# रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Sunday, May 6, 2012

सिनेमा सिनेमा

आशीष कुमार दास
सिनेमा के 100 वर्षों के सफर को भिलाई के आशीष कुमार दास जी ने छत्तीसगढ़ रेडियो श्रोता संघ, रायपुर और मोहम्मद नईम तथा अपने अन्‍य सहयोगियों की मदद से आज रायपुर में प्रदर्शित किया। आशीष जी के पास पुराने दस्‍तावेजों, प्राचीन सिक्‍कों के अतिरिक्‍त महात्‍मा गांधी, नेहरू जी, नेताजी बोस, गुरुदेव रवीन्‍द्र, स्‍वतंत्रता संग्राम संबंधी सामग्री का भी संकलन है। भारतीय सिनेमा की इस प्रदर्शनी में फिल्मों के लगभग 100 बुकलेट-पुस्तिकाओं का संकलन रखा गया है। चलचित्रों की इस प्रदर्शनी की झलक, चित्रों में-
फिल्‍म पुस्तिकाएं
सिनेमा हाल के टिकट
द राजपूताना टाकीज लिमिटेड, जयपुर का शेयर सर्टिफिकेट
बाम्‍बे टाकीज के फिल्‍मों की सूची यहां दर्ज है.
रियासती पोस्‍ट कार्ड पर फिल्‍मी विज्ञापन
इस फिल्‍म के छत्‍तीसगढ़ से रिश्‍ते की बात होती है
और दर्शाया कलाकार, अन्‍य राजकुमार (छोटे) हैं. 
फीयरलेस नाडिया और जान कवास के साथ पेश
बकरा कल्‍लू उस्‍ताद
स्‍वयं के हस्‍ताक्षर युक्‍त देविका रानी का दीवाली ग्रीटिंग कार्ड

छत्‍तीसगढ़ के एक और खोजी शिवानंद कामड़े जी और 'आलम आरा' की बातें अगली किसी पोस्‍ट के लिए।

41 comments:

  1. जय हो माया मछेन्द्र .....नाडिया ..जान कौस ...
    और वो मेरा बचपन ...याद आया ... मन भाया ,,
    आभार!

    ReplyDelete
  2. beautiful collectable collection and nice post .
    from begining to end waiting next.
    THANKS FOR NICE POST.

    ReplyDelete
  3. संग्रहणीय सामग्री .....!

    ReplyDelete
  4. आशीष कुमार दास जी का धन्‍यवाद कि‍ धरोहर आज भी संजोए हुए हैं

    ReplyDelete
  5. गज़ब। इधर अभी ही तहलका पर " टूरिंग टॉकीजों" पर राजकुमार सोनी जी की शानदार रिपोर्ट पढ़ी और अब यह। क्या कलेक्शन है!

    ReplyDelete
  6. चित्रों में व्यक्त पूरा इतिहास..

    ReplyDelete
  7. Heritage of National Importance. A year ago, i read a news mentioning that many of the manuscripts, Movie reels and other information regarding dozens of films destroyed due to lack of care and improper preserving techniques.
    Kudos to Ashish kumar Das, Md Nayeem and others who are doing a very generous work...
    And thanks U (Rahul Sir) for bringing such a nice work done by them to the fore via blog..

    Regards
    Bikash K Sharma

    ReplyDelete
  8. आशीष जी के श्रमसाध्य कार्य को नमन...​
    ​​
    ​संग्रहणीय पोस्ट के लिए आपका आभार...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. नं. ०२७ जैसा टिकट लेकर हम भी सलीमा देखे हैं.वो बहार ही ऐसी थी जब पोस्टर देख के ही दिल धडकता था !

    आज सौ-साल बाद सिनेमा अंदर से बाहर तक बहुत बदल गया है !

    ReplyDelete
  10. हमारे लिए बिलकुल नयी जानकारी ...
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  11. बहु‍त कुछ याद आ गया है।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया .....संग्रहणीय

    ReplyDelete
  13. विशिष्ट लोग , विशिष्ट शौक !

    ReplyDelete
  14. वाह आशीष कुमार दस जी तो भंयकर सिनेमा प्रेमी और संग्राहक निकले

    ReplyDelete
  15. बढ़िया संग्रह है !!!

    ReplyDelete
  16. आशीषजी की मेहनत को आपने विस्‍तार देकर सिनेमाप्रेमियों पर उपकार किया है। पूरा युग रू-ब-रू हो गया।

    ReplyDelete
  17. बढ़िया संग्रह है :-)

    ReplyDelete
  18. न सिर्फ आशीष जी का धन्यवाद इस संग्रह के लिए वरन् आपका भी...हम तक इस संग्रह के बारे में सूचना पहुंचाने के लिए। सादर।

    ReplyDelete
  19. ये कलेक्शन तो अनमोल है. इन्हें हमारे साथ शेयर करने का बहुत शुक्रिया. फिल्में एक गए वक्त की परछाई दिखाती हैं...सौ साल की फिल्मों की इस धरोहर को सहेजने के प्रयास छोटे-बड़े स्तर पर चल रहे हैं ये जानना एक सुखद अहसास है.

    इन्हें वर्चुअली देखना इतना अच्छा लग रहा है...प्रदर्शनी में जा कर वाकई बेहद अच्छा लगा होगा आपको.

    ReplyDelete
  20. नाडिया का चेहरा भूल गया हूँ ...पर यहाँ आकर याद आ गया

    ReplyDelete
  21. भाई वाह, बहुत बहुत आभार, ऐसे चित्र याद दिलाए, जो भूल गए थे.

    ReplyDelete
  22. लगता है चित्रों और स्टिल्स में ही सदियाँ गुज़र गयीं!!

    ReplyDelete
  23. भुली बिसरी एक कहानी,
    अब आई है याद पुरानी।

    गजब का कलेक्शन है।

    ReplyDelete
  24. संग्रहणीय सामग्री

    ReplyDelete
  25. पुरानी बातें नई बातें..

    ReplyDelete
  26. वो भूली दास्तां..... लो फिर याद आ गई

    ReplyDelete
  27. वाह, बेहद दुर्लभ संकलन हैं। आनंदम् !

    ReplyDelete
  28. .


    फिल्मों और भारतीय राजनीति के बारे में
    मुझे मेरे स्वर्गीय पिताजी के बचपन के ज़माने तक की बहुत सारी बातों की जानकारी है …
    अधिक अपचरिचित-सा नहीं लगा आपकी इस संग्रहणीय पोस्ट को पढ़-देख कर…
    बहुत अच्छा लगा , आनंद आया !

    आभार आपके प्रति और आशीष कुमार दास जी और मोहम्मद नईम जी तथा उनके सहयोगियों के प्रति !

    ReplyDelete
  29. वाकई दुर्लभ और संग्रहणीय!

    ReplyDelete
  30. सिनेमा के सौ साल पर आगे और भी पृष्ठों की प्रतीक्षा रहेगी। बधाई .

    ReplyDelete
  31. सिनेमा के सौ साल पर आगे और भी पृष्ठों की प्रतीक्षा रहेगी। बधाई .

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर! शुक्रिया!

    रविकान्त

    ReplyDelete