# साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Friday, July 5, 2019

खुमान साव


पचासेक साल पहले हम किशोर वय साथियों के लिए फिल्मी परदे के नायकों से कहीं बड़ी छवि मंच के, रामचन्द्र देशमुख, लक्ष्मण मस्तुरिया, केदार यादव, भैयाराम हेड़उ जैसे नामों की थी और चंदैनी गोंदा हमारे लिए एक पवित्र नाम रहा। इस सूची में एक अलग नाम खुमान साव का भी था, क्योंकि हम सिर्फ इस नाम से परिचित थे, न चेहरा पहचानते न ही उनके कद को जानते थे। यह नाम मेरी स्मृति में उतनी ही गहराई से दर्ज रहा और इस नाम का आकर्षण भी शायद अधिक ही रहा।

छत्तीसगढ़ राज्य गठन के पश्चात् राजिम मेला के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन था, जिसमें चंदैनी गोंदा की प्रस्तुति को लेकर संवादहीनता की स्थिति बनी और खुमान साव जी से आमने-सामने पहली मुलाकात हुई। वे आम गंभीर से अधिक खिंचे हुए थे। मैं दुविधा में रहा, अपने विभागीय दायित्वों की सीमा और प्रशंसक होने के बीच तालमेल बिठाना था। वे तमतमाए रहे, लेकिन कार्यक्रम की प्रस्तुति शानदार रही। तब से बाद तक उनसे नरम-गरम, तीखी-मीठी होती रही।

वे लगभग हर महीने रायपुर आते और मुझसे मुलाकात होती, मेरे कक्ष में पहुंचते ही उनके बिना बोले चाय का ध्यान करना होता। इसके बाद धूम्रपान के लिए कमरे से बाहर निकल जाते। तबियत ठीक न होने पर अपनी गाड़ी में ही बैठे रहते, वहीं चाय पीते और हम सबसे मिल कर वापस लौटते।

छत्तीसगढ़ के लोक संगीत के लिए उनका एक प्रसंग मेरे लिए अविस्मरणीय है। मैंने किसी लोक कलाकार के धुन की आलोचना की, कि वह फिल्मी धुन की नकल है। इस पर उन्होंने डांटते हुए कहा- ए हमर पारंपरिक धुन आय, तैं का जानबे, फिलम वाला मन नकल करे हें, हमर धुन के। उनके पास पुराने समय में राजनांदगांव में आने वाले बंबइया कलाकारों के भी संस्मरणों का खजाना था।

सन 2005 में किन्हीं कारणों से मुझसे खफा हुए थे। मेरी तबियत खराब हुई और मैं लंबी छुट्टी पर रहा। वापस काम पर लौटा, मुझे पता नहीं था कि वे इस बीच मेरे स्वास्थ्य की जानकारी लेते रहे थे। पूछा- कहां गए रहे अतेक दिन ले, उनकी गंभीरता और उपरी सख्ती के बावजूद मैं उनसे ठिठोली की छूट ले लेता था। मैंने मजाकिया जवाब दिया- घूमे गए रहें। इस पर भावुक हो गए और नारियल का टुकड़ा दे कर बोले, परसाद झोंक, तोर बर नरियर बदे रहें। उनकी अस्वस्थता का समाचार पाकर उनके स्वास्थ्य की कामना मैंने भी की, लेकिन उन्हें वापस स्वस्थ पा कर प्रसाद नहीं खिला सका। उनकी इन स्मृतियों के साथ मेरे भाव वे महसूस कर पाए होंगे, मेरा अटल विश्वास है।

छत्तीसगढ़ी लोक संगीत के पुरोधा खुमान साव का जन्म 5 सितंबर 1929 को हुआ। छत्तीसगढ़ के पारंपरिक लोकधुनों को उन्होंने परिमार्जित किया साथ ही समकालीन छत्तीसगढ़ी काव्य को लोकधुनों में बांधा। छत्तीसगढ़ की सबसे प्रतिष्ठित लोकमंच संस्था ‘चंदैनी गोंदा‘ के वे एक आधार स्तंभ थे। सन 2016 में संगीत नाटक अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित हुए। 9 जून 2019 को उनके निधन के पश्चात् संस्कृति विभाग के सहयोग से स्मारिका ‘श्रद्धांजलि खुमान साव‘ 18 जून को प्रकाशित की गई, जिसमें मेरा यह संस्मरण भी शामिल है।

2 comments:

  1. बड़े दिन बाद आपके ब्लॉग में आया। पढ़ कर खुशी हुई। आभार

    ReplyDelete


  2. This is very good for us and very interesting
    i have some special for related computer and internet
    introduction of c++ programming language
    structure of c++ language
    tokens in c++
    data type in c++

    ReplyDelete