# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Monday, January 23, 2012

मल्हार

विन्ध्य और सतपुड़ा का संगम और इसके बीचों-बीच मेकल का गर्वोन्नत शिखर। मेकल के पादतल पर छत्तीसगढ़ का खुला और विस्तृत मैदान। महानदी, शिवनाथ के जल-प्रवाह से सिंचित होकर इस मैदान में विकसित हुआ है सभ्यता का वह शिशु, जो आदिम जनजातियों में सांस लेता है, जन-जन में धड़कता है और पुराने अवशेषों में आंखें खोल कर मानों अपनी निश्छल और मासूम हंसी बिखेर देता है, तब छत्तीसगढ़ का यह धान का कटोरा लबालब भर जाता है सम्पन्नता से और जिसकी सौम्यता, आभूषण बन अपनी चमक से स्वाभाविक ही आकर्षित करती है।

देवालयों के खण्डहर, टूटी-फूटी मूर्तियां, पत्थर और तांबे पर कुरेदे अजीब अक्षर, पकी मिट्‌टी के खिलौने-ठीकरे और सोने, चांदी, तांबे के सिक्के। ढेरों तरह के अवशेष और न जाने कितने पुराने। पर हैं पुराने जरूर। किसी की नजर पड़ती है और वह तय कर लेता है काल का अंतर और अंतर इतना साफ है कि अवशेष मानव निर्मित होंगे, मानने का मन नहीं होता। शायद यह सब कुछ परमात्मा ने ही गढ़ा है। कोई राजा, महाप्रतापी और बहुत पुराना तो जरूर रहा होगा। शायद उसने सिरजा हो यह सब, वह भी सतजुग में-
रइया के सिरजे रइया रतनपुर,
राजा बेनू के सिरजे मलार।

कौन है बेनू राजा, गायक देवार भी नहीं जानता, लेकिन गाता है। इतिहास से अधिक जीवंत लोक-जीवन की साम-वाणी। इतिहास, और खासकर पुरातत्व तो अंधेरे में चलाया तीर है, निशाने पर लगा तो लगा नहीं तो तुक्का? जितना कुछ मिला, खोजा उतना इतिहासकार ने हमें बताया, बाकी जिज्ञासा शांत करने का जवाबदार तो वह नहीं है। इसीलिए देवार कवि-गायक का स्वर फूटता है या कोई साहित्यकार लिख जाता है-
गजानन अंबिका की गोद में सानंद रहते हैं।
करे कल्याण जो जन का उन्हें केदार कहते हैं॥
करे जो देवि को शोभित उसे श्रृंगार कहते हैं।
करे हर मन को जो मोहित उसे मल्हार कहते हैं॥

हमारा इतिहास इसी तरह मिथक दंतकथाओं से जीवंत रहा है और हमारे सामाजिक परिवेश हमारी चेतना में, धर्म-संस्कृति से मिलकर एकरूप सपाट बुनावट कस जाती है कि उनके ताने-बाने को देख पाना सरल नहीं है, यही हमारी मानसिकता की उदार, संतुलित, वृहत्तर संसार की पृष्ठभूमि बनती है।

मल्हार, मलार और मल्लालपत्तन; नाम तीन, लेकिन स्थान एक ही, बिलासपुर से 33 किलोमीटर दूर, मस्तूरी-जोंधरा मार्ग पर मामूली सा कस्बा है यह। किन्तु पुरानी कला-संस्कृति के प्रमाण और काल का विस्तार मानों मल्हार के सीमित दायरे में ही सिमट आया है, काल और कला का इतना सघन विस्तार अन्यत्र दुर्लभ है। राह चलते यहां आपसे कोई ठीकरा या प्रतिमा खंड ठोकर खाकर लुढ़क सकता है, ऐसा टुकड़ा जो समृद्धि-गौरव से गुरु-गंभीर मौन हो और अपने किसी आत्मीय पुराविद को पाकर यकायक मुखर हो उठे।

मल्हार और आसपास के वर्तमान गांव- चकरबेढ़ा, बेटरी, जुनवानी, नेवारी, जैतपुर, बूढ़ीखार; शायद यह पूरा क्षेत्र पहले विशाल नगर का हिस्सा रहा होगा। वर्तमान जैतपुर और बेटरी गांव लीलागर नदी के किनारे हैं यानि मल्हार पूर्व में लीलागर, पश्चिम में कुछ दूरी पर अरपा और दक्षिण में कुछ और दूर शिवनाथ नदी, इस सलिला-त्रयी की गोद में है। तालाब भी कोई पांच-पचीस नहीं 'छै आगर छै कोरी' यानि पूरे एक सौ छब्‍बीस।

मलार का मल्हार नाम परिवर्तन तो हाल के वर्षों में हुआ, शायद अधिक ललित और साहित्यिक नाम के रूप में सुधारने की कोशिश में ऐसा हुआ। यद्यपि मूल स्थान नाम मलार, मल्लालपत्तन से सीधे व्युत्पन्न है। स्थान नाम का पत्तन शब्द महत्वपूर्ण है, पत्तन यानि बाजार-हाट या गोदी। पुराविदों का मत है कि मल्हार कभी प्रशासनिक मुख्‍यालय या राजधानी रहा हो, ऐसा पुष्ट प्रमाण नाममात्र को मिलता है, किन्तु धर्म, कला, व्यवसाय का महत्वपूर्ण केन्द्र जरूर रहा है। जलमार्ग से होने वाले व्यापारिक आवागमन की दृष्टि से मल्हार में आज भी केंवट-मल्लाहों का बाहुल्य है और केंवट आबादी के क्षेत्र भसर्री में पुराने अवशेषों की भरमार है, यहां घर की नींव खोदते हुए पुरानी नींव निकल सकती है और कुंआ खोदते हुए निकल आया पुराना कुंआ तो अब भी मौके पर देखा जा सकता है।

दो हजार साल से भी अधिक पुरानी बताई जाने वाली वासुदेव-विष्णु की अद्वितीय प्रतिमा सहित अनगिनत कलाकृतियां। देव-प्रतिमाएं इतनी कि कहावत चलती है- 'सब देवता बसे मलार।' प्रसन्नमात्र के एकमात्र ज्ञात तांबे के सिक्के और मघ शासकों के दुर्लभ सिक्कों सहित ढेरों सिक्के, मुद्रांक, व्याघ्रराज और महाशिवगुप्त के अभिलेखों सहित सैकड़ों-हजारों शब्दों का उत्कीर्ण प्राचीन साहित्य, बेशकीमती और ठोस पत्थरों की गुरिया और मनकों की तो खान ही है।
पुरानी कीमियागिरी में प्रेरणा की भूमिका आदिम इच्छा ने ही निभाई, यानि यौवन और स्वर्ण या कहें कालजयी होने की ललक और भौतिक सम्पन्नता, ऐश्वर्य की चाह। मल्हार की प्राचीन कलाकृतियां आज कालजयी होकर हमारे समक्ष विद्यमान हैं और सोना तो 'कनक कनक ते सौ गुनी मादकता अधिकाय' है ही। कहते हैं मल्हार में कभी सोने की बरसात हुई थी और यहां दुनिया के लिए ढाई दिन का राशन पूरा कर सकने की सम्पदा धरती के गर्भ में समाई हुई है। नाम भी है- सोनबरसा खार। इन कथनों में चाहे जितनी सचाई हो लेकिन मल्हार में आज भी यह सच्ची कहावत पूरी तरह लागू है कि 'संफरिया नांगर नई चलय' यानि हल अकेले-अकेले ही जोतते है किसी के साथ नहीं, क्योंकि कहीं भी, कभी भी और कुछ भी मिल जाने की आशा अब भी लोगों को होती है।

मल्हार के पुरातत्व का काल और क्षेत्र-विस्तार धार्मिकता के तीन बिंदुओं पर केन्द्रित हो गया है- पातालेश्वर या केदारेश्वर मंदिर, देउर और डिड़िन दाई। पातालेश्वर मंदिर परिसर में इस ग्राम और क्षेत्र की धार्मिक आस्थाओं के साथ विविध गतिविधियां जुड़ी हैं। यहीं स्थानीय संग्रहालय है। मल्हार महोत्सव पर पूरे छत्तीसगढ़ के लोक-कलाकारों का मेला यहां लग जाता था और महाशिवरात्रि पर दस दिन के मेले में तो मानों पूरा क्षेत्र ही उमड़ पड़ता है।

देउर का प्राचीन मंदिर का टीला देउर कहा जाता था और दो विशाल मूर्तियों के कारण भीमा-कीचक भी। किसी प्राचीन स्थल की पूरी रहस्यात्मकता सहित इस टीले की रहस्य की परतें तीसेक साल पहले खुलनी शुरू हुईं। रहस्य के साथ भौतिकता की भव्य कल्पना सदैव जुड़ जाती है और यह प्रकाशित होते ही लोक-मानस को निराशा ही होती है देउर के स्थान पर प्रकाश में आया आठवीं सदी की महत्वपूर्ण स्थापत्य संरचना लेकिन लोक-मानस का मनो-महल भरभरा कर ढह गया, इसीलिए शायद वह धार्मिक महत्व न पा सका।

और डिड़िन दाई से तो जैसे पूरे मल्हार की धर्म-भावना अनुप्राणित हुई है। काले चमकदार पत्थर से बनी देवी। डिड़वा यानि अविवाहित वयस्क पुरुष और डिड़िन अर्थात्‌ कुंवारी लड़की। माना जाता है कि मल्हार के शैव क्षेत्र में डिडिनेश्वरी शक्ति अथवा पार्वती का रूप है, जब वे गौरी थीं, शिव-वर पाने को आराधनारत थीं। डिड़िन दाई का मंदिर पूरे मल्हार और आसपास के जन-जन की आस्था का केन्द्र है।

सरकारी पुरातत्व विभाग द्वारा तो यहां संरक्षण, अनुरक्षण, शोध और संकलन किया ही गया है, सागर विश्वविद्यालय द्वारा उत्खनन भी यहां कराया गया लेकिन ग्रामवासी भी कुछ पीछे नहीं हैं। लगभग सभी घरों में कोई अलंकृत नक्काशी का टुकड़ा देखा जा सकता है और कुछ ऐसे लोग भी हैं, प्राचीन अवशेषों का संकलन और सुरक्षा, जिनकी दिनचर्या में शामिल है। जो ऐसे माहौल में जन्मा, पला-बढ़ा उसकी विशिष्ट संवेदना और मल्हार से लगाव तो स्वाभाविक ही है तथा मल्हार के गौरव को प्रकाशित करने के प्रयास भी कम महत्वपूर्ण नहीं हैं और इस परिवेश में संस्कृति के अन्य पक्ष- संगीत, गायन और साहित्यिक चेतना का विकास भी स्वाभाविक है। इस छोटे से कस्बे में राष्ट्रीय स्तर की कवि गोष्ठियां, लोकमंच के कार्यक्रम और सांस्कृतिक उत्सवों के आयोजन से लेकर राजनैतिक कार्यक्रम तक आयोजित हुए हैं, होते रहते हैं। पुरातत्व से जुड़े दुनिया भर के लोगों का तो तीर्थ यह है ही।

टीपः

मल्‍हार वाले श्री पा ना सुब्रमनियन और श्रीमती शुभदा-श्री विवेक जोगलेकर जी से बीसेक साल पहले पुरातत्‍व पर बात होती तो मेरी प्रशिक्षित बौद्धिकता और अर्जित ज्ञान (सूचना) से काम न चल पाता, इससे मुझे दिशा मिली और पुराने स्‍मारक-स्‍थलों को अपने विषय-विधा की सीमा से निकल कर देखने में मदद हुई। साथ ही श्री जी एल रायकवार की भटकी-सी लगने वाली बातों से पुरातत्‍वीय परिवेश के लिए न सिर्फ नजर खुली रखने, बल्कि उसके प्रति सम्‍मान का भाव विकसित करने का रास्‍ता बना। तभी यह प्रयोग किया था कि किसी पुरातत्‍वीय स्‍थल पर ऐसा कुछ लिखूं, जिसमें पुरातत्‍व न-सा हो।

36 comments:

  1. धन्यवाद एक महत्वपूर्ण और पुरातत्व से जुडी विरासत के बारे में जानकारी का.

    ReplyDelete
  2. विषयवस्तु जितनी मनोरम है अभिव्यक्ति की शैली उतनी ही मौहक! उन प्राचीन अवशेषों में समाया वैभव इस साहित्यिक भंगिमा से बहुत लोभनीय हो उठा है.

    ReplyDelete
  3. सचमुच पुरातत्व से हटकर मल्हार की सुन्दर चर्चा
    पूरा मलार घूम गया आँखों के सामने सुखद अनुभूति
    आपको दो लाइन समर्पित
    नार फांस नरियरा बसे फंकट बसे कोनार
    कुथ्काथ कोसा बसे सब देवता बसे मलार

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी धन्‍यवाद, जोड़ दिया है.(पंक्तियां शायद रांछापोंड़ी वाले धरमलाल जी की हैं और कहावत की तरह प्रचलित हैं.)

      Delete
  4. इस पर कुछ और अधिक पढ़ने की इच्छा हो रही है.

    ReplyDelete
  5. मनमोहक, तथ्यपरक और आपकी छाप लिए!! अमूल्य!!

    ReplyDelete
  6. पुरातत्व से जुड़ी महत्त्व पूर्ण जानकारी,साथ ही आपकी अभिव्यक्ति शैली सुंदर लगी.

    ReplyDelete
  7. सतपुड़ा सुन एक और बस ही बात याद आती है वो है 'सतपुड़ा के घने जंगल उंघते अनमने जंगल' कविता. आज सतपुड़ा देख फिर वही याद आया. उसके अलावा सबकुछ ही नया है !

    ReplyDelete
  8. हम तो पढ़ते सोचते रह गए .....और अपने तो खंगाल लिया उस जमाने को ....!

    ReplyDelete
  9. बरसों के संचित ज्ञान से उपजी है यह पोस्ट, मल्हार कथा गजब है।
    पोस्ट चोरी करने का मन है। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी कई पोस्‍ट ऐसी होती हैं, जिनके लिए हम भी मन मसोस कर रह जाते हैं.

      Delete
  10. प्रस्तुतीकरण लाजवाब है. "पुरातत्व तो अंधेरे में चलाया तीर है, निशाने पर लगा तो लगा नहीं तो तुक्का" इस वाक्यांश से मैं तो सहमत नहीं हूँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. तीर-तुक्‍का वाले वाक्‍य को, अगले वाक्‍य के साथ जोड़ कर देखें तो शायद आशय बेहतर स्‍पष्‍ट हो और वह यह कि पुरातत्‍व में अधिकतर प्राप्‍त अंशों के आधार पर ही प्राचीन स्थिति के चित्र को पूरा करने का प्रयास होता है और अन्‍य तथ्‍यों, प्राप्तियों के बाद वह कई बार न सिर्फ बदल जाता है, बल्कि पलट ही जाता है, तुक्‍का जैसा साबित हो जाता है.

      Delete
  11. बहुत ही लाजवाब जानकारी है। बहुत ही आनन्‍द आया पढ़कर।

    ReplyDelete
  12. lajabab prastuti ... sir!!
    tathyaparak... post!

    ReplyDelete
  13. क्या गजब का लेख है राहुल जी। लेखनी चूमने का मन करता है!

    ReplyDelete
  14. न-सा हो... ... नया प्रयोग दिखा।

    कुछ रोचक बातें भी लगीं जैसे 'हल अकेले-अकेले ही जोतते है किसी के साथ नहीं, क्योंकि कहीं भी, कभी भी और कुछ भी मिल जाने की आशा अब भी लोगों को होती है।'

    या फिर
    'गजानन अंबिका की गोद में सानंद रहते हैं।
    करे कल्याण जो जन का उन्हें केदार कहते हैं॥
    करे जो देवि को शोभित उसे श्रृंगार कहते हैं।
    करे हर मन को जो मोहित उसे मल्हार कहते हैं॥'
    ... ... अब यह तर्ज कुछ ज्यादा ही चलताऊ हो गया है। खूब सुनाई पड़ता है।

    काम बढिया है... छत्तीसगढ पर किताब बन गयी ही लगती है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ’न-सा’ को नसा\नशा मानकर पढ़ता हूँ तो और उचित लगता है - पुरातत्व नसा - कुछ ऐसा ही है न इस आलेख में कि धीमा-धीमा सा कुछ सुरूर की तरह होता है।

      Delete
  15. Good to know the local traditions associated with archaeology, I feel that if you do not take into account these local traditions, however vague these are, then archaeology of that place will be incomplete.

    ReplyDelete
  16. पोस्ट पढ़कर ऐसा लगता गया मानो पुरातन समय में पहुँच गये हों, गहन आलेख।

    ReplyDelete
  17. 'मलार' के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी देने वाला रोचक पोस्ट!

    छत्तीसगढ़ भारत के अत्यन्त प्राचीन क्षेत्रों में से एक है किन्तु अलग राज्य बनने के पूर्व सदैव ही इस क्षेत्र की उपेक्षा होती रही है, जब यह क्षेत्र सी.पी. के अन्तर्गत था तब और जब यह मध्य प्रदेश के अन्तर्गत था तब भी इस क्षेत्र के प्राचीन गौरव तथा पुरातात्विक महत्व को अनदेखा ही रखा गया। ऐसे में छत्तीसगढ़ के गौरवशाली स्थानों के विषय में जानकारी देने वाली पोस्ट वास्तव में सराहनीय कार्य है। आशा है कि भविष्य में भी आप ऐसे पोस्ट प्रकाशित करते रहेंगे।

    ReplyDelete
  18. आपकी पोस्ट पढ़ कर तो मन बोल उठता है - क्या बात! क्या बात! क्या बात!

    ReplyDelete
  19. फिर से एक शोध-परक जानकारी.अभी हाजिरी लगा लीजिए,टीप बाद में !

    ReplyDelete
    Replies
    1. Gazab kee jaankaaree se labalab aalekh!

      Delete
  20. एक महत्वपूर्ण और पुरातत्व से जुडी विरासत के बारे में जानकारी मिली!

    ReplyDelete
  21. मूर्तियां भी बोलती हैं .मैने सुना है कि पातालेश्वर मंदिर के ऊपर सो रहे एक सिपाही को स्वप्न आया था कि नीचे देवता पड़े हैं .खुदाई के बाद वैसा ही निकला .बूढ़ीखार के बारे में बताया गया कि यह मल्हार नगर का शमशान क्षेत्र था .

    ReplyDelete
  22. पोस्ट पढ़ते हुए कई विचार स्फुलिंग कौंधे..पुरा इतिहास पर मेरा ज्ञान शून्य ही है मगर सहज बोध से अचानक ही कुछ काम /बेकाम की लालबुझककडी बातें निकल पड़ती हैं ..क्या कभी मल्ल शासकों का तो अधिपत्य नहीं था इस क्षेत्र में ..मल्ल से मल्लार ..मलार ...यह मल्हार बन गया जो एक प्रसिद्ध संगीत-राग है ..रोचकता लिए हुए है ....जो कुछ भी हो, यहाँ एक प्राचीन संस्कृति दबी सोयी है अभी भी .......रहस्योदघाटन की दरकार है ....

    ReplyDelete
  23. मल्हार का पौराणिक और सांस्कृतिक महत्त्व जानकर आश्चर्य हुआ कि अभी भी इस तरह की हमारी मौलिक विरासत बची हुई है.पुरातत्व विभाग और राज्य-प्रशासन को इसे एक पर्यटन-स्थल के रूप में विकसित करना चाहिए.
    इस क्षेत्र का संरक्षण भी उतना ही ज़रूरी है.
    आपके इस आलेख से शायद सुप्त लोगों में कुछ चेतना आये !

    ReplyDelete
  24. पढ़ लिया लेकिन अभी मन नहीं भरा, कल कॉफ़े की चुस्कियों के साथ फ़िर से पढ़ेंगे।

    ReplyDelete
  25. "हमारा इतिहास इसी तरह मिथक दंतकथाओं से जीवंत रहा है और हमारे सामाजिक परिवेश हमारी चेतना में, धर्म-संस्कृति से मिलकर एकरूप सपाट बुनावट कस जाती है कि उनके ताने-बाने को देख पाना सरल नहीं है, यही हमारी मानसिकता की उदार, संतुलित, वृहत्तर संसार की पृष्ठभूमि बनती है।"
    इन पंक्तियों से उतना सहमत, जिससे ज्यादा हुआ ही नहीं जा सकता।

    ReplyDelete
  26. बहुत ही उम्‍दा सर

    ReplyDelete
  27. सही में पूरा इतिहास ही तीर तुक्के का खेल है.क्योकि अभी 2 घन्टे पहले हुई घटना का सभी उपस्थित लोग जब अलग अलग विवरण देते हो तब सदियों पुरानी बातो को आखिर किस आधार पर 100% सच कहा जा सकता.पर ये पोस्ट काफी अच्छी बनी है.शायद आपकी सबसे अच्छी पोस्ट में एक

    ReplyDelete
  28. अमूल्य!!! यही शब्द फूटता है कंठ से।

    ReplyDelete
  29. आपके प्रत्येक पोस्ट को पढ़ते हुए यही लगता है कि इन्हें पुस्तक की शक्ल में आ ही जाना चाहिये। और ऐसा होगा ही। जब ऐसा हो तो मेरी इच्छा है कि मैं उस पुस्तक का पहला खरीदार और पाठक बनूँ। मेरी हसरत पूरी तो करेंगे, न?

    ReplyDelete
  30. आपके प्रत्येक पोस्ट को पढ़ते हुए यही लगता है कि इन्हें पुस्तक की शक्ल में आ ही जाना चाहिये। और ऐसा होगा ही। जब ऐसा हो तो मेरी इच्छा है कि मैं उस पुस्तक का पहला खरीदार और पाठक बनूँ। मेरी हसरत पूरी तो करेंगे, न?

    ReplyDelete