# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, November 29, 2011

इंदिरा का अहिरन

छत्‍तीसगढ़ के कोरबा जिले में बहने वाली छोटी सी नदी 'अहिरन' का नाम जटाशंकरी भी है, लेकिन फिलहाल यह पर्याय की तरह याद आ रही है इंदिरा गोस्‍वामी के लिए, जो मामोनी रायसम गोस्‍वामी के नाम से भी जानी जाती थीं। लगभग 35 साल पहले रचित उनके इस असमिया उपन्‍यास का हिन्‍दी अनुवाद 'अहिरन' 2007 में प्रकाशित हुआ।
कोई छः माह पुरानी बात है (वे लगभग इतने समय से अस्‍वस्‍थ्‍य थीं), जब इंदिरा जी के छत्‍तीसगढ़ के साथ इस रिश्‍ते को जानने के बाद मैंने प्रयास शुरू किया। अपनी सीमा में अधिकतम संभव हुआ कि उनके पिछले छत्‍तीसगढ़ प्रवास के बारे में कुछ जानकारियां मिल पाईं।
रायपुर में 14-16 अक्‍टूबर 2005 में आयोजित अखिल भारतीय कवयित्री सम्‍मेलन के छठें अधिवेशन में आई थीं। चित्र में उनके साथ मुख्‍यमंत्रीजी की पत्‍नी श्रीमती वीणा सिंह और कवयित्री-अभिनेत्री सुश्री नीलू मेघ हैं।

अहिरन पढ़ रहा हूं, अपने घर-पड़ोस की बातें हैं- चांपा, कोरबा, चारपारा, कठघोरा, हसदेव, शिवनाथ, पाली, कुदुरमाल, बिलासपुर, छत्‍तीसगढ़..., फिलहाल अधूरी है...

पढ़ा कि उनके जन्‍म पर भविष्‍यवाणी की गई थी- ''इस लड़की के सितारे इतने खराब हैं, इसे दो टुकड़े करके ब्रह्मपुत्र में फेंक दो'' और इसके बाद जीवन भर जिन चुनौतियों से मुकाबिल वे साहित्‍य, असम, राष्‍ट्र और खुद को रचती रहीं कि उनसे मिलने का मन बना कर पिछले दिनों दिल्‍ली तक गया, मुलाकात न हो सकी, फिर भी पोस्‍ट पूरी करता ही, अपनी गति से..., लेकिन सुबह-सुबह उनके निधन का समाचार मिला, सो फिलहाल इतना ही, इस अधूरी पोस्‍ट और पूरे मन के साथ उन्‍हें छत्‍तीसगढि़या श्रद्धांजलि।

संबंधित पोस्‍ट - सतीश का संसार पर अहिरन और अहिरन के साथ...

41 comments:

  1. इंदिरा जी को ज्ञानपीठ पुरस्‍कार मिलने पर उनकी रचनाओं के अंश हिन्‍दी में विभिन्‍न प‍त्र पत्रिकाओं में प्रकाशित होने पर पढे थे, हालांकि उनकी कोई किताब अब तक पूरी नहीं पढ़ी है। असमिया साहित्‍य एवं संस्‍क़ति के संवर्द्धन में उनकी महती योगदान के लिए हम उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

    ReplyDelete
  2. विनम्र श्रद्धांजलि, अहिरन की अभिव्यक्ति को।

    ReplyDelete
  3. शायद कुछ साल पहले बलि प्रथा के विरोध में इनकी बातों को पढा था……और तस्वीरों में ललाट पर गोल, बडी-सी बिन्दी…भविष्यवाणी का तो कचूमर निकला ही…

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  5. 'अहिरन' पढ़ना चाह रही थी कि यह दुखद खबर मिल गई. बड़ी क्षति है. भावभीनी श्रद्धांजलि इंदिरा जी को...

    ReplyDelete
  6. विनर्म श्रद्धांजलि इंदिरा जी को .

    ReplyDelete
  7. इंदिरा गोस्‍वामी: विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  8. जब यह पोस्ट पढ़ना सुरू किया तो अनुमान ही नहीं था कि अंत में आप ऐसा समाचार देंगे!! विनम्र श्रद्धांजलि!!

    ReplyDelete
  9. इंदिराजी को विनम्र श्रद्धांजली.

    ReplyDelete
  10. ओह,नदी रुक गयी .... श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  11. शब्दार्थ जानने की इच्छा हो रही है !

    ReplyDelete
  12. इंदिराजी को विनम्र श्रद्धांजली.इनके बारे में सतीश जी से कुछ जाना था.

    ReplyDelete
  13. तुलसी @ रामबोला के जन्म पर भी कुछ ऐसी ही भविष्यवाणी हुई थी, लेकिन तकदीर और तदबीर दोनों अपनी अपनी जगह महत्वपूर्ण हैं।
    सुबह जब इंदिरा गोस्वामी जी के देहावसान की खबर पता चली, मुझे पहला ध्यान दिल्ली में आपसे हुई मुलाकात का आया। ध्यान है मुझे, आपने यह छत्तीसगढिया नाते वाला प्रसंग भी बताया था और उनसे मुलाकात की इच्छा भी। शशिकांत जी से उस दिन फ़ोन पर संपर्क भी नहीं हो पाया था आपका।
    'so many slips, between cup & lips'
    विनम्र श्रद्धांजलि इन्दिरा गोस्वामी जी को।

    ReplyDelete
  14. काश इंदिरा से आपकी बात हुई होती,और हमें अ‍ ध्कि जानकारी उनको और छत्‍तीसगढ़ को लेकर मिलती.....नमन.....

    ReplyDelete
  15. ओह!!बहुत ही दुखद खबर..
    विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  16. दुखद ......! विनम्र श्रद्धांजलि ....!

    ReplyDelete
  17. इंदिरा गोस्वामी को हार्दिक श्रद्धांजिल....कभी सुना था इंदिरा गाँधी और रायबरेली का भी कोई प्रसंग उनसे जुड़ा है,याद हो तो बताइयेगा !

    ReplyDelete
  18. विनम्र श्रद्धांजलि......

    ReplyDelete
  19. इनकी लिख छिन्नमस्ता पढ़ी है। कामाख्या देवी के मंदिर और वहां चले बलि प्रथा को लेकर बेहद सशक्त रचना है।

    विनम्र श्रद्धांजली।

    ReplyDelete
  20. विनम्र श्रध्‍दांजलि....

    ReplyDelete
  21. अभी थोड़ी देर पहले ही अखबार में इंदिरा गोस्वामी जी के निधन के बारे में पढ़ा..

    श्रद्धांजली!

    ReplyDelete
  22. इंदिरा जी को विनम्र श्रद्धांजलि, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।

    ReplyDelete
  23. सोचता हूं, इन्दिरा जी को पढ़ा जाये! पोस्ट के लिये धन्यवाद!

    ReplyDelete
  24. इंदिरा जी को इस तरह याद करते हुए हम भी आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  25. इंदिरा गोस्वामी जी को खूब पढ़ा हूं... छिन्मस्तिका उपन्यास बेहतरीन है... लाल नदी एक कहानी संग्रह है... बढ़िया कहानिया हैं उसमे... इंदिरा गोस्वामी की कहानियों पर एक रेडियो सीरियल पर भी काम कर रहा हूं... इसी सिलसिले में कापीराईट अनुमति के लिए उनसे मिलना हुआ था.... अभी प्रोजेक्ट आकाशवाणी दिल्ली में लंबित है.. शायद अब हो जाये.... विनम्र श्रद्धांजलि ...

    ReplyDelete
  26. विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  27. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'राही मासूम रजा' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  28. आप ने इतना अधिक पढ़ रखा है की अप विश्वकोश हो गए लगते हैं ...

    ReplyDelete
  29. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  30. आप ने इतना अधिक पढ़ रखा है कि आप विश्वकोश हो गए लगते हैं .

    ReplyDelete
  31. मेर नए पोस्ट 'राही मासूम रजा' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  32. मैंने इन्दिराजी को नहीं पढा। ज्ञानजी की तरह ही विचार आया - अब तो पढ लिया जाना चाहिए।

    आपकी पोस्‍ट पढते-पढते 'सुरसतिया' की याद हो आई। उसमें भी छत्‍तीसगढ छाया हुआ है।

    ReplyDelete
  33. @ विष्‍णु बैरागी जी-
    जी हां, अमृता प्रीतम और इंदिरा गोस्‍वामी से कहीं अधिक घनिष्‍ठ विमल मित्र रहे हैं, छत्‍तीसगढ़ से.

    ReplyDelete
  34. विनम्र श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  35. उल्फा से वार्ता और रामायण से जुड़े उनके संस्थान के बारे में जानकारियां मिलती रहती थीं. छत्तीसगढ़ से उनसे जुडी नई जानकारियों का धन्यवाद.

    ReplyDelete