# अद्वैत का द्वंद्व # जगन्मिथ्या # जन्म-जन्मांतर # राग मारवा # बिलासपुर की त्रिवेणी-1966 # भानु जी के पत्र-2 # भानु जी के पत्र-1 # गिधवा में बलही # चौपाल # टट्टी-1918 # राजस्थानी # गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Thursday, February 11, 2021

भानु जी के पत्र-1

जगन्नाथ प्रसाद ‘भानु कवि‘ का बिलासपुर में निवास चांटापारा यानि तिलक नगर में था। उनके पुत्र जुगल किशोर हुए, जिनके निधन के बाद उनकी धर्मपत्नी पूर्णिमा देवी ने जगन्नाथ प्रिंटिंग प्रेस और प्रकाशन का काम संभाला। इनके पुत्र मोहन, स्वयं को मोहन मस्ताना या मोहन कवि कहलाना पसंद करते थे। मोहन कवि को हाथी पांव था। यही कोई 30 साल पहले वे यदा-कदा हमारे घसियापारा यानि राजेन्द्र नगर स्थित दफ्तर में मुझसे मिलने आते थे। उनके निवास की पहली मंजिल पर भानु जी की मेज-कुरसी, पुस्तके आदि धूल-गर्द भरी, लेकिन सुरक्षित थीं।

हरि ठाकुर के परिवार से जुगल किशोर के सपरिवार करीबी संबंध थे, जिनके माध्यम से भानु जी के दो पत्र उन्हें प्राप्त हुए, जो अब हरि ठाकुर के पुत्र आशीष सिंह के पास सुरक्षित हैं। आशीष जी ने इन पत्रों की जानकारी दी, दिखाया, प्रतिलिपि बनाने के साथ सार्वजनिक करने की अनुमति दी है। अनुमान होता है कि भानु जी ऐसे पत्र दो प्रतियों में लिखते और दूसरी प्रति संदर्भ हेतु अपने पास सुरक्षित रखते थे, जैसा उस जमाने का आम चलन था।

इनमें से पहला पत्र सन 1907 का खंडवा से तथा दूसरा 1912 का बिलासपुर से लिखा गया है। दोनों ही पत्र बंबई के प्रकाशक को लिखे गए हैं। यहां पत्र का मजमून दिया जा रहा है, जिसमें मूल से मामूली अंतर हो सकता है। शोधकर्ता और बारीकी से समझने का उद्यम करने वालों की सुविधा के लिए, सामग्री के मूल स्वरूप से मिलान हो सके, इसलिए पत्र की प्रति भी यहां लगाई जा रही है।

पत्रों को पढ़ते और प्रस्तुत करने के लिए फीड करते कई स्थानों पर टिप्पणी का विचार बना, किंतु वह फिर कभी। अभी कुछ छोटी-छोटी बातें। पत्रों में अनुस्वार के लिए चंद्र बिंदु के बजाय मात्र बिंदु का प्रयोग हुआ है। पहले पत्र का भारत वर्ष दूसरे पत्र में हिंदुस्थान हो गया है। दोनों पत्रों में प्रकाशक को पुराने नहीं बल्कि प्राचीन स्नेही कहा गया है। ग्रन्थों के लिए कम से कम दस हजार रुपये की अपेक्षा की गई है, जिनका व्यय सार्वजनिक कार्य में किए जाने और पुस्तक बाइ-बैक यानि वापस खरीदी (इस दौर में विनोद कुमार शुक्ल और पेंगुइन बुक्स विवाद याद आता है।) की बात कही गई है। साथ ही हिन्दी पाठकों की दशा का उल्लेख ध्यान देने योग्य है।

इन दोनों पत्रों में से पहला पत्र यहां और दूसरा इस लिंक पर है।

पहला पत्र

खंडवा. म. प्र.
21-7-07 

श्रीमान् सेठ खेमराज श्रीकृष्णदास जी, जयगोपाल! 

कृपा पत्र ताः 17-7 का मिला, समाचार जाने। इन ग्रन्थों को उत्तम बनाने में हम ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। ईश्वर चाहेगा तो ये ग्रन्थ थोड़े ही काल में भारत वर्ष में घर 2 व्याप्त हो जावेंगे। हमने अनुमान किया था कि, इन ग्रन्थों के उपलक्ष में हमें कम से कम दश हजार रुपैये मिलेंगे, तथा उन रुपैयों को हम अपने व्यवहार में न लाकर सार्वजनिक काय्र्य में व्यय करेंगे। किन्तु भाषा काव्य के दुर्भाग्य से कहो, किवां हिन्दी पाठकों के अभाव से कहो, अभी इतर देशों के समान यहां के कवि, लेखकों तथा विद्वानों का उतना मान नहीं है अस्तु चिन्ता नहीं, आप हमारे प्राचीन स्नेही तथा शुभचिन्तक हैं। अतएव हमने भी आप ही के यहां छपाना निश्र्चय किया है आपके लिखे अनुसार हम सब पुस्तकों का सत्त्व आपको दिये देते हैं। इस पर चाहे आप हमें इसके उपलक्ष में अपनी इच्छा अनुसार जो कुछ देंगे, सहर्ष स्वीकृत किया जायगा और वह परोपकार ही में लगाया जायगा। साथ में यह भी विदित हो कि अभी छन्दःप्रभाकर की पांच सौ प्रतियां शेष है यदि उन्हें भी आप अर्ध मूल पर खरीद लें तो छन्दःप्रभाकर का भी सत्त्व आप को दे देंगे। मूल्य जब चाहे तब भेजें कोई जल्दी नहीं है। इतनी काॅपी बचे रहने का कारण हमारे सात चर्ष से कोई विज्ञापन न देने का है। दूसरे अन्तिम प्रूफ शोधन के लिये हमें भी यहां पर एक कर्मचारी 25/ माहवार पर रखना पड़ेगा और बम्बई में भी यदि हम एक कर्मचारी रखें तो दुहरा खर्च हम को पड़ेगा। अतएव वहां के लिये दो प्रूफ जांचने तक का प्रबन्ध अपनी ओर से कर लेवें और अन्तिम प्रूफ पास करने को हमारे पास भेजें व जब तक हम पास न कर लेवें तब तक छापना ठीक नहीं है परन्तु छपाई के काम में ढील न हो। जहां तक हो ग्रन्थ शीघ्र छप जाना चाहिये। कागज तो आप उत्तम लगावेंगे ही, किन्तु काल प्रबोध व नव पंचामृत रामायण को छोड़कर शेष ग्रन्थों का उत्तम बाईडिंग अवश्य ही करना होगा। इन पुस्तकों की भविष्यावृत्तियों में भी शोधने तथा रदबदल करने का हमको पूर्ण अधिकार होगा। इन सब प्रश्नों का उचित उत्तर आते ही ग्रन्थ भेज दिये जावेंगे। पत्रोत्तर तफसीलवार शीघ्र देवें। इति.

कापीराइट इस प्रकार देंगे।

1 काव्य प्रभाकर ..... कापीराइट 100 जिल्द लेकर देवेंगे।
2 शुद्ध सप्तशती ..... तथा 100 ..... तथा,
3 छन्दःप्रभाकर ..... तथा 200 ..... तथा
4 मधुबनचरित्रामृत ..... तथा 50 ..... तथ
5 नव पंचामृत रा. ..... तथा 100 ..... तथा
6 काल प्रबोध ..... तथा 100 ..... तथा
यह आप ही के लेखानुसार है 

आपका कृपाअभिलाषी
(हस्ताक्षर)
असिटन्ट सेटल्मेन्ट आफीसर

2 comments:

  1. हीरे खोज लाने और उसकी झलक नहीं बल्कि पूरा हीरा ही दिखाने के लिये किन शब्दों में आपका आभार व्यक्त किया जाये, समझ से परे है। गजब और न केवल पठनीय बल्कि संग्रहणीय भी। बधाई। अभिनन्दन। स्वागतम्।

    ReplyDelete