# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Wednesday, June 6, 2012

मेरा पर्यावरण

कल एक और पर्यावरण दिवस हमने बिता लिया।

खबर है इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस का विषय- ''हरित अर्थव्यवस्था: क्या आप इसमें शामिल हैं?'' (Green Economy: Does it include you?)। यह भी खबर है कि इस अवसर पर विशेष प्रदर्शनी रेलगाड़ी के 8 डिब्बों में जैव विविधता और आजीविका के बीच का संबंध भी प्रदर्शित होगा।

पर्यावरण दिवस की अगली सुबह, आज शुक्र पारगमन हो रहा है। यह वैसी उजली नहीं, सूरज पर एक धब्‍बा बनेगा। यह सुबह मेरी रोजाना की साथी मछलियों के लिए हुई ही नहीं। रायपुर के इस खम्‍हारडीह तालाब में मछलियां, मछुआरों की आजीविका बनती रहीं, आज देखा तालाब का कालिख हो रहा हरा पानी और मछलियां...-




लगता है, बच्‍ची ने रट लिया है और सुबकते, पाठ अनचाहे दुहरा रही है-
मछली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है
हाथ लगाओ डर जाती है
बाहर निकालो मर जाती है

आज तो यह पाठ झूठा हुआ।

34 comments:

  1. बचपन में कुछ समय तक अपने नाना नानी के यहां रायपुर में रहा था। शायद भाटापारा इलाका है। वहां के तालाब में किनारे पर बैठ मैं अपनी बांहें फैलाकर, दोनों पंजे फंसाकर पानी अपनी ओर खेंचता था और नन्हीं नन्हीं मछलियां खिंच आये पानी के साथ जमा हो जाती थी। उपर के एक चित्र में ठीक उसी आकार की नन्हीं नन्हीं मछलियां होती थीं। अब तो शायद वह तालाब ही नहीं बचा वहां :(

    ReplyDelete
  2. IT IS VERY VERY DIFFICULT TO COREALETE BETWEEN BEHAVIOUR AND PRINCIPLE..AS WELL AS LIFE AND SAYING SO IT IS THE PART OF LIFE ACCORDING TO ME.

    ReplyDelete
  3. मुझे पक्का तो पता नही पर शायद गर्मियो के अंत मे पानी मे आक्सीजन की मात्रा घट जाने से मछिलिया मर जाती है। वैसे आजकल तालाब के ठेकेदार से दुश्मनी निकालने के लिये भी लोग यूरिया आदी मिलाकर मछलियो को मार देते हैं। और पानी मे जहरीले कचरे के पहुंचने से भी ऐसा होता है। वो समय भी पता नही कितना दूर है जब इंसान इस प्रदूषण का शिकार हो इसी तरह मारे जायेंगे।

    ReplyDelete
  4. प्रदूषण की पराकाष्ठा है, जिस जल में मछलियाँ जीवन पाती है वही उनकी मृत्यु का कारण बन रहा है। जीएं तो जीएं कहाँ?

    ReplyDelete
  5. पर्यावरण प्रदूषण आज सर्वाधिक चिंता का विषय है.... जन जन से यही अपील है...
    जागो मोहन प्यारे... पर्यावरण पुकारे...

    सादर।

    ReplyDelete
  6. देखकर मन दुखी हो गया..

    ReplyDelete
  7. ये सब दिवस खानापूरी हैं... व्यथित और उद्वेलित कर देने वाला पोस्ट.. लेकिन कितने लोग एक दिन के लिए भी अपने कमरे का कूलर, ए सी एक दिन के लिए भी बंद करेंगे... हम तो त्यागे हुए हैं है व्यक्तिगत स्तर पर..

    ReplyDelete
  8. हमने इन जीवों के आश्रय स्थल में भी जहर मिला दिया !

    ReplyDelete
  9. इससे ज्‍यादा दर्दनाक दृश्‍य नहीं हो सकता...

    ReplyDelete
  10. poore paryavarn ko ek khilone kee tarah jo ham treat kar rahe hain.. vah din door nhi jab ham bhi khilone kee tarah toote bikhre pade honge..

    ReplyDelete
  11. There must be fall in the biological oxygen demand.the cause should be detected to ensure it wil not be reapeted before its too delay and irrevocable.its realy pathetic.

    ReplyDelete
  12. कथनी करनी का अंतर पर्यावरण सहेजने के प्रयासों में खूबा दिखता है.... मन व्यथित हुआ देखकर

    ReplyDelete
  13. शनै: शनै: सब पाठ झूठे सिद्ध होने हैं.

    ReplyDelete
  14. jis samay wah kavita likhi gai sayad us samay kavi ne aaj ki isthiti ki kalpana nahi ki thi...aaj hote to kavita ki laine badalane me nahi hichakate....
    yahi khabar aaj akhabar me pada...lekin apake post se phika.......

    ReplyDelete
  15. समय संदर्भित और सारगर्भित ...
    तस्वीरें बोलती हैं .

    ReplyDelete
  16. पर्यावरण पर आपका सारगर्भित आलेख पढ़कर जितना अच्छा लगा, उससे कहीं ज़्यादा दुख हुआ, अपने आसपास को लेकर. मैं कुछ वक्त रायपुर में रह चुकी हूं. वहां प्रदूषण के प्रति लोगों की बेखबरी क्षोभ से भर दने वाली है. शायद आपके लेखन के ज़रिए लोग महसूस कर सकें.
    शुभेच्छु,
    मृदुलिका

    ReplyDelete
  17. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी लगाई जा रही है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  18. दुखद स्थिति है यह ...

    ReplyDelete
  19. मेरा ख्याल है कि तालाब नगर निगम का होगा , मछलियां फिशरीज विभाग की ,पर्यावरण दिवस के नाम पर अंगुली कटा के शहीदी दिवस पर्यावरण विभाग के जिम्मे होगा और पानी में आक्सीजन कम करने वाली तमाम गंदगी आजू बाजू रहने वाले सुयोग्य नागरिकों की !

    ये देश बस ऐसे ही जिये जा रहा है , अपनी ढपली अपना राग ! बहरहाल सम्यक प्रविष्टि !

    ReplyDelete
  20. सच का आइना दिखाती पोस्ट . हम कहाँ हैं?

    ReplyDelete
  21. अपने थोड़े से सुख के लिये इंसान और जीवों पर क्या-क्या अत्यचार कर रहा है- इस कुबुद्धि के परिणाम देख कर भी चेतता नहीं. बड़ी निराशा होती है कभी-कभी तो !

    ReplyDelete
  22. दर्दनाक - यही है, पर्यावरण चिंता की वास्तविक स्थिति।

    ReplyDelete
  23. कौशलेन्‍द्र जी की टिप्‍पणी इ-मेल परः
    प्रदूषण से इतनी ज़ल्दी... सारी मछलियाँ मर गयीं? लगता है किसी ने तालाब में विष डाला था। पर मछलियों को इससे क्या फ़र्क पड़ना ..उन्हें तो मरना ही था आदमी के पेट की जगह अपने घर को ही इस बार बना लिया कब्रिस्तान। जो भी हो दुःखद है।

    ReplyDelete
  24. जो जल होता है जीवन
    आज बना मृत्यु का कारण ।
    क्यूं, कैसे ?

    ReplyDelete
  25. दर्दनाक।

    यह तो तालाब की मछलियाँ हैं वह दिन दूर नहीं जब नदियों का जल भी ठहर जायेगा।

    ReplyDelete
  26. मछलियाँ यहाँ भी ठीक पांच को ही लक्ष्मी कुंड में मरी हैं -यह खराब प्लानिंग है और कुछ नहीं...बढ़ती संख्या,आर्गेनिक लोड और आक्सीजन की कमी ....

    ReplyDelete