# गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Thursday, April 28, 2011

रामकोठी

कटहल और आम, पलाश और सेमल, कोयल की कूक के साथ महुए की गंध का मधु-माधव मास। चैती-वैशाखी का महीना, धर्म-अर्थ और काम से गदराया हुआ। खरीफ जमा है और रबी की आवक हो रही है। मेलों में मनोरंजन, खरीद-फरोख्‍त हुई। मेल-जोल में बात ठहरी, वह अब रामनवमी और अक्ती-अक्षय तृतीया की मांगलिक तिथियों पर वैवाहिक संबंधों के साथ रिश्तों तक आ गई, नई गृहस्थी जमने लगी है। खेती-बाड़ी का भी नया कैलेंडर शुरू हो रहा है।

रायपुर से उत्‍तर में 25 किलोमीटर दूर मोहदी के 1 मई, मजदूर दिवस का रंग लाल नहीं, बल्कि हरित होता है। 15 अप्रैल से 15 दिन की छुट्‌टी के बाद 'सौंजिया' फिर सालाना काम पर लगेंगे। कोई 15 साल पहले वैशाख अधिक मास होने से समस्या आई कि बढ़े महीने का हिसाब कैसे हो, तब आपसी मशविरे से यह काम-काज अंगरेजी तारीख से चलने लगा। सौंजिया, किसानी की अलिखित संहिता का पारिभाषिक शब्द है, जिसकी व्याख्‍या में कृषक जीवन के विभिन्‍न पक्ष उजागर हो सकते है। सामुदायिक जीवन की कल्‍पना सी लगने वाली हकीकत गांवों में सहज रची-बसी है, जिसकी शब्‍द-रचना भी मुझ जैसे के लिए कठिन है, लेकिन तोतली भाषा में स्‍तुति करते हुए संक्षेप में सौंजिया (सउंझिया- साझीदार/साझा) यानि खेती में श्रम भागीदारी से उपज के एक चौथाई का अधिकारी। बाकायदा सौंजिया संगठन है यहां, जो इसी दौरान अपनी कमाई के दम पर सांस्‍कृतिक आयोजन करता है।

लगभग 4000 आबादी वाला छोटा सा गांव, मोहदी। अब एटीएम, मोबाइल, मोटर साइकिल, भट्‌ठी, सरपंची, गरीबी रेखा, नरेगा के चटख रंग ही दिखाई पड़ते हैं, पड़ोसी लोहा कारखाने का भी असर हुआ है, फिर भी गांव की संरचना के ताने-बाने को कसावट देने वाले कई समूह-वर्ग ओझल-से लेकिन सक्रिय हैं। पारा-मुहल्ला, टेन (गो-धन स्वामी आधारित वर्ग), पार (जाति आधारित वर्ग), दुर्गा मंदिर समिति और सबसे खास ग्रामसभा, गांव के पंच-सरपंच और प्रमुख नागरिकों की 25 सदस्यीय समिति, जो रामकोठी का संचालन करती है।

पुरानी बात, गांव में दशहरे का उत्साह है। भजन, माता सेवा, रामायण तो चलता ही रहता है, लेकिन अब की झांकी और लीला की खास तैयारी है। धूमधाम से त्यौहार मना। रामलीला की चढ़ोतरी में इकट्‌ठा हुआ धान इस बार किसी गांवजल्ला काम में खर्च नहीं किया जा रहा है, उसे जमा कर दिया गया है। अब मोहदी में भी रामकोठी है। 85 बरस पहले और आज भी। 'कोठी' यानि कोष्‍ठ या भण्‍डार और 'राम' विशेषण-उपसर्ग का यहां आशय होगा- शुभ, वृहत् और निर्वैयक्तिक। पुरानी रामकोठी छोटी पड़ने लगी तो बड़ा भवन बन गया।

छत्तीसगढ़ में देशज ग्रामीण बैंक जैसी संस्था रामकोठी कांकेर, धमतरी, दुर्ग, राजनांदगांव, कवर्धा और रायपुर जिले में अधिक प्रचलित है। आसपास के गांवों गोढ़ी, नगरगांव में भी रामकोठी है, लेकिन मोहदी की बात कुछ और है। यहां आज भी लगभग डेढ़-दो सौ क्विंटल धान क्षमता यानि कम-से-कम दो लाख रूपए मूल्‍य की जमा-पूंजी है। सवाया बाढ़ी (ब्याज) पर दिये जाने वाले कर्ज की दर अब 15 प्रतिशत सालाना कर दी गई है। त्रुटि और समस्या रहित ग्रामीण प्रबंधन। गांव में रामलीला मंडप भी बन गया। गांव के लोग मिलकर ही रामलीला करते थे, लेकिन चटख रंगों का असर हुआ और पिछले दशहरा में एक सप्ताह के लिए लीला पार्टी पड़ोसी गांव कचना से आई।
रामलीला मंडप पर नाम लिखा है- श्री मुकुंदराव। इस मंच के सामने बछरू (बछड़ा) बंधा दिखा। मेरा देहाती मन भटक जाता है। भंइसा, बइला-बछरू, किसान की ताकत। बछड़े के गले में लदका है, गर्दन पर हल का जुआ रखने का अभ्यास कराया जा रहा है। नाक नाथने का काम किसान कर लेता है, लेकिन सबसे जरूरी बधिया, अब गांव में कोई नहीं कर पाता, पास के पशु औषधालय में जाना पड़ता है। लदका, नथना और बधिया, किसान के जवान होते, मचलते पुत्र के साथ जुड़ रहा है, चाहें तो आप अपनी तरह से सोच कर देखें।

वापस, मुकुंद नाम पर। इसका खास महत्व है, रायपुर और छत्तीसगढ़ के लिए। वैसा ही जो 'शिकागो' नाम का है, दिल्ली और देश के लिए। यानि वह नाम, जो महान व्यक्तियों, नेताओं-अभिनेताओं की आवाज दूर-दूर पहुंचाने का साधन रहा है।
मोहदी में रामकोठी की तलाश करते हुए जो सूत्र मिला, उससे रास्ता तय हुआ मुकुंद रेडियो तक का। यह इतिहास की रामकोठी, खजाने जैसा ही है, जहां रायपुर और छत्तीसगढ़ पधारी हस्तियों की सचित्र स्‍मृति जतन कर रखी है।
रामकोठी की इस रामकहानी में एक रावण भी है, लेकिन यह रावण खलनायक नहीं, बल्कि सहनायक जैसा है और ग्राम देवताओं की तरह सम्मान पाता है।
82 वर्षीय इस रावण प्रतिमा की प्रतिदिन पूजा होती है, मनौती मानी जाती है, नारियल भी रोज ही चढ़ता है। इस क्षेत्र के अन्य ग्रामों की तरह पड़ोसी गांव बरबन्दा में भी रावण प्रतिमा है। गांववासियों से पूछता हूं- 'कस जी, तू मन रावन के पूजा करथव ग।' मेरे सवाल में जिज्ञासा के साथ चुभने वाली फांस भी है, लेकिन जवाब सपाट है- 'हौ, वहू तो देंवता आए एक नमूना के बपुरा (बेचारा) ह।' सटपटा कर, सभी ग्राम देवताओं सहित रावण को हमारी राम-राम।

रावी नदी के किनारे स्थित हड़प्पायुगीन विशाल अन्नागारों को सामुदायिक प्रयोजन का माना गया है। बंगाल के प्राचीनतम, चौबीस सौ साल पुराने अभिलेख, महास्थान (बांग्लादेश) के मागधी प्रभावित प्राकृत लेख में धान्य और कोठागल (कोष्ठागार) शब्द मौर्यकालीन ब्राह्मी में उत्कीर्ण है तथा कर्ज लेन-देन का भी उल्लेख है। छत्तीसगढ़ में बिलासपुर जिले के मदकू घाट (मदकू दीप) से मिले अट्‌ठारह सौ साल पुराने शिलालेख में अक्षयनिधि का उल्लेख भी इसी परंपरा का आरंभिक प्रमाण माना जा सकता है। छत्‍तीसगढ़ की प्राचीन राजधानी सिरपुर की खुदाई से हाल ही में बारह सौ साल पुराने अन्‍नागार प्रकाश में आए हैं।

अक्षय तृतीया पर परिशिष्‍टः

1 मई, श्रम दिवस है। 2 मई, सत्‍यजित राय की जन्‍मतिथि और इस वर्ष आज 6 मई को अक्षय तृतीया, इन तीन तिथियों का संयोग, छत्‍तीसगढ़ और रावण के साथ जुड़ कर पंचमेल बन रहा है, यह भी देखते चलें।
महेन्‍द्र मिश्र ने 'सत्‍यजित राय पथेर पांचाली और फिल्‍म जगत' पुस्‍तक में बताया है- ''1981 में राय ने दूरदर्शन के लिए प्रेमचन्‍द की कहानी सद्गति पर एक लघु फिल्‍म बनाई। 25 अप्रैल 1982 को सद्गति के प्रदर्शन के साथ दूरदर्शन का रंगीन प्रसारण प्रारंभ हुआ।'' 'सद्गति' छत्‍तीसगढ़ में फिल्‍माई गई, जिसमें ओम पुरी, स्मिता पाटिल, मोहन अगाशे और गीता सिद्धार्थ के साथ यहां के भैयालाल हेड़उ और बाल कलाकार ऋचा मिश्रा ने अभिनय किया है। फिल्‍म की शूटिंग छतौना-मंदिर हसौद, पलारी (बलौदा बाजार) और महासमुंद के पास केसवा, मोंगरा गांवों में हुई बताई जाती है। फिल्‍म में प्रेमचन्‍द की कहानी में उकेरे जाति-प्रथा, श्रम-शोषण के प्रभावी चित्रांकन में गांव की रावण मूर्ति का इस्‍तेमाल, रूढ़ प्रतीक के रूप में है।


कहानी की पृष्‍ठभूमि इस उद्धरण से स्‍पष्‍ट है- ''दुखी ने सिर झुकाकर कहा- बिटिया की सगाई कर रहा हूं महाराज। कुछ साइत-सगुन विचारना है। कब मर्जी होगीॽ'' लेकिन छत्‍तीसगढ़ में रामनवमी और अक्‍ती (अक्षय तृतीया), ऐसा साइत-सगुन है, जिस पर कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। यह भी उल्‍लेखनीय है कि छत्‍तीसगढ़ में जाति-सौहार्द्र की परम्‍परा और तथ्‍यों के ढेर उदाहरण हैं (रावण भी देव-तुल्‍य है), लेकिन सद्गति में अनुसूचित जाति के लिए प्रयुक्‍त शब्‍द अब न सिर्फ निषिद्ध है वरन विस्‍फोटक हो सकता है। इन सब बातों का सार यह कि प्रेमचन्‍द और सत्‍यजित राय जैसे पंडितों के सामने हमारी स्थिति कहानी के 'दुखी' की नहीं तो चिखुरी गोंड़ से अधिक भी नहीं और इस दृष्टि से कहानी और फिल्‍म 'सद्गति' की देश-काल प्रासंगिकता प्रश्‍नातीत नहीं।

प्रेमचंद पर टिप्‍पणी करते हुए बख्‍शी जी के निबंध 'छत्‍तीसगढ़ की आत्‍मा' का उद्धरण तलाश रखा है- ''जो सामाजिक समस्‍या प्रेमचन्‍द जी की ग्राम्‍य-कहानियों में विद्यमान है, उनके लिए यहां स्‍थान नहीं है।''

63 comments:

  1. अलसुबह गांव और रामकोठी की अच्छी और जीवंत यात्रा के लिये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  2. सिरजी बहोत दिन से कुछ काम की बज्य्से आप की पोस्ट पढ़ नही पाया था.पर अभी थोडासा टाइम मिला था तो सोचा की कुछ नया ज्ञान प्राप्त करे.तो जब आपकी ब्लॉग खोला तो और एक उपयोगी और ज्ञानवर्द्धक पोस्ट मिलगया.बहोत अच्छा पोस्ट. अन्नागार का परंपरा अद्य इतिहास काल से चल आरहा हे.और सर जी सिरपुर के अन्नागार के बारे में थोडासा उल्लेख का जरुरत था. बहोत बहोत धन्यवाद्.

    ReplyDelete
  3. आपकी यात्रा आची लगी ...एक नया सफर हो गया

    ReplyDelete
  4. गाँव खेत खलियान पर इतनी रोचक पोस्ट पढ़ कर आनंद आ गया...
    नीरज

    ReplyDelete
  5. रामकोठी का शानदार यात्रावृतांत !!

    राम की कोठी में ही बड्ड्पन के भाव, बेचारे रावण को भी सम्मान!!

    कोठी, कोष्ठागार ही है अपभ्रंश होकर कोठार और कोठी हुआ। कोठारी पद राज-कोष्ठागार की सार सम्भाल लेने वालो को दिया जाता था, आप कोठारी एक उपनाम है।

    ReplyDelete
  6. सुधार
    आज कोठारी एक उपनाम है।

    ReplyDelete
  7. अच्छी और जीवंत यात्रा के लिये शुक्रिया

    ReplyDelete
  8. प्रिय राहुल जी,

    इस गाँव से मेरा बड़ा गहरा नाता रहा है. मुकुंद राव मोह्दिवाले के एक भाई श्री श्रीधर राव मोह्दिवाले थे, उनके ज्येष्ठ चिरंजीव, मनोज राव मोह्दिवाले, काफी लम्बे समय तक, तकरीबन १५ साल तक हमारे रायपुर स्थित घर पर किरायेदार रहे. उस परिवार से हमारा प्रगाढ़ सम्बन्ध बन गया है. मैं कई बार मोहदी जा चुका हूँ. आपको एक खास बात बताऊँ. गोढ़ी में एक ठाकुर परिवार भी रहता था. अगर मैं गलत नहीं हूँ तो उस परिवार में एक गौकरण ठाकुर भी हुआ करते थे. उस परिवार में एक वयोवृद्ध व्यक्ति थे जो कि ज्योतिष विद्या में प्रवीण थे.
    आज जब मैं आपका ब्लॉग पढ़ा तो मोहदी में बीता एक-एक पल फिर से जीवंत हो आया. आपका आभार कि आपने अपने लेखन के माध्यम से मुझे मेरे अतीत से परिचय कराया.

    सादर,
    जी. मंजूसाईनाथ
    बेंगलूरू

    ReplyDelete
  9. I even remember to have attended Ram Leela in this village twice. I had for the first time saw Ram Leela in that village. I make a candid statement that it was not so impressive show but yet, what fascinated me was that the advent of television as an impact of 'Ramayan', could not kill Mohdi's Ram Leela. Hope the show still goes on.

    Reg.
    G Manjusainath
    Bangalore

    ReplyDelete
  10. राम कोठी के बारे में पढना रुचिकर लगा . आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया ...अनूठे विषय के साथ साथ आपकी सरलता हर बार मन को भाती है ! सादर शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  12. शब्दों की तरलता बनी रही रामकोठी के विवरण में .

    ReplyDelete
  13. आपका लेखन ऐसा है कि लेख खत्म होने पर अफ़सोस होता है ।

    ReplyDelete
  14. शहरीकरण गांवों की संस्कृति को लील रहा है, ऐसे में रामकोठी और उससे जुड़ी परम्पराओं को जीवित रखने का उद्यम प्रशंसनीय है।

    ReplyDelete
  15. शहरों में पले बढे लोगों के लिये ये रामकोठी वृतांत एक ताजा अनुभव है । रावण की पूजा वाह भई एकदम नई बात भारत में । पढ कर मजा आया .

    ReplyDelete
  16. मुझे अभी भी बहुत अच्छा लगता है गांव को अपनी स्मृतियों में पाकर.. पहले अभाव था, लेकिन आनन्द था. अब आनन्द खत्म होता जा रहा.. शहर की अपनी आवश्यकता है, लेकिन गांव की सरलता, सहजता, नदी तालाब, ट्यूबवैल, फसलें, बाग, पगडण्डी, जंगल सबकुछ अपनी ओर खींचता है, बिल्कुल किसी तिलिस्मी फंतासी की तरह...

    ReplyDelete
  17. अतेक विकट लिखत हवय रे ददा! तोर पोस्ट ले महुआ ला खूशबू घलो निकलत हे.

    ReplyDelete
  18. अच्छी जानकारी.

    ReplyDelete
  19. सर आपके साथ ये यात्रा सुखद रही.

    ReplyDelete
  20. आपके साथ उस अंचल विशेष की नई नई जानकारी आपकी विशिष्ट शैली में पढ़ना बड़ा ही रुचिकर लगता है।
    रावण की पूजा वाला प्रसंग रोचक है। इसके बारे में जानकारी नहीं थी।

    ReplyDelete
  21. बहुत ही रोचक जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. सुन्दर ! आपके ब्लोग को फ़ालो कर रहा हूँ । आश्वस्त हुआ कि स्तरीय लेखन की तड़प वाला एक अच्छा ब्लोग मिला।

    ग्यान लाभ करने आता ही रहूँगा। कफी चीजें इकट्ठा कर देते हैं आप, ऐतिहासिकता , आँचल की सौरभ , भाषा का कोमल-कान्त रूप..! सुन्दर !!

    आभार !

    ReplyDelete
  23. फेसबुक पर श्री गौरव घोष की टिप्‍पणी-
    Ramkahani ke Ravan ki Puja! Mohdi toh hum Anaryo ke liye thirth-sthal ho gya :) Jana hi padega.

    ReplyDelete
  24. एक जीवंत यात्रा कथा !

    ReplyDelete
  25. Ram kothi aur Ravan ka adbhut milan is gaon main hai sunder laga jaan kar......
    jai baba banaras...........

    ReplyDelete
  26. उम्दा अभिव्यक्ति

    अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर
    कभी हमारे ब्लॉग में भी पधारे.. हमे खुशी , होगी नया जो हूँ...
    avinash001.blogspot.com
    इंतजार रहेगा आपका

    ReplyDelete
  27. पुरे इतिहास को समेटे हुए यह जानकारी भरी पोस्ट बहुत कुछ नया दे गयी .....आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  28. बढि़या जानकारी। मुझे याद है मेरे गांव में भी दशहरे के अवसर पर रावण की करीब 10-12 फीट ऊची प्रतिमा बनाई जाती थी। अब तो शहरों में कागज का रावण ही देखने को मिलता है।

    ReplyDelete
  29. राहुल जी, लगभग चार हजार की जनसंख्या है तो गांव तो अच्छा खासा मानने को मन करता है। बछड़े वाली लाईन तो पंचलाईन है, कुछ न कहकर भी कुछ न छोड़ा। और एक निवेदन है कि ग्राम्य जीवन, पुरातत्व और विलुप्त होती संस्कृति पर आपके लेख बहुत शानदार होते हैं, इन्हें शेयर करते रहियेगा।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  30. बहुत बढ़िया
    रावण की पूजा वाला प्रसंग रोचक है। इसके बारे में जानकारी नहीं थी।

    ReplyDelete
  31. कम शब्दों में कहूँ तो बस यही कहना होगा कि जब तक आप जैसे लोंग हैं ये परम्पराएं,परिपाटियां, भग्नावशेष और धरोहरें विलुप्त नहीं हो सकतीं..

    ReplyDelete
  32. कल जल्दी में देखा था, पोस्ट की गंभीरता को देखते लग गया की इसे प्रात: काल में पढना ठीक है तभी कोमेंट कर पाऊंगा. इतिहास की पुस्तकों के अनुसार किसानों की
    आर्थिक सहकारिता की व्यवस्था अंगरेजी काल में समाप्त हो चुकी थी और उसका स्थान महाजनों और बैंकों ने ले लिया था. इस प्रसंग से मालूम हुआ कि स्वाभाविक सहकारी संस्थाएं अभी भी कार्यरत हैं और अच्छे से हैं.लोक कला का जारी रहना भी उत्साहवर्धक रिपोर्ट है.आधुनिक सभ्यता का हावी होना भी समझ में आया मुझे क्यों कि ये अब पशुओं को बधिया नहीं कर पाते , इस काम के लिए चिकित्सालय पर निर्भर हो गए हैं. इस समाज वैज्ञानिक दृष्टिकोण के लिए साधुवाद .

    ReplyDelete
  33. AAP NE KYA KHOOB LIKH HAI KI KHAL NAAYAK SAH NAAYAK KEE BHOOMIKA ME AA GAYA.
    MAY DAY LAL NAHEE HARA HAI.
    MOHDA GAON ME RAM AUR RAAVAN KA SUNDAR SAMNVYA.

    ReplyDelete
  34. 'लोक' वस्‍तुत: 'सर्वलोक' ही लगता है। मालवा-राजस्‍थान में भी, अन्‍न भण्‍डारण हेतु, मिट्टी (गारे) की 'कोठी' ही बनाई जाती है। यदि कमरे में भण्‍डारण किया गया है तो उस कमरे को 'कोठार' कहा जाता है।

    आप दोनों हाथों से लुटा रहे हैं और आयुवार्धक्‍य के चलते, यादों की गठरी में काफी-कुछ बँधा नहीं रह पाता। सन्‍तोष इसी बात का है कि आपका दिया सब कुछ 'नेट' पर उपलब्‍ध है - जब जी चाहा, खोल कर देख लिया।

    ReplyDelete
  35. सभ्यता के अनखुले अध्याय अभी भी बहुत स्थानों पर दबे हुये अपनी अभिव्यक्ति की बाट जोह रहे हैं। सुन्दर वृत्तान्त।

    ReplyDelete
  36. अभिव्यक्ति का आपका अंदाज .. आपकी तरह सरल व सहज है .. इसे पढ़ना बड़ा ही रुचिकर लगता है। ज्ञान-लाभ .. ग्राम्य जीवन, पुरातत्व और विलुप्त होती संस्कृति पर तथा गांव से जुड़ी परम्पराओं को जीवित रखने के आपके इस प्रयास की प्रशंसा .. केवल मैं ही नहीं बल्कि .. हर कोई करता है .. जिनको भी मैंने बताया है .. या जिनसे भी .. आपके बारे में चर्चा होती है .. डा. जेएसबी नायडू

    ReplyDelete
  37. रामकोठी से बपुरा रावण तक काफ़ी रुचिकर जान्कारियाँ प्रस्तुत की हैं

    ReplyDelete
  38. आपके साथ-साथ हमारी भी ये यात्रा अच्छी रही....
    धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  39. राम कोठी .. छत्तीसगढ़ ... और उससे जुड़ा इतिहास ... रावण की पूजा का प्रसंग ... गाँव के साथ जुड़ा अनोखा इतिहास ... बहुत ही खोजी और रोचक पोस्ट ...

    ReplyDelete
  40. anchalkitaa kaa poshan aur sanrakshan kar rahen hain aap .
    shukriyaa .
    veerubhai .

    ReplyDelete
  41. जिज्ञासा को शांत करने का ठिकाना है आपका दरबार !ऐसी जानकारियों की आज की नई पीढ़ी को ज़्यादा ज़रूरत है !

    ReplyDelete
  42. अछूती विषयवस्तु पर बेहतरीन प्रस्तुति !

    कुंठाग्रस्त हैं वे मानुस जो कहते हैं कि उन्हें आपकी प्रविष्टियों में रूचि नहीं :(

    ReplyDelete
  43. राम कोठी पढ़ कर जाकारी में इजाफा हुआ खास तोर पर रावण के बारे में जो लगभग सारे उतरी भारत में खलनायक के रूप में पहचाना जाता है.अंदाजेबयां तारीफ़ के काबिल है .संजो कर रखे गए चित्रों के लिए राम कोठी धन्यवाद की अधिकारी है.पढवाने के लिए आभार

    ReplyDelete
  44. एक नया सफर,बहुत ही रोचक, धन्यवाद

    ReplyDelete
  45. सुंदर लेखन शैली में रोचक जानकारी देती ज्ञानवर्धक पोस्ट सार्थक ब्लॉगिंग का एक अच्छा उदाहरण पेश करती है।

    ReplyDelete
  46. आपके लेख सरसरी नज़र में नहीं पढ़े जा सकते हैं.इन्हें हमेशा फुर्सत में तल्लीनता के साथ पढता हूँ.छत्तीसगढ़ के सामुदायिक जीवन का सुन्दर चित्र ऐतिहासिक कैमरे के द्वारा......

    ReplyDelete
  47. बहुत्र ही सुन्दर. रावण को तो प्रणाम करना ही पड़ेगा.

    ReplyDelete
  48. जब राम ने भी लक्ष्मण को शर-शैय्या पर पड़े रावण से ज्ञान दिलवा दिया तो बाकी दुनिया भी रावण के अच्छे और बुरे पहलुओं को विभक्त्त करके देख सकती है।
    सदगति, छोटी लेकिन बहुत अच्छी फिल्म है जो जातिवाद पर कठोर प्रहार करती है।

    ReplyDelete
  49. आज जब हम सभी शहरों की ओर अंधाधुंध दौड़ रहें हैं तब रामकोठी की परमपरा का निर्वहन सचमुच ही प्रसंशनीय है रोचक एवं ज्ञानपरक लेख के लिए साधुवाद साथ ही आपकी यायावरी को प्रणाम

    ReplyDelete
  50. Sach kahaa shri Arun kumar Nigam ji ne ki आपके लेख सरसरी नज़र में नहीं पढ़े जा सकते हैं.इन्हें हमेशा फुर्सत में तल्लीनता के साथ पढता हूँ. Mahatwapuurn jaankaariyaan,prwahmaan bhaashaa aur baandh lene waalii shailee! adbhut lekhan! Pranaam swiikaarien.

    ReplyDelete
  51. एक खुबसूरत जानकारी एक खुबसूरत अंदाज के साथ बहुत अच्छा लगी ये यात्रा |
    एसा लगा हम भी खेत खलियानों में घूम रहे हैं इस शहर के शोर से दूर बहुत दूर |
    सुन्दर पोस्ट |

    ReplyDelete
  52. is post se chhattisgarh ke saamajik arthshaastr kee bhi ek jhalak milti hai. aapke sabhi post sankalit ho kar ek pustak ki shakl mein aayen to bahut upyogi hoga .araajak blogs ki bheed mein singhavalokan ne ek rachanatmk blog ki pahchaan banayi hai. aapko shubhkamnayen...

    ReplyDelete
  53. इतिहास और छत्तीसगढ़ पर जब आप लिखते हैं तो एकदम शोधार्थी बन जाते हैं। जल्द ही ऐसे लेखों को पढ़ूंगा। तब तक इतना बयान स्वीकार किया जाय।

    ReplyDelete
  54. राहुल जी , रावण की पूजा करना एक नई जानकारी है । लेकिन कारण समझ नहीं आया ।

    ReplyDelete
  55. हमेशा की जगह सुन्दर जानकारी। रावण की पूजा भारत में कई स्थानों पर होती है और कई जगह बाक़ायदा मन्दिर भी हैं।

    ReplyDelete
  56. What's up colleagues, its wonderful piece of writing about educationand completely explained, keep it up all the time.

    Also visit my web-site :: Www.Erovilla.com

    ReplyDelete
  57. Incredible points. Great arguments. Keep up the great effort.


    Also visit my website - wie chatroulette

    ReplyDelete
  58. मोहदी के Ravan ko Ram Ram.

    ReplyDelete