# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, April 27, 2010

दिल्ली-6


छत्तीसगढ़ी लोक अस्मिता और उसकी पहचान को लेकर जितने सवाल और विचार 'दिल्ली-6' के इस गीत सिलसिले में उठे, उनमें स्मृति की गहराई तो थी, व्यापक संदर्भों की चर्चा भी हुई लेकिन पूरे मामले में उल्लेख का इकहरापन ही नजर आया, यानि ज्यादातर हवाले और संदर्भ खुद को जोड़कर देखे जाते रहे। इस पूरे दौर में नये पुराने-नाम आते रहे, लेकिन वह नदारद रहा, जो अधिक जरूरी था, वह यह कि इस बहाने हम शोध का गंभीर नजरिया अपनाते हुए, अपने लोकगीतों की परम्परा में उनकी याद दुहराते, जो इस और इस तरह के अन्य गीतों के माध्यम से छत्तीसगढ़ी लोक सुर संसार के संवाहक रहे।

दिल्ली-6 के गीत 'सास गारी देवै' की बात की जाए तो इस संदर्भ में हबीब तनवीर को तो याद किया ही जाएगा, लेकिन पूरे महत्व के साथ भुलवाराम यादव, बृजलाल लेंझवार, लालूराम और बरसन बाई, चम्पा जैसे नामों का बार-बार उल्लेख जरूरी है। इन दोनों समूहों की अलग-अलग जानकारी मिल रही है, जिनके स्वर में यह गीत रिकार्ड हुआ है, तो यह वक्त है, इस गीत और उसके गायकों के बहाने अपनी परम्परा को खंगालने-टटोलने का।

ददरिया गीत की यह पारंपरिक कृति, लोक की थाती है। ददरिया में सवाल-जवाब किस्म की आशु तुकबंदियां होती है, और इसलिए गायक के साथ जोड़-घटाव और परिवर्तन आसानी से संभव होता है और परम्परा में यह हर गाने वाले के साथ अपना हो जाता है। ददरिया, श्रम-श्रृंगार गीत कहा जा सकता है, जिसका श्रम 'मैन पावर' का 'लेबर' नहीं, बल्कि जीवन में समाहित सुर-ताल है। ऐसा श्रम, जिसका पसीना सौंदर्य का रस है।

इस ददरिया गीत 'सास गारी देवै' का एक सिलसिला हबीब तनवीर तक पहुंचा और कोई 40 साल पहले रिकार्ड बनकर आकाशवाणी से गूंजता रहा और दूसरा रघुवीर यादव से होकर ए आर रहमान तक गया, भूले जा चुके से इस गीत की प्रासंगिकता फिर से बनी। जब निजता और मौलिकता की सीमा लांघते हुए इस गीत को अलग पहचान मिली है तो यह मौका, अपनी इकहरी होती याद को संदर्भ के साथ व्यापक करने का, आत्म सम्मान को परम्परा के सम्मान में समाहित करने का और लोक-संगीत में जीवन का लय पाकर संकीर्ण स्व से निकलकर अपनी समष्टि की ओर दृष्टिपात का है, जो लोक-परम्परा बनकर संस्कृति को संबल देता है।

11 comments:

  1. आपकी मेल से आपके ब्लॉग का पता चला | बढ़िया लिखा है आपने अपने ब्लॉग पर | आशा है आप नियमित लिखते रहेंगे |

    ReplyDelete
  2. आपने बहुत संवेदनशील लिखा है, अगर आप अपने को नया ब्लोगर मानते हैं तो यकीन जानिए कि आपके ब्लॉग पर आने से सबका भला ही हुआ है. मैंने तीनों पोस्ट देखी हैं भाषा बेहद सुंदर है और विचार उत्तम हैं. दिल्ली ६ के इस गीत के बारे में चौकसे साहब को भी याद करना चाहिए कि इसकी रिकार्डिंग आकाशवाणी के स्टूडियो में लोक गीत के तौर पर हुई थी और तीन बहनों ने इसे गाया था. कृपया लिखते रहें.

    ReplyDelete
  3. रोचक जानकारी दी । यद्यपि यह तो ज्ञात था कि यह एक छत्तीसगढ़ी लोकगीत पर आधारित है ।

    ReplyDelete
  4. यह गीत तो लाजवाब है. इसी पर एक पोस्ट मैंने भी करीब एक साल पहले लिखी थी.
    आपकी लेखन शैली में दम है. भाषा पर पकड भी जानदार है.
    मेरी शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  5. पिछले कमेन्ट की भाषा थोड़ी उपदेशात्मक हो गयी लगती है. लिखते समय पता नहीं चला बाद में पढ़ा तो थोड़ा अटपटा लगा. दरअसल कमेन्ट लिखते समय आपका प्रोफाइल नहीं देखा था.
    आप मुझसे बहुत बड़े और अनुभवी हैं. अन्यथा न लेंगे.

    ReplyDelete
  6. ददरिया गीत-उम्दा जानकारी -एक संभावनाशील ब्लॉगर -पूत के पाँव पालने में !

    ReplyDelete
  7. हमारे लिये यह बिल्कुल नई जानकारी है। बधाई आपको

    ReplyDelete
  8. My congrats to you on a markeble step in as blogger .Keep writing more on culture of Chhattisgarh , specially pl. focus on traditional folk music of Chhattisgarh .
    Dilip Verma

    ReplyDelete
  9. इस गीत के लोकत्‍व में इतनी मधुरता और शब्‍दों की सरलता है कि‍ दि‍ल झूम उठता है।
    जानकारी के लि‍ए आभार।

    ReplyDelete
  10. बड़ा प्यारा लोकगीत है ये। छत्तिसगढ़ी लोक संस्कृति के बारे में आपकी इस पोस्ट में गीत के परिपेक्ष्य कुछ और जानकारी मिली। अपनी वार्षिक संगीतमाला में शामिल करते वक़्त इस गीत के बारे में मैंने भी एक लेख यहाँ लिखा था

    ReplyDelete
  11. rahul bhaiya
    aapka yeh alekh bahut acchcha hai.
    dadriya par ek photo chhahiye tha
    aapke paas mile to blog mein post kar dein.
    thank you
    sudhir sharma
    please my websites
    sahityavaibhav.com
    jaichhattisgarh.com
    shodh-prakalp.com
    srizan.in

    ReplyDelete