# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Monday, May 30, 2011

मगर

कहावत है- 'दोनों हाथों से ताली बजती है' या 'एक हाथ से ताली नहीं बजती', मगर ... मगर-अगर, किंतु-परंतु, लेकिन, बल्कि, जबकि, तो, इसलिए, गोयाकि, चुनांचे कुछ नहीं, सीधी-सादी बात, जिसका एक सिरा इसी कहावत में है। आमतौर पर यह 'द्वेष' के संदर्भ में कहा जाता है, आशय होता है कि लड़ाई-झगड़े के लिए दोनों पक्ष जिम्मेदार होते हैं और इसी तरह यह 'राग' के लिए भी प्रयुक्‍त होता है। यानि कहावत बैर-प्रीत दोनों के मामलों में फिट और संबंध सिर्फ कर्ता-दृष्टा या मंच-कलाकार जैसा नहीं, बल्कि जहां दोनों पक्षों की सक्रिय भूमिका हो।

नागपुर-हावड़ा रेल लाइन पर सफर करते हुए बिलासपुर जंक्शन के बाद बमुश्किल पंद्रह मिनट बीतते बाईं ओर दलहा पहाड़, लीलागर नदी का पुल, मिट्टी के परकोटे वाला खाई (प्राकार-परिखा) युक्त गढ़-बस्ती-कोटमी सुनार स्टेशन, जयरामनगर के बाद और अकलतरा से पहले है। आपको भान नहीं होगा कि आप मगरमच्छ संरक्षण परियोजना के अनूठे केन्द्र से हो कर गुजर रहे हैं। लंबी दूरी की मेल-एक्सप्रेस गाड़ियां यहां रूकती भी नहीं, अभी आगे बढ़ जाइये। फिलहाल यह कुछ तस्‍वीरों में देख सकते हैं।
ताली बजने को थी कि मगर बीच में आ गया। छत्तीसगढ़ में कहा जाता है- 'चले मुंह ...' बातूनी और मुंहफट अपनी जबान पर काबू नहीं रख पाता, लेकिन जो फिसलती न चले वो जबान क्या, वह तो रिकार्डेड आवाज हुई। खैर! यहां मामला जरा अलग, बतरस का है-

कोई 45 साल पुरानी बात है। उत्तरप्रदेश, बस्ती जिले का निवासी 25 वर्षीय युवा, गृहस्थ आश्रम में प्रवेश के बजाय घर-बार छोड़कर, बरास्ते हनुमानगढ़ी, अयोध्या इस गांव कोटमी आया और तब से वह यानि सीतारामदास वैष्णव 'बाबाजी', जोगिया तालाब के किनारे रामजानकी मठ में सेवा कर रहे हैं। 'जात न पूछो साधु की', लेकिन मैं दुनियादार पूछ ही लेता हूं- 'कौन जमात, कौन अखाड़ा, कौन गुरू। सिलसिला आगे बढ़ता है। माया जगत है, बाल-ब्रह्मचारी बाबाजी ने एक अलग गृहस्थी बना ली, जिसमें अगर-मगर नहीं सचमुच के मगर(मच्छ) रहे हैं।
कोटमी में मगरमच्छ शाश्वत हैं, यानि कब से हैं, कहां से और क्यों-कैसे आ गए, इसका इतिहास क्या है, अब लोगों की स्मृति में कालक्रम अतिक्रमित करते हुए समष्टि चेतना का हिस्सा बनकर थे, हैं और रहेंगे हो गया है। अनुमान होता है कि मगरमच्छ, लीलागर नदी के रास्ते कभी आए होंगे और तालाब बहुल इस गांव को अनुकूल पाकर इसे पक्का डेरा बना लिया। यह भी माना जाता है कि यहां छत्‍तीसगढ़ के विशिष्‍ट, मिट्टी के परकोटे वाले प्राचीन किले (गढ़) के चारों ओर की खाइयों में कभी सुरक्षा के लिए जहरीले और खतरनाक जीव-जंतुओं के साथ मगरमच्छ भी छोड़े गए। किला-गढ़ का वैभव तो राजाओं की पीढि़यों की तरह चुक गया, लेकिन मगरमच्छ, पुश्‍त-दर-पुश्‍त, खइया के अलावा बंधवा तालाब, मुड़ा तालाब, जोगिया तालाब सहित अन्य तालाबों में बसर करते, फलते-फूलते रहे।

इस तरह न जाने कब आए मगरमच्छ और अब आए सीतारामदास वैष्णव 'बाबाजी'। रामजानकी मठ-मंदिर की सेवा के साथ के बाबाजी मगरमच्छों का ख्‍याल रखने लगे और मंदिर के सामने का जोगिया तालाब हैचरी बन गया। कोटमी के लोगों की बातों पर यकायक भरोसा नहीं होता। गांव वाले बताते हैं- गरमी में रात पहर रहते ही 'खातू पालने' के लिए गाड़ा फांदा जाता। पानी कम हो जाने के कारण यही समय होता जब मगरमच्छ एक तालाब से दूसरे तालाब जाते होते। गाड़ा के रास्ते में मगरमच्छ आ जाता तो दो गड़हा मिलकर उसे बगल में ले कर उठाते और गाड़ा में डाल कर तालाब तक पहुंचाते फिर किनारे पर घिसला देते। मगरमच्छ धीरे से सरक कर तालाब में उतर जाता।

गांव के आम लोग मगरमच्छ जानकार हैं ही लेकिन बाबाजी तो विशेषज्ञ के साथ-साथ मगरमच्छ सेवक, पालक, अभिभावक भी हैं। वे बताते हैं कि चैत-बैसाख अंडा देने का समय है। मगरमच्छ, तालाब के किनारे दो फुट या अधिक गड्ढा खोद कर उसमें अंडा देते हैं। अंडे सेते हुए दो-तीन हफ्ते वे कुछ नहीं खाते। दो माह बीतते-बीतते जेठ-आषाढ़ में बरसाती गर्जना से अंडे दरकते हैं और गिरगिट आकार के बच्चे निकल आते हैं। ये बच्चे मिट्‌टी खाकर रहते हैं। बाबाजी बताते हैं- एक मगरमच्छ दूसरे के बच्चों को भी खा जाता है। बाबाजी, लंबे समय तक स्वयं तय की जिम्मेदारी का पालन करते हुए जोगिया तालाब की अपनी हैचरी में मगरमच्छ के बच्चे पाल कर, बड़ा कर, तालाबों में छोड़ते रहे हैं। बाबाजी के अनुसार इनका मुख्‍य आहार मछली है, जिसे सीधे निगलकर, कछुए को उछालते-लपकते, अन्य भोज्य को नोच-नोच कर या कीचड़ में दबा कर, सड़ना शुरू होने पर खाते हैं।

आज परियोजना वाले मुड़ा तालाब में ज्यादातर, कर्रा नाला बांध में 5-7 और इक्का-दुक्का अन्य तालाबों में मिला कर 150 से अधिक मगरमच्छ हैं। उल्लेखनीय यह कि इनमें शायद एक भी ऐसा नहीं जिसे बाबाजी ने दुलराया-सहलाया न हो।

कोटमी में मानव-मगरमच्छ सहजीवन की अनूठी मिसाल है। पिछले चालीसेक साल में कुछ दुर्घटनाएं हुई हैं, जिनमें अब तक दो-तीन जानें गई और दो अपंग हुए हैं। एक घटना 1 अप्रैल 2006 को शाम चार बजे बाबाजी के साथ घटी। जोगिया तालाब के किनारे मगरमच्छ अंडे से रहा था, कुछ बच्चे वहां आए और उसे छेड़ने लगे। बच्चों को डांट कर भगाने के लिए बाबाजी बाहर निकले और बेख्‍याली में मगरमच्छ की जद में आ गए। मगरमच्छ, उनका बायां हाथ दबोच कर, खींचते हुए पानी में ले गया। बाबाजी मजे से बताते हैं- अंदर ले जा कर गोल-गोल घुमाते हुए खेलाने लगा और तली में ले जाकर गड्‌ढा खोदना शुरू कर दिया। लगा कि गड़ा देगा। उन्हें बस गज-ग्राह के नारायण याद आए। शायद तभी, बच्चे फिर अंडों की जगह की ओर बढ़े और मगरमच्छ, बाबाजी को छोड़कर बच्चों की ओर लपका। समरस बाबाजी हंसकर बताते हैं कि वे झिंझोड़ा-लटकता अपना हाथ, दाहिने हाथ में पकड़े, रामजी की कृपा से बाहर निकल आए। बच गया तो लगा कि अभी और सेवा करनी है, भगवान की, मगरमच्छों की।

बाबाजी कहते हैं- सरकारी मदद मिली, इलाज हुआ, मैंने डॉक्टर से कहा हाथ काम का नहीं रहा, जहर फैल जाएगा, काट दीजिए। शरीर तो नश्‍वर है। सरकार ने और दो-दो हाथ बनवा दिए, लेकिन नकली है, बोझा लगता है। मैंने कहा कि हाथ कटा के आप तो चतुर्भुजी बन गए, वे ठठाकर हंसते हैं और बात का मजा लेते, मेरा इरादा भांपते हुए कहते हैं, फोटो खींच लीजिए और जोगिया तालाब के किनारे ठीक वहीं चतुर्भुजी बन कर खड़े हो जाते हैं, जहां मगरमच्‍छ ने उन्‍हें दबोचा था। सोच रहा हूं, तस्‍वीर में अहिंसा के पुजारी का निष्‍काम कर्मयोग कैसे दिख पाए। बाबाजी निरपेक्ष, पूछते हैं अब हाथ टांग दूं वापस झोले में।
पिछले दो साल में छः-सात लोग सरकार की ओर से चेन्नई जा कर मगरमच्छ का प्रशिक्षण ले कर आए हैं। एक मगरमच्छ का इलाज कराना था। प्रशिक्षित, हिम्मत नहीं जुटा पाए तो बाबाजी की टीम काम आई।

बाबाजी के हांक लगाने पर मगरमच्छ तालाब से बाहर आ जाते हैं, लेकिन सुस्त-बीमार जीव को मुड़ा तालाब में पानी के अंदर जा कर निकालना पड़ा, जिसे इलाज के बाद फिर छोड़ा गया। बाबाजी कहते हैं कि मगरमच्छ समझदार जीव है और इसकी आंख ढंक दी जाए फिर उस पर आसानी से काबू पाया जा सकता है। पूछने पर कि प्रशिक्षितों ने नया क्या सीखा, बाबाजी हंसकर कहते हैं वे लोग तो ठीक से बताते नहीं, लेकिन लगता है कि मगरमच्छ से डरना सीख कर आए हैं।

बाबाजी का मगरमच्‍छ प्रेम पूर्ववत बना हुआ है अब उनके लिए क्या कहें- 'ताली दोनों हाथों से बजती है' या 'एक हाथ से भी ताली बजती है', खूब बज रही है।

जांजगीर जिला के कोटमी सोनार में 86 एकड़ रकबा वाले मुड़ा तालाब को ही क्रोकोडायल पार्क (मगरमच्‍छ संरक्षण आरक्षिति) विकसित किया गया है।
यह अपने किस्म की देश की पहली परियोजना बताई जाती है। यहां लगातार पर्यटक आते रहते हैं। छुट्टी के दिनों में यह संख्‍या हजार तक पहुंच जाती है, जिनमें विदेशी भी होते हैं।
इस मगरमच्छ संरक्षण परियोजना का शिलान्यास 09 मई 2006 को छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्रीजी और लोकार्पण 23 अगस्त 2008 को वनमंत्रीजी (के करकमलों) की गरिमामय उपस्थिति में हुआ, अंकित है। लेकिन इसमें शायद बाबाजी का हाथ भी है, जो नहीं है।

69 comments:

  1. एक महान वन्‍यजीव प्रेमी से परिचय कराया आपने। बहुत अच्‍छी पोस्‍ट

    ReplyDelete
  2. बाबा जी का उद्यम सराहनीय है,ताली भी एक हाथ से बज रही है।
    कोटमी सोनार के मगरमच्छों के विषय में सुनते आए हैं। एक दिन वहां जाने के लिए बिलासपुर से निकल लिए थे पर रतनपुर पहुच गए।
    वाकई में यह परियोजना देश की एकमात्र परियोजना है।

    ReplyDelete
  3. शानदार यात्रा वृतंत के साथ परिचय कथा!!
    साथ ही उद्यमशीलता के प्रतीक की पहचान

    ReplyDelete
  4. बहुत ही उपयोगी पोस्ट
    बाबा जी के इस कार्य की जितनी सराहना की जाए कम है...
    शुक्रिया उनसे परिचित करवाने का.

    ReplyDelete
  5. शायद अंतिम पंक्तियों के लिए इस आलेख को लिखा गया है... एक हाथ से ताली बजाने वाले बाबाजी को नमस्कार...

    ReplyDelete
  6. एक महान वन्‍यजीव प्रेमी से परिचय कराया आपने। धन्यवाद|

    ReplyDelete
  7. कमप्यूटर पर बैठ सैकड़ो लोग संरक्षण की बाते करते हैं पर मगरो का अपना हाथ अर्पित कर चुके बाबा का प्रेम अद्वितीय है हमेशा की तरह आपके द्वारा एक बेहतरीन लेख पढ़ने को मिला धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. ताली बजाने पर मेरा कहना है कि यह कहावत शायद खुशी के लिए बनी होगी। क्‍योंकि ताली बजाने का अर्थ खुशी से ही है। अर्थात जब तक दोनों पक्ष खुश नहीं हो, खुशी नहीं मिलती। झगड़ा तो एक पक्ष के करने से भी हो जाता है। मगरमच्‍छ और बाबाजी की जानकारी बेहद उपयोगी है।

    ReplyDelete
  9. बाबा के बारे में जानकार अच्छा लगा ...एक से एक बेहतरीन लोग गुमनामी और बिना यश की चाह रखे, पर्यावरण और जीवों की रक्षा में लगे हैं ! यह मार्गदर्शक हैं आने वाली पीढ़ी के ...
    आभार एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  10. अद्भुत रिपोर्ट -वन्य जीव प्रेमी अवश्य आनंदित होंगें -
    चित्र कुछ और अच्छे आने चाहिये थे-मैं महज यह देखना चाहता था कि कहीं
    घड़ियाल को तो आप मगरमच्छ नहीं कह रहे हैं :)
    यह अभी भी स्पष्ट ही नहीं हो पा रहा -कृपया एक ऐसा चित्र दें जिसमें थूथन साफ़ दिखे .
    यह भी ताज्जुब है कि बाबा ने घड़ियाल पलने में क्यों रूचि नहीं दिखायी ...
    मगरमच्छ तो मनुष्य के लिए खतरनाक होते ही हैं .घडियाल निरापद!

    ReplyDelete
  11. कमाल के मनई हैं बाबाजी! हमारा एक हाथ चबाया होता तो उस ही नहीं, अनेक मगरमच्छ मार दिये होते हमने!

    पर शायद इसी लिये वे संत हैं। और हम एक छुद्र रेलकर्मी! :-(

    ReplyDelete
  12. यह तो देखने लायक जगह है।

    ReplyDelete
  13. सीताराम दास जी वैष्णव का मगर प्रेम चकित कर देने वाला है। 45 वर्षों तक हिंसक मगरों को दुलार देना और उनका दुलार पाना अद्भुत है। मैं तो उन्हें मगरों का सालिम अली कहूंगा।

    सीताराम जी अगर पढ़े-लिखे होते तो वे मगरों पर अब तक कई किताबें लिख चुके होते। मगर उन्हें किताब लिखने की क्या जरूरत, वे तो स्वयं एक चलती-फिरती किताब हैं- 4500 पृष्ठों की। आप पहले भाग्यशाली हैं जो उस जीती-जागती किताब के कुछ पन्नों को पढ़ सके।

    ऐसे ही न जाने कितने सीताराम अपनी छाती पर अनबांची किताबें बांधे इस दुनिया से चुपचाप चले जाते हैं। किसे कहूं कि वह बाबा जी के 45 वर्षों के मगरानुभव को कलमबद्ध कर ले ?

    ReplyDelete
  14. र्इमेल पर प्राप्‍त डॉ. ब्रजकिशोर प्रसाद जी की टिप्‍पणी-
    कोटमी वाले मगर मच्छ प्रोजेक्ट के बारे में मेरे छात्रों ने भी बताया कि गाँव वालों के साथ उनका सामंजस्य हो गया है 'पुकारने पर आ जाते हैं मगर .फिर सुना कि मगर हिंसक हो गए हैं सो वीडिओ ग्राफी की योजना छोडनी पडी .बिना प्रशिक्षण के ही डरना सीख गया.

    ReplyDelete
  15. एक अभुत सुंदर जानकारी, लेकिन जब मगर मच्छ बाबा को जानते हे तो उन्होने बाबा पर ही हमला क्यो किया? बाबा की तो ताली बज ही जाती....

    ReplyDelete
  16. र्इमेल पर प्राप्‍त संजय भास्‍कर जी की टिप्‍पणी-
    उपयोगी पोस्ट
    बाबा के बारे में जानकार अच्छा लगा
    बाबा जी के इस कार्य की जितनी सराहना की जाए कम है..............शुक्रिया राहुल जी

    ReplyDelete
  17. र्इमेल पर प्राप्‍त कौशलेन्‍द्र जी की टिप्‍पणी-
    आदमी ने जमुना से मगरमच्छ को पकड़ -पकड़ कर अपनी हबस का शिकार बना लिया ...अब वहां खोजे से भी नहीं मिलते ...उन्हीं आदमियों के बीच से बाबा जी ने यहाँ छतीसगढ़ में आकर शायद उसी का प्रायश्चित करने की प्रतिज्ञा की है. इस अभयारण्य के बारे में मुझे भी जानकारी नहीं थी. आपको धन्यवाद. और बाबा जी को सादर नमन उनके अनूठे प्रायश्चित के लिए.

    ReplyDelete
  18. बाबा जी के कार्य को जन जन तक पहुंचाना चाहिये और सरकार को इसका रिकग्निशन लेना चाहिये...

    ReplyDelete
  19. बाबाजी भारत के स्टीव इरविन हैं. क्रोकोडाइल मैन ऑफ़ इंडिया.

    ReplyDelete
  20. Kudos to Baba ji for his true dedication and efforts !!!

    ReplyDelete
  21. इस पोस्‍ट के तेवर आपके स्‍थापित मिजाज से बिलकुल ही मेल नहीं खाते। क्षणांश को भी नहीं लगा कि किसी पुरातत्‍ववेत्‍ता का लिखा हुआ पढ रहा हूँ। पूरे समय लगता रहा मानो आपके सामने, विशाल श्रोता समुदाय में बैठ कर कोई लोक कथा सुन रहा हूँ। गोया, महत्‍वपूर्ण जानकारी और उपयोगी सूचनाऍं बिलकुल ऐसे मिली मानो, नानी की कहानी के अन्‍त में किसी दुखी राजा के दिन बहुरे।
    मजा आ गया।

    ReplyDelete
  22. बाबा जी से परिचय कराने का आभार.बहुत जानकारीपरक और शानदार पोस्ट.

    ReplyDelete
  23. बाबाजी का कार्य और इन जीवों के प्रति समर्पण सराहनीय है...... सहजीवन की सीख है रिपोर्ट ....

    ReplyDelete
  24. निश्चय ही बड़ा सराहनीय प्रयास, पढ़कर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  25. .
    .
    .
    सुन्दर आलेख,

    बाबाजी और उनके काम पर एक डॉक्युमेन्ट्री प्लान करिये सर... मैं सोचता हूँ कि डिस्कवरी, बीबीसी या नेशनल ज्योग्राफिक जैसे कई चैनल रूचि लेंगे उसमें...



    ...

    ReplyDelete
  26. सुन्दर वृत्तांत... बाबा जी का प्रयास सराहनीय है

    ReplyDelete
  27. धन्यवाद इस रोचक प्रस्तुती के लिए|

    मैंने अपने पिछले लेखों में यह लिखा है कि बाबाजी को बिना देर राज्य में वन्य प्राणी संरक्ष्ण विभाग का मुखिया बना दिया जाना चाहिए| यह तो तय है कि वे राजनेताओं को नियमित धन मुहैया नही करवा पायेंगे इस पद के एवज में पर यह भी तय है कि हमारे जंगल और वन्य जीव बच जायेंगे|

    आज बरबस ही इस वीडियो का स्मरण हो आया|

    MNN.COM›Earth Matters›
    Animals
    Man and croc become BFFs

    http://www.mnn.com/earth-matters/animals/videos/man-and-croc-become-bffs

    ReplyDelete
  28. डुप्लीकेट बाबा बजार ले पटाय ए देश म असली अउ दुर्लभ बाबा के खोज छत्तीसगढ़ म...........
    खोजकरईया अउ बाबा जी ल दण्डावत प्रणाम।

    ReplyDelete
  29. जांजगीर जिला के कोटमी सोनार में 86 एकड़ रकबा वाले मुड़ा तालाब को ही क्रोकोडायल पार्क विकसित किया गया है।...
    informative

    ReplyDelete
  30. निश्चय ही बाबा जी पर्यावरण विद हैं और वे पर्यावरण को बचाने का सफल प्रयास कर रहे हैं

    ReplyDelete
  31. शानदार यात्रा वृतंत के साथ परिचय कथा!मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se!

    ReplyDelete
  32. भालो जानकारी.. बोले तो अच्छा जानकारी.. :)

    सुख-दुःख के साथी पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  33. गजब के प्रेरक व्यक्ति हैं बाबा. पढ़ कर लग रहा है कि जाने ऐसे कितने ही अनजान लोग दुनिया संभाले हुए हैं!

    ReplyDelete
  34. धन्यवाद, राहुल जी .. इस रोचक जानकारी व अच्छी प्रस्तुती के लिए । आपके लेख को पढ़कर लगा कि यह तो देखने लायक जगह है। यश की चाह नहीं रखने वाले बाबाजी का कार्य सराहनीय है ।
    आभार एवं शुभकामनायें – डा. जेएसबी नायडू ।

    ReplyDelete
  35. rarest of rares की तर्ज पर अपनी नजर में हिंदी ब्लॉगिंग की bestest of best पोस्ट। बाबाजी के लिये ताली. हमारे दोनों हाथों से जो होकर भी नहीं हैं।
    इटावा के पास चंबल नदी में भी प्रोजैक्ट क्रोकोडाईल चल रहा था लगभग बीस साल पहले की बात है और एक ऐसा ही प्रोजैक्ट कुरुक्षेत्र के पास भी देखा था।
    अब आप अकलतरा बुलाकर ही मानेंगे:)

    ReplyDelete
  36. र्इमेल से प्राप्‍त टिप्‍पणी-
    Namastay

    "Magar " highlights an untouched face of the Crocodile Park of Kotami Sonar

    thanx n regards
    namita

    ReplyDelete
  37. एक और अनसंग हीरो से यह मुलाक़ात दिल को छू गयी...पटना के चिड़ियाखाने में एक बाघ की देखरेख करने वाले व्यक्ति का नामही बाघ बहादुर रख दिया था. बाघ से वह बच्चों की तरह प्यार करता था. यहाँ टक कि अपने परिवार से मिलने के लिए छुट्टी भी नहीं ले पाता था. कहता था मैं चला गया तो इसका ख्याल कौन रखेगा!!
    राहुल सर! आपको पढ़ना एक अनुभव की शीतल छाया प्रदान करता है!!

    ReplyDelete
  38. राहुल भाई चूँकि अकलतरा अपना गाँव है और कोतामिसुनार पड़ोस इसीलिए इसके बारे में पढ़कर बहुत ही अच्छा लगा वास्तव में अब ऐसा लगने लगा है कि शायद 5 -7 सालों में यह मगर पार्क देश के नक्से पर दिखाई देने लगे सीताराम बाबा की बात ही कुछ और है अभी कुछ दिन पहले ही विवाह में आये रिश्तेदारों को लेकर कोटमी गया वंहा हमेशा की ही तरह सीताराम जी ने आवाज दी और लगा मनों मगर उनकी आवाज सुनने का ही इन्तेजार कर रहे थे आश्चर्य होता है कि कोई जानवरों के साथ वह भी इतने खूंखार जानवरों के साथ भी इतना आत्मीय हो सकता है
    शाशन के स्तर पर इस मगर पार्क के भ्रमण के लिए लोगों को प्रेरित किये जाने की आवस्यकता महसूस होती है
    ईश्वर खंदेलिया

    ReplyDelete
  39. पुनः आपका लेख पढ़कर अज्ञेय जी की पंक्तिया याद हो आयी
    सर्प तुम सभ्य तो हुए नहीं शहर में बसना तुझे आया नहीं
    एक बात तो बता ये जहर कहाँ से पाया ये डसना कहाँ से सीखा

    ReplyDelete
  40. एक हाथ से भी ताली बजती है', खूब बज रही है। एक अलग तरह की जानकारी लिए ..आभार.

    ReplyDelete
  41. बाबाजी का यह वन्य प्रेम पढ़ कर अच्छा लगा ... रोचक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  42. राहुल भाई ,
    कोतमिसोनार के मगरमच्छ प्रोजेक्ट और बाबा जी पर बहुत अच्छी जानकारी देने के लिए धन्यवाद् . जब मैं कालेज के बच्चों को लेकर कोतमिसोनार गया था तो हमें गाइड करने के लिए उन्हीं बाबा जी बुलवाया गया था . हमने देखा की उनके बुलाने पर मगर किनारे आ जाते थे .

    ReplyDelete
  43. आपका लेख रोचक ज्ञानवर्धक तथा आम आदमी को जागरूक करने वाला है। बधाई!
    ======================
    प्रवाहित रहे यह सतत भाव-धारा।
    जिसे आपने इंटरनेट पर उतारा॥
    ======================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  44. उस रास्ते यात्रा के दौरान कोटमी सुनार की उस गढ़ी की हमेशा प्रतीक्षा रहती और मन करता कि वहां घूम आयें. पर वह कभी न हो सका. कुछ कुछ मल्हार जैसा लगा करता. सीतारामदास जी को नमन जिनकी लगन से प्रेरित होकर ही वहां क्रोकोडायल पार्क विकसित किया जा सका होगा. चेन्नई की तुलना में कोटमी का पार्क अधिक विशाल और खूबसूरत लग रही है. इस नवीन जानकारी के लिए आभार.

    ReplyDelete
  45. Dear sir,hanksalot for making yr presence felt onmy blog.I am really thankfulfor the same.Yr comments show that u have a poetic sense atleast.
    yr post shows how so many aspect of writing can take place in one article.It is memoirs,article,an eye opener whtever u may call it.My best wishes.
    dr.bhoopendra
    rewa
    mp

    ReplyDelete
  46. भारत में सरकार ने 10 करोड़ नेटयुजर्स का मुंह बंद करने के लिए 11 अप्रेल से आई टी एक्ट में संशोधन करके संविधान प्रदत्त अभिव्यक्ति के मौलिक अधिकार का गला घोंटने की कवायद शुरु कर दी है। अब तो ब्लॉगर्स को संन्यास लेना पड़ेगा। इसके लिए मदकुद्वीप से अच्छी जगह कोई दुसरी नहीं हो सकती। आईए मद्कुद्वीप में धूनी रमाएं एवं लैपटॉप-कम्पयुटर का शिवनाथ नदी में विसर्जन करें।

    ReplyDelete
  47. Vanya-jeev-premii baabaajii ke vishay mein jaan kar bahut hii achhaa lagaa. Baabaajii kii saadhanaa stutya hai aur anukarniiya bhii. Undhein kotishah pranaam. Post kii antim pankti "इस मगरमच्छ संरक्षण परियोजना का शिलान्यास 09 मई 2006 को छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्रीजी और लोकार्पण 23 अगस्त 2008 को वनमंत्रीजी (के करकमलों) की गरिमामय उपस्थिति में हुआ, अंकित है। लेकिन इसमें शायद बाबाजी का हाथ भी है, जो नहीं है।" ke antim teen shabdon "जो नहीं है।" mein vyakta piidaa ko bakhuubii mahsuusaa jaa sakataa hai.
    Is apratim vanya-jiiv-premii se bhent karwaane ke liye aabhaar.

    ReplyDelete
  48. बड़ी रोमांचक पोस्ट... बाबा के बारे में जानकार बहुत आनंद आया.. ऐसे लोगों को पुरस्कृत किया जाना चाहिए... झूठ-मूठ के संगठन बनाके 'एनिमल लवर' कहलाने वाले लोग सेलेब्रिटी बने फिर रहे हैं.. ऐसे निष्काम लोगों को कोई जानता ही नहीं.. जगह जाके देखने लायक है...

    ReplyDelete
  49. बहुत बढ़िया, महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त हुई ! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  50. आपका हर लेख कुछ अलग विशेषता लिए होता है। इस बार भी।

    बाबा का साहस और प्रयास वन्दनीय है।

    पोस्ट को पढने का थ्रिल अवर्णनीय है। शैली का तो कायल हूं ही। आपकी खोजी निगाह और पारखी नज़र को सलाम!!

    ReplyDelete
  51. अगर मगर नहीं मगर वाले बाबा के काम को यहां सबके बीच लाने के लिए आप सचमुच बधाई के पात्र हैं। 5 जून तो अभी और दो दिन दूर है। पर यह इस पर्यावरण दिवस की सबसे अच्‍छी पोस्‍ट होनी चाहिए।

    ReplyDelete
  52. बहुत बढ़िया जानकारी और आपने एक महान शख्सियत से परिचय करवाकर हम सबपर एहसान किया है ... धन्यवाद ...
    कभी मौका मिला तो ज़रूर जाके देखूंगा यह जगह ...
    आपके लिखने का तरीका भी बहुत बढ़िया और दिलकश है ...

    ReplyDelete
  53. यह प्रविष्टि एकदम अलग हटके है। जानकारी का शुक्रिया। आपके ब्लॉग के यूआरऐल "अकलतरा" का अर्थ जानने की उत्कंठा थी, सो भी आज पता लग गया। टिप्पणियों में दिये गये सुझावों पर भी ध्यान दिया जाये, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  54. aise baba ji ko naman..........inke is prayas ki tarif men shabd kam pad jayenge

    ReplyDelete
  55. अच्छी जानकारी मिली धन्यवाद

    ReplyDelete
  56. shashta bhuji baba (blog wale baba ke do milakar) pranam, achhe kamo ko ase hi dusara hath milata jaye to TALI ki gunj door tak pahuchegi

    ReplyDelete
  57. pichhale paryavaran divas ke samay apse batchit ko our apkei post ko phir yad kar raha hu ...... jo ramkrishna aashram ke ayojan ke sandrbh me thi. .......... aaj paryavaran ke sandrbh me ntpc sipat me show hai natak our geet . agraj ki chal rahi workshop ki prastuti hogi . offer tha to jal chakkar taiyar kar liya .workshop ka main production taigor ki kahani APARICHITA par based hoga .drama workshop GURUDEV RAVINDRANATH par dedicate ki hai . 15 june ko samapan hai. yadi aap bilaspur me ho... AAKAR ke karan shayad honge hi to samay nikal kar ,tilak nagar school aaye.

    ReplyDelete
  58. फेसबुक पर श्री उमाशंकर मिश्र जी की टिप्‍पणी-
    AAPKE DWARA PRADAN KI GAI JANKARI ACHCHHI EVM ROMANCHAK RAHATI HAI GYANMILANE KE SATH MAZA BHI AATA HAI THANKS

    ReplyDelete
  59. अद्भुत ! आनंदम्‌ ! शब्द कम ! बहुत मनोयोग-पूर्ण , सधी प्रविष्टि , !!

    ReplyDelete
  60. महान वन्‍यजीव प्रेमी से परिचय कराया आपने। बहुत अच्‍छी पोस्‍ट

    ReplyDelete
  61. इस ब्लॉग पर जानकारी के साथ साथ टिप्पणियाँ भी अलग हट के वाली मिलती हैं| आप ने वैष्णव प्रेम का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत किया है| अथाई, चौपाल वाली बातें पढ़ने को मिल रही हैं यहाँ पर|

    ReplyDelete
  62. बाबाजी हंसकर कहते हैं वे लोग तो ठीक से बताते नहीं, लेकिन लगता है कि मगरमच्छ से डरना सीख कर आए हैं।......अतिउत्तम!

    ReplyDelete
  63. अद्भुत, बड़ी जानकारी, धन्य है बाबाजी

    ReplyDelete
  64. मगरों के इस अद्भुत संसार के इतने जीवंत दृश्यांकन ने भी इनके प्रति सहानुभूति न दिखाई। रुचिकर बात यह है कि आपका ब्लॉग मैंने उस वक्त पढ़ा था, जब मैं भोपाल में था। इस दौर में एक छोटे बच्चे को मगरमच्छ ने बड़े तालाब में निगल लिया था। रही सही इस जीव के प्रति सहानुभूति भी जाती रही। सिद्धत: यही है कि हिंसा दीर्घतर गतिमान नहीं रह सकती।

    ReplyDelete
  65. बहुत सुब्दर और उपयोगी पोस्ट. मगरमच्छ का एक क्लोसयूप चित्र होता तो पता चलता की गान्गेस क्रोक है की मार्श क्रोक?

    ReplyDelete
  66. मुझे भी एक बार इस मगरमच्छ का संरक्षण केन्द्र जाने का और बाबा जी से मिलने का मौका मिला। बहुत अच्छी जगह है और घूमने लायक जगह है।

    ReplyDelete
  67. अच्छी जानकारी ।।

    ReplyDelete
  68. अच्छी जानकारी ।।

    ReplyDelete