# शीर्षक # ताला # होली # कठपुतलियां # कोरोना में किताबें # मेरी पढ़ाई # कोरोना में गांधी # अद्वैत का द्वंद्व # जगन्मिथ्या # जन्म-जन्मांतर # राग मारवा # बिलासपुर की त्रिवेणी-1966 # भानु जी के पत्र-2 # भानु जी के पत्र-1 # गिधवा में बलही # चौपाल # टट्टी-1918 # राजस्थानी # गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Thursday, February 11, 2021

भानु जी के पत्र-2

भानु जी के दो पत्रों में से दूसरा पत्र यहां और भूमिका सहित पहला इस लिंक पर है।

दूसरा पत्र

बिलासपुर 26।2।12

प्रियवर सेठजी - जयगोपाल

आपका पत्र हस्तगत हुआ। परमानंद हुआ। छंदःप्रभाकर की तृतीयावृत्ति शोधकर छपने को तय्यार है आपने ठीक समय पर उसका स्मरण किया एतदर्थ आपको धन्यवाद देता हूं हमें कल्यान वालों ने बहुत धोखा दिया और हमारा एक बड़ा भारी ग्रंथ 500 से अधिक पृष्ठ वाला ‘‘मधुबन चरितामृत‘‘ तीन बरस से लापता कर दिया कई पत्र लिखे कि उसको वापिस ही कर देव परंतु कोई जवाब नहीं देवे इसके लिये उनके साथ खास कारवाई करना होगी हमारा उनका अब कोई संबंध नही रहा. यदि आपकी सहायता से हमें वह ग्रंथ ही वापिस मिल जायगा अथवा आप ही छापें तो विषेष कृपा होगी आशा है आप इसमें हमारी सहायता करेंगे

छंदःप्रभाकर के विषय में काशी और प्रयाग में लिखा पढ़ी चल रही है परंतु आप हतारे प्राचीन स्नेंही हैं आप ही के यहां शीघ्र छपे तो अत्युतम है परंतु आप यह लिख भेजिये कि किस शर्त से आप उसे छापेंगे. इस तृतीयावृति का आप स्वत्व लेने को प्रसन्न हैं तो हमें क्या प्रदान करेंगे और मूल्य ले कर छापेंगे तो किस निरख से छापेंगे.

कहना नही होगा कि इस ग्रंथ की बहुत मांग हिंदुस्थान के प्रत्येक नगर में है और सरकार से भी यह मंजूर हो चुका है शीघ्र पत्रोत्तर प्रदान करने की कृपा करें।। और भी ग्रंथ छापने को तयार हैं जैसे -

काव्य प्रभाकर (भाषा द्वितीयावृति) पृष्ठ 800
शुद्ध सप्तशती सान्वय भाषा टीका ‘‘ 400
रसिक प्रमोद ‘‘ 200
नवपंचामृत रामायण ‘‘ 70
काल प्रबोध ‘‘ 60
तुम्ही तो हो (श्रीकृष्णाष्टक) ‘‘ 10

मेरी हार्दिक इच्छा यही है कि हमारा और आपका जैसा प्रेम चला आया है वैसा ही बना रहे कोइ अंतर न पड़े वरन वृद्धिगत होता रहै. 

आपकी सेवा में गत वर्ष एक कापी काव्य प्रभाकर की भेजी गई थी परंतु आज तक समालोचना की कृपा न हुई अस्तु इस बात की जल्दी नही 

आशा है छोटे सेठ कुशल होंगे.

आपका परम स्नेही
जगन्नाथ प्रसाद
भानुकवि
छोटेसाहीब
बंदोबस्त

प्रसंगवश-

भानु जी के सबसे लोकप्रिय ग्रंथ छन्दःप्रभाकर की दसवीं आवृत्ति सन 1960 में पूर्णिमा देवी, धर्मपत्नि स्वर्गीय बाबू जुगल किशोर द्वारा प्रकाशित कराई गई, जिसके अंतिम कवर पृष्ठ पर भानु-कवि विरचित ग्रंथों की सूची दी गई है, जिसका चित्र यहां दिया गया है।  


2 comments:

  1. भविष्य में उपयोगी होगी. सरकार से पिंड छूटने के बाद समय का ऐसा भी उपयोग हो सकता है, अवकाश प्राप्तों के लिए नजीर.

    ReplyDelete
  2. If you are interested in health, gossip, marriage, snooping, yoga, then you can visit chulbul.xyz. Alopecia Erita is mentioned in this health condition related to baldness. If you like it all, click on the link below. .

    https://www.chulbul.xyz/2021/02/3.html?m=1

    ReplyDelete