# रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Wednesday, April 25, 2012

बेरोजगारी

तब जो कुछ करता था, वह 'क्‍या करते हो?' के जवाब में पूरा नहीं पड़ता था, इसलिए 'बेरोजगार' शब्‍द टालने के लिए ही नहीं, तब उसकी तासीर समझने में भी काम आया था। लगभग बिना प्रयोजन तब लिखा अपना यह नोट 'कोरबा' के साथ मिल गया, ब्‍लागरी होती तो तभी लग जाता, अब सही...

बिलासपुर जिले के कोरबा-गेवरा की खुली कोयला खदान, दुनिया की अपने तरह की सबसे बड़ी खदानें हैं, जिनमें कभी न बुझने वाली आग धधकती रहती है, और कोयले के आग की तासीर भी कुछ खास होती है। राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम, एनटीपीसी, कोरबा के छंटनीशुदा कर्मचारी, 33 वर्षीय कामेश्वर सिंह ने नियमित सेवा में लिये जाने की मांग पूरी न होने के कारण 26 फरवरी को शाम 6 बजे आत्मदाह की घोषणा की थी।

समय से पहले लोग वहां जमा होने लगे और उत्तेजना बढ़ने लगी थी। उधर कामेश्‍वर एनटीपीसी कार्यालय के पास नाले पर किनारे-किनारे लुकता-छिपता आगे बढ़ रहा था। उसने मैले-कुचैले कपड़े पहन रखे थे, उसकी ओर किसी का ध्यान नहीं था। 6 बजे के कुछ ही मिनटों बाद वह गेट नं. 2 पर प्रकट हुआ और माचिस की तीली से पेट्रोल बुझे अपने कपड़ो में आग लगा ली। लोगों का ध्यान इस भभकते शोले की ओर गया। कुछ ने रेत और धूल से आग बुझाने की कोशिश भी की किन्तु देखते-देखते वह 80 प्रतिशत झुलस चुका था, उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया। 22 घंटे की उसकी इस जद्दोजहद ने दम तोड़ा, 27 फरवरी को शाम 4 बजे और उसने अपनी धमकी को इस तरह कारगर कर दिखाया।

इस दुर्घटना की पृष्ठभूमि समझने के लिये कुछ दिन पीछे जाना होगा। कामेश्वर सिंह ग्राम रेवा, थाना सरैया, जिला मुजफ्फरनगर, बिहार का निवासी था। सन 1975 में मुजफ्फरपुर से बीए किया। 1978 तक बी.टी.ट्रेनिंग की। नवंबर 1978 में किसी रिश्तेदार के कहने-सुनने पर उसे एनटीपीसी में काम मिल जाने की बात बनी। 80 वर्षीया विधवा मां व 18 वर्षीय अपाहिज भाई का सहारा यह युवक कोरबा चला आया।

तब से 1 जनवरी 81 तक उसे समय-समय पर दैनिक भुगतान पर काम में रखा जाता रहा। कुछ अन्य सहकर्मियों की भांति उसे काम पर नियमित नहीं किया गया तो उसने इस आशय का एक पत्र एनटीपीसी के महाप्रबंधक को लिखा। पत्र पर कोई आशतीत प्रतिक्रिया न देखकर 16 जनवरी को आमरण अनशन पर बैठ गया। 2 दिन पश्चात ही पुलिस ने उस पर दफा 309, आत्महत्या का मामला बना दिया। इसके बाद उसका धैर्य जवाब देने लगा और अंततः उसने आत्मदाह की घोषणा कर डाली, किन्तु 2 फरवरी को महाप्रबंधक को एक पत्र में उसने लिखा कि आपके मौखिक आश्वासन पर अपने आत्मदाह की घोषणा वापस लेता हूं लेकिन आत्मदाह की तारीख 26 फरवरी निकट आते-आते उसने पुनः आत्मदाह की घोषणा कर दी।

इस घटना के बाद आत्मदाह के विभिन्न मसले इतने विवादग्रस्त हो गए कि कुछ मूल तथ्यों को छोड़ किसी भी बात पर दो मत एक जैसे नहीं है। कामेश्वर किस अमानवीयता का शिकार हुआ कि उसने अपना सहेजा-संभाला धैर्य पुनः खो डाला, कहना जरा मुश्किल है। किन्तु उसके आत्मदाह के पश्चात एनटीपीसी की ओर से दिये गये ब्यौरे के कुछ वाक्यों से स्थिति का काफी कुछ अंदाजा लगाया जा सकता है। जैसे- (एनटीपीसी की) ''फिर मानसिकता यह भी थी कि कोई क्यों आत्मदाह करेगा।'' ''प्रबंध तंत्र द्वारा काम पर वापस लेने के आश्वासन के उत्तर में वे कहते रहे कि अब वे एनटीपीसी में नौकरी करने में रूचि नहीं रखते। अंततः वे कतिपय तत्वों के बहकावे में आकर प्रशासन की आंखों में धूल झोंककर आत्मदाह करने में सफल रहे'' आदि। यह भी उल्लेखनीय है कि आयुक्त, जिलाधीश और पुलिस उपमहानिरीक्षक उस दिन कोरबा में ही मौजूद थे।

अब इस घटना पर विभिन्न तरह की चर्चाएं हो रही हैं। एक नेता ने तो इस कांड की न्यायिक जांच की मांग करते हुए स्वयं भी आत्मदाह करने की घोषणा कर दी है। न जाने और किन-किन स्वार्थों की रोटी इस आग में सेंकी जायेगी। हो सकता है सरकार की ओर से मृतक के परिवार को कुछ सहायता दे दी जाय और एनटीपीसी प्रशासन को कुछ कड़े निर्देश दे दिये जाएं। किन्तु अब कामेश्वर नहीं हैं, लेकिन उनके पीछे उठने वाले सवाल जरूर हैं। आत्मदाह की स्थितियां पैदा करने के कारण और तात्‍कालिक परिस्थितियां, इसे रोका क्‍यों नहीं जा सका और सवाल यह भी कि एक बेरोजगार को अपनी स्थिति से ज्यादा सुखद जलकर मर जाना लगे तो बेरोजगारी के आग की तासीर क्या होगी।

26 comments:

  1. अफ़सोस! दुखद घटना है। समस्याओं को एक मानवीय दृष्टिकोण की तलाश आज भी है।

    ReplyDelete
  2. सवाल का जवाब बहुत भयावह है| बेरोजगारी की आग में दाह निरंतर होता है और अकेले का नहीं होता, आश्रितों का भी होता है|

    ReplyDelete
  3. ओह ....भयावह ..वेलफेयर स्टेट ?

    ReplyDelete
  4. दुर्भाग्यपूर्ण.

    ReplyDelete
  5. संवेदना शून्य लोगों को जगाने के लिए यह एक अच्छा माध्यम है। रोज-रोज मरने से अच्छा है एक बार ऐसे मरो कि कम से कम मरने के बाद तो लोग महसूस करें कि उन्होने अपराध किया है। अब जिम्मेदारी हवाओं की है कि वे इस आग को कितनी देर तक जलाये रख सकते हैं। अग्नी कुण्ड में खुद को हवन कर देने वाले की इच्छा भी यही होती है कि आग जोर पकड़े और दुष्ट आत्माएं इसकी तासीर में जलकर स्वाहा हो जांय।

    कामेश्वर नहीं है लेकिन दुआ करें कि कामेश्वर का बलिदान दूसरे बेरोजगारों की राह आसान करे, उन्हे भी हार कर ऐसा अनर्थ कदम न उठाना पड़े।

    ReplyDelete
  6. बेरोजगारी की पीड़ा समझना बहुत कठिन है, वह भी जब आप पर ही सबका उत्तरदायित्व हो। मार्मिक घटना।

    ReplyDelete
  7. उफ़ !
    पीड़ा और अवसाद की गहन अनुभूति कराता आपका आलेख अनेक अनेक कामेश्वरों के गुमनाम अस्तित्व का पता देता है
    अफ़सोस ! बहुत अफ़सोस !!

    ReplyDelete
  8. बेहद दुखदायी प्रकरण ...
    कामेश्वर जैसों को बचाने की कोशिश कोई नहीं करता .

    ReplyDelete
  9. बड़ा मार्मिक कष्ट-प्रद, सारा यह दृष्टांत ।
    असहनीय जब परिस्थित, सहज लगे प्राणांत ।

    सहज लगे प्राणांत, प्रशासन की अधमाई ।
    या कोई षड्यंत्र, समझ मेरे ना आई ।

    पर प्राणान्तक कष्ट, झेल तू प्रियजन खातिर ।
    बिन तेरे परिवार, मिटा दे दुनिया शातिर ।

    ReplyDelete
  10. आज के दौर में ये घटना होती तो कई टीवी कैमरे उस पर फ्लैश कर रहे होते, लेकिन उसकी आग़ बुझाने की किसी को फिक्र नहीं होती...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  11. Mushkilen chain reaction ki tarah aati hain ... ek ke baad ek. Eki to berojgari upar se aatmdaah ke baad ki rajniti . Afsos !
    Is mahattvpoorn mudde ko hamse share karne ke liye aapka dhanyvaad chahaji ! Ummeed hai ki aisa aage na ho iske liye sab milkar prayas karenge .

    ReplyDelete
  12. मरना- आत्म हत्या समाधान नहीं ...

    ReplyDelete
  13. ये एक ऐसी समस्या है जिसका निदान खद्दर वेश धारी के लिए कोई प्राथमिकता नहीं रखती।

    ReplyDelete
  14. मार्मिक..... बहुत दुखद होती हैं ऐसी परिस्थितियां

    ReplyDelete
  15. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति |
    शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ||

    सादर

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. बड़े हिम्मत का काम है खुद को मिटाना और
    कितना त्रासद है कोई सहारा न मिलना.
    शायद मरने की पीड़ा जीने से ज्यादा रही होगी .
    जियादा नहीं आसूं न छलकें

    ReplyDelete
  17. बेरोजगारी बड़ा भद्दा सब्द है यह न सिर्फ रुपए से सम्बद्ध है बल्कि आदमी को यह अहसास भी करता के दुनिया के उसका होना या न होना कोई मायने नहीं रखता.यही निर्थकता का अहसास ही इसकी सबसे बुरी चीज है.फिर भी आत्महत्या किसी भी समस्या का समाधान तो नहीं है .पर आदमी भी तो आखिर आदमी ही है. इस पर अटल बिहारी बाजपाई की कविता की लाइन मुझे याद आ रही है. आदमी को चाहिए की वह परिस्थियों से लड़े | अगर उसका एक स्वप्न टूटे तो दूसरा गड़े ||
    मेरी एन्क्यावन कविता से
    कामेश्वर सिंह को श्रद्धांजलि सहित

    - विवेक राज सिंह, अकलतरा

    ReplyDelete
  18. At a time when Print and Electronic Media is incompetent to raise such issues and help enable individual to be Strengthen, such an initiation from your side (individually) is milestone to the development of alternate media...
    Gone are the days when Media used to write on such issues. In CG itself (esp Korba and Bilaspur)none of the newspapers are publishing news concerning irregularities in wages and other issues that may be of some help to people working out there in these specific areas.
    Sir, Salute you for this Post.
    Learning a lot from your posts...
    Regards
    Bikash K. Sharma

    ReplyDelete
  19. बेरोजगारी के आगे की स्थिति अराजकता है.
    यहाँ से चमचागिरी का दौर शुरू होता है. दो जून की रोटी के खाते वक़्त शायद इंसान अपने द्वारा की जा रही नौकरी के काम से एक बरगी असंतुष्टि भी अंतर्मन में महसूस करता होगा..लेकिन परिवार के आगे वो इन सब बातों को भूलने की कोशिश में लगा रहता हैं..सुबह फिर उस "नौकरी" की और आगे बढ़ जाता है...
    कम से कम समकालीन दौर में तो येही हो रहा हैं....बड़ा अधिकारी छोटे अधिकारी को निचा दिखाने का कोई मौका नहीं छोड़ता है..
    ये शासकीय और गैर शासकीय दोनों जगह लागु है..
    बेहद अच्छा विषय
    सादर
    बिकास के शर्मा

    ReplyDelete
  20. संवेदनहीनता दुखद है , न जाने कितने कमेश्श्वर सिंह ,,,इस व्यवस्था में आत्मदाह करते रहेंगे...... कब तक

    ReplyDelete
  21. प्रश्न तो कई हैं हैं किन्तु उत्तर....?

    ReplyDelete
    Replies
    1. सवाल मजबूत हो कर ही उत्‍तर की तलाश के लिए मजबूर करते हैं, वरना कठिन सवाल मानकर, आसान प्रश्‍नों को हल कर, पासिंग मार्क ले कर, व्‍यवस्‍था प्रगति के रास्‍ते तय कर लेती है.

      Delete
  22. संवेदनहीनता की सीमा कहाँ तक जायेगी समझनहीं पाती .कहीं से कोई आसरा मिलता तो शायद वह इतना बड़ा कदम न उठाता.अत्यंत दुखद !

    ReplyDelete
  23. इस घटना के साथ दिल्ली विश्वविद्यलय छात्र स्व गोस्वामी द्वारा मंडल के विरोध में किये गए आत्मदाह की भी चर्चा की जानी चाहिए तभी बेरोजगारी और बेरोजगार रह जाने की भीति पर पूरी मानसिक यंत्रणा को समग्र रूप से देखा जा सकेगा और "राजा नहीं फकीर है देश की तकदीर है " जैसे बलिदानी,कवी ,साहित्यकार और जाने क्या -क्या ? की असलियत को

    ReplyDelete