकर हाथी नदी की खड़ी कगार में से उतरा था। वहां पहुंच पीछे की ओर बैठकर एक भूमिया को लम्बा घूमकर हाथी की ओर जाने को कहा ताकि उसकी गंध हाथी को मिले। जब हाथी को भूमिया की गंध का पहला, हल्का झोंका मिला तब उसका व्यवहार देखने लायक था। वह अपने दांतों के सहारे कगार से टिका चुपचाप खड़ा रहा पर उसकी पूंछ का हिलना डुलना बंद हो गया। उसकी सूंड का सिरा गोल घूमकर कान के नीचे गंध की दिशा में हो गया था। उसके कान सूक्ष्म आवाज को पकड़ने के लिये चौकस चौकन्ने खड़े हो गये। उस स्थिति में वह बहुत देर तक चुपचाप खड़ा था। उसके बाद ही भूमिया कुछ हटकर हवा की सीध में आकर तुरंत एक झाड़ पर जा चढ़ा, यद्यपि उस समय तक हाथी उसे देखा नहीं था। ऐसा लगा कि उन भूमिया लोगों को अपने इस जंगल देव से बहुत भय लगता है। उसके बाद हाथी वहां से चुपचाप निकलकर, अपने दुश्मन की ओर देखे बिना भारी धीमी चाल से नदी की दूसरी कगार की ओर से जो लगभग दो सौ गज की दूरी पर था, चढ़ने के लिये बढ़ा। फारसाइथ उस स्थान के पास पहुंचने के लिये घास में लुकते छिपते एक हाथी रास्ता के पास जहां पर हाथी के आ पहुंचने का अनुमान था, जा कर बैठ गये। उनका अनुमान गलत नहीं निकला। धड़कते दिल से की जा रही प्रतीक्षा के एक दो मिनट बाद ही उसका भारी मस्तक और चमकते दांत, इधर-उधर डोलते अस्सी नब्बे कदम दूर दृश्य में उभरे। फारसाइथ निश्ंिचत थे कि यदि हाथी उनकी ओर आयेगा तो अपनी भारी रायफल से उसे पा लेंगे। वे सोच रखे थे कि हाथी जब तक बिलकुल पास नहीं होगा, तब तक गोली नहीं चलायेंगे। उन दोनों के बीच में लगभग ४० (चालीस) गज का अंतर रह गया था। वे रायफल को कंधे पर रख कर आंख की सीध में ला रहे थे तभी पीछे से हल्की खांसने की आवाज से उनका ध्यान उस ओर को हुआ। वे यह देखकर आश्चर्यचकित हुए कि वहां पर पीला कोट और लाल रंग की पगड़ी पहिने एक ऊंचा कद का आदमी दीमक की बाम्बी पर खड़ा हो एक पेड़ पर उठने-चढ़ने की कोशिश कर रहा था।

उधर से ध्यान हटाकर वे हाथी की ओर मुड़े पर तब तक जो कुछ वहां दिखा वह पेड़ों के बीच में से वापस जाते हाथी का भारी भरकम पिछला गोल हिस्सा था। उस सबसे उत्तेजित होकर चे ओझल होते दंतेल के पीछे जोर से दौड़ पड़े। उससे अधिक उनको कुछ याद नहीं रहा। चेतन होने पर साथ के लोगों द्वारा अपने को घोड़ा की पीठ पर सहारा दे डेरा की ओर ले जाते पाया। उनसे मालूम हुआ कि लगभग सौ गज दौड़ने के बाद अचेत हो घास पर गिर पड़े थे। उनके पीछे चोरी छिपे आ जाने वाला आदमी मातन के ठाकुर का एक संबंधी था। वह बहुत देर तक घास में चुपचाप लेटा था, पर ज्योंही उसकी नजर उस भयानक मानव हंता पर पड़ी त्यों ही उसकी अफीम अभ्यस्त स्नायुएं जवाब दे गई। यह इतना दयनीय और लज्जित दिख रहा था कि फिर फारसाइथ उससे वह सब न कह सके जो उसके बारे में सोचे थे। वैसे भी उस समय उस क्षेत्र के लोगों में काफी भय व्याप्त था। कुछ समय पहले ही उपरोड़ा के ठाकुर का एक छोटा बेटा एक हाथी के द्वारा कुचल, मार डाला गया था। बिलासपुर के कुछ शिकारी उसे मैदान में उतर आये कुछ हाथियों के शिकार के लिये ले गये थे। वहां पर पीछा किये जा रहे एक घायल दंतेल ने पलट कर हमला किया जिसमें ठाकुर का बेटा जब तक सम्हले और बचे तब तक वह कुचला जा चुका था। उस दिन जो कुछ भी हुआ वह अपने आप में निराशाजनक था। उसके बाद उनको और उनके साथी को किसी हाथी पर गोली चलाने का दूसरा अवसर नहीं मिला।

मातन के आसपास हाथियों के जो प्रमुख वास थे, वहां फारसाइथ थोड़ी-थोड़ी दूर तक गये। वहां चारों ओर अन्य वन्य प्राणी भी बहुत थे। नालों के किनारे चीतल और साल वन के खुले मैदानों में लाल हिरण (बारा सिंघा) थे। मातन के उत्तर पूर्व में एक छोटी पहाड़ी है, जिसे मातन दाई कहते है। उस पहाड़ी के एक छोर पर, खाई के नीचे हाथियों की बहुत सी हड्डियां बिखरी पड़ी थीं। उसके बारे में मालूम हुआ कि उनके आने के एक साल पहले वहां एक दुर्घटना में एक छोटे दल के प्रायः सभी हाथी उस स्थान पर मारे गये। मातन के ठाकुर और अन्य लोग बाजा गाजा के साथ पहाड़ी पर स्थित देवी की वार्षिक पूजा के लिये संकरे रास्ते से जो ऊपर की ओर जाने का एक मात्र रास्ता था, आगे बढ़ रहे थे। ये लोग बेखबर कि उनके आगे पांच हाथियों का एक दल है जो हो रहे हो-हल्ला से आगे-आगे भागे जा रहा था। वह दल जब ऊपर पहाड़ी के छोर पर पहुंच गया फिर भी आवाज को अपनी ओर आते पाया तब वह भयभीत और घबड़ा गया। दल के चार हाथियों ने पहाड़ी की विरूद्ध दिशा में उतरने की कोशिश की। उस ओर ऊपर से नीचे बिखरे पत्थरों का एक ढाल है, जो एकाएक एक खड़ी खाई में समाप्त होता है। एक बार उस ओर बढ़ जाने के बाद उन भारी भरकम हाथियों के लिये वापस ऊपर आ पाना संभव नहीं था। वे ढाल से फिसल कर सीधे नीची खाई में जा गिर, मारे गये। पांचवां हाथी, एक दंतेल था, जिससे हाल में फारसाइथ से सामना हुआ था। उसने निकल बचने के लिये आती भीड़ पर चिंघाड़ते हुए हमला किया जिससे लोग इधर-उधर तितर-बितर हो गये और वह वहां से नीचे की ओर भाग गया।

२६ तारीख को फारसाइथ का साथी उनसे आ मिला। वह साल वन के पूर्वी भाग की ओर वहां के हाथी देश, जो उपरोड़ा के ठाकुर के आधिपत्य में था, का भ्रमण कर आया था। मातन से वे लोग उत्तर दिशा की ओर बढ़े ताकि अमरकंटक के बीच में फैले भू-भाग को भी देख परख लें। माह के अंत तक ये लोग साल वन के एक अंतहीन भाग से यात्रा करते रहे। एक अवसर पर फारसाइथ बिना किसी पथप्रदर्शक के एक हाथी रास्ता जो यहां के घने वन में सड़क का काम देता है, से हटकर निकल पड़े। उनको विश्वास था कि थोड़ी दूर के घुमाव के बाद वे फिर से रास्ता पा लेंगे। पर भटककर वे एक छोटे से जलस्रोत और दो चार झोपड़ियों के स्थान पर पहुंच गये जो बियावान जंगल के बीच अपने बुगलुगी नाम में खुश था।

जहां से होकर वे गुजरें, उस भू-भाग की समुद्र सतह से ऊंचाई १७०० फीट थी। वहां पानी की कमी के कारण वन्य प्राणी बहुत कम थे। मालूम हुआ कि वर्षा के दिनों में हाथी, वन भैसा, गौर और असंख्य लाल हिरण (बारासिंघा) यहां विचरण करते है। केंदा और पेण्डरा के जंगलों में जो मैकल पर्वत श्रेणी के. ठीक नीचे में स्थित वहां बहुत वन भैसे होने की खबर मिली थी, पर समय नहीं था इसलिये वे रूके नहीं। फारसाइथ की राय में जब मंडला के पठारी जंगलों में पालतू पशुओं के झुंड चरने पहुंचते थे, तब वहां से वनभैंसे मुख्यतया इधर के जंगल की ओर आ जाते थे। अब तक उनको जितना मालूम हो सका था, उसके अनुसार लगभग बारह सौ वर्गमील के वन क्षेत्र में हाथी वास करते थे। उनकी अनुमानित संख्या दो से तीन सौ तक थी। और वे निश्चित रूप से अपने आसपास की फसल को बहुत नुकसान करते थे। फलस्वरूप उन क्षेत्रों के ठाकुरों द्वारा पटाई जाने वाली वार्षिक लगान को कई वर्षों तक माफ करना पड़ा। वहां के लोग हाथी जैसे शक्तिशाली प्रतिद्वंदी से बचने-बचाने में पूरी तरह असहाय थे। रास्ते में जंगल से लगे जो गांव मिले, वहां अधिकांश में ऊंचे पेड़ों पर मकान बनाये गये थे। गांव में हाथी दल के आने पर लोग उन मचालों पर चढ़कर अपना बचाव करते थे। फारसाइथ के विचार से जंगली हाथियों को मारने के प्रयास में उनके द्वारा किये जाने वाले उत्पात में वृद्धि ही होती है। उसके अलावा किसी हाथी को मारना किसी आदमी को फांसी में टांगने जैसा है जो कि उसका सबसे बुरा उपयोग है।

हाथियों को देखने की इच्छा पूरी करने के लिये फारसाइथ ने हसदेव और उसकी सहायक नदियों के एक विस्तृत विशाल भू-भाग की यात्रा की थी। और १ जून को पूर्व दिशा की ओर से खड़ी चढ़ाई लिये जो पहाड़ी रास्ता है, उससे होकर अमरकंटक पहुंचे। यहां दो दिन आराम करने के बाद जबलपुर की ओर चले गये। काफी पत्र-व्यवहार के बाद तत्कालीन भारत सरकार ने अपने सुसंगठित हाथी पकड़ने वाले दल को इन जंगलों में भेजा था, जिसने सन् १८६५ से ६७ के बीच में यहां के हाथियों को पकड़ने का उपक्रम किया था।