# गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Friday, January 28, 2011

छत्तीसगढ़ पद्म

वर्ष 2011 की घोषणा के साथ, छत्तीसगढ़ के पद्म अलंकृत और अलंकरणों की संख्‍या क्रमशः 15 और 17 हो गई है। इस सूची के श्री हबीब तनवीर और श्रीमती तीजनबाई पद्मश्री फिर पद्मभूषण अलंकृत हो चुके हैं। श्री सत्यदेव दुबे के लिए संभवतः, इकट्‌ठे पद्मभूषण घोषित हुआ है। सामाजिक कार्य के क्षेत्र में श्री धरमपाल सैनी, श्रीमती राजमोहिनी देवी और चिकित्सा के क्षेत्र में डॉ. दि्वजेन्‍द्र नाथ मुखर्जी, डॉ. अरुण त्र्यंबक दाबके व डॉ. पुखराज बाफना के अलावा इनमें से सभी अलंकरण साहित्य-शिक्षा अथवा कला के क्षेत्र में कार्य-उपलब्धियों के लिए दिए गए हैं।

सूची :

डॉ. दि्वजेन्‍द्र नाथ मुखर्जी - 1965 - पद्मश्री
पं. मुकुटधर पाण्डेय - 1976 - पद्मश्री
श्री हबीब तनवीर - 1983 - पद्मश्री, 2002 - पद्मभूषण
श्रीमती तीजनबाई - 1988 - पद्मश्री, 2003 - पद्मभूषण
श्रीमती राजमोहिनी देवी - 1989 - पद्मश्री
श्री धरमपाल सैनी - 1992 - पद्मश्री
डॉ. अरुण त्र्यंबक दाबके - 2004 - पद्मश्री
श्री पुनाराम निषाद - 2005 - पद्मश्री
सुश्री मेहरुन्निसा परवेज - 2005 - पद्मश्री
डॉ.महादेव प्रसाद पाण्डेय - 2007 - पद्मश्री
श्री जॉन मार्टिन नेल्सन - 2008 - पद्मश्री
श्री गोविंदराम निर्मलकर - 2009 - पद्मश्री
डॉ. सुरेन्द्र दुबे - 2010 - पद्मश्री
श्री सत्यदेव दुबे - 2011 - पद्मभूषण
डॉ. पुखराज बाफना - 2011 - पद्मश्री
डॉ. दि्वजेन्‍द्र नाथ मुखर्जी - पं. मुकुटधर पाण्डेय - श्री हबीब तनवीर
श्रीमती तीजनबाई - श्रीमती राजमोहिनी देवी - श्री धरमपाल सैनी

डॉ. अरुण त्र्यंबक दाबके - श्री पुनाराम निषाद - सुश्री मेहरुन्निसा परवेज

डॉ. महादेव प्रसाद पाण्डेय - श्री जॉन मार्टिन नेल्सन - श्री गोविंदराम निर्मलकर

डॉ. सुरेन्द्र दुबे - श्री सत्यदेव दुबे - डॉ. पुखराज बाफना
डॉ. दि्वजेन्‍द्र नाथ मुखर्जी को पश्चिम बंगाल का, श्री हबीब तनवीर को दिल्ली और मध्यप्रदेश का, सुश्री मेहरुन्निसा परवेज को मध्यप्रदेश का और श्री सत्यदेव दुबे को महाराष्ट्र का दर्ज किया गया है, लेकिन जन्मना अथवा छत्तीसगढ़ से गहरे जुड़ाव के कारण इस सूची के आवश्यक नाम हैं। प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्‍या, 25 जनवरी को इन सम्‍मानों की घोषणा की जाती है। (विशेष प्रयोजन हेतु अधिकृत वेबसाइट तथा सम्‍पूर्ण सूची का अवलोकन करें।)

निवेदन :

पद्म अलंकृतों की चर्चा के दौरान और इसकी तलाश में स्‍वयं को हुई कठिनाई के निदान हेतु विस्‍तृत तथ्‍यात्‍मक संयोजन, विश्‍लेषण सहित तैयार किया जाने की योजना थी, वैसी तैयारी अब तक नहीं हो सकी, लेकिन शुरुआत की दृष्टि से और मान कर कि इतनी भी जानकारी उपयोगी होगी, अतएव ...

सविनय, इस पोस्ट पर सामान्यतः टिप्पणी अपेक्षित नहीं है, किंतु तथ्यात्मक जानकारियों को अद्यतन और बेहतर करने के अपने प्रयास के अलावा परिवर्धन, संशोधन के आपके सुझाव एवं सहयोग का स्वागत रहेगा।
आभार - इंडि‍यानेटजोन, श्री सैयद अली, जगदलपुर, श्री संजीव ति‍वारी, भिलाई, श्री आलोक देव, जगदलपुर, श्री अनूप कि‍ण्‍डो, अंबिकापुर

पद्मश्री सम्‍मान 2012 के लिए छत्‍तीसगढ़ की दो महिलाओं- श्रीमती शमशाद बेगम तथा श्रीमती फूलबासन बाई यादव का नाम, सामाजिक कार्य के क्षेत्र में घोषित हुआ है।

36 comments:

  1. सार्थक जानकारी इससे हमें इन व्यक्तियों के बारे में जानने का अवसर प्राप्त होगा ...आपका आभार

    ReplyDelete
  2. छत्तीसगढ़ में पद्मश्री को ले कर एक माफिया सक्रिय है. लोग जितना है, नहीं, उससे ज्यादा अपेक्षापाल बैठे है. दुर्भाग्य यही है. पद्मश्री के लिए जिस स्टार पर यहाँ जोड़तोड़ देख रहा हूँ. उससे निराशा होती है,की क्या इतना नीचे गिर कर पद्श्री मिलती है? पहले तो शायद ऐसा नहीं था. मान ही नहीं सकता. लेकिन अब कुछ सालों से ऐसा हो रहा है. राज्य के पद्मश्री प्राप्त लोग पद्मश्री पाने के बाद और गौरवान्वित हो, ऐसा न हो की लोग उन्हें 'छद्मश्री'' कहने लगे. अपने राज्य में अनेक विभूतिया है, जो पद्मश्री क्या पद्मविभूषण और उससे भी अच्छी उपाधियाँ पाने लायक है. लेकिन सच तो ये है, की उसके लिए भले लोग प्रयास ही नहीं करेंगे...खैर, आने वाले समय में पद्मश्री देने का कोई और बेहतर तरीका निकले तो शायाद और बेहतर नाम सामने आयेंगे. बहरहाल यह संतोष की बात है, की चलो, जैसे भी, जिस तरीके से भी हो, पद्मश्री मिल तो रही है...

    ReplyDelete
  3. देश पे राजनीति,धर्म पे राजनीति,इंसानियत पे राजनीति ,तिरंगे पर भी राजनीति...फिर ये पुरस्कार कैसे अछूते रहते.

    ReplyDelete
  4. राहुल सिंह जी मै गिरीश पंकज से पूरी तरह सहमत हूँ और छत्तीसगढ़ में इन पुरस्कारों हेतु चयन कर्ताओं की बुद्धि और सोच पर शर्म आती है

    ReplyDelete
  5. प्रतिक्षा रहेगी विस्तृत जानकारी की।

    ReplyDelete
  6. अपेक्षित नहीं है, इसलिये....

    ReplyDelete
  7. राहुल जी! सही कहा कि टिप्पणी अपेक्षित नहीं है.. किंतु एक नाम पर अपनी बधाई न व्यक्त करूं तो मन में कसक रह जाएगी.. मेरे आदर्श रहे पंडित सत्यदेव दुबे का नाम चाहे महाराष्ट्र की सूचि में हो या छत्तीसगढ़ की.. मेरे तो हृदय में निवास करते हैं वे!!
    अतः बधाई मेरी ओर से आपके मार्फ़त!!

    ReplyDelete
  8. Gantantr diwas kee haardik badhayee!

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद इस जानकारी के लिए।

    ReplyDelete
  10. स्वस्थ परम्परा है, छत्तीसगढ़ की।

    ReplyDelete
  11. भाई साहब उपर फ़ोटु के लिए एक जगह खाली रखी है आपने।
    हम भी सोच रहे हैं कि वहां हमारी फ़ोटो लगे तो बढिया हो जाए।
    हम भी कतार में लगे हैं समझिए। कभी तो सुनेंगे ठाकुर देव।

    ReplyDelete
  12. हम girish pankaj जी से सहमत हे जी, बाकी उस खाली जगह पर अभी से आप ललित भाई की फ़ोटू चिपका दे:) हम भगवान से प्राथना करते हे कि इन की कामना पुरी हो

    ReplyDelete
  13. राहुल जी इन सभी विभुतियों का संक्षिप्त परिचय दो चार पंक्तियों में दे दिया जाए तो जानकारी में वृद्धि होगी।

    इस वर्ष सम्मानित सभी व्यक्तियों को बधाई।

    ReplyDelete
  14. इतने बडे और महत्‍वपूर्ण पुरस्‍कार जिनसे किसी खास व्‍यक्ति का नाम नहीं प्रदेश का नाम गौरवान्वित होता है वो हैं पदम पुरस्‍कार और अगर छत्तीसगढ़ में इन पुरस्‍कारों को ले कर एक माफिया सक्रिय भी है तो उस कमेटी के लोगों को भी ये सोचकर क्‍या चुनाव नहीं करना चाहिये कि दूसरे प्रदेश के लोगों के सामने हमारे प्रदेश के नाम भारी पडें....और जिनके नामों पर किसी को भी प्रतिक्रया देने का अवसर न मिले....खोजने पर अगले कई बरसों के लिये ऐसे नाम जरूर मिल जायेंगे जिनके लिये प्रदेश का हर व्‍यक्ति सहमत होगा....

    ReplyDelete
  15. कोई टिपण्णी नहीं.

    ReplyDelete
  16. पुरस्कारों के पीछे, राजनीति तो होती है. पर मेहरुन्निसा परवेज और सत्यदेव दुबे का नाम देख,अच्छा लगा...बचपन से ही इन दोनों की प्रशंसक रही हूँ...आपकी पोस्ट से पता चला कि ये लोग छत्तीसगढ़ के हैं.

    ReplyDelete
  17. तीजन बाए जी, हबीब तनवीर जी और सुरेन्द्र दुबे जी के बारे में जानकारी थी, और भी लोगों के बारे जानकर बहुत खुशी हुई... छतीसगढ़ कभी अलग लगा ही नहीं... शायद इसीलिए वहां की खुशी और गम भी अपना ही लगता है... ये सरहदें तो अजीब-बुद्धी की देन है...

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. इन्हें टिप्पणी ना माना जाए :)

    (१) रुक्मणी आश्रम डिमरापाल , जगदलपुर वाले पद्मश्री धर्मपाल सैनी को कहां का माना जाये ?

    (२) मध्य प्रदेश के एक पद्मश्री बंदे को उनके ही शिष्य छद्मश्री कहते थे ! उनकी सम्मान जुगाड़ने की तकनीक पर चर्चा की जा सकती है :)

    (३)अब सम्मान को छोडिये भी ...आपका नया प्रोफाइल फोटो गजब का है पहले क्यों नहीं लगाया ? :)

    ReplyDelete
  20. जानकारी में वृद्धि हुई...

    ReplyDelete
  21. litrally very nice and knowladgeable post!

    ReplyDelete
  22. बहोत अच्छा जानकारी मिला इस ब्लॉग से. सर जी इन सभी बिद्वान के संक्षिप्त परिचय मिलजाता तो अच्छा होता.बहोत अच्छी जानकारी आप से मिला.
    बहोत बहोत आभार इस रोचक पोस्ट केलिए.

    ReplyDelete
  23. इस लेख के ज़रिये अच्छी जानकारी मिली। छतीसगढ़ के सभी सम्मानित जन कों बधाई ।

    ReplyDelete
  24. आप अध्‍येताओं के लिए तत्‍काल सन्‍दर्भ जुटाने का प्रशंसनीय (और अनुकरणीय भी) परिश्रम कर रहे हैं। साधुवाद।

    ReplyDelete
  25. प्रतीक्षा रहेगी इन विभूतिओं के बारे मे जानकारी की। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  26. 'जिन्हें मिला है उन्हें ही क्यों?
    किसी और को क्यों नहीं'
    मेरे वाले को क्यों नहीं'

    यह सुर कॉमेंट्स में नहीं पसंद आया ,सूची और सम्बद्ध जानकारी अच्छी लगी, मेरे जैसे और लोगों को भी,नई किन्तु महत्वपूर्ण चीजें आप के माध्यम से पकड़ में आ जाती हैं.

    ReplyDelete
  27. छत्तीसगढ़ के आँचल में अभी बहुत कुछ छिपा है ... कई अनमोल रतन निकालने बाकी हैं ....

    ReplyDelete
  28. धन्यवाद इस जानकारी के लिए।

    ReplyDelete
  29. sadhuwad.apni upalabdhiyon ko sahejana nayi pirhi ke liye preranhaspad hai.

    ReplyDelete
  30. फोटोग्राफ की पूर्ति किसी के द्वारा आज दिनांक तक नहीं किया गया, हमारा देश कितनी तरक्‍की कर रहा है.

    किशोर साहू

    ReplyDelete
  31. thank you so much sir for coming my Blog.

    ReplyDelete
  32. डॉ. दि्वजेन्‍द्र नाथ मुखर्जी इनके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है हमें, कृपया इनके बार में कुछ बताए।

    ReplyDelete