# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Sunday, February 27, 2011

मर्दुमशुमारी

उन्नीस सौ साठादि के दशक में, जब पहली दफा मेरी गिनती हुई होगी, पहले-पहल सुना- मर्दुमशुमारी। एकदम नये इस शब्द को कई दिनों दुहराता रहा। कुछ ऐसे शब्द होते हैं, खास कर जब वे आपके लिए नये हों, सिर्फ मुख-सुख के लिए बार-बार उचारने को मन करता है। बाद में जान पाया कि इसका अर्थ है- मनुष्यों की गिनती और वो भी पूरे देश के सभी लोगों की, फिर सिर्फ इतना नहीं घर-मकान भी और न जाने क्या-क्या गिन लिया जाता है।

बाद में थोड़ी और जानकारी हुई तब लगा कि यह अंगरेजों के दिमाग की उपज होगी, वे ऐसे ही काम करते हैं। हमारे देश में सौ-एक साल पहले उनके द्वारा कराया भाषा सर्वेक्षण, दुनिया का सबसे बड़ा सर्वेक्षण माना जाता है। लेकिन फिर पता लगा कि यह काम तो मुगलों के दौरान भी होता था। यह भी कि ईसा मसीह का जन्म जनगणना के दौरान हुआ और उससे भी पहले कौटिल्य ने राज-काज में मनुष्यों की गिनती को भी गिनाया है। मेरा आश्‍चर्य बढ़ता गया।

इन दिनों की बात। 2011 की इस पंद्रहवीं जनगणना में जाति आधारित गणना की चर्चा होती रही, जिससे यह समझा जा सकता है कि आंकड़े थोथे या निर्जीव नहीं होते, उनके उजागर होने की संभावना भी आशंका और विवाद पैदा कर सकती है, कैसे सत्‍य-आग्रही हैं हम। इस जनगणना में पहली बार जैवमिति (बायोमैट्रिक) जानकारी एकत्र की जा रही है, जिसका दूसरा दौर पूरा होने को है। जनगणना का एक ब्‍लॉग, रोचक है ही। इस जनगणना पर डाक टिकट भी जारी हुआ है। 

जनगणना के पहले दौर में जिस पथ-प्रदर्शक बोर्ड की मदद से मैं इसके कार्यालय का रास्ता तलाश रहा था, वहां भी जनगणना हावी था। जनगणना कार्यालय पहुंचने पर मुहल्ला मकान क्रमांक और जनगणना मकान क्रमांक, एक फ्रेम में देखना रोचक लगा।

1991 की जनगणना में हमलोग सरगुजा जिले के उदयपुर-सूरजपुर मार्ग पर 22 वें किलोमीटर पर भदवाही ग्राम में थे। इस जनगणना के विस्‍तृत प्रारूप और पूछे जाने वाले कुछ निजी किस्‍म के प्रश्‍नों पर तब खबरें गर्म होती रहती थीं। हमारे वरिष्‍ठ सहयोगी और कैम्‍प प्रभारी रायकवार जी को चिन्‍ता रहती कि हमारी गिनती कौन, कहां और कैसे करेगा। इस अभियान में गिने जाने से चूक तो नहीं जाएंगे। प्रगणक, सरकारी आदमी जान कर हमसे अपना सुख-दुख बांटते। उनलोगों ने बताया कि इस क्षेत्र में जुड़वा संतति बड़ी संख्‍या में है और प्रारूप में इसे कैसे दर्ज किया जाए, समझ में नहीं आ रहा है। खैर, तब हम सबकी गिनती हो गई, प्रगणकों की समस्‍या भी हल हो गई होगी।

इस जनगणना के दौर में स्थानीय अखबार में 5 फरवरी को छपी एक खबर देख कर याद आई जुड़वों और जनगणना की। समाचार का शीर्षक है ''जुड़वा बच्चे पैदा होने का रिकार्ड बनाया देवादा ने'' समाचार के अनुसार दुर्ग जिला मुख्‍यालय से 12 किलोमीटर दूर स्थित गांव में 13 जुड़वा हैं। समाचार की एक पंक्ति है- ''देवादा निवासी संतूलाल, झल्लूलाल और किशोरीलाल सिन्हा तीनों सगे भाई हैं। तीनों के यहां जुड़वा बच्चे हैं। जुड़वा बच्चे पैदा होने के क्या कारण है यह वे बताने की स्थिति में नहीं हैं।'' गनीमत है ये तीन सगे भाई चैनलों की हद में नहीं आए हैं, वरना जुड़वा बच्चे पैदा करने का कोई न कोई कारण उन्‍हें कैमरे के सामने सार्वजनिक करना ही पड़ता और सरपंच से पूछा जाता कि क्‍या करना पड़ा आपके गांव को यह रिकार्ड बनाने के लिए। इस सिलसिले में मालूम हुई जानकारी आपसे बांटते हुए, केरल के कोडीनीडी गांव की कुल आबादी का दस फीसदी जुड़वा बताई जाती है।

इस सब मगजमारी के पीछे मंशा सांस्कृतिक पक्षों के तलाश की थी। कॉलेज के दिनों में किताबें उलटते-पलटते कुछ संदर्भ मिले थे अब उनकी फोटोकापी पर ध्यान गया कि सांस्कृतिक सर्वेक्षण एवं अध्ययन की संदर्भ सामग्री भी तो जनगणना के खंड के रूप में प्रकाशित हुआ करती थी।

इसके लिए अब तक की खोजबीन में मालूम हुआ कि प्रत्‍येक तीस वर्षों में ऐसे अध्‍ययन हुए हैं, 1931 और 1961 का तो दस्‍तावेजी प्रमाण मिल गया, लेकिन मानविकी-संस्‍कृति के और क्‍या अध्‍ययन-प्रकाशन, कब-कब हुए, अब भी होंगे, पता न लग सका सो वापस मर्दुमशुमारी उचारते बाल-औचक हूं कि हम सभी एक-एक, बिना चूके गिन लिए जाएंगे।

42 comments:

  1. वैसे भी कहते हैं कि जम्हूरियत वह तर्ज़े हुक़ूमत हैं जहाँ इंसान तोले नहीं जाते, गिने जाते हैं!!
    यह मर्दुमशुमारी कब मुर्दाशुमारी में तब्दील हो गई पता ही न चला.. हर पाँच सालों में और कभी कभी बीच में भी इन मुर्दा ज़मीर वालों की मुर्दाशुमारी शुरू हो जाती !

    ReplyDelete
  2. मर्दुमशुमारी बचपन से सुनते आ रहे हे, लेकिन उस समय इस का मतलब नही मालूम था, बहुत सुंदर जानकारी दी आप ने, लेकिन भारत मे सही मर्दुमशुमारी कभी नही हुयी, क्योकि हमारे यहां कोई सिस्टम ही नही हे, भिखारी , साधू ओर वो लोग जो घरो से दुर रहते हे उन की गिनती कहा हो पाती होगी

    ReplyDelete
  3. बधाई हो कोडीनीडी और देवादा को. हम तो अब तक यही समझ रहे थे कि 54 जुडवाँ युग्म (108) के साथ इलाहाबाद का उमरी गांव भारत की जुडवाँ राजधानी है।

    ReplyDelete
  4. गिनती करना अलग और उन्हें एक इन्सान जैसा जीवन यापन करने के लिये बेसिक एमेनिटीज उपलब्ध कराना दोनों बहुत अलग हैं.. गिनती कर ही खुश हो लेते हैं..

    ReplyDelete
  5. मैं सात आठ साल का रहा हूंगा, अपने दादाजी के साथ बैख गया था। उनके दस्त्ख्वत रिकार्ड से मैच नहीं किये, तो उन्होंने कहा, "अच्छा, बकलमखुद लिखा होगा, पुराने दस्त्ख्वत में।" मुझे कई साल तक और अब भी ये शब्द ’बकलमखुद’ ऐसे ही आकर्षित करता रहा है जैसे आपको मर्दुमशुमारी।
    रोचक जानकारी, रोचक तरीके से। ऐसी बहुत सी बातें हैं जिनको हम बहुत लाईटली लेते हैं लेकिन ये इतिहास समेटे हैं खुद में। अच्छा लगता है नेप्थ्य के गीत सुनना, समझना।

    ReplyDelete
  6. हम गिन लिए जाते हैं, और कहते इस गिनती के आधार पर हमें बहुत से फ़ायदे मिलेंगे। इस वो ही जाने, बस हम गिनने के लिए हैं, गिनते जाएंगे।

    ReplyDelete
  7. वैदिककाल में महर्षि अंगिरा के द्वारा जब जनपदों प्रथम चुनाव करवा कर लोकतंत्र की स्थापना हुई थी, उस समय भी मर्दमशुमारी का उल्लेख है। उसी समय तक्षशिला विश्व विद्यालय की स्थापना एवं सैंधव (घोड़ा) पालतु बनाने का जिक्र भी हुआ है.

    आपकी पोस्ट से ज्ञानरंजन हुआ।
    आभार

    ReplyDelete
  8. 1931 में जाति आधारित जनगणना हुई थी, उसके बाद सरकार इन्ही आंकड़ों से काम चला रही है।

    ReplyDelete
  9. जुड़वा होने का कोई स्थानीय नियत कारण नहीं पता लगा अब तक।

    ReplyDelete
  10. @ प्रवीण पाण्‍डेय जी
    कहा तो जाता है कि जुड़वा संतति अनुवांशिकी कारणों से होता है, लेकिन जानकारियों से ऐसा लग रहा है कि मिट्टी-पानी का भी असर होता है.

    ReplyDelete
  11. गिनती भी बस औपचारिकता भर है..... इससे ज़्यादा किसी बात का विचार करना ही कौन चाहता है......

    ReplyDelete
  12. I never read an article like it. It's enlightening, no doubt about it. What a collection of information and what a flow in the article. Kudos to you.
    My sincere congratulations to you on this subject. By the way, I too had heard this word Mardumshumari but never knew what it meant. Now from your article I learnt it.

    Regards
    G Manjusainath

    ReplyDelete
  13. कोई मर्दुमशुमारी की व्युत्पत्ति समझायेगा ? मर्द और उसकी दुम? शुमारी?

    ReplyDelete
  14. @ चला बिहारी ... जी
    वाह, क्‍या गजब फरमाया है, मानों मुगले आजम के सलीम.
    @ स्‍मार्ट इंडियन जी
    इलाहाबाद का उमरी गांव के लिंक के लिए आभार.
    @ संजय जी
    इसी तरह शब्‍द इस्‍तेमाल होता है- 'हस्‍ते-खुद' और बंसखेड़ा ताम्रपत्र में हर्षवर्धन के हस्‍ताक्षर उत्‍कीर्ण हैं 'स्‍वहस्‍तोमममहाराजाधिराजश्रीहर्षस्‍य'
    @ अरविंद मिश्र जी
    राजस्‍व अमले की कार्यक्षमता पर कहा जाता है- किसी जंगली इलाके के लिए पूछा गया था, जिले में कितने donkey हैं (जिसकी वहां न के बराबर संख्‍या थी) लेकिन d की जगह m टाइप हो गया और पूरे अमले ने मिल कर समय-सीमा में जानकारी तैयार कर दी.

    ReplyDelete
  15. "मर्दमशुमारी" शायद पुराने वक्त में आम प्रचलन में रहा हो. अगर आज भी प्रचलन में होता तो नारीवादियों ने इसको प्रतिबंधित करा कर ही दम लेना था.

    ReplyDelete
  16. बिलकुल नया शब्द जानने को मिला ये..'मर्दुमशुमारी'...और इस से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी भी

    ReplyDelete
  17. मर्दुमशुमारी भले हो रही हो लेकिन मर्दुमशनासी अब नहीं होती।

    ReplyDelete
  18. जुड़वा बच्चे अधिक हों तो देखना चाहिये कि वह एक शक्ल वाले, यानि एक अण्डकोष से बने बच्चे हैं या विभिन्न शक्ल वाले, यानि विभिन्न अण्डकोष से बने बच्चे हैं. आम तौर से नारी शरीर, प्रजनन उम्र में, हर मास एक नया अण्डकोष तैयार करके कोख में छोड़ता है, लेकिन यह कुछ दवाओं से भी हो सकता है, जिनकी वजह से दो या तीन अण्डकोष एक साथ तैयार हो कर कोख में आ जाते हैं. इस की वजह से जो स्त्रियाँ बच्चा न होने का इलाज करवा रहीं हों, उनमें जुड़वा या तीन बच्चे साथ में होने की अधिक संभावना होती है, लेकिन यह विभिन्न शक्ल वाले या फ़िर विभिन्न लिंग वाले बच्चे होते हैं. जबकि एक ही शक्ल वाले जुड़वा बच्चे अधिकतर अनुवांशिकी कारणों से होते हैं.

    ReplyDelete
  19. जानकारी पूर्ण पोस्‍ट है।

    ReplyDelete
  20. जानकारी और विषय दोनों ही नए हैं ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  21. 'मर्दुमशुमारी..मैंने पहली बार सुना यह शब्द और जानकारी भी बेहतरीन दी आपने .
    जहाँ तक गिनती का सवाल है इंसान तो अब गिनती के भी नहीं मिलते हाँ शरीर गिन लिए जाते हैं.

    ReplyDelete
  22. गहन चिन्तनयुक्त जानकारी पूर्ण विचारणीय पोस्ट ...

    ReplyDelete
  23. बेहद रोचक आलेख... अभी जनगणना का माहौल है चारो तरफ ऐसे में आपके इस आलेख से जन गणना के प्रति जानकारी और रूचि और बढ़ी है..

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  25. मर्दुमशुमारी आज एक नए शब्द की जानकारी मिली शुक्रिया |
    हाँ हमारे यहाँ भी दो , तीन दिन पहले ही जनगणना वाले आये थे इतना कुछ पूछा जिसकी जानकारी हमें थी ही नहीं पर हमनें तो फिर भी बता दी | मेरे भाई को भी जनगणना करने का काम सोंपा गया है वो बता रहा था गाँव के लोगों को तो अपनी जन्म तिथि भी मालूम नहीं और उसमे शादी की तारीख माँ की जन्म तिथि सब पूछा गया है | पता नहीं सही जानकारी कैसे एकत्र की जाएगी |
    अच्छी जानकारी देती पोस्ट |

    ReplyDelete
  26. मैं आपकी शुक्रगुजार हूँ की आप समय - समय पर आकर मेरा होंसला बढ़ा कर जाते हैं बहुत - बहुत शुक्रिया |

    ReplyDelete
  27. जनगणना का शानदार इतिहास!!

    ReplyDelete
  28. bahut acchee visataar se jaanakaaree dee hai| dhanyavaad|

    ReplyDelete
  29. मर्दुमशुमारी में ख्वातीनों को भी शामिल माना गया अलग से कोई आग्रह नहीं हुआ इस तबके के लिए संबोधन का :)

    बहरहाल हमने जो जाना वो ये कि बतर्ज़े चित्रगुप्त ये भी एक किस्म का दाखिल खारिज़ है :)

    पहला मौक़ा जो भी रहा हो , इस ख्याल के हकीकत में बदलते ही इंसान परिमाणात्मक हुआ :)

    ReplyDelete
  30. मर्दुमशुमारी, महामारी और मारामारी जैसे शब्दों के साथ भरपूर लय में है।
    अगर भारत को व्यवस्थित होना है और जनता को सामाजिक और आर्थिक स्तर के आँकड़ों के बलबूते ही वर्तमान और भविष्य की सरकारों को घेरना है तो जनगणना जितनी सटीक हो उतना अच्छा है।

    ReplyDelete
  31. शब्द नया है... मेरे लिए...
    इसीलिए जानकारी बहुत जरूरी थे... उसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद...
    और रही गिनती और आकड़ों की बात, तो ये हमारे देश की हवा में सम्मिलित हो चुका है...
    जब तक देश है तब तक रहेगा ही...
    आभार...

    ReplyDelete
  32. घर गया था,बिहार.वहां भी मर्दुमशुमारी की मारामारी है. बस वाले ने बताया कि पापुलेसन तेजी से बढ़ रहा है.सवारी कि कमी नहीं होगी कभी. वह बी .ए. आनर्स था.
    वहां लोगों से समधन के नाम पूछे जा रहे हैं.रोमांटिक angle जैसा लगता है.
    बहुत ख़ुशी नहीं होती कि मेरी गिनती सामान कि तरह की जा रही है.

    ReplyDelete
  33. aitihasik janakari 'mardum-shumari'........

    pranam.

    ReplyDelete
  34. जुड़वां बच्चो की राजधानी, मर्दुमशुमारी ( जनगणना ) जैसी उपयोगी जानकारी प्राप्त हुई .परन्तु क्या हमारे देश में जनगणना शत प्रतिशत सही होती है . मुझे संदेह है .

    ReplyDelete
  35. फेसबुक पर श्री राजेश भटनागर की टिप्‍पणी-
    मुर्दुम्शुमारी के बारे मिएं जानकारी पाकर अच्छा लगा. सर पब्लिक का ध्यान भूख प्यास भ्रष्टाचार से हटाने की रायशुमारी क्या कम होती है ?
    विषय अच्छा है, समसामयिक ---कभी ये सरकारें भूखों किसानों फकीरों की मुर्दुम्शुमारी करवाए तो ठीक हो

    ReplyDelete
  36. काश सब गिन लिए जाएं

    ReplyDelete
  37. एक नया शब्द सीखने को मिला इस बहाने। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  38. जुडवा बच्‍चों के पैदा होने के विभिन्‍न कारणों पर आपकी खोजपरक पोस्‍ट की प्रतीक्षा रहेगी। आपकी इस पोस्‍ट ने ही यह जिज्ञासा पैदा की है।
    मनुष्‍य जीवन के विकास क्रम की इस पायदान का आनन्‍द आया।

    ReplyDelete
  39. Rochal aur gyanaparak jankari ke liye abhar

    ReplyDelete
  40. बहुत रोचक लेख लिखा है. जनगणना को अब तक केवल जनगणना ही जाना था.एक और नाम और कई पहलू जानने को मिले. आभार.
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete