# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Monday, January 31, 2011

बिलासा

जिसके नाम पर बसे बिलासपुर में वास करते हुए, बिलासा का जिक्र यदा-कदा और स्मरण तो अक्सर होता है, तब सदैव याद आती है, अपने बचपन की केंवटिन दाई। नियत समय पर, नियत स्थान पर हमारे गांव में नित्य-प्रति दंवरी और पर्रा में चना, मुर्रा, लाई, करी-लाड़ू लेकर आती थी। खाइ-खजेना (टिट-बिट) का पर्याय मेरे लिए आज भी यही है। पौराणिकता की चर्चा यहां अनावश्यक होगी, किन्तु जब सन्तोषी माता के प्रसाद में चना-गुड़ बांटा जाता, तो मुझे सदैव स्मरण होता, केंवटिन दाई के खाइ-खजेना का।

कभी चंदिया रोड के पास के गांव कौड़िया-सलैया जाते हुए, उसके अगले गांव बिलासपुर के कुछ लोग मिले, उस दिन मैंने हिमांचल प्रदेश के बिलासपुर के बाद तीसरे बिलासपुर का नाम सुना। चंदिया रोड से शहडोल वापस लौटते हुए रास्ते में वीरसिंहपुर पाली में बिरासिनी देवी की प्राचीन मूर्ति देखने के लिए रुका। वहां मंदिर के बाहर खाइ-खजेना लिए, एक केंवटिन दाई के भी दर्शन हुए।

इन स्फुट स्मृतियों को आपस में जोड़ने के प्रयास में अपनी प्रशिक्षित बौद्धिकता का सहारा लेता हूं तो बीच-बीच का अंतराल फैलने लगता है। लेकिन मन के स्वच्छंद विचरण में ऐसी परिकल्पना आसानी से बन जाती है कि यह सपाट और एकरूप मालूम पड़ता है। वही विरासिनी देवी, वही सन्तोषी माता, वही बिलासा केंवटिन, वही केंवटिन दाई। फिर बौद्धिक प्रतीत होने वाले कई निष्कर्ष उभरने लगते हैं, जिनमें से एक कि निषाद गृहणियां, अपने नाविक गोसइंया के लिए, जिसका यह भरोसा नहीं कि एक बार नदी में हेल जाने के बाद कितनी देर या कितने दिन बाद आए, भूंजा, खाइ-खजेना तैयार करती रही होंगी। सुधीजन और शोधार्थी परीक्षण कर खंडन-मंडन करें, उनका मन रखने के लिए उनके प्रत्येक मत का सम्मान, लेकिन अपने मन का मान कभी बदलेगा, ऐसा नहीं लगता। निष्कर्ष और भी हैं, लेकिन फिलहाल आगे बढ़ें।

इतिहास अपने को दुहराता है या यों कहें- नया कुछ घटित नहीं होता, काल, स्थान और पात्र बदलते रहते हैं और व्याख्‍याएं बदल जाती हैं। पौराणिक साहित्‍य में उल्‍लेख मिलता है कि पहले राजा पृथु से भी पहले, सर्वप्रथम विन्‍ध्‍यनिवासी निषाद तथा धीवर उत्‍पन्‍न हुए। भारतीय सभ्यता का प्रजातिगत इतिहास भी निषाद, आस्ट्रिक या कोल-मुण्डा से आरंभ माना जाता है। यही कोई चार-पांच सौ साल पहले, अरपा नदी के किनारे, जवाली नाले के संगम पर पुनरावृत्ति घटित हुई। जब यहां निषादों के प्रतिनिधि उत्तराधिकारियों केंवट-मांझी समुदाय का डेरा बना। आग्नेय कुल का नदी किनारे डेरा। अग्नि और जल तत्व का समन्वय यानि सृष्टि की रचना। जीवन के लक्षण उभरने लगे। सभ्यता की संभावनाएं आकार लेने लगीं। नदी तट के अस्थायी डेरे, झोपड़ी में तब्दील होने लगे। बसाहट, सुगठित बस्ती का रूप लेने लगी। यहीं दृश्य में उभरी, लोक नायिका- बिलासा केंवटिन।

इतिहास के तथ्य तर्क-प्रमाण आश्रित होते हैं, लोक-गाथाओं की तरह सहज-स्वाभाविक नहीं, इसलिए इतिहास नायकों को चारण-भाट-बारोट की आवश्यकता होती है, जो उनकी सत्ता और कृतित्व के प्रमाणीकरण का काव्य रच-गढ़ सकें, पत्थर-तांबे पर उकेरे जा सकें, लेकिन लोक नायकों के व्यक्तित्व की विशाल उदात्तता, जनकवि को प्रेरित और बाध्य करती है, गाथाएं गाने के लिए। इतिहास के तथ्य, तर्क-प्रमाणों से परिवर्तित हो सकते हैं, इसलिए संदेह से परे नहीं होते, किंतु लोक नायकों का सच, काल व समाज स्वीकृत होकर सदैव असंदिग्ध होता है।

इसी तरह 'बिलासा केंवटिन' काव्य, संदिग्ध इतिहास नहीं, बल्कि जनकवि-गायक देवारों की असंदिग्ध गाथा है, जिसमें 'सोन के माची, रूप के पर्रा' और 'धुर्रा के मुर्रा बनाके, थूंक मं लाड़ू बांधै' कहा जाता है। केंवटिन की गाथा, देवार गीतों के काव्य मूल्य का प्रतिनिधित्व कर सकने में सक्षम है ही, केंवटिन की वाक्‌पटुता और बुद्धि-कौशल का प्रमाण भी है। गीत का आरंभ होता है-

छितकी कुरिया मुकुत दुआर, भितरी केंवटिन कसे सिंगार।
खोपा पारै रिंगी चिंगी, ओकर भीतर सोन के सिंगी।
मारय पानी बिछलय बाट, ठमकत केंवटिन चलय बजार।
आन बइठे छेंवा छकार, केंवटिन बइठे बीच बजार।
सोन के माची रूप के पर्रा, राजा आइस केंवटिन करा।
मोल बिसाय सब कोइ खाय, फोकटा मछरी कोइ नहीं खाय।
कहव केंवटिन मछरी के मोल, का कहिहौं मछरी के मोल।

आगे सोलह प्रजातियों- डंडवा, घंसरा, अइछा, सोंढ़िहा, लूदू, बंजू, भाकुर, पढ़िना, जटा चिंगरा, भेंड़ो, बामी, कारी‍झिंया, खोकसी, झोरी, सलांगी और केकरा- का मोल तत्कालीन समाज की अलग-अलग जातिगत स्वभाव की मान्यताओं के अनुरूप उपमा देते हुए, समाज के सोलह रूप-श्रृंगार की तरह, बताया गया है। सोलह प्रजातियों का 'मेल' (range), मानों पूरा डिपार्टमेंटल स्‍टोर। लेकिन जिनका यहां नामो-निशान नहीं अब ऐसी रोहू-कतला-मिरकल का बोलबाला है और इस सूची की प्रजातियां, जात-बाहर जैसी हैं। जातिगत स्वभाव का उदाहरण भी सार्वजनिक किया जाना दुष्कर हो गया क्योंकि तब जातियां, स्वभावगत विशिष्टता का परिचायक थीं। प्रत्येक जाति-स्वभाव की समाज में उपयोगिता, अतएव सम्मान भी था। जातिगतता अब सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक प्रस्थिति का हथियार बनकर, सामाजिक सौहार्द्र के लिए दोधारी छुरी बन गई है अन्यथा सुसकी, मुरहा, न्यौता नाइन, गंगा ग्वालिन, राजिम तेलिन, किरवई की धोबनिन, धुरकोट की लोहारिन, बहादुर कलारिन के साथ बिलासा केंवटिन परम्परा की ऐसी जड़ है, जिनसे समष्टि का व्यापक और उदार संसार पोषित है।

अरपा-जवाली संगम के दाहिने, जूना बिलासपुर और किला बना तो जवाली नाला के बायीं ओर शनिचरी का बाजार या पड़ाव, जिस प्रकार उसे अब भी जाना जाता है। अपनी परिकल्पना के दूसरे बिन्दु का उल्लेख यहां प्रासंगिक होगा- केंवट, एक विशिष्ट देवी 'चौरासी' की उपासना करते हैं और उसकी विशेष पूजा का दिन शनिवार होता है। कुछ क्षेत्रों में सतबहिनियां के नामों में जयलाला, कनकुद केवदी, जसोदा, कजियाम, वासूली और चण्डी के साथ 'बिलासिनी' नाम मिलता है तो क्या देवी 'चौरासी' की तरह कोई देवी 'बिरासी', 'बिरासिनी' भी है या सतबहिनियों में से एक 'बिलासिनी' है, जिसका अपभ्रंश बिलासा और बिलासपुर है। इस परिकल्पना को भी बौद्धिकता के तराजू पर माप-तौल करना आवश्यक नहीं लगा।

अरपा में पानी बहता रहा, लेकिन जवाली नाला का सहयोग-सामर्थ्य वैसा नहीं रहा। अब तो शायद संज्ञा में प्रोजेक्‍ट के चलते 'रोज मेरी' नाम स्थापित हो जाय (जवाली नाला शब्द में पुनः अग्नि-जल समन्वय का आभास है) और अरपा जानी जाए, स्‍टाप डैम से। अरपा को तब अन्तःसलिला जैसे शब्दाभूषणों की आवश्यकता (मजबूरी) नहीं थी। कलचुरियों की रतनपुर राजधानी पर सन 1740 के बाद मराठों का अधिकार हो गया, 1770 में नदी तट के आकर्षण से बिलासपुर में किले का निर्माण आरंभ हुआ, लेकिन 1818 तक मुख्‍यालय रतनपुर ही रहा। ब्रिटिश अधिकारियों को रायपुर और बिलासपुर सुगम, सुविधाजनक प्रतीत हुआ। अंततः 1862 में बिलासपुर, जिला मुख्‍यालय के रूप में पूर्णतः स्थापित हो गया।

शुरुआत में नगर के अंतर्गत तीन मालगुजारी गांव थे- बिलासपुर, चांटा और कुदुरडांड (क्रमशः वर्तमान जुना बिलासपुर, चांटापारा और कुदुदंड)। नगर, किला वार्ड से शनिचरी होते हुए गोल बाजार होकर आगे पसरने लगा और इसके बाद रेल के आगमन से नगर की विकास-गति में मानों पहिए नहीं, पर लग गए। रेलवे की तार-घेरा वाली सीमा और दीवाल वाली सीमा क्रमशः तारबाहर और देवालबंद (वर्तमान दयालबंद) मुहल्‍ले कहलाए। दाढ़ापारा, दाधापारा हो गया। अब नगर-सीमा में समाहित अमेरी, तिफरा, चांटीडीह, सरकंडा, कोनी, लिंगियाडीह, देवरीखुर्द, मंगला जैसे गांव, पारा-मुहल्‍ला जाने जा रहे हैं। नगर पर एसइसीएल, रेल जोन, संस्कारधानी, न्यायधानी की और गोंडपारा, कतियापारा, तेलीपारा, कुम्हारपारा, टिकरापारा, मसानगंज पर ...नगर, ...वार्ड, ...कालोनी की परत चढ़ने लगी है।

प्रगति के साथ, नगर की परम्परा का स्मरण स्वाभाविक है। कहा जाता है 'इतिहास तो जड़ होता है' और 'पुरातत्व यानि गड़े मुर्दे उखाड़ना', लेकिन सभ्यता आशंकित होती है तो पीछे मुड़कर देखती है आस्था के मूल की ओर, कि गलती कहां हुई? और ऐसी प्रत्येक स्थिति में सम्बल बनता है, बिलासा केंवटिन दाई का स्मरण-दर्शन। नगर की गौरवशाली परम्परा का मूल बिन्दु- बिलासा केंवटिन, गहरी और मजबूत जड़ें है, जिसके सहारे यह नगर-वृक्ष आंधी-तूफान सहता पतझड़ के बाद बसंत में फिर से उमगने लगता है।

दसेक साल पहले बिलासा कला मंच, बिलासपुर के एक प्रकाशन के लिए डॉं. सोमनाथ यादव ने बिलासा और बिलासपुर पर लिखने को कहा, नियत अंतिम तिथि पर उन्हीं के सामने वादा पूरा करने के लिए जो लिखा, लगभग वही अब यहां।

53 comments:

  1. राहुल सर आपके आलेख की अब प्रतीक्षा रहने लगी है.. आज जिस तरह से आपने विलासपुर के बहाने संस्कृति और सभ्यता के दर्शन कराएँ हैं मुझे झारखण्ड के कई देवी देवता... कई स्थानों के नाम स्मरण हो आये.. जिसमे माईथान का नाम प्रमुख है जो कालांतर में मैथन बन गया जहाँ अभी दामोदर घाटी परियोजना का एक प्रमुख डैम है... यहाँ का कल्याणेश्वरी माता का मंदिर दर्शनीय है.. कहते हैं कि मिस्टर वूड्स जिन्हें मैथन डैम बनाने के लिए ब्रिटेन से बुलाया गया था वो जब सफलीभूत नहीं हो रहे थे तो उन्होंने माँ की मदद ली... तभी जाके डैम बन सका... इतिहास के एक अनछुए हिस्से से परिचय के लिए आपका आभार..

    ReplyDelete
  2. इतिहास अपने को दुहराता है या यों कहें- नया कुछ घटित नहीं होता, काल, स्थान और पात्र बदलते रहते हैं और व्याख्‍याएं बदल जाती हैं।
    सद्य: प्रमाणित..

    ReplyDelete
  3. अत्यंत मधुर और रोचक पोस्ट जिसकी जितनी तारीफ़ की जाय कम है. इसका भाव वे बेहतर पकड़ सकते हों जिनका उस अंचल से कुछ वास्ता है... जैसे मैं.
    अब यदि छत्तीसगढ़ के बारे में कुछ भी आधिकारिक जानना हो तो आपके ब्लौग से बेहतर स्थान और आपसे बेहतर व्यक्ति मेरे लिए कौन होगा?
    पोस्ट को पढता हूँ तो बचपन में बिलासपुर और उसके इर्द-गिर्द बिताये लम्हे आँखों के सामने तैरने लगते हैं.
    इतनी रोचक और ज्ञानवर्धक पोस्ट के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. मैं आपके ब्लौग को बहुत पहले ही अपनी फेवरिट लिंक्स में शामिल कर चुका हूँ.

    ReplyDelete
  4. प्रगति के साथ, नगर की परम्परा का स्मरण स्वाभाविक है। कहा जाता है 'इतिहास तो जड़ होता है' और 'पुरातत्व यानि गड़े मुर्दे उखाड़ना', लेकिन सभ्यता आशंकित होती है तो पीछे मुड़कर देखती है

    xxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    और यह इतिहास ही है जिसकी नींव पर खड़े होकर हम अपना अक्स देखते हैं ..और खुद का विश्लेषण करते हैं ...फिर आगे बढ़ते हैं ....आपकी पोस्ट इस धरातल पर खरी उतरती है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  5. कहा जाता है 'इतिहास तो जड़ होता है' और 'पुरातत्व यानि गड़े मुर्दे उखाड़ना', लेकिन सभ्यता आशंकित होती है तो पीछे मुड़कर देखती है आस्था के मूल की ओर, कि गलती कहां हुई..
    behad saargarbhit.
    poora aalekh pathak ko baandhe rakhta hai.

    ReplyDelete
  6. बिलासपुर में 8 माह रहा, अब समझ में आया कि कहाँ रहा।

    ReplyDelete
  7. Sansmaran padhana bahut achha laga!Bachpankee kayee yaaden taza ho aayeen.

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. सामाजिक इतिहास का जीवंत दस्तावेज है यह पोस्ट.
    लोक स्मृति से कुछ और नाम याद आते हैं.

    ReplyDelete
  10. अच्छा लगा जानकार ...शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  11. बहुत विस्तार से आप ने समझाया, इस सुंदर लेख के लिये आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. छत्तीसगढ़ पहले से ही आकर्षित करता रहा है, और अब आपके लेख पढ़कर यह आकर्षण बढ़ता ही जा रहा है। मुझ सिरफ़िरे का ठीक नहीं, कहीं आपके अंचल में ही डेरा न जमा लूँ(रिटायरमेंट के बाद), हा हा हा।
    गंभीर बातों को इतने सहज से बखान जाते हैं आप कि कहते नहीं बनता।
    शुक्रिया राहुल जी, इतिहास और पुरातत्व में रुचि जगाने ले किये।

    ReplyDelete
  13. बिलासपुर प्रवास तो पचासों बार हुआ किन्‍तु इस तरह से उसे कभी नहीं जाना। अपने 'धन्‍धे-पानी' मे ही लगा रहा। यह पोस्‍ट पढ कर जी करता है - बिलासपुर की एक यात्रा और की जाए।

    ReplyDelete
  14. बहुत ही शोधपरक लेख है आपका। मैं चुंकि रायपुर का रहने वाला हूँ इसलिए बिलासपुर भी कई बार जाना हुआ है। पर न तो वहाँ अधिक रहा हूँ न ज्यादा घूमा हूँ। अच्छा लगा ये सब जानकर और ज्ञानवर्धन तो हुआ ही। :)

    ReplyDelete
  15. किसी भी बहाने से सही ऐसे भौगोलिक इतिहास को प्रस्तुत करने वाले लेख हमेशा सराहनीय हैं।
    साभार धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. अत्यंत मधुर और रोचक पोस्ट..
    पहली बार आप के ब्लॉग पर आया हूँ आकर बहुत अच्छा लगा ,
    कभी समय मिले तो //shiva12877.blogspot.com ब्लॉग पर भी अपने एक नज़र डालें ..

    ReplyDelete
  17. इतिहास के तथ्य, तर्क-प्रमाणों से परिवर्तित हो सकते हैं, इसलिए संदेह से परे नहीं होते, किंतु लोक नायकों का सच, काल व समाज स्वीकृत होकर सदैव असंदिग्ध होता है।

    और ये रोचक भी होता है...इसलिए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को अनायास ही हस्तांतरित हो जाता है.
    आपकी पोस्ट से छत्तीसगढ़ को पूरे विस्तार और गहराई से जानने का अवसर मिलता है...शुक्रिया

    ReplyDelete
  18. एक जगह के बहाने आपने एक प्रदेश की आत्मा का परिचय कराया । प्रांतीय जीवन और लोकसंस्कृति की अनूठी छाप है आपकी पोस्टों में.पोस्‍ट में क्षेत्रीय भाषा के शव्‍दों को व्‍यापक बनाने हेतु आपका विश्‍लेषण अच्‍छा लगा।वीरांगना सत्ती बिलासा देवी की अमरगाथा आज बी छत्तीसगढ़ के कण कण में प्रचलित हे.
    बअड़ संत्वान्तीं कारी केंवटिन,सुखा नदी म डोंगा चलाय
    धन-धन केंवटिन तोर बअड़ नाव् ,मोटियारी गोटी के चना चबाय
    में अभी इसे ही लोकसंस्कृति की जरीए छत्तीसगढ़ की इथिहस को धुंडने केलिए कोसिस करता हूँ.इस लेख से मुझे बहोत कुछ जानकारी प्राप्त हुआ.कलचुरी नरेश कल्याण साय द्वारा बिलासा देवी को दीए मान-सन्मान की जानकारी भी मुझे प्राप्त हुआ था .आपका आभार

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर ढंग से साझा किया आपने बिलासपुर का इतिहास.... किसी भी स्थान से जुड़ी कितनी रोचक बातें हो सकती हैं.... सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  20. सुरुचिपूर्ण ज्ञानवर्धक आलेख. बधाई.

    ReplyDelete
  21. शिमला जाते हुये एक दो बार बिलासपुर रुकना हुआ लेकिन विस्तार से उसके इतिहास के बारे मे आज ही जाना। बहुत ग्यानवर्द्धक पोस्ट है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. इतिहास को ऐसे जानना अच्छा लगा ...आभार ..सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete
  23. विलासपुर पर केन्द्रित बहुत ही बढ़िया आलेख.... सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  24. Dr.Shambhoo Nath YadavFebruary 2, 2011 at 9:13 PM

    आप के द्वारा दी गई जानकारी काफी महत्वपूर्ण है .धन्यवाद

    ReplyDelete
  25. सरकारी तूती के बाद जब आपके नक्कारख़ाने का नाद सुनता हूँ तब जाकर मुँह से स्वतः निकल पड़ता है
    INCREDIBLE INDIA!!
    अतुलनीय भारत!!

    ReplyDelete
  26. बिलासा यदि ऐतिहासिक सत्य ना हो तो मैं आपकी दूसरी परिकल्पना सतबहिनियों में से बिलासिनी पर दांव लगाता !
    सुन्दर प्रविष्टि ! छत्तीसगढ़ से बाहर के पाठकों के लिए पद्यानुवाद देना बेहतर होता !

    ReplyDelete
  27. राहुलजी,
    आपसे कह तो दिया कि आपकी पोस्ट बाद में पढ़ूँगा,
    लेकिन प्रतीक्षा क्यों करूँ यह सोचकर तुरन्त ही साईट
    पर आ गया । आपकी केंवटिन की कविता का प्रवाह
    इतना जबर्दस्त था कि एक साँस में पढ़ गया । मैंने
    अपने ’उन दिनों’ (हिन्दी-क-ब्लॉग) में बिलासपुर का
    ज़िक्र भी किया है ।कभी वक़्त मिले तो देखिये ।
    आपके लेख को पढ़कर ५० वर्ष पूर्व की यादें ताज़ा हो
    गईं, जब मैं खैरागढ़ (राज) में कक्षा एक से चार तक
    छात्र था ! लगा ’दाई’ यहीं बाहर बैठी होगी ’पैली’ लिये
    हुए ! क्या आपको याद है ऐसा कुछ ?
    सादर,

    ReplyDelete
  28. अद्भुत ;काल खंड ,इतिहास खंड ,भूगोल खंड और कुल -जाति जन्म वृत्तांत /पुराण सब एक ही लेखन प्रवाह में आमेलित !-नयी जानकारियाँ हुईं -महाभारत का योजन गंधा महात्म्य भी सहसा याद हो आया और कोहरें की जन्मकथा भी !

    ReplyDelete
  29. बिलासा दाई और उनके बिलासपुर के संबंध में माइक्रोस्कोपिक व्याख्या की है आपने।
    इतिहास के मंच पर मौन खड़े पात्र आपने निर्देशन में मुखरित हो उठे है।

    ReplyDelete
  30. बिलासपुर से होकर कई बार जाना हुआ है ,अब कभी जाना होगा तो ज्यादा परिचित लगेगा !
    कई नई बातें जानने को मिलीं !
    आभार !

    ReplyDelete
  31. बिलासा और बिलासपुर का इतिहास ... आपने बहुत ही गहन अध्यन किया है सांस्क्र्टिती और जनजीवन का ....
    ऐतिहासिक लेख है ...

    ReplyDelete
  32. कभी गई तो नहीं पर अच्छा लगा पढ़कर और जानकर
    बहुत अच्छा आलेख....बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  33. ग्रेट! देशज जीवन पर आपकी पकड़ और आपकी कलम की ताकत का जवाब नहीं राहुल जी!

    ReplyDelete
  34. ज्ञानवर्धक आलेख. कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    ReplyDelete
  35. बिलासपुर {छ.ग.} से खास लगाव है... पर आज ये सब जानकर बहुत ही अच्छा लगा... ऐसा लगा जैसे सैर हो गयी शब्दों के माध्यम से...
    मुझे भी पहली बार तीन बिलासपुर के बारे में पता चला... बहुत-बहुत धन्यवाद, जानकारी, गीत, और यादों को ताज़ा करने के लिए...

    ReplyDelete
  36. एक बार मैं बस से भटिंडा जा रहा था. नरवाना के पास मेरी आँख खुली तो खिड़की से मुझे साइन बोर्ड पर बिलासपुर लिखा दिखाई दिया. मुझे तो अपने इसी बिलासपुर का पता था. उनींदा होने के कारण सर को एक बार झटका दिया. फिर से देखा तो बिलासपुर ही लिखा था. तब मैंने ड्राईवर को पूछा तो उसने बताया की यह बिलासपुर हरियाणा का है.

    एक बिलासपुर दिल्ली से रिवाड़ी जाते वक़्त धरुहेदा के पास आता है. एक बिलासपुर हिमाचल प्रदेश में भी है.

    लेकिन केंवटिन दाई के बिलासपुर जैसा नहीं देखा.

    ReplyDelete
  37. ये खाइ-खजेना (टिट-बिट) क्या बला है नहीं समझ पाई .....
    बस इतना पता लगा कोई खाने की ही वस्तु है .....

    और ये केंवटिन दाई किसे कहते हैं .....?

    @ दसेक साल पहले बिलासा कला मंच, बिलासपुर के एक प्रकाशन के लिए डॉं. सोमनाथ यादव ने बिलासा और बिलासपुर पर लिखने को कहा, नियत अंतिम तिथि पर उन्हीं के सामने वादा पूरा करने के लिए जो लिखा, लगभग वही अब यहां।

    अच्छी ल गी बलासपुर की ये जानकारी .....
    आपने अपनी तस्वीर भी बदल ली तो हमें पहचानने में थोड़ी मुश्किल लगी कि ये वही राहुल जी है जिनकी अधितर ब्लोगों पे टिप्पणियाँ देखती हूँ .....

    ReplyDelete
  38. chhatisgarh ke ilaake me main bhi kareeb char maheene raha hoon.dalli-rajhara bahut badhiya jagah lagi,khaskar raat ko bahut achchha lagta tha.bhilai ke bhi darshan kiye the.yah baat 1991 ki hai !

    aapke dwara vistar me jankari mili,dil fir vahin pahunch gaya !

    ReplyDelete
  39. आप के द्वारा दी गई जानकारी काफी महत्वपूर्ण है .धन्यवाद

    ReplyDelete
  40. कुछ दिनों से बाहर होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका
    माफ़ी चाहता हूँ

    ReplyDelete
  41. आपकी लेखनी ... वृतचित्र

    छितकी कुरिया मुकुत दुआर, भितरी केंवटिन करे सिंगार।

    ReplyDelete
  42. विलासपुर की संस्कृति और सभ्यता के दर्शन कराने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  43. (फेसबुक पर) श्याम कोरी 'उदय' commented on your post.
    श्याम wrote: "... saargarbhit va prabhaavashaalee lekh ... kintu ukt lekh men, aapne jwaalee naalaa (jo mool roop men ek naalaa hi hai jisme shahar kaa gandaa paanee bahtaa hai) kaa arpa nadi se "sangam" kaa ullekh kiyaa hai, sambhav hai uchit ho, kintu mujhe aisaa prateet hotaa hai ki "arpaa-jwaalee sangam" shabd ke ullekh se lekh kamjor ho rahaa hai ... aisaa meraa vyaktigat vichaar hai !!"

    ReplyDelete
  44. क्या कहूँ राहुल भाई पढ़कर ऐसा लगा मानो बचपन के बिलासपुर में पहुँच गया पता नहीं कंहा गया वह बिलासपुर जिसमें बचपन के कुछ छुट्टियों के दिन मामा के यहाँ गुजरे जवाली नाला जैसा कि आपने कहा है निश्चित ही शायद रोज मेरी प्रोजेक्ट के भारी भरकम नाम के निचे दबकर खो जाये
    आपकी लेखनी को शत शत नमन

    ReplyDelete
  45. इस ज्ञानवर्धक आलेख का शुक्रिया!

    ReplyDelete
  46. फिर लगा कि पूरा छत्तीसगढ़ी हैं आप। और किताब तो छत्तीसगढ़ पर लिख ही डालिए अब। एकदम पाठ्यक्रम में चलने लायक होगी और बेहतर भी। वैसे बिलासपुर की यह कहानी इसके नाम के पीछे सही नहीं लगती। ऐसा मुझे लग रहा है, अपने अल्प ज्ञान से। थोड़ा कठिन लगा यह लेख। फिर पढ़ूंगा कभी।

    ReplyDelete
  47. बिलासपुर में ६ महीने हो गए. अब तक इसके इतिहास पर एक समग्र एवं रोचक जानकारी नहीं मिली थी, इस पोस्ट ने यह कमी पूरी कर दी. राहुल सर को बहुत बहुत धन्यवाद्

    ReplyDelete
  48. SIR
    BILASH BAI KEWATIN . NAMAK BOOK KAISE MILEGA......8542864357

    ReplyDelete
  49. बहोत अच्छा लगा पढ़कर। आपसे मिलने व् बिलासा के इतिहास कथा की पूरी जानकारी पाने की इच्छा हो रही है। कुछ योजना है। मिलकर चर्चा करेंगे। अपना फोन नम्बर दीजिये। मेरा नम्बर है 9300517611. तथा 7000318307 ज़रूर फोन कीजिएगा। मैं मुकेश स्वर्णकार। बलौदा (अकलतरा) से। पर आजकल कोरबा में हूँ। पहले लोकस्वर बिलासपुर में कार्टूनिस्ट व् एडिटर था। शेष मिलने पर।

    ReplyDelete