# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, July 3, 2012

ठाकुरदेव

ग्राम देवताओं के थान पर माथा टेकने निकला तो सबसे पहले सुमिरन किया देवाधिदेव ठाकुरदेव का। ग्राम देवताओं में सर्वाधिक शक्तिशाली-प्रभावशाली माने गये हैं, ठाकुरदेव। बस्ती के एक सिरे पर इनकी स्थापना है, लक्खी तालाब के किनारे। गांव पर आने वाली विपत्तियों, विघ्न-बाधाओं का रास्ता रोके, ठाकुरदेव बस्ती की सीमा पर घोड़ाधार व हरदेलाल, दो अन्य देवताओं के साथ एक चबूतरे में माने-पूजे जाते हैं। पहले कोई भी यहां से जूता पहने या वाहन पर सवार होकर नहीं गुजरता था और किसी प्रकार से इस थान का परोक्ष अपमान करने से भी प्रत्येक ग्रामवासी या ग्राम में प्रवेश करने वाला बचता था।
ग्राम देवताओं में प्रमुख, गांव के मालिक-देवता, ठाकुरदेव का बड़ा-सा सफेद बकरा दिखाई पड़ता है, भोले बाबा के गंभीर लेकिन अलमस्‍त नंदी की तरह। ठाकुरदेव पर बलि नहीं दी जाती बल्कि उनकी पूजा कर, सफेद बकरा यूं ही छोड़ दिया जाता है। बकरे व अन्य सभी सामान्य पूजा की व्यवस्था गांव के गौंटिया/प्रमुख करते हैं और बैगा के माध्यम से पूजा सम्पन्न होती है। सामने ही ठाकुराइन दाई स्थित है जो अपेक्षाकृत नयी स्थापना है। पहले किसी घर में इनका वास था, किन्तु बैगा ने पूजा-पाठ कर इन्हें यहां उपयुक्त स्थान में स्थापित कर दिया है।

पर्री तालाब के पार में चबूतरे पर पत्थर का एक स्थापत्य खंड और त्रिशूल गड़ा है यहां अघोरी बाबा और कालिका देवी की स्थापना हैं, जाति और प्रयोजन-विशेष के ये देवता आमजन द्वारा पूजित नहीं हैं, किन्तु अन्य देवताओं की भांति होली, छेरछेरा, हरेली में इनकी पूजा बैगा करता है, दशहरा के दिन विशेसरी या विश्वेश्वरी देवी का ध्वज-स्तंभ यहां लाकर गाड़ा जाता है, ये देवता पूजा में होम, फूल, दूब के साथ शराब व बकरा भी लेते हैं।

बस्ती के बीच तीन देवी-देवता पास-पास ही स्थापित है- सत्ती दाई, परऊ बैगा और मुड़िया बाबा। इनमें सत्ती दाई, पुराने समय की सती हुई कोई स्त्री का स्थान है, जहां पत्थर मिट्‌टी का चबूतरा है। परऊ बैगा को प्राचीन, अत्यंत शक्तिशाली और प्रसिद्ध बैगा बताया जाता है, जो ईंटों के छोटे से चबूतरे पर किसी प्राचीन मूर्ति-खंड व अन्य अनगढ़ पत्थर के टुकड़े के रूप में हैं। मुड़िया बाबा के रूप में पीपल के वृक्ष के नीचे चबूतरे पर रखा कलश के आकार का पाषाण खंड और लकड़ी की गदा हैं। विवाह के अवसर पर महिलाएं देवतल्ला में ठाकुरेदव, घोड़ाधार, हरदेलाल, ठकुराइन दाई, विशेसरी के साथ इन तीनों पर भी हल्दी चढ़ाती हैं; बाकी ठौर पर बैगा जाया करता है।
अन्य देवताओं में मुख्‍यतः रामसागर तालाब के पार की महामाई है, जहां अब मंदिर बन गया है। होली जलने के दिन और चैत की नवरात्रि में इनकी विशेष पूजा होती है। यहां पूजा में बकरे के अलावा रेशमी चूड़ी, सिन्दूर आदि भी चढ़ाया जाता है। इसी के पीछे कुर्रूपाठ देवता है, जिनका अस्तित्व अब लगभग लुप्त हो चुका है। पालतू मवेशियों को रोग-बीमारी हो तो बघर्रा पाठ की पूजा की जाती है। चेचक होने पर शीतला माता की और हैजा के समय चण्डी दाई की पूजा होती है।
गांव के एक छोर पर गोपिया तालाब के किनारे अधियारी पाठ है। ठाकुरदेव आपत-विपत पड़ने पर अपने सफेद घोड़े पर सवार हो, यहां तक आया करते हैं और ग्राम-प्रमुख, बैगा आदि को भी सूचना दिया करते हैं। इनके घोड़े की टाप सुनने की बात कितने ही ग्रामवासी विश्वासपूर्वक बताते हैं। अंधियारी पाठ भी ग्राम सीमा के देवता है। अर्थात गांव में किसी भी प्रकार के अशुभ को प्रवेश नहीं करने देते।
दाऊ साहब को गोंड़ों-नायकों का देवता बताया जाता है। सीवाने के दो अन्य देवता हैं- डंगरादाई और ओंगनपाठ। डंगरादाई को सबसे पहले विशेष रूप से तब पूजा जाता है, जब कोई व्यक्ति मवेशी खरीदकर यहां से गुजरता है। वैसे डंगरदाई की मूर्ति किसी प्राचीन मंदिर के द्वारपाल की है जिस पर सिन्दूर लगा है और उसे परिधान से ढक दिया गया है। ओंगनपाठ देवता का अस्तित्व सामान्यतः सीवाने पर ही हुआ करता है और यहां से जो भी वाहन वाला- गड़हा निकलता है, देवता पर थोड़ा सा ओंगन तेल चढ़ा देता है, ताकि उसकी यात्रा निर्विघ्‍न हो।

लगभग पूरे गांव का चक्कर लगाकर मैं वापस आता हूं, और पुनः नमन करता हूं उस सहज-सरल, आदिम-आस्था को और आस्था के केन्द्र बिन्दु व सांस्कृतिक-धार्मिक समन्वय के प्रतीक ग्राम देवताओं को।

छत्तीसगढ़ के ग्राम-देवताओं की जानकारी, शौकिया व अनियमित तौर पर, जुटाने का सिलसिला तीसेक साल पुराना है। अकलतरा के तीन निखाद बइगा- मेरे लिए गुरुतुल्य बहादुर, भगोली और मुड़पटका (ऐसे ही नाम पुकारे जाते और इसी तरह याद है) और नंदू मुनीमजी कहे जाने वाले गंवई-गूगल जैसे श्री नंदकुमार सिंह से पूछताछ करते इसकी शुरुआत हुई, तब अपने गांव के 25 से भी अधिक ग्राम-देवताओं और उनसे जुड़ी परम्पराओं के बारे में कुछ जान पाया, और यही आरंभिक जानकारी बाद में अन्य इलाकों में पूछताछ के लिए, संवाद स्थापित करने में सहायक होती रही।

(यहां इस्‍तेमाल कुछ तस्‍वीरें, श्री यशोदा ने भेजी हैं।)

30 comments:

  1. ग्राम्य देवताओं की एक अति प्राचीन विरासत है .....हमारे यहाँ बीर लोगों का थान है -बन्हवारे बीर बाबा ...चम्मुख नाथ बाबा -लगता है यह शैव सम्प्रदाय या शक्ति के उपासकों का किया धरा है ....वे आज भी गाँव गिराव के कितने ही दैनंदिन कार्यों -अनुष्ठानों में प्रथम वन्दनीय है ..
    आपकी यह ग्राम परिक्रमा गणेश परिक्रमा से कुछ कम नहीं :-)

    ReplyDelete
  2. उत्कृष्ट प्रस्तुति ।।

    इस प्रविष्टी की चर्चा बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी !

    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग में बहुत ही अलग और रोचक जानकारी मिलती है.

    ReplyDelete
  4. ठाकुरदेव के बारे में जाकारी लाभप्रद रही ......! और बहुत से सन्दर्भ उद्घाटित किये हैं आपने इस पोस्ट में ......!

    ReplyDelete
  5. ग्रामीण भारत की गैर शास्त्रीय धार्मिक परंपरा और लोक विश्वास की चिरंतन छवि से भरपूर पस्त जिसे पढते डाक्यूमेंट्री का आनंद प्राप्त हुआ ..

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह पठनीय।

    ReplyDelete
  7. श्री ग्राम देवताभ्यो नमः । गांव के सारे देवताओं से परिचय कराने का आभार ।

    ReplyDelete
  8. अनूठी चर्चा के लिए आभार आपका ! बचपन से परिवार में किसी शुभ कम से पहले, कालेदेव की पूजा आवश्यक बतायी गयी है !
    अनूठी पोस्ट है आपकी !

    ReplyDelete
  9. मुझे लगा, आप मेरे गॉंव पीपलोन का वर्णन सुना रहे हैं। सब कुछ बिलकुल वैसा ही।

    गॉंव, केवल गॉंव होता है। कहीं का भी हो।

    ReplyDelete
  10. ग्राम देवताओं के विषय में अच्छी जानकारी। ग्रामीण अंचल में इन देवताओं की भेंट पूजा के बिना कोई कार्य संभव भी नहीं है।

    ReplyDelete
  11. ज्ञानवर्धक, जानकारी भरा , बहुत अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
  12. छत्तीसगढ़ के ग्रामदेवताओं के बारे में बढ़िया खोजपरक जानकारी. संयोग है कि यहाँ तमिलनाडु के "अय्यनार" और अन्य ग्राम देवताओं के बारे में कुछ सामग्री जुटा रहा था. वे सब वैदिक परम्पराओं से इतर माने गए हैं.
    बस्तर में दशहरे के समय विभिन्न ग्राम देवताओं की पालकियां/छत्रियां इकट्ठी होती हैं जो सदैव कौतूहल का विषय हुआ करता था. ऐसी परम्पराएँ लगभग सभी राज्यों में हैं. संकलित कर एक पुस्तक प्रकशित की जा सकती है.

    ReplyDelete
  13. ग्रामदेवता पुरानी परम्परा है, ग्राम की आत्मा और ग्राम के सम्मिलित विकास का आधार..

    ReplyDelete
  14. हर गाँव मे ऐसी आस्था के सतम्भ आज भी मौजूद हैं जो लोगों मे जीवन के प्रति विश्वास की भावना देतें हैं। बहुत रोचक जानकारी है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  15. हर गाँव का अपना इतिहास होता है ... बहुत अच्छी जानकारी मिली

    ReplyDelete
  16. ग्राम देवताओं का गढ़ छत्तीसगढ़ .जिनके निवास और गरिमा का सुन्दर वर्णन आपके पोस्ट की शोभा में चार चाँद लगाता है .मैं गाँव का ही रहनेवाला हूँ सो तीज त्यौहार शादी ब्याह और अन्य मांगलिक कार्यों में सर्वप्रथम इनका ध्यान करके आशीर्वाद प्राप्त कर कार्य की शुरुवात करते हैं .सदैव की भांति ग्राम देवता के साथ आप भी प्रणाम स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  17. आज सुबह ही एक टिपण्णी दर्ज की थी. न मालूम क्यों नहीं दिख रही है. शायद मैंने कहा था कि छत्तीगढ़ के ग्राम देवताओं के बारे में बहुत ही अच्छा संकलन मिला. बस्तर के ग्राम देवताओं की पालकी/छतरी दशहरे के समय जगदलपुर में इकट्ठी होती थी और बड़ा कौतूहल हुआ करता था. संयोग है की यहाँ तामिलनाडू के "अय्यनार" के बारे में कुछ जानकारियाँ प्राप्त कर ही रहा था की आप की यह पोस्ट आई. यहाँ के ग्राम देवता वैदिक परम्पराओं से इतर हैं. ऐसी परम्पराएँ सभी प्रदेशों के ग्राम्यांचलों में पायी जाती हैं. कोई मेहनत करे तो एक अच्छी पुस्तक प्रकाशित हो सकती है.

    ReplyDelete
  18. singh sahab,bata nahi sakta dil k kitne karib hai gaon,abhi bhi mitti ki khusbu apne man me mahsoos karta hoon,bahut hi rochak jaankari.thanks

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी जानकारी......
    आपका आभार

    अनु

    ReplyDelete
  20. इनदिनों कई लेख आए आपके! नया चित्र भी! सब देखा। यहाँ भी थोड़ा पढ पाया हूँ। बाकी बाद में...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस चंदन, महीने में चार का हिसाब चल रहा है.

      Delete
  21. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    बेहतरीन रचना

    सावधान सावधान सावधान
    सावधान रहिए



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ सावधान: एक खतरनाक सफ़र♥


    ♥ शुभकामनाएं ♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    **************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  22. प्रताप पारख जी की टिप्‍पणी-
    bhaiyaji ye thakurdeo wala lekh har bane lagis. mor jigysa ye har hai ki cg ke to har gaun me thakur deo rahite jon har gaon ke raksha karthe. aisne ka aur des videsh ke gaon me bhi thakur deo ke upsthithi
    mile hai ka. thakur deo ta cg ke culture ma rache base hai bane lagis.

    ReplyDelete
    Replies
    1. छत्‍तीसगढ़ म ठाकुरदेव कस बुढ़ादेव, लिंगो अउ खुडि़यारानी कस कत कोनो देंवता हावंय.

      Delete
  23. रंजन मोडक जी की टिप्‍पणी-
    gram devtaon aur unse judi jankariyan bahut rochk hai. is hetu hum aapk aabhari hain...... dhanyavad..

    ReplyDelete
  24. बहुत ही सुन्दर जानकारी दी है चित्र भी बहुत अच्छे लगे |
    आशा

    ReplyDelete
  25. आपके लेख हमेशा प्रभावित करते हैं। गहन शोध पर आधारित एक पठनीय आलेख।

    ReplyDelete
  26. हमने तो खैर कुलदेवता देखे नहीं, बस सावन के महीने में एक दिन गूगा के नाम पर मीठे पूडे बनते थे और जल्दी से कहीं खुली जगह(खेत तो बचे ही नहीं थे आसपास) में उनका हिस्सा डालकर गरम गरम मीठे पूडे खाने को मिलते थे, वो याद है|
    उद्देश्य हमारे अंदर आस्था पैदा अकरने का ही रहा होगा, कोई भी शुभ कार्य हो या अमंगल का डर, आस्था हमें विश्वास देती है|

    ReplyDelete
  27. मन तृप्त करते हैं ऐसे आलेख आपके।

    ReplyDelete