# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Thursday, February 28, 2013

विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव

शुक्र मनाया जाता, यदि वसंत पंचमी शुक्रवार को न होती, लेकिन हर साल तो ऐसा नहीं हो सकता, इस साल भी नहीं हुआ, यानि वसंत पंचमी हुई 15 फरवरी, ऐन शुक्रवार को। ऐसा हुआ नहीं कि मालवा और पूरे देश की निगाहें धार की ओर होती हैं। यहां सरस्‍वती-पूजन और नमाज पढ़ने की खींचतान में हमारी विरासत के रोचक पक्ष ओझल रह जाते हैं।

मालवा के परमार राजाओं की प्राचीन राजधानी धारानगरी यानि वर्तमान धार के कमालमौला मस्जिद को प्राचीन भोजशाला की मान्‍यता मिली है। उल्लेख मिलता है कि राजा भोज द्वारा संस्कृत शिक्षा के लिए स्थापित केन्द्र के साथ सरस्वती मंदिर भी था। धार के पुराने महल क्षेत्र के मलबे से प्राप्त तथा ब्रिटिश म्यूजियम में संग्रहित वाग्देवी सरस्वती की अभिलिखित प्रतिमा की पहचान भोज की सरस्वती के रूप में हुई। यहां से व्याकरण नियम, वर्णमाला के सर्पबंध शिलालेख प्राप्त हुए हैं और यह भोज का मदरसा भी कहा जाने लगा।

सन 1902-03 में यहां कमालमौला मस्जिद के मेहराब से खिसककर निकले, औंधे मुंह लगे 5 फुट 8 इंच गुणा 5 फुट का अभिलिखित काला पाषाण खंड मिला। 82 पंक्तियों वाले संस्कृत और प्राकृत भाषा वाले शिलालेख में 76 श्लोक तथा शेष भाग गद्य है। लेख, वस्तुतः चार अंकों वाली नाटिका 'पारिजात मंजरी' या 'विजयश्री', जो दो पत्‍थरों पर अभिलिखित थी, का पहला हिस्‍सा है। इसके साथ ऐसा ही एक और शिलालेख मिला लेकिन वह इसका जोड़ा नहीं बल्कि 'कूर्मशतक' प्राकृत काव्‍य उकेरा पत्‍थर है। हजारी प्रसाद द्विवेदी ने उदार अफसोस जताया था- ''अनुमान किया गया है कि बाकी के दो अंक भी निश्चय ही उसी इमारत में कहीं होंगे, यद्यपि मस्जिद के हितचिंतकों के आग्रह से उनका पता नहीं चल सका।'' बहरहाल, नाटिका 13 वीं सदी ईस्‍वी के राजगुरु मदन उर्फ बाल सरस्वती की रचना है।
शिलालेख के आरंभ और अंत की चार-चार पंक्तियां
नाटिका के पात्र सूत्रधार, नटी, राजा अर्जुनवर्मन, विदूषक विदग्ध, रानी सर्वकला, उसकी सेविका कनकलेखा, राजमाली कुसुमाकर, उसकी पत्नी वसंतलीला तथा नायिका पारिजात मंजरी या विजयश्री है। नाटिका में राजा, सूत्रधार और कुसुमाकर संस्कृत बोलते हैं, अन्य पात्र गद्य में प्राकृत-शौरसेनी एवं पद्य में महाराष्ट्री इस्‍तेमाल करते हैं। नेपथ्य गायन की भाषा प्राकृत, लेकिन अंतिम अंश में संस्‍कृत है। उल्लेख है कि नाटिका, वसंतोत्सव (चैत्रोत्सव, मधूत्सव, चैत्रपर्व) के अवसर पर धारा नगरी में सरस्वती मंदिर (शारदा देवी सदन, भारती भवन) में खेली गई। नाटिका के पहले अंक का शीर्षक 'वसंतोत्‍सव' तथा दूसरे का 'ताडंकदर्पण' है।

परमार वंश के शासक भोजदेव के वंशज अर्जुन को लेख में भोज का अवतार कहा गया है और वही नाटिका के नायक और इस प्रशस्ति के राजा अर्जुनवर्मन हैं। अर्जुनवर्मन द्वारा जयसिंह को पराजित करने की ऐतिहासिक घटना नाटिका का कथानक है। पराजित राजा गुजरात के चालुक्‍य भीमदेव द्वितीय का उत्‍तराधिकारी ऐतिहासिक जयसिंह, अभिनव सिद्धराज है। बताया गया है कि युद्ध में विजय प्राप्त गजारूढ़ अर्जुनवर्मन पर पुष्प वर्षा होती है और पारिजात मंजरी उन्हें छूते ही एक सुन्दर युवती में परिणित हो जाती है, आकाशवाणी होती है कि भोजतुल्य ओ धार के स्वामी इस विजयश्री को स्वीकार करो। यह युवती, चालुक्य राजा की पुत्री है, जो देवी जयश्री की अवतार है। नाटिका में नटी से कहलाया जाता है- कैसी दिव्य मानुषी कथा है।

अर्जुनवर्मन, इस नायिका विजयश्री को माली कुसुमाकर व उसकी पत्नी वसंतलीला की निगरानी में धारागिरि के आमोद उद्यान में रखता है। रानी सर्वकला द्वारा आयोजित आम वृक्ष और माधवी लता का विवाह आयोजन देखने राजा, विदूषक के साथ आमोद उद्यान में जाता है। वसंतलीला और नायिका पेड़ की आड़ से आयोजन देखते रहते हैं। रानी के कर्णाभूषण में राजा नायिका की छवि देखता है। रानी को संदेह होता है। वह आयोजन छोड़कर अपनी सेविका के साथ चली जाती है। इधर जाऊं या उधर जाऊं, मनोदशा में अपराध-बोधग्रस्‍त किंकतर्व्‍यविमूढ़ राजा को विदूषक सुझाता है ''एक हो या अधिक, अपराध तो अपराध है'' यह सुनकर राजा विदूषक के साथ नायिका के पास जाता है। कनकलेखा रानी के कर्णाभूषण सहित व्यंगात्मक संदेश लाती है। राजा नायिका को छोड़कर रानी के पास वापस लौटता है। नायिका प्राण त्‍यागने की बात कहती है। मध्‍यांतर।

संस्‍कृत साहित्‍य में चित्रकाव्य की लाजवाब समृद्ध परम्‍परा रही है। यहां भी श्लेष, रूपक, शब्‍द साम्‍य और संयोग के चमत्‍कृत कर देने वाले प्रयोग हैं। इतिहास और दंतकथाओं दोनों में एक समान महान और लोकप्रिय शायद राजा भोज जैसा कोई और नहीं। राजा भोज के साथ प्रयुक्‍त गंगू, माना जाता है कि उससे युद्ध में पराजित राजा गांगेयदेव है और तेली को कल्‍याणी के चालुक्‍य राजा तैल (तैलप) के साथ समीकृत किया जाता है। इस शिलालेख में भोज को कृष्‍ण और अर्जुन भी कहा गया है और गांगेय में श्‍लेष है, त्रिपुरी के कलचुरि राजा गांगेयदेव और अर्जुन से पराजित गंगा पुत्र भीष्‍म का। अर्जुनवर्मन अपने जिस मंत्री पर पूरा भरोसा करते हैं, उसका नाम (नर-) नारायण है। कवि मदन उर्फ बाल सरस्‍वती की रचना यह नाटिका सरस्‍वती मंदिर में, सरस्‍वती पूजा वाले वसंतोत्‍सव या मदनोत्‍सव पर खेली जा रही है। नाटिका के पात्रों में विदूषक विदग्ध है। रानी सर्वकला, कुंतल की है और उसकी सेविका का नाम कनकलेखा है। राजमाली कुसुमाकर है तो उसकी पत्नी का नाम वसंतलीला है। नायिका 'पारिजात मंजरी' (स्‍मरणीय- 'पारिजात' समुद्र मंथन का रत्‍न, दिव्‍य पुष्‍प है) या विजय से उपलब्‍ध गुर्जर 'विजयश्री' है। होयसल राजकुमारी सर्वकला और चालुक्‍य राजकुमारी विजयश्री का द्वंद्व और इनसे परमारों के राग-द्वेष के कई कोण उभरते हैं। लगता है कि पूरी नाटिका वसंत ऋतु, फूल-फुलवारी और मदनोत्‍सव का रूपक है। नटी का कथन पुनः उद्धरणीय- ''कैसी दिव्‍य-मानुषी कथा है।''

नाटक के क्‍लाइमेक्‍स जैसा मध्‍यांतर। आगे दो अंकों में क्‍या होगा, दूसरे पत्‍थर के मिलने तक थोड़ा सिर खुजाएं, सोचें-सुझाएं। शायद मान-मनौवल के साथ विजयश्री की स्‍वीकार्यता हो और फिर वसंत उत्‍सव के साथ सुखांत समापन। रचना, नाटिका है, प्रशस्ति भी, सूचना सहित कि यह 'नवरचित नाटिका की पहली प्रस्‍तुति है', इस तरह उसका प्रतिवेदन भी। शिलालेख के पहले भाग, इस पत्‍थर के अंतिम श्लोक 76 पर लेख है, जैसा आम तौर पर अभिलेखों के अंत में होता है, कि यह प्रशस्ति रूपकार सीहाक के पुत्र शिल्पी रामदेव द्वारा उत्कीर्ण की गई, मानों आशंका हो कि दूसरा पत्‍थर मिले न मिले। 

दर्शक कौन रहे होंगे इस नाटिका के? इसका जवाब मिल जाता है नाट्यशास्‍त्र से, जिसमें बताया गया है कि द्रष्‍टा को उहापोह में पटु (क्रिटिकल?), होना चाहिए। अच्‍छा प्रेक्षक सद्गुणशील, शास्‍त्रों और नाटक के छः अंगों का जानकार, चार प्रकार के आतोद्य वाद्यों का मर्मज्ञ, वेशभूषा और भाषाओं का ज्ञाता, कला और शिल्‍प में विचक्षण, चतुर और अभिनय-मर्मज्ञ हो तो ठीक है (बात शास्‍त्रों की है जनाब!) यह हिसाब लगा रहा हूं आधे से दूने का, कि नाटक अब छपे तो कितने पेज की पुस्‍तक होगी और खेला जाए तो उसकी अवधि कितनी होगी। न मिले उसे बैठै-ठाले खोजने का भी अपना ही आनंद होता है। कभी लगता है कि शिलाखंड पर उत्‍कीर्ण इस साहित्‍य को वैसा सम्‍मान नहीं मिला, शायद इसका जोड़ा, दूसरा हिस्‍सा इसीलिए अभी तक रूठा, मुंह छिपाए है। शिलालेख का पत्‍थर मिला था यहां के शिक्षाधिकारी 'के.के. लेले' को, यह नाम भी कम अनूठा नहीं।

इस नाटिका के बारे में पहले-पहल हजारी प्रसाद द्विवेदी के निबंध से जाना, फिर एपिग्राफिया इण्डिका में प्रो. हुल्‍त्‍श का विस्‍तृत लेख और त्रिवेदी जी वाला कार्पस इंस्क्रिप्‍शनम इंडिकेरम देखा। इसकी फिर से चर्चा पिछले दिनों भिलाई-कोलकाता वाली डॉ. सुस्मिता बोस मजूमदार ने की, बताया कि वे इस पर गहन अध्‍ययन कर रही हैं, उन्‍हें संस्‍कृत-प्राकृत का अभ्‍यास भी है। मैंने पुराने संदर्भ फिर से खंगाले, कुछ मिला, कुछ नहीं। इस मामले में मैं पक्‍का खोजी हूं, जिसे सच्‍चा सुख खोजने में मिलता है, कुछ मिल जाए तो वाह, न मिले तो वाह-वाह। इससे संबंधित कुछ महत्‍वपूर्ण अध्‍ययन और टीका सुस्मिता जी ने उपलब्‍ध करा दी। भोज विशेषज्ञ उज्‍जैन वाले डॉ. भगवतीलाल राजपुरोहित जी ने फोन पर बताया है कि पद्मश्री वि.श्री. वाकणकर के चाचा इतिहास अधिकारी श्री अनन्‍त वामन वाकणकर ने पारिजात मंजरी का हिन्‍दी अनुवाद किया था, जो वाकणकर शोध संस्‍थान से प्रकाशित है, इसकी प्रति अब तक मिली नहीं, प्रयास कर रहा हूं।

महीने में चार पोस्‍ट का अपना नियम टूटा, क्‍योंकि डेढ़ महीने से पारिजात मंजरी के साथ वसंत मना रहा हूं और फागुन तक जारी रखने का इरादा है। कुछ तो होंगे जो वसंत में मदन-दग्‍ध न हों, वे इस सूचना से ईर्ष्‍या-दग्‍ध हो कर वसंतोत्‍सव मना सकते हैं।
20 फरवरी 2013 को नवभारत के संपादकीय पृष्‍ठ 4 पर प्रकाशित 

33 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. यदि एक ही समय में दोनों पत्थर उत्कीर्ण किए गए होते तो पहले वाले में ही शिल्पी का नाम नहीं आना चाहिए था.ईर्ष्‍या-दग्‍ध हओने का तो प्रश्न ही नहीं उठता. वसंतोत्सव माना लिया.

    ReplyDelete
  3. "कहां राजा भोज, कहां गंगू तेली" कहावत के सृजन-स्रोत सहित ना जाने क्‍या कुछ मिल गया इस वसंतोत्‍सव में!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बिग बॉस वाला आलेख आज के जनसत्‍ता के अंक में। शुभकामनाएं।

      Delete
  4. सर जी मानना पड़ेगा आपके शोध भूख को शत शत प्रणाम . शिक्षक होने के नाते यह लेख मेरे लिये संग्रहणीय है . इतने पात्रों को याद रख पाना कठिन है किन्तु इनके सुन्दर नाम प्रकृति से जुड़े होने के कारण कुतूहल भी पैदा करते हैं साथ ही रमणीयता को रचते भी हैं।कई बार पढ़ने के बाद ही कुछ और कहने की औकात बन पड़ेगी। इसी माह नवभारत के सम्पादकीय में आपके इस पोस्ट की झलक देखने को मिली थी . संग्रहणीय लेख के लिए ह्रदय से आभार .

    ReplyDelete
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय ब्लॉग बुलेटिन पर |

    ReplyDelete
  6. लोक -इतिहास के महत्वपूर्ण पड़ावों को समेटती एक अकादमीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. संस्कृत साहित्य की उत्कृषटता का कहना ही क्या! लेकिन अफसोस कि सरकार इसे मृत करने पर तुली सी हैं. कुछ दिनों बाद यह अपराध बोध होने लगेगा कि हिन्दुओं ने कितने अत्याचार किये अन्य लोगों पर!

    ReplyDelete
    Replies
    1. "कुछ दिनों बाद यह अपराध बोध होने लगेगा कि हिन्दुओं ने कितने अत्याचार किये अन्य लोगों पर!"---
      हाँ, यह डर सता रहा है हम-से बहुतों को! मैं उस क्षण की कल्पना कर रहा हूँ जब यह दुःप्रतीति घनी होगी और भाषा-साहित्य की एक अद्भुत परंपरा स्वयं की खोज को अभिशप्त होगी।

      Delete
  8. इतिहास की ऎसी धरोहरों को तलाशने का कार्य तो होना ही चाहिए चाहे वे किसी धार्मिक स्थल में ही क्यों न हों !

    ReplyDelete
  9. शानदार ऐतिहासिक जानकरी

    ReplyDelete
  10. ऐसे जाने-कितने महत्वपूर्ण दस्तावेजों को,तोड़-फोड़ कर, इमारतों में चिन दिया गया.दूसरे की सभ्यता-संस्कृति की इतनी बर्बादी ,और अभी भी वही चल रहा है- यह जंगलीपन कब रुकेगा ?.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बचे और उपलब्‍ध का पर्याप्‍त सम्‍मान हो, ध्‍यान रखना जरूरी है.

      Delete
  11. वसंतोस्तव पर पढ़ने पढ़ाने का यह तरीका अच्छा है , मेरी जानकारी का सूखा यूं ही दूर होता रहे ... वसंत में सही ..... सोच की नयी कोपले लाने का आपका प्रयास बहोत ज़रूरी है ...... इस ज़रूरी काम को करते रहिएगा ... मुझ जैसे आलसियों के लिए .

    ReplyDelete
  12. उत्कृष्ट एवं शास्त्रीय लेखन, बधाई कुमार साहब..

    ReplyDelete
  13. बेह्तरीन अभिव्यक्ति !शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  14. बिखरी धरोहरों को सजोंने का कार्य सम्मान जनक है, जारी रखे।

    ReplyDelete
  15. पारिजात मंजरी और आपका साथ शुभ हो.

    ReplyDelete
  16. काश दो अंक भी मिल जायें। न जाने कितने सांस्कृतिक अध्याय तोड़े और हड़पे हुये भवनों के नीचे सिसक रहे हैं, हम तो स्वतन्त्र हो गये, उन्हें कौन स्वतन्त्र करेगा?

    ReplyDelete
  17. Fabulous, what a weblog it is! This blog presents valuable data to us, keep it up.


    Here is my blog post ... cam chat
    Also see my site: erovilla

    ReplyDelete
  18. पात्रों का नाम भी अच्छा है राजमाली का कुसुम्कार और उसकी पत्नी वसंतलीला,पारिजात मंजरी,विजयश्री ...नाटक वसंत को ध्यान मैं रख के लिखा गया होगा . यदि पूर्ण नाटक प्राप्त होता तो एक अछि रचना मिल जाती,कहते है अढाई दिन के झोपरा मस्जिद मैं भी एक रचना प्राप्त हुई थी शायद मत्विलास प्रहसन.पता नहीं कितनी रचनाये युही पड़ी हो औरहम अनजान है.लेकिन इसे समझना भी होगा जब मुस्लिन शाशक भारत मैं आये तो युद्ध करते हुए आये,जब उन्हें नमाज़ पढने की जरूरत लगी तो उन्होंने मस्जिद बाबाने की सोची.तब यहाँ के मंदिरों या नाट्यशालाओं से ही उन्हें पत्थर मिले क्यों की ज्यादातर घर मिटटी क थे.

    ReplyDelete
  19. नवभारत में पहले ही आपका लेख पढ़ लिया था, राजा भोज का शासन ग्यारहवीं शताब्दी का सबसे श्रेष्ठ शासन मुझे लगता है। आपने सबसे अच्छे नोट पर पोस्ट की शुरुआत की। जिस सांप्रदायिकता की वजह से इतनी सुंदर रचना का दूसरा हिस्सा खो गया, उसने अब तक साथ नहीं छोड़ा और बचे हुए और उपलब्ध इतिहास को दीमक की तरह खोखला करने सक्रिय है।

    ReplyDelete
  20. हमेशा की तरह जानकारी/शोध पूर्ण .

    ReplyDelete
  21. हाजिरी कबूल हो ..

    ReplyDelete
  22. This is really interesting, You're a very skilled blogger. I've joined your feed
    and look forward to seeking more of your fantastic post.
    Also, I have shared your site in my social networks!

    my webpage; http://www.erovilla.com

    ReplyDelete
  23. Everything is very open with a really clear explanation
    of the issues. It was really informative. Your website is very useful.

    Thanks for sharing!

    Here is my site; Source

    ReplyDelete
  24. नवभारत हमारे यहां तो मिलता नही पर नेट और ब्लाग की वजह से ये पढने को मिला ये कम बढिया नही था

    ReplyDelete
  25. Have you ever thought about including a little bit more than just your
    articles? I mean, what you say is valuable and everything.
    Nevertheless think of if you added some great pictures or videos to give your posts more, "pop"!
    Your content is excellent but with pics and videos, this site could definitely be one of the very best in its field.

    Superb blog!

    Here is my site - erovilla

    ReplyDelete
  26. Hey! This is my 1st comment here so I just wanted
    to give a quick shout out and say I really enjoy reading through your blog posts.
    Can you suggest any other blogs/websites/forums that cover
    the same subjects? Thanks a lot!

    my site; on the homepage

    ReplyDelete
  27. धरोहरों के सरंक्षण के प्रति समर्पण को प्रणाम!!

    होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  28. सुंदरता , बिना साधना के उपलब्ध नही होती , राहुल जी अपनी तपस्या के बल पर ही
    'पारिजात-मञ्जरी' को पा सके हैं। उनके अन्वेषण की ऊर्जा को मेरा सलाम ।'पारिजात-मञ्जरी'
    तो हमारी धरोहर है ही , राहुल जी भी हमारे धरोहर हैं , ईश्वर उन्हें शतायु एवम आरोग्य
    प्रदान करें । वसन्तोत्सव का अनूठा उपहार , थिरकता साहित्य , सार्थक स्रर्जना ,
    मन-मोहक प्रस्तुति ।

    ReplyDelete