# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, April 12, 2011

बस्‍तर में रामकथा

सन 1998 में रामकथा के तीन ग्रंथों का प्रकाशन मध्यप्रदेश के जनसम्पर्क विभाग से हुआ। क्रम से नाम लें तो हलबी रामकथा, माड़िया रामकथा और मुरिया रामकथा। ग्रंथों के सम्पादक प्रोफेसर हीरालाल शुक्ल हैं तथा हलबी रामायण में उनके नाम के साथ संग्राहक और अनुवादक भी उल्लिखित है। ग्रंथ में छपा है मूल्य : आदिवासियों में निर्मूल्य वितरण। वैसे तो सेंटीमीटर और ग्राम में माप-तौल भी हो सकती है, लेकिन किसी ग्रंथ का ऐसा तथ्‍य-आग्रही मूल्य-महत्व बताना वाजिब नहीं, सो भारी-भरकम इन ग्रंथों का आकार कल्याण के विशेषांक जैसा और पृष्ठ संख्‍या क्रमशः 688, 454 और 644 है।
प्रथम खण्ड माड़िया रामकथा (कोयामाटते रामना पाटा-वेसोड़) लिंगो ना वेहले पाटा (गोंडी रामकथा मंजूषा) के लिए कहा गया है कि यह ''रामकथा'' बस्तर की माड़िया-जनजातियों की वाचिक परम्परा की पुनर्रचना है। यह भी बताया गया है कि बस्तर की माड़िया जनजाति दो वर्गों में विभाजित है- अबुझमाड़ की अबुझमाड़िया, तथा दक्षिण बस्तर की दंडामी माड़िया।

अबुझमाड़िया तथा दंडामी माड़िया यद्यपि जातीय नाम से समान हैं, किन्तु इनकी बोलियां आपस में दुर्बोध हैं। अबुझमाड़िया मुरिया के बहुत अधिक निकट है। कोई भी मुरिया अबुझमाड़िया को आसानी से समझ सकता है, किन्तु किसी दंडामी माड़िया के लिए अबुझमाड़िया एक अबूझ पहेली है।

प्रो. हीरालाल शुक्ल
संपादक ने स्पष्ट किया है कि- ''रामकथा की पुनर्रचना के लिए सबसे पहले मैंने इनके मौखिक साहित्य में व्याप्त रामकथा के संदर्भों का संकलन किया था और तदुपरांत टूटी हुई कड़ियों का तुलसीदास के रामचरितमानस के प्रसंग में ढालने का प्रयास किया।''

ग्रंथ की भूमिका में यह उपयोगी और रोचक स्पष्टीकरण है कि गोंडी की सभी बोलियों में लोकगीत के लिए पाटा शब्द समान रूप से प्रचलित है। लोककथाओं के यहां तीन रूप मिलते हैं-
(क) सामान्य कथा के लिए अबुझमाड़िया में पिटो, दंडामी माड़िया में वेसोड़, तथा दोर्ली में शास्त्रम शब्द प्रचलित है। 
(ख) पौराणिक और धार्मिक कथाओं के लिए दंडामी माड़िया तथा दोर्ली में पुरवान शब्द प्रचलित है, जो पुराण का ही अपभ्रंश प्रतीत होता है।
(ग) दंडामी माड़िया में वेसोड़ किसी कथा का वाचक है, जबकि दोर्ली में यह गीतकथा का उपलक्षक है। दंडामी माड़िया में गीतकथा के लिए पाटा-वेसोड़ शब्द प्रचलित है।

द्वितीय खण्ड मुरिया-रामचरितमानस लिंगोना वेहले पाटा (गोंडी रामकथा मंजूषा) में संपादक के अनुसार वे लगभग तीन दशकों तक मुरिया समाज में रामचरितमानस के गोंडी प्रारूप पर घोटुल के युवक-युवतियों के साथ बैठकर 'पाटा' बनाते रहे। उन्हीं के शब्दों में ''मैं इन युवक-युवतियों को मुरिया गोंडी में रामचरितमानस का अर्थ समझाता और अपने आशु कवित्व के कारण ये शीघ्र पाटा पारने लगते। दो दशक के बाद समूचे रामचरितमानस का इसीलिए (सन 1977 में) मुरिया में अनुवाद संभव हो सका।'' इसके साथ मुरिया रामकथा के 36 लोक-गायकों और 4 गायिकाओं की सूची दी गई है।

हलबी रामकथा की भूमिका में संपादक का कथन है- ''1962 से 1992 के मध्य तीन दशकों तक मेरे द्वारा सम्पादित प्रेरित या लिखित अब तक दर्जनों ग्रंथ प्रकाशित हो चुके हैं, जिनमें रामकथा, गुंसाई-तुलसीदास तथा हलबी-रामचरित मानस (अक्षरशः सम्पूर्ण अनुवाद) उल्लेखनीय है। प्रस्तुत ''हलबी-रामकथा-मंजूषा'' में अब तक अप्रकाशित शेष रचनाओं का संग्रह है।

हलबी रामकथा के संपादकीय का अंश है-
''रामचरितमानस'' भारतीय-साहित्यचो अनुपम गंगा आय। एचो अमरुतचो सुआदके सियान-सजन, माई-पीला पातो एसत। एचो थाहा पाउक नी होय। एचो खोलने, गड़ेयाने डुबकी मारुन गियानचो रतन पाउन-पाउन कितरोय लोग सवकार होते एसत।

ए बड़े हरिकचो गोठ आय कि हलबी 'रामचरित' असन मौंकाने मुर होयसे, जे मौंकाने आमचो देश आजादी चो '50वीं बरिसगांठ' मनाएसे। 'रामचरितमानस' चो लिखलो 500 बरख पूरली।

मके बिसवास आसे कि ए किताबचो अदिक चलन होयदे। बस्तरचो बनवासी-रयतचो सांस्कृतिक भूक बुतातो उवाटने ए पोथी खिंडिक बले साहा होली जाले, आजादीचो 50वीं बरिसगांठ चो भाइग होली समझा।

पश्‍च-लेखः

ऊपर का लगभग पूरा हिस्सा इन ग्रंथों से लिया गया है। अब कुछ अपनी बात। वैसे तो थोड़ा कान खुला रखने वाले हिंदीभाषी के लिए समझना मुश्किल नहीं, फिर भी हलबी वाले पहले पैरा का अनुवाद इस तरह होगा-

रामचरितमानस भारतीय साहित्य की अनुपम गंगा है। इसके अमृत का स्वाद बड़े-बुजुर्ग, अबाल-वृद्ध पाते रहते हैं। इसकी थाह पाई नहीं जाती। इसकी गहराई में उतर कर, डुबकी मार के (लगाकर), ज्ञान का रत्न पा-पाकर कितने ही लोग साहूकार (सम्पन्न) होते रहते हैं।

भाषाई दृष्टि से अर्द्ध-मागधी या पूर्वी हिंदी की एक जबान (यहां तकनीकी-पारिभाषिक प्रयोजन न होने के कारण भाषा, बोली, उपभाषा के बजाय 'जबान' से काम चलाने का प्रयास है) छत्तीसगढ़ी है। छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ी के साथ उत्तरी भाग में सरगुजिया और दक्षिण में हलबी स्वरूप, व्यापक और लगभग संपूर्ण संपर्क माध्यम है। पेवर छत्तीसगढ़ी (ठेठ-खांटी छत्तीसगढ़ी में शुद्ध के लिए शायद अंगरेजी 'प्योर' का अपभ्रंश पेवर शब्द प्रचलित है) या मध्य मैदानी छत्तीसगढ़ की जबान में भोजपुरी-मगही स्वाद लिए सरगुजिया (सादों या सादरी सहित) और मराठी महक व उड़िया छौंक वाली हलबी की भाषाशास्त्रीय विविधता रोचक है ही, इनकी वाचिक परम्परा के रस से थोड़ा परिचित होते ही, अरसिक भी इनमें ऊभ-चूभ होने लगता है। अपनी कहूं तो पहली जबान छत्तीसगढ़ी के बाद दोनों मौसियों सरगुजिया और हलबी से परिचित होने पर मुझे मातृभूमि पर सकारण गर्व होने लगा और भारतमाता के समग्र सांस्कृतिक रूप का कुछ अनुमान हो पाया।

त्वरित संदर्भ के लिए यह कि बस्तर अंचल पौराणिक-ऐतिहासिक दण्डकारण्य और महाकान्तार के नाम से जाना जाता था। पूर्व रियासत बस्तर का मुख्‍यालय आज की तरह ही जगदलपुर रहा, वैसे पुरातात्विक प्रमाणयुक्त बस्तर नाम का एक छोटा गांव भी जगदलपुर के पास ही है। रियासत के बाद बस्तर जिला, फिर संभाग बना। फिर उत्तरी बस्तर कांकेर जिला बना और दक्षिणी हिस्सा दंतेवाड़ा। सन 2007 से बीजापुर और नारायणपुर जिलों के गठन के बाद, अब 18 जिलों और 4 संभाग वाले छत्तीसगढ़ राज्य के रायपुर संभाग में 6, सरगुजा में 4, बिलासपुर में 3 तथा बस्तर संभाग में 5 जिले हैं।

कुछेक विद्वान रावण की लंका को बस्तर में ही मानते हैं। बस्तर के भाषाई-सांस्कृतिक सेतु स्वरूप इस ग्रंथ की तैयारी और प्रकाशन के दौरान न सिर्फ इसकी खोज-खबर रही, बल्कि एकाध अवसर पर मैंने सेतुबंध की गिलहरी-सा उत्साह भी महसूस किया था, वह आज रामनवमी पर याद कर रोमांचित हूं।

श्री हरिहर वैष्‍णव द्वारा ई-मेल से बस्‍तर में रामकथा पर प्राप्‍त महत्‍वपूर्ण सूचना (टिप्‍पणी के रूप में प्रकाशित) तथा दो छायाचित्र नीचे लगाए गए हैं -

44 comments:

  1. बहुत ही अच्छा पोस्ट है !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  2. इन ग्रंथों के प्रकाशन के लिए जनसंपर्क विभाग के साथ आप भी बधाई और प्रशंसा के पात्र हैं।
    प्रोफेसर हीरालाल शुक्ल ने तीन दशकों तक इन पर कार्य किया । उनका परिश्रम, धैर्य और लगन वंदनीय है। शुक्ल जी ने इसी अवधि में छह खंडों में ‘आदिवासी बस्तर का वृहद् इतिहास‘ भी लिखा। इसकी भूमिका में उन्होंने लिखा है-
    ‘अंग्रेज इतिहासविद् गिब्सन के पश्चात आज तक बस्तर के इतिहास लेखन का मेरे अतिरिक्त किसी ने प्रयास नहीं किया।‘
    क्या छत्तीसगढ़ के विद्वान इसी तरह का कोई कार्य करने का बीड़ा उठाएंगे ?

    ReplyDelete
  3. सुन्दर और महान कार्य, मर्यादा पुरुषोत्तम के आदर्शों को स्थानीय भाषा में अनुवाद करने का।

    ReplyDelete
  4. यह काम उत्साह व रोमांच महसूस करने वाला ही है।

    ReplyDelete
  5. शुभकामना संदेश से इतर यह बेहतर है. रामकथा की पूरे भारत भर में कई कथाएं मिलती है. जनजातियों की इस रामकथा का यह विवरण उत्सुकता को बढाता है. और यहे उम्मीद करने पर बाध्य करता है कि इसके पाठ अन्य रामकथाओं से कैसे अलग है इसका वर्णन भी आप हम तक पहूंचायेंगे.

    ReplyDelete
  6. एक शोधपरक लेख के लिये आभार. हम अपनी संस्कृति को ऐसे ही बचा पायेंगे.. आप जैसे अनेकानेक व्यक्तियों की आवश्यकता है समाज को..

    ReplyDelete
  7. अद्भुत लेख राहुल भाई बधाई
    रामचरित मानस भारतीय साहित्य की गंगा है इस पर तो कोई विवाद हो ही नहीं सकता
    दुर्भाग्य ही कह सकतें है कि आज तो रामायण पाठ भी दिखावे का माध्यम बनता जा रहा है रही बात रामकथा लेखन के तरीकों कि तो यह तो कहा ही गया है कि
    हरी अनंत हरी कथा अनंता
    कहहीं सुनहीं बहु विधि सब संता
    पुनः बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर पोस्ट । सर इस श्रम को हमारा भी सलाम

    ReplyDelete
  9. रामन्वमी के अवसर पर आपने इस ग्रंथ से परिचय कराकर उत्कृष्ट जानकारी मुहैया करायी है।

    ReplyDelete
  10. मैने भी माड़िया गोंड पर एक अधकचरा सा लेख लिखा था पर यदि इन पुस्तकों की जानकारी मुझे होती तो मै कुछ बेहतर कर पाता आपको इस अद्वितीय जानकारी प्रदान करने के लिये दिल से धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. अद्भुत लेख,शोधपरक हमेशा की तरह.राहुल भैया आपने ब्लॉग लेखन को एक नयी ऊँचाई दी है. शुक्रिया.

    ReplyDelete
  12. आज रामनवमी के अवसर पर आपका ये शोधपरक लेख पढकर हम भी रोमांचि‍त हो गए हैं राहुल भैया.आज का ‍दि‍न सफल हो गया.

    ReplyDelete
  13. इस जानकारी के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  14. । ग्रंथ में छपा है मूल्य : आदिवासियों में निर्मूल्य वितरण।
    राहुल जी, आज के संदर्भ में ज़रूरी था इस वाक्य का उल्लेख भी.
    दशकों तक किये गये शोध कार्य को हमने मिनटों में जान लिया, आपका आभार. शुक्ल जी तो वंदनीय हैं ही.

    ReplyDelete
  15. रामनवमी के मौके पर यह आलेख .....धन्यवाद स्वीकारें....
    सच में जनमानस के हैं राम......

    ReplyDelete
  16. यह विलक्षण कार्य करने वाले के प्रयासों की कल्पना मात्र से रोमांच उत्पन्न हो जाता है!

    ReplyDelete
  17. राहुल जी रामकथा तो हमारे मानस व संस्कृति का प्रतिरूपण है। इसीलिए तो कविवर तुलसीदास जी ने अपनी क़त रामकथा महाकाव्य का नाम भी रामचरित मानस रखा। इस रामकथा का अपनी रीति-परम्परा व आदर्श के अनुरूप ही विभिन्न क्षेत्रों व समुदायों ने रचना,व्याख्या और परम्परा का निर्बहन किया है। अपनी आदिम जनजातीय संस्कृति में रामकथा की रचनाओं का इतनी सुन्दर व दुर्लभ अभिव्यक्ति हेतु साधुवाद व हार्दिक अऴिनंदन।

    ReplyDelete
  18. बस्तर के रामचरित के प्रणयन परिप्रेक्ष्यों की इस जानकारी के लिए आभार !
    शायद सांकलिया इस तरह की बातें करते थे की लंका आज की लंका से पृथक कहीं थी -बाकी बस्तर का वन दंडकारण्य रहा होगा बुद्धिगम्य लगता है !

    ReplyDelete
  19. @ राहुल सिंह जी ,
    सबसे पहले आपको रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें उसके बाद साधुवाद कि इस बार भी आप अत्यंत विचारोत्तेजक प्रविष्टि लेकर हाज़िर हुए हैं !
    भले ही आप इसे मजाक समझियेगा पर आज सुबह सुबह संयोगवश टी.वी.पर निर्मल दरबार वाले निर्मल बाबा जी को देखते हुई आप लगातार याद आते रहे लेकिन इस बात पर कैसे और क्यों का कोई जबाब / तर्क नहीं है मेरे पास !

    @ सबसे पहले लंका,
    यहां तालाब या नदी के किनारे स्थित ऊंचे टीले पर बसी बस्ती /टोले /मोहल्ले/पारा को लंका का संबोधन आम है ! ऐसे में विद्वान अगर लंका की खोज कर डालें तो इसमें आश्चर्य कैसा :)

    कुछ महीनों पहले एक धार्मिक /सांस्कृतिक आद्य-बिंदु खोजी दल यहां से गुज़रा उसने श्रीराम वनगमन का मार्ग भी निर्धारित कर दिया है ! इसी तरह से यहां के एक भूतपूर्व विधायक स्वर्गीय साहित्यकार बंधु ने तो केसकाल घाट से कालिदास के मेघदूत वाले मेघों के टकराने का दावा भी किया था :)

    @ बस्तर में राम कथा,
    श्री हीरालाल शुक्ल जी ख्यातनाम भाषाविद हैं,उनके कथनानुसार उन्होंने तीस वर्षों के अथक परिश्रम से जनजातीय वाचिक परम्परा की पुनर्रचना की है ! स्मरण रहे कि ...वे कहते हैं वाचिक परंपरा की पुनर्रचना :)
    उन्होंने आगे यह भी स्पष्ट किया कि मौखिक साहित्य में व्याप्त रामकथा सन्दर्भों का संकलन करने के उपरान्त उन्होंने टूटी हुई कड़ियों को बाबा तुलसी दास कृत श्री रामचरितमानस के प्रसंगों में ढालने का प्रयत्न किया है ! इससे वे आगे लिखते हैं कि...

    ''मैं इन युवक-युवतियों को मुरिया गोंडी में रामचरितमानस का अर्थ समझाता और अपने आशु कवित्व के कारण ये शीघ्र पाटा पारने लगते। दो दशक के बाद समूचे रामचरितमानस का इसीलिए (सन 1977 में) मुरिया में अनुवाद संभव हो सका।''

    अब संभ्रम यह है कि उन्होंने श्री रामचरित मानस का स्थानीय बोलियों में अनुवाद करवाया याकि बस्तर में वाचिक परंपरा के रूप में पहले से ही मौजूद राम कथा की टूटी हुई कड़ियाँ जोड़ कर पुनर्रचना की ?

    ReplyDelete
  20. ऐसा लगता है कि राम अदिवासी जीवन के पोर पोर में,
    बोली बोली में समाये हैं.
    मौका लगने पर पढना चाहूँगा सर जी.
    what about संभ्रम of Ali sahab

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी ग्यानवर्द्धक जानकारी है धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. ADARNIYA RAHUL JI.
    BAHUT HI SUNDER POST
    ......BADHIYA JAANKARI KE LIYE SHUKRIYA

    ReplyDelete
  23. दुर्गाष्टमी और रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  24. sahejne yogya.....saath hi ali sa ko bbi abhar

    pranam.

    ReplyDelete
  25. ई-मेल से प्राप्‍तः

    हरिहर वैष्णव दिनांक : 12.04.11
    सरगीपालपारा, कोंडागाँव 494226, बस्तर, छत्तीसगढ़
    दूरभाषः 07786242693, मोबा. : 9300429264
    ईमेलः lakhijag@sancharnet.in

    आदरणीय राहुल सिंह जी
    नमस्कार।

    आज के 'सिंहावलोकन' में प्रकाशित ''बस्तर में रामकथा'' शीर्षक आपके महत्त्वपूर्ण आलेख के लिये आपको सदा की तरह धन्यवाद। आभार आपका। हल्बी रामकथा के संपादकीय के अंश के 99.99 प्रतिशत हिन्दी अनुवाद के लिये भी बधाई।
    यह पोस्ट पढ़ते-पढ़ते ही कुछ बातें याद आने लगीं। सोचा, आप तक पहुँचा ही दूँ। सम्भवतः इसे आप उपयोगी पायें।
    इस समय मेरे सामने रामकथा से सम्बन्धित दो अत्यन्त महत्त्वपूर्ण पुस्तकें रखी हुई हैं (देखें दोनों के चित्र)। पहली है, ''रामकथा'', जिसके लेखक हैं बस्तर के मूर्धन्य साहित्यकार श्रीयुत्‌ लाला जगदलपुरी जी (कवि निवास, डोकरीघाट पारा, जगदलपुर, बस्तर, छ.ग.)। और दूसरा ग्रन्थ है, श्री गोस्वामी तुलसीदास विरचित श्रीरामचरितमानस का हल्बी पद्यानुवाद। अनुवादक हैं बस्तर के ही सुप्रसिद्घ साहित्यकार श्री रामसिंह ठाकुर (नारायणपुर, बस्तर, छ.ग.)।
    ''रामकथा'' (लाला जगदलपुरी) का प्रकाशन मध्यप्रदेश रामचरितमानस चतुश्शताब्दी समारोह समिति, भोपाल द्वारा 197879 में किया गया था। 108 पृष्ठीय इस पुस्तक में श्रीरामजन्म से ले कर रावणवध के बाद अयोध्या वापसी तक की कथा हल्बी में प्रस्तुत की गयी है। इसी तरह श्री गोस्वामी तुलसीदास विरचित श्रीरामचरितमानस के 666 पृष्ठीय हल्बी पद्यानुवाद (रामसिंह ठाकुर) का प्रकाशन भी मध्यप्रदेश रामचरितमानस चतुश्शताब्दी समिति, भोपाल द्वारा ही 1991 में किया गया था। इस पद्यानुवाद का आकाशवाणी के जगदलपुर केन्द्र से प्रातःकालीन सत्र में नियमित प्रसारण भी आरम्भ किया गया था किन्तु कुछ समय बाद कतिपय कारणों से इसका प्रसारण बन्द कर दिया गया।
    बस्तर के इतिहासलेखन की जहाँ तक बात है, मेरी जानकारी में स्व. गनपत लाल साव 'बिलासपुरी' और जगदलपुर (बस्तर, छ.ग.) निवासी शिक्षाविद्‌ एवं इतिहासकार डॉ. के. के. झा तथा श्री रोहिणी कुमार झा के भी नाम इस सन्दर्भ में लिये जाते हैं। श्री लाला जगदलपुरी एवं डॉ. रामकुमार बेहार ने भी बस्तर के इतिहास पर अपनी कलम चलायी है।
    पुनः आभार सहित।

    आपका :
    हरिहर वैष्णव

    ReplyDelete
  26. बहुत ही ज्ञानवर्द्धक जानकारी...
    अनुपम कार्य है यह...
    इतने शोधपरक आलेख के लिए आभार

    ReplyDelete
  27. कुछ भी कहने की दशा में नहीं हूँ। बस यही कि ईश्‍वर मेरी शेष आयु आपको दे दे। समय और समाज को आपकी अधिक आवश्‍यकता है।

    ReplyDelete
  28. सुन्दर आलेख, धन्यवाद!
    गीत के लिए पाटा शब्द तेलुगु में भी प्रयुक्त होता है। तमिळ में कुछ मिलता जुलता सा ही है।

    @अब संभ्रम यह है कि उन्होंने श्री रामचरित मानस का स्थानीय बोलियों में अनुवाद करवाया याकि बस्तर में वाचिक परंपरा के रूप में पहले से ही मौजूद राम कथा की टूटी हुई कड़ियाँ जोड़ कर पुनर्रचना की?
    ऐसा लगता है कि बस्तर की वाचिक परम्परा का लेखन करते समय पायी टूटी कडियों में टांका मानस का लगाया गया है।

    ReplyDelete
  29. मेरे लिए एकदम नयी जानकारी है बहुत रुचिकर रही ! राम नवमी पर इस लेख को लिखने में किया गया आपका श्रम व्यर्थ नहीं जाएगा ! हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए धन्यवाद|

    ReplyDelete
  31. बस्तर में लंका? रोचक! सेतु कहां बान्धा होगा राम सेना ने?

    ReplyDelete
  32. सुंदर पोस्ट
    ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए धन्यवाद|

    ReplyDelete
  33. बहुत ही महत्वपूर्ण लेख. आभार.

    ReplyDelete
  34. हमेशा की तरह आज भी बहुत कुछ जानने को मिला और इससे अच्छी बात क्या हो सकती है........मुझ अकिंचन की और से सादर आभार स्वीकार करें |
    गौरव..

    ReplyDelete
  35. excellent - dr jsb naidu

    ReplyDelete
  36. ek sunder prayas.bahut bahut badhai ho..

    RAM NAVMI par aap ka programm ZEE Tv par dekha sunder prayas...

    jai baba banaras...

    ReplyDelete
  37. ईमेल से प्राप्‍त आदरणीय प्रो. हीरालाल शुक्‍ल जी का संदेश
    Dear Mr Rahul
    I saw you blog in 'bastar cho rama katha'. It is very well presented
    thank you for this excellent dispatch.
    Regards
    Prof. HL Shukla
    Bhopal

    ReplyDelete
  38. रामचरितमानस जैसे आदर्श ग्रंथ का स्थानीय अनमोल चित्रण..आपके ब्लॉग को पढ़्ने पर हमेशा ज्ञान की ग्रंथियों का विकास होता है..लाजवाब..

    ReplyDelete
  39. बड़ा अच्छा लगा जानकार कि ये पुरानी धरोहरें छोटी छोटी भाषाओं के माध्यम से आम जनों तक पहुँच रही हैं.... अन्य भाषाओं और बोलियों में भी लोगों के काम करने की जरुरत है...

    ReplyDelete
  40. यह कुछ कम पल्ले पड़ा। लेकिन कुछ कहूंगा। कुछ लोग टिप्पणियों के बीच अचानक बधाई और शुभकामना संदेश सुना जाते हैं, यह ठीक नहीं लगता मुझे। बात इस बार की नहीं किसी पर्व या दिवस के समय की है।

    मेरे कान अधिक नहीं खुले कि अर्थ समझता। कुछ वाक्य तो समझ गया था।

    लंका पर मानस-शंका-समाधान किताब में कहा गया है वह लंका है ही नहीं ये सब, श्रीलंका भी नहीं। क्योंकि राम ने विभीषण को एक कल्प तक राज करने का वरदान दिया था। और एक कल्प 72*4320000 साल का होता है। लेकिन अभी विभीषण भाई दिखते नहीं कहीं।

    बस्तर पर 1982 के मुक्ता के एक अंक में छपा बस्तर की प्रेमकथा याद आ रही है।

    किताबों की लिपि नागरी ही है। और मूल्य ऐसा है!

    ReplyDelete
  41. इस पोस्ट से मुझे अत्यधिक लाभ और ज्ञान प्राप्त हुआ। कुछ मायनों में लाभ भी ज्ञान ही है और ज्ञान भी कहीं कहीं लाभी ही होता है। मुझे दोनों हुए। धन्यवाद!

    ReplyDelete
  42. I am now not certain the place you're getting your information, however great topic. I needs to spend some time learning more or figuring out more. Thanks for fantastic info I was on the lookout for this info for my mission.

    Feel free to visit my web page http://www.erovilla.com

    ReplyDelete
  43. I have seen the Ram Charitmanas in Halvi and Gondi collected by Dr Hiralal Shukla.Both the work are translations of Goswami Tulsi Das. The contentisfrom Ram CharitManasand it was translated in to these two languages.I am confused to agree this as Halvi and Gondi Ramkatha. Ramkatha in Indian regional languages have its cultural flavour.in Odia Balaram das has narrated Rama and Sita putting the Odia culture in teh context.IN Assemese Sita dries dear meet, and they prepare rice beer. In stead I found one Baiga LAxman Jati which is culturally enriched with Baiga culture.But when Sant KabirDas and GuruGhasi Das have theirown regious moral and ethcs representing teh Chhattishgarh culture,SantTulsi Das has aryanised Chhattishgarh. These three Das have shaped the time of history in CHhattishgarh. Superb.It is necessary to know how Rama was conneccted to BAstar,if As per HD Shankalia it was the abodeof Lankesh Ravana.

    ReplyDelete