# रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Thursday, September 1, 2011

लिटिल लिटिया

गौरैया के बाद पंडुक, फिर पंडुक-पंडुक, और अब लिटिया। आकार से लगता है कि अंग्रेजी के लिटिल और लिटिया नामधारी इस छोटी सी चिडि़या का कोई रिश्‍ता जरूर होगा। लिटिया यानि दरजी, फुटकी या टेलर बर्ड- Orthotomus sutorius। घोंसला-माहिर इस चिडि़या को बया यानि वीवर बर्ड के साथ याद किया जाता है। बया, बुनकर तो लिटिया, दरजी। लिटिया पत्‍तों और तिनके-डंठल को आपस में मिलाकर घोंसला रचती है। छत्‍तीसगढ़ के कई लिटिया/लटिया गांवों को शायद इसी से नाम मिला है।

यह चिडि़या आसपास हो तो इसके चहचहाने की आवाज के बाद इसकी काया जितनी लंबी और खास ढंग से उठी पूंछ, इस चंचल जीव की ओर जरूर ध्‍यान खींचती है। कुछ दिनों से घर की बैठकी के पास पारिजात, हरसिंगार, शेफाली या जास्‍मीन जैसे मधुर नाम (Nyctanthes arbor-tristis नाम से तो घबराहट होती है) वाले पेड़ पर अधिक फुदकती।
तब हमारा ध्‍यान गया कि जहां वह बार-बार आ कर बैठ रही है वहां एक छोटा घोंसला है, पत्‍तों में ओझल-सा।
अवसर पाकर घोंसले में झांका, वह यहां आप भी देखिए-
छोटी सी बात, बस इत्‍ती-सी। छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द खोन्‍धरा (गांव का नाम भी) होता है घोंसला, खोता, नीड़ का समानार्थी और आशियाना या घरौंदा के अर्थ में भी प्रयुक्‍त होता है, लेकिन सोच रहा हूं कि घोंसला तो सौरघर, प्रसूति गृह के अधिक निकट का अर्थ देता है। पैतृक निवास से स्‍वेच्‍छया विस्‍थापित बसेरे से दूर, नीड़ का निर्माण कर वास करते मुझे, अब घर से खबर आई है, इन चूजों के उड़ जाने की।

(तस्‍वीरें, 22-23 अगस्‍त 2011, बिलासपुर, छत्‍तीसगढ़ की)

42 comments:

  1. अरे इसका नाम लिटिया भी है! यह चिड़िया तो अक्सर मेरे घर में दिखाई दे जाती है.

    ReplyDelete
  2. अपनें घर -घरौंदे को कितने मेहनत और लगन से बनाती है यह.

    ReplyDelete
  3. डिस्कवरी चेनल जैसी पोस्ट ...... गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  4. लिटिया चिड़िया के बारे में बहुत रोचक जानकारी !

    जहां तक फूलों के नामों का सवाल है वे मुझे बेहद आकर्षित करते हैं - अमलतास,हरसिंगार,गुलमोहर,रजनीगन्धा और इसी तरह के ढेरों नाम काफी दिलचस्प हैं। मुंबई के रानीबाग के बोटानिकल गार्डन में इन फूलों को देख काफी आनंद आता है।

    ReplyDelete
  5. लिटिया का परिचय बड़ा ही अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  6. अपने पड़ोस में खजूर के दरख़्त पर बया के कम से कम एक दर्जन आशियाने हैं पर लिटिया का नीड़ आपकी कृपा से देखा !

    ReplyDelete
  7. अचानक ही जब बचपन में इसका घोसला अप्रत्याशित रूप से हरसिंगार की छितराई घनी पत्तियों में फूल चुन्गते मुझे दिखा था तो मैं हतप्रभ रह गया था -खोजबीन की तो पता लगा यह दरजी/दरजिन है !

    ReplyDelete
  8. यह दो पत्तों के किनारों को चोच से सी कर उसी में अपना नन्हा सा घोसला बना देती है

    ReplyDelete
  9. अच्छा फिर आपने पक्षियों के घर ताक-झाँक की है! अगर उनकी व्यवस्था में पुलिस होती तब पता चलता। …चित्र अच्छे हैं। शायद आदमी के नहीं हैं इसलिए।

    ReplyDelete
  10. नाम तो पहली बार सुना.अच्छा लगा

    ReplyDelete
  11. लिटिया नाम प्यारी सी बिटिया सा लगता है.. सुन्दर परिचय...

    ReplyDelete
  12. इस लिटिया को थोड़ा बड़ा करके दिखाते तो और नजदीकि पहचान हो जाती। बढिया जानकारी है।

    ReplyDelete
  13. लिटिल लिटिया पढ़ अच्छा लगा तस्वीरों का अस्पष्ट होना थोड़ा मजा कम करता है ये साफ़ होती तो चार चांद लग जाते

    ReplyDelete
  14. बहुत रोचक जानकारी दी है आपने.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो कृपया मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक आलेख हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  15. बढ़िया.
    लिटिया तो नहीं पर एक दिन मुझे पटना में रिक्शे वाले ने दिखाया - 'वो जो खोंते की तरह पेंड पर लटके हुए दिख रहे हैं वो सभी बादुर (चमगादड़) हैं'.

    ReplyDelete
  16. रोचक, और सच कहूँ तो मन खुश कर देने वाली पोस्ट।
    धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete
  17. लिटिया की तस्वीर और रोचक जानकारी...आभार!!!

    ReplyDelete
  18. "बया, बुनकर तो लिटिया, दरजी।" - इस एक पंक्ति ने ही परिचित करा दिया लिटिया को ! सुन्दर प्रविष्टि । आभार ।

    ReplyDelete
  19. एक पोस्ट में कई सारी बातें| बया को कई सारे लोग दुनिया का पहला इंजीनियर भी मानते हैं| मनोहारी चित्रों से सजी सुंदर पोस्ट|

    ReplyDelete
  20. बबूल जैसे कँटीले पेड़ों पर बया के सुन्दर घोसलों को देखने का आनन्द ही कुछ और है!

    ज्ञानवर्धक पोस्ट!

    ReplyDelete
  21. रोचक, अद्भुत और ज्ञनवर्धक।

    ReplyDelete
  22. ई-मेल पर मुकेश भारती जी-
    बहुत ही अच्छा लेख, बहुत ही खूबसूरत चित्र ..

    ReplyDelete
  23. लिटिया के बारे में बहुत रोचक ज्ञानवर्धक जानकारी !

    ReplyDelete
  24. बहुत ही रोचक ,दिल खुश हो गया .आभार ......

    ReplyDelete
  25. लिटिया नाम पहली बार सुना.रोचक जानकारी के लिए आभार.

    ReplyDelete
  26. लिटिल + चिड़िया = लिटिया
    रोचक जानकारी!!

    ReplyDelete
  27. मनोहारी चित्रों से सजी सुंदर पोस्ट| रोचक जानकारी के लिए आभार|

    ReplyDelete
  28. बड़ी प्रसन्नता हुई यह जानकार की आप उसके प्रसूति घर में झाँक पाए. शायद वीवर बर्ड कुछ बड़ा होता है. इसे बस्तर में लिटी कहते हैं.

    ReplyDelete
  29. aap adbhut hain aur aapka shodh aapka pratibimb hai.

    ReplyDelete
  30. लिटिया इस छोटी सी चिड़िया को देखने का सौभाग्य मुझे भी मिला है आप का लेख पढ़कर अनायास ही पुराने दिन याद आ गए तब आँगन के पेड़ में कितनी गौरैया बैठा करती थी उनके कलरव से परेशां होकर उन्हें उड़ाने के उपाय ढूंढा करते थे आज तो ऐसा लगता है वे गौरैया भी हमसे रूठ गयी है और दर्शनीय बन गयी है

    ReplyDelete
  31. आस-पास फुदकती नन्ही प्यारी चिड़िया कितनी बड़ी और बेमिसाल छाप छोड़ जाती है मन पर, यह आपका पोस्ट पढ़ कर जाना. लिटिल लिटिया का जीवन-संसार हमारी जिन्दगी में अनेको रंग भर गए जैसे...यह अनुभव हुआ की अपने काम के प्रति प्रेम और तत्परता हो तो अपनी नन्ही जिन्दगी दुश्वार हरगिज नहीं. साधुवाद!

    ReplyDelete
  32. यकीनन मनुष्य इन नन्हें जीवों से ही प्रेरणा लेकर सभ्य(तथाकथित) बना है।
    सलिल भाई का लिटिया वाला विस्तारण जमता है।

    ReplyDelete
  33. ये आपकी कुटिया की बिटिया ही है। सुंदर विवरण।

    ReplyDelete
  34. परिंदे भी नहीं रहते पराए आशियानों में,
    अपनी तो उम्र गुज़री किराए के मकानों में...

    लिटिया से मिलकर अच्छा लगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  35. पुनःश्च: पारिजात के बाद हरसिंगार का भी आपने उल्लेख किया है. क्या ये दोनों अलग अलग हैं?

    ReplyDelete
  36. चित्रों ने विवरण को विस्‍तार दिया अन्‍यथा बात पल्‍ले नहीं पडती। आनन्‍द आया। आत्‍मीय आनन्‍द।

    ReplyDelete
  37. लिटिया नाम प्रथम बार सुना, पर प्यारा लगा. सलिल भैया ने अच्छा बताया लिटिलचिड़िया= लिटिया.
    NYCTO = night , भोरे-भोरे हरि के श्रृंगार के लिए रात भर सुगन्धित पुष्पों की वर्षा करते रहने के कारण ही कदाचित इसका नाम Nyctanthus arbortristis पडा होगा.

    ReplyDelete
  38. बहुत सुन्दर, मन प्रसन्न हुआ!

    ReplyDelete
  39. ham bhee litiya ke baare mei sun chuke hain... wahi C.G. mei suna tha... ek ajeeb soch bhi hai ki yadi iska ghonsla ghar mein rakh lo saanp nahi aate... jab ham bageecha{jashpur} mei the tab har room mein iska ghonsla rakhwa diya tha daadi ne...
    photographs bahut hi sundar lage... khastour se bacchon ke... :)

    ReplyDelete
  40. too good .. informative ..
    congratilations ..
    - dr jsb naidu (raipur)

    ReplyDelete
  41. too good .. informative ..
    congratulations ..
    - dr jsb naidu (raipur)

    ReplyDelete
  42. बडा अच्छा लगा हरियाली औ घोंसले को देखकर।धन्यवाद।

    ReplyDelete