# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, May 18, 2010

राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा

छत्‍तीसगढ़, रायपुर-बिलासपुर राजमार्ग क्रमांक - 200
20 किलोमीटर दूर गांव चरौदा-धरसीवां
सड़क पर बांई ओर द्वार दिखाई देता है
इस द्वार से अंदर जाने पर
मंदिर के सामने जल कुंड में गज-ग्राह दिखते हैं

मंदिर के अंदर मंडप में शिलान्‍यास का फलक लगा है


मुक्‍तेश्‍वर शिव मंदिर
कही जाने वाली संरचना के
शिलान्‍यास फलक पर तो रस्‍म अदायी खुदी है
लेकिन लोगों के मन में आज भी
श्री बाबू खान का नाम स्‍थापित है
जिनकी पहल और अगुवाई में
गांव और इलाके भर के श्रमदान से
यह मंदिर बना
धरसीवां से थोड़ी दूर कूंरा उर्फ कुंवरगढ़ गांव है
यहां दो संरचनाएं एक ही चबूतरे पर साथ-साथ हैं
मंदिर-मस्जिद



वापस चरौदा के शिव मंदिर में
मंडप की भीतरी दीवार सचित्र दोहों से सजी है

चित्र के साथ दोहा है-
''राधा जी के हाथ में, ऐसा फूल सफेद।
हंसी हंसी पूछे राधिका, कृष्‍ण नाम नहीं लेत॥''
दोहे का संदर्भ खोजा जा सकता है
किंतु बात लोक मन की है.
राधा लौकी के फूल का नाम पूछ रही हैं
कृष्‍ण बूझकर भी प्रचलित छत्‍तीसगढ़ी नाम
तूमा (राधा को 'तू मां') कैसे उचारें ?

अकथ, ओझल लोक मन के
श्रृंगार, भक्ति, औदार्य-ग्राह्यता का
भाव और रस-सौंदर्य (एस्‍थेटिक) सहज होता है.
धमतरी के श्री दाउद खान रामायणी को याद करते हुए
लंबी सूची के बिना भी महसूस किया जा सकता है.

टीप - इस आलेख का उपयोग बिना पूर्व अनुमति के किया जा सकता है, किंतु उपयोग की सूचना मिलने पर आपको अपने धन्‍यवाद का भागी बना सकूं, इस अवसर से वंचित नहीं करेंगे, आशा है.

27 comments:

  1. chitra katha se nayi jankari mili aur photographs ka collection bahut hi achchha laga. Sir Aapke Sabhi Post Gyanvardhak hota hai.

    ReplyDelete
  2. भाई साहब,
    अब आप आ ही गए है मुझे मालूम है कि छत्तीसगढ़ के बारे में लोगों को नई-नई जानकारी मिलेगी.
    फिलहाल ताजा जानकारी के लिए आपको धन्यवाद.
    मेरा भी एक ब्लाग है बिगुल
    सोनीराजकुमार डाट ब्लागस्पाट डाट काम
    कभी वक्त निकालकर आएंगे तो अच्छा लगेगा।
    इसी तरह जानकारी मिलती रहेगी तो मेरा ज्ञान तो बढ़ेगा ही
    आपको फिर से एक बार धन्यवाद.

    ReplyDelete
  3. Enlightening Post!

    ReplyDelete
  4. bhaiya me kai bar wo rasta se gev fer oti nai jhankev. ab jarur jahu. jankari bahut accha lagis. prakash awasthi (actor)

    ReplyDelete
  5. - Dr.Rajesh Tandon,Bilaspur

    rahul ji,
    national highway 200 se kam se kam 200 bar gujra hun.....kabhi pata hi nahi chala .... ya yun kaha jay dhyan nahi gaya ... ye aap jaise jigyasu, khoji aur samarpit log hi kar sakte hain. babu khan ji ko shat shat naman aur aapko jankari ke liye dhayanyad ...aise hi gyanvardhan karte rahiye....

    ReplyDelete
  6. सार्थक जानकारी। चरौदा के शिव मंदिर तो कई साल पहले जाना हुआ था लेकिन आपके इन तस्वीरों ने मानो जीवंत ही वहां पहुंचा दिया।
    ग्राम कूंरा के एक ही चबूतरे पर मंदिर-मस्जिद होने की जानकारी नहीं थी। फिर से एक बार जाना ही होगा अब तो इस इलाके में।

    शुक्रिया भाई साहब इस जानकारी भरी पोस्ट के लिए।
    आपके ब्लॉगजगत में आने से यही सबसे बड़ी खुशी है कि छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी के बारे में नित-नई जानकारियां यहां आएंगी।

    ReplyDelete
  7. B. R. Sahu, film maker, BilaspurMay 19, 2010 at 5:42 PM

    Dear Singh Saheb,
    I had heard about the temple-mosque, but little. Thanx for sms and please do inform me in future too. The cooks of the AYODHYA-CAKE can and must learn from the work by Janaab Babu Khan. Thanx once more to you and Babu Khan.

    ReplyDelete
  8. VERY USEFUL CONTENTS

    THANKS FOR SHARING

    ReplyDelete
  9. राहुल भईया मैं अपने गृह ग्राम जाते हुए कई बार चरौदा से गुजरा हूं किन्‍तु मुझे भी यह जानकारी नहीं थी. श्री बाबू खान का नाम तो काफी सुना था किन्‍तु इनका योगदान इस मंदिर में है यह भी ज्ञात नहीं था. धरसीवां में मेरा एक मित्र था उससे हिन्‍दु मुस्लिम प्रेम एवं सद्भाव के किस्‍से सुनता रहता था. आज इस जानकारी को पढ़ कर खुशी हुई.

    ReplyDelete
  10. जब तक आप जैसे घुमंतु प्रवृत्ति के लोग इस प्रदेश में हैं, इसकी संस्कृति में इस तरह की नई-नई खोज और जानकारियां देशभर के लोगों को मिलती रहेंगी और प्रदेश के बारे में वे और ज़्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहेंगे। ज़ाहिर है यह प्रदेश के विकास में आपका महत्वपूर्ण योगदान है। हमारी शुभकामनाएं हमेशा आपके साथ हैं।
    रवीन्द्र गोयल

    ReplyDelete
  11. राहुल जी आपकी यह प्रस्तुति कम्पलीट ग्रासरूट न्यूज़ अपडेट पर अटैच की गई है। जिसके लिए आप http://www.cgnewsupdate.com पर log on कर सकते हैं।

    ReplyDelete
  12. On an Avrage 6 time in month i use to cross said route,& hv seen the wecome gate, but never gone inside, rahul bhaiya have not written "ganga se volga" but for sure he can be called "Rahul Sanskritayan of chhatisgarh" if travel and discovey is concern. CONGRATE to him since
    this is touching to me kind of testless person
    VERY AKALTARA BAKHRI STERIOTYPE cult presentation -DEVRAJ- EVERONN SYSTEM INDIA

    ReplyDelete
  13. story karane ka man ban pada hai.

    ReplyDelete
  14. sms ke liye dhanyavad agali bar sadak se raipur jane par avashaya dekhunga.Awasthiji ka chhattisgarhi me comment achcha laga- Prathmesh

    ReplyDelete
  15. dekh liya rahul bhai. badhai. pata hi nahi chalaa ki aap bhi yahaan sakriy hai. achchaa hua, sms aane se pataa chalaa. ab apun ka blog bhi dekh hi lo. ''girish pankaj'' nam se hai. iska url hai. http://sadbhawanadarpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. CHROUDA K SHIV MANDIR TO BHHUT PAHLE SE HAI LEKIN ISE BANANE KA PAHAL EK MUSLIM K DWARA KIYA GAYA YAH JANKARI DEKAR APNE SAMAJIK SADBHAWNA KO BADANE KA PRAYAS KIYA SHAYAD APKO JANKARI HO KI MOHHAMD AKABAR VIDHAYAK K DWARA KRISHI UPAJ MANDI K SAMNE RAM MANDIR KA NIRMAN KRAYA HAI JO DARSNIY HAI AWLOKAN KARNA CHAHENGE

    YUGAL TIWARI
    ANUWADK
    SANSKRITI VIBHAG RAIPUR

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  18. rahul bhaiya, aapki kalam chalegi to aisi hi jaankariyaan saamane aayegi. aapki jaankariyon se rajya ki sanskriti samriddh hogi.
    dhanvendra jaiswal

    ReplyDelete
  19. श्रद्धांजलि....
    मंगलौर में हुए विमान हादसे ने देश ही नहीं पूरी दुनिया को झकझोर कर रख दिया है..वाकई जिन लोगों की जाने गयी हैं, उनके परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है..इस दुख की घडी में प्रभु उन्हें शक्ति प्रदान करे...ब्लॉग जगत कि तरफ से ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि मृतात्माओं को शांति मिले....हार्दिक श्रद्धांजलि....

    ReplyDelete
  20. छत्तीसगढ के माटी पुत्र को नमन.इस वय में भी लिखने का जज्बा काबिले तारीफ है.

    ReplyDelete
  21. Wah Wah Rahul,Essa bahut kuchh hai jo ojhal hai lekin ab jise hajir karna bahut aawashyak hota jaa raha hai,Hindustaan jise kahte hain us tapestry mein bahut se rang, log, parmparayen aur mithak guthey hue hain lekin unke rang lagatar dhundhale hoker apni pahchan khote jaa rahe hain isliye jo tumne dekha hai use likhne ka,sabko batane ka shayad yah sabse sahi samay hai,hamari ichchha hai ki esse dher se prasaqng tumhari lekhni se samane aayen aur ye silsila ab ruke nahin,ab yah tumhari jimmedari banati hai ..

    Raage aur Ranju ,Raipur Se ..

    ReplyDelete
  22. सुन्दर जानकारी. हमें भी खान बंधु के बारे में जानकारी नहीं थी.

    ReplyDelete
  23. Dear RAhul
    It is awhery informative post. The land of Chhattisgarh is not only rich in the aspacts related to Intangible Cultural Heritage It also has innumerably structures of tangible Cultural Heritage too.This post is an important example of cultural syncritism also. My best wish .keep up your endeavour of unfolding beautiful pages from the reportoire of the young but most promising state *CHHATTISGARH*

    ReplyDelete
  24. श्री विवेक पारख रायपुर तथा श्री बसंत साहू बिलासपुर ने इस ब्‍लाग की जानकारी अपने अन्‍य परिचितों को भी अग्रेषित की है, उनके प्रति तथा अन्‍य पाठक जिन्‍होंने फोन पर तथा ईमेल व एसएमएस द्वारा प्रतिक्रिया भेजी है सभी का आभार.

    ReplyDelete
  25. Rahul sir
    i saw ur blog about Shiv mandir of Chrauda today it is fabulous.Now i wil visit daily on ur blogspot.thanks for giving us so knowledgeful information.
    Manoj Kumar
    Ambikapur

    ReplyDelete
  26. बाबूखान के प्रति मन में बहुत श्रद्धा उमड़ती है।
    और उनके बारे में जानने पर वर्तमान दशा को नये कोण से देखने का नजरिया भी मिलता है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  27. गजग्राह से सोनपुर की याद आती है और राधा-कृष्ण से कुछ बातों की। कह डालता हूँ। राधा कृष्ण की मामी लगती थी, ऐसा सुना है और पढ़ा भी। राधा-कृष्ण मध्यकालीन भारत के बाद जाने जाते हैं। प्राचीन भारत में राधा का नाम शायद नहीं जाना जाता था। जयदेव के गीतगोविंद के बाद ही राधा का नाम सामने आया वरना राधा कोई महत्वपूर्ण पात्र नहीं है। पुराणों में भी शायद राधा का नाम नहीं है लेकिन यह मनुष्य की या कहें भारत के लोगों की छद्म व्यवस्था है जिसमें राधा को इतना महत्व दिया गया। यानि राधा मीडिया प्रचारित है न कि सत्य लेकिन भारत में तो कृष्ण का अर्थ ही है राधा।

    ReplyDelete