# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Sunday, October 16, 2011

नाम का दाम

उत्तरप्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ से 1978 में प्रकाशित, हिन्दी समिति प्रभाग ग्रन्थमाला-249 है ''उपनाम : एक अध्ययन'' लेखक हैं, डॉ. शिवनारायण खन्ना। लेखक ने बताया है कि ''व्यंग्य लेख 'कमल, कामिनी और कलकत्ता' शीर्षक से 'साप्ताहिक हिन्दुस्तान' में प्रकाशनार्थ भेजा, जो 12 अप्रैल 1959 के अंक में प्रकाशित हुआ। लगभग तभी से मैं उपनामों तथा प्रच्छन्न नामों का संकलन करता रहा हूं। इस ग्रंथ में उपनामधारी लगभग 2650 साहित्यकारों के 3000 से अधिक उपनाम तथा प्रच्छन्न नाम हैं। ... उपनाम, उपनाम रखने के उद्देश्‍य, उपनाम के आधार, प्रकार तथा विशेषताओं का विवेचन इस ग्रंथ में किया गया है।''

पुस्‍तक में उपनामों संबंधी जो नाम (शब्‍द) गिनाए गए हैं, वे हैं- अपर नाम, अन्‍य नाम, अवास्‍तविक नाम और इसी तरह नाम जोड़ते चलें- असत्‍य, आंशिक, आधा, उपाधि, कल्पित, कार्य, काल्‍पनिक, काव्‍य, कृतक, कृत्रिम, गुप्‍त, गुह्य, गोपन, गौण, घरेलू, छद्म, छोटा, तूलिका, दिखावटी, दुलार का, दूसरा, नकली, नीति, धारित, परिवर्तित, पुकारने का, प्रचलित, प्रच्‍छन्‍न, प्रिय, प्रसिद्ध, बचपन का, बनावटी, भावनात्‍मक, मुंहबोला, लघु, लाक्षणिक, लेखनी, व्‍यंग्‍य, व्‍यवसाय, शिक्षा, संकेत, सम्‍पादकीय और साहित्‍य नाम के साथ इस सूची में छाप (मुहर, चिह्न, निशान), तखल्‍लुस, पदवी भी है।

पुस्‍तक में उपनामों की चर्चा शुरू होती है- बाल्‍मीकि, व्‍यास, चाणक्‍य और कालिदास के क्रम से। लेकिन मुझे याद आ रहे हैं पंडिज्‍जी, यानि आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी, जिन्‍होंने व्‍योमकेश शास्‍त्री, प्रचंड, रंजन, द्विरद, राधामाधव शाक पार्थिव, अभिनव तुकाराम नामों से लेखन किया और जिनकी रचनाएं चारुचन्‍द्र का लेखा- 'चारुचन्‍द्रलेख' है और है 'बाणभट्ट की आत्‍मकथा', इससे भी आगे 'अनामदास का पोथा', मानों उनका कुछ नहीं। और याद आते हैं छत्‍तीसगढि़या मुक्तिबोध, जो गजानन माधव के बिना ही अधिक जाने जाते हैं।

मुक्तिबोध कुछ अन्‍य यौगन्‍धरायण, अवन्‍तीलाल गुप्‍ता तथा विंध्‍येश्‍वरी प्रसाद, (छद्म) नामों से भी लिखते थे। मुक्तिबोध रचनावली प्रकाशित हुई, तब छान-बीन करता रहा। उनके कुछ ऐसे लेख जो मेरे पास थे, रचनावली में शामिल न पाकर बेचैनी हुई, पर बात वहीं रह गई। फिर अवसर बना, मुक्तिबोध जी के सुपुत्र दिवाकर जी से मैंने इसका जिक्र किया, उन्‍होंने तुरंत भाई सा‍हब रमेश जी को संदेश दिया और बताया कि मुक्तिबोध जी की ऐसी रचनाओं को प्रकाशित करने की तैयारी है। राजकमल प्रकाशन ने यह पुस्‍तक 2009 में छापी 'जब प्रश्‍नचिह्न बौखला उठे' शीर्षक से। पुस्‍तक की प्रस्‍तावना 'मेरी ओर से' में रमेश गजानन मुक्तिबोध जी ने उल्‍लेख किया है- ''बिलासपुर के राहुल सिंह ने अपने निजी संग्रह से 'सारथी' के कुछ-एक अंक उपलब्‍ध कराए जिनमें निबन्‍ध प्रकाशित थे। उनके सद्भाव के लिए मैं हृदय से आभारी हूं।'' मुझे इस प्रसंग में लेकिन, मुक्तिबोध की कहानी 'ब्रह्मराक्षस का शिष्‍य' वाली राहत हुई।

देखिए पुस्तक चर्चा में आत्‍मश्‍लाघा आने लगी और वह बात रह गई, जिसके लिए पोस्ट लिखने की सोचा। तो हुआ यूं कि पिछले माह एक छोटा सा पुस्तक मेला लगा। पुस्तकों से हमारा रिश्ता काफी समय से जरा नरम-गरम सा हो चला है। चाहे पुस्तक खरीदना हो या पढ़ना। व्यवस्थित रख सकने की चिंता होती है और समय पर किताब न मिले तो चिड़चिड़ाहट। नजर, वय का साथ निभा रही है, बारीक अक्षरों से मुक्ति मिल गई है और चश्मा कहीं भूला-छूटा रह जाता है, शायद चर्म चक्षु से अधिक मन की आंखें खोलने का दैवीय निर्देश है, कब तक रहें कागज की लेखी, अपरा के चक्‍कर में। पुराने पढ़े-पढ़ाए से जमा के ब्‍याज पर अब का काम चल ही जा रहा है, लेकिन सूदखोरी का धर्म निभाते हुए तगादे की तरह भटक लेते हैं, फिर आदत भी तो जाते-जाते जाती है। पुस्तक मेले में पहुंच गए एटीएम, कुछ फुटकर रकम और अपने इस आत्मविश्वास सहित जेब में हाथ डाले कि पुस्तकें लेनी तो हैं नहीं।

समाज को प्रतिबिंबित करती, ब्लाग पर पसरी, महरिन की गैरहाजिरी और सड़क पर छेड़खानी, ऐसे बिगड़ते रिश्‍ते जो बने ही नहीं थे, पंचायतीय और मुन्सीपाल्टीय-वार्ड स्‍तरीय आफतों से ले कर अन्ना, भ्रष्टाचार, देश का पैसा विदेशों में, टाटा-बाटा के शाब्दिक जूतम-पैजार में अलविदा टाइप 'घनघोर संकट' वाली पोस्‍टों के साथ ढेर साथी हैं जो यहां अपनी चिंता और दुख बांटते समाज की तस्‍वीर बदलने में निरंतर जुटे हैं जी-जान से। मनोहर श्याम जोशी के शब्‍दों के सहारे कहना चाहूं तो त्रासद होते हास्य और हास्यास्पद बन जाने वाले त्रास के बीच छोटे-छोटे सुख मुझसे टकराते रहते हैं इसलिए लगा कि पुस्‍तक मेला की किताब के बहाने 'महंगाई डायन' और 'हाय पेट्रोल' के दौर में एक अच्छी खबर क्‍यों न बांट ली जाय।

इस सजिल्द 562+14 पृष्ठ की किताब का मूल्य है, उन्नीस रुपये। मेला छूट (या फुटकर की समस्‍या) के कारण मुझसे लिए गए पन्द्रह रुपये और हां, बारीक हिसाब करूं तो मेले में प्रवेश के पांच रुपये। फिर तो ले ही आया अच्‍छे अच्‍छों पर बीस पड़ने वाली उन्‍नीस की यह किताब, चश्मा मिल गया है, पढ़ने के बाद यह पुस्तक भी अपनी जगह पा ही लेगी। कुल जमा बात इतनी, उपनाम की इस पुस्तक का दाम तो बस नाम का हुआ।
(समाचार पत्र 'आज की जनधारा', रायपुर के ब्‍लॉगकोना स्‍तंभ में 27 नवंबर 2011 को प्रकाशित)

53 comments:

  1. पुस्तक पढने की उत्कंठा सहज ही जाग्रत हुई .....आपने एक रोचक और संग्रहणीय पुस्तक के बारे में जानकारी देकर हमें धन्य कर दिया ...शुक्रिया आपका

    ReplyDelete
  2. बढ़िया रही उपनामावली :)

    उन्नीस रूपये मात्र पढ़कर थोड़ा अचरज हुआ क्योंकि यहां मुम्बई में एक बहुत पुरानी किताब खरीदते समय देखा कि उसका मूल्य सात रूपये पचास पैसे मात्र था लेकिन दुकान वाले ने उसे काटकर चालीस रूपये लिखा था (उसे अब तक सहेजने सम्हालने का चार्ज :)

    ReplyDelete
  3. कई बार मोटी किताब के दाम कम देखकर भी किताबें खरीद ली जाती हैं। ऐसा तो नहीं?…भगतसिंह भी विद्रोही, बलवंत सिंह आदि नामों से लिखते थे…

    ReplyDelete
  4. इतना तो तय है कि किताब बहुत पुरानी है। भारत सरकार के प्रकाशन विभाग से कई किताबें 20-30 से कम में मिल जाएंगी…

    ReplyDelete
  5. १९ रु तो बहुत कम है आज के समय में, मेहनत का मोल भी न निकलेगा।

    ReplyDelete
  6. ’महंगा न खरीदा तो क्या खरीदा’ वाले युग में मित्रों की नाक बलि पर रख दी आपने:)

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्‍छा शोध है... पर कीमत देखकर विश्‍वास नहीं हो रहा है

    हिन्‍दी गालियों की परिभाषा

    ReplyDelete
  8. बढिया जानकारी।
    सच में किताब काफी उपयोगी होगी....

    ReplyDelete
  9. अंतिम अनुच्छेद पढने के बाद 'रुचिकर' जैसा शब्द कहूँगा तो औचित्यहीन लगेगा।
    पुस्तक प्राप्त करने का यत्न करता हूँ जब समय निभे।

    ReplyDelete
  10. अच्छा लगा, पूरी पढने के बाद एक पोस्ट और लिखिये विस्तार से।

    ReplyDelete
  11. उन्नीस रुपये और आज के समय में??...आश्चर्य से कम नहीं..
    वैसे इधर मिलेगी तो नहीं यह किताब,हिंदी किताबें वैसे ही कम मिलती हैं और इस तरह की किताबों के बारे में तो कह ही सकता हूँ की नहीं मिलेगी..

    वैसे प्रेमचंद की कुछ किताबें(छोटी कहानियां)मुझे फ्लिप्कार्ट पर 70%डिस्काउंट पर मिल रही थी, दो तीन किताबें थी,मैंने खरीद ली :)

    ReplyDelete
  12. सस्ते में लहाया आपने :) यह पुस्तक और आप एक दूजे के लिए हो गए ...
    रोचक लग रही है ..अच्छा प्रेत/प्रेतिनी लेखन पर भी कुछ है ?

    ReplyDelete
  13. और आपने एक ही प्रति खरीदी। कम से कम पांच तो खरीदते। दोस्‍तों को भेंट करने के काम ही आती। चलिए एक तो हमें ही चाहिए। और हां यह तो बताएं कि उसमें अपना भी कहीं जिक्र है कि नहीं।
    *
    बहरहाल पिछले दिनों यहां बंगलौर के एक पुस्‍तक मेले में हमने भी साहित्‍य अकादमी द्वारा प्रकाशित रवीन्‍द्रनाथ टैगोर के निबंध संग्रह 50 प्रतिशत छूट पर खरीदे हैं।

    ReplyDelete
  14. संग्रहणीय पुस्तक के बारे में जानकारी के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. जरूरी कार्यो के कारण करीब 15 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  16. उपनाम यानि कि तखल्लुसों पर भी एक क़िताब। करने वालों के लिए वाक़ई कितने सबजेक्ट्स मौजूद हैं, आश्चर्य होता है।

    ReplyDelete
  17. पुस्तक मेले में चाह कर भी न पहुच सका। पुस्तक उपलब्ध होने पर पढने की ईच्छा है।

    ReplyDelete
  18. काफी उपयोगी किताब ||

    सुन्दर प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    ReplyDelete
  19. एक अलग तरह की किताब, ज्यादा जानने लायक विषय है और उत्कंठा भी

    ReplyDelete
  20. उपनामों पर भी एक शोध और वह भी मूंगफल्ली के दाम.

    ReplyDelete
  21. आज के समौय में शायद रद्दी से भी सस्ती किताब
    रोचक टिप्पणिया ....
    शुभकामनायें आपके लिए !

    ReplyDelete
  22. चलिए आज भी सस्ता कुछ तो है। मन्नू तक बात पहुंच जाये तो शायद अपनी उपलब्धियों एक और का इजाफ़ा कर सके

    ReplyDelete
  23. महत्वपूर्ण पुस्तक का इतने कम मूल्य पर उपलब्ध होना भी आश्चर्य ही है.

    ReplyDelete
  24. गाँधी जी पर नवजीवन प्रकाशन की एक पुस्तक दस रूपये में मिली है दिल्ली के पुरानी पुस्तक के साप्ताहिक बाज़ार में... नियमित जाता हूं.... अभी अपने दस साल के बेटे को ले जाना शुरू किया है..अप्रत्यक्ष कोशिश है कि इंटरनेट के युग में पुस्तकों से भी मेल जोल रह जाये उसका... अच्छा पोस्ट...

    ReplyDelete
  25. नाम भी क्या ? ब्लागर्स कृत जैविक प्रविष्टि पे एक तरह की टैगिंग ही तो है :)

    नि:संदेह लेखक की अपनी सीमायें होती हैं जिनके चलते 'महती कुछ' छूट भी सकता है , इसके बावजूद उल्लिखित विषय अत्यंत रुचिकर है सो पुस्तक भी ज़रूर होगी !
    एक मित्र ( जो फिलहाल कोरबा में पदस्थ होना चाहिए ) ने बस्तर में प्रचलित नामों पर पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय से शोध उपाधि प्राप्त की थी जिसे उन्होंने प्रकाशित करने का कष्ट नहीं उठाया ! पर इस मुद्दे पर अपनी आसक्ति की एक वज़ह ये भी हुई !

    ReplyDelete
  26. १९ रुपये !
    मुझे याद है एक बार पुस्तक मेला से ५ रुपये में हिंदी-अंग्रेजी डिक्शनरी लेकर आया था जो कभी भारत सरकार (नेहरु मंत्रालय) ने भारतीय दूतावासों के जरिये हिंदी के प्रचार के लिए छपवाई थी. बहुत अच्छे पन्ने हैं उस किताब में.
    पुस्तक पर कीमत लिखा हुआ है - 'हिंदी में हस्ताक्षर'.

    ReplyDelete
  27. Is adbhut pustak ki jaanakri dene ka shukriya...

    Neeraj

    ReplyDelete
  28. शानदार पुस्तक से रूबरू कराने के लिये शुक्रिया राहुल जी. इतनी मोटी पुस्तक का मूल्य इतना कम क्यों है? कितनी आश्चर्यजनक कीमत है ये. इतनी कीमत में तो अब पत्रिकायें भी नहीं मिलतीं. ये किताब कैसे उपलब्ध हो सकेगी?

    ReplyDelete
  29. उपनामों का पूरा ब्यौरा ले आए हैं आप ! पढ़ें और हमें भी बताएं किश्तों में !
    आज के ब्लॉग-लेखन पर भी तिरछे होकर कटाक्ष किया है,आभार !

    ReplyDelete
  30. उपनामों पर पुस्तक अरे वाह ।
    पुस्तकें उनका रख रखाव इस बारे में मेरा हाल भी आप के जैसा ही है । पुस्तक खरीदना हो या पढ़ना। व्यवस्थित रख सकने की चिंता होती है और समय पर किताब न मिले तो चिड़चिड़ाहट। नजर, वय का साथ निभा रही है, बारीक अक्षरों से मुक्ति मिल गई है और चश्मा कहीं भूला-छूटा रह जाता है, शायद चर्म चक्षु से अधिक मन की आंखें खोलने का दैवीय निर्देश है । मिली तो अवश्य पढना चाहूंगी ।

    ReplyDelete
  31. महत्‍वपूण किताब की जानकारी मिली...झकमार,दलित,मरहा,परमानंद,विकल,निर्मोही अादि छत्‍तीसगढिया रचनाकारों के उपनाम ब्‍लाग पढने के बाद याद आये....

    ReplyDelete
  32. नाम में क्या रखा है कहा था शेक्स्पियेर ने.. लेकिन यह नहीं कहा कि उपनाम में क्या रखा है!! और १९ रुपये तो मैक्डोनाल्ड भी ऑफर नहीं करता.

    ReplyDelete
  33. लग रहा है कि आपने जानगूझकर देर से जानाकारी दी। लगा होगा कि मेले के चलते ही जानकारी दे दी तो भाई लोग आपके जिम्‍मे इतना काम कर देंगे कि आपके घर में ही एक 'प्रेषण अनुभाग' खोलना पड जाएगा। आपसे ऐसे 'अत्‍याचार' की उम्‍मीद (?) तो बिलकुल ही नहीं थी। खैर! आप को जो करना था, कर गुजरे। उत्‍त्‍ार प्रदेश हिन्‍दी संस्‍थान को पत्र तो अब कल ही लिखा जा सकेगा। विषय वस्‍तु तो अपनी जगह है ही किन्‍तु स्‍वीकार कर रहा हूँ पुस्‍तक की कम कीमत भी बडा आकर्षण है इसें खरीदने का।

    ReplyDelete
  34. इतनी शानदार पुस्तक से साक्षात्कार के लिए बहुत बहुत शुक्रिया...कितनी मेहनत लगी होगी...इसे तैयार करने में...उस समय १९ रुपये का महत्त्व रहा होगा...अब तो यह पुस्तक अमूल्य हो गयी है.

    ReplyDelete
  35. आपके लेखन से कई बार विजयदान देथा जी का लिखा याद आ जाता है और उन्हें पढ़ते समय हमेशा आपकी तरफ़ ध्यान जाता है।

    ReplyDelete
  36. ईमेल से प्राप्‍त संजय शर्मा जी की टिप्‍पणी-
    आज जब दाम देख किताबों से मुंह फेरने का मन होता है तब नाम का ही दाम पढ़कर बड़ा मज़ा आ रहा है . और आप का भी कमाल है कि इसे "नाम का ही" लिखा भी है. आपकी इस कला का मै कायल हूँ.

    ReplyDelete
  37. इस आलेख के द्वारा कई नई नई जानकारी हासिल हुई।
    आलेख की भाषा शैली ने काफ़ी प्रभावित किया।
    अंत में सस्ते में इतनी मोटी किताब मिल गई जानकर सुखद आश्चर्य हुआ।

    ReplyDelete
  38. यह पुस्तक तो मेरे मन की लग रही है.कोई अपने नाम का ढिंढोरा पीटता है,अधिकतर अपने मुखड़े की फोटो भी लगा देते हैं तो कुछ क्यों यूँ उपनाम से लिख बदनाम ( ब्लॉगजगत में तो अवश्य ही ),गुमनाम होना चाहते हैं? यह विषय और वे कैसे नाम व क्यों चुनते हैं बहुत रोचक विषय है.
    आपके पास पुस्तक है तो थोड़ी सी ईर्ष्या ...
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  39. एक रोचक विषय पर अपने आप में अनूठी पुस्‍तक है यह इसके बारें में पहली बार जानकारी प्राप्‍त हुई।

    ReplyDelete
  40. kitab ke liye pustak mele jana hoga ya aap ke ghar

    ReplyDelete
  41. प्रकाशक द्वारा कीमत को उन्नीस की जगह बीस करना बेहतर होता.
    बाटा की झलक आती है उन्नीस में.बीस होने से चिल्हर का झंझट नहीं रहता . उपनाम से लिखा हुआ बेनामी संपत्ति जैसा लगता है.मुक्तिबोध वाले प्रकरण से भी लगा कि अपने नाम से लिखना ही ठीक है.भगत सिंह के लेखन में भी काफी झोल है .

    ReplyDelete
  42. कम मूल्‍य में इतनी अच्‍छी पुस्‍तक .. देखने की इच्‍छा हो रही है !!

    ReplyDelete
  43. सब के विचार पढ़े......सही है की बहुत सी सरकारी संस्थाओं से मिलने वाली किताबों के दाम बहुत कम होते हैं लेकिन नाम का दाम वाली कहावत तो केवल इस उपनाम वाली किताब पर ही चरितार्थ होती दिख रही है भाई.....

    ReplyDelete
  44. उपनाम ही सही नाम तो हुआ ....

    ReplyDelete
  45. वाह, कौडियों में भी मोती मिल जाते हैं पुस्तक मेले में!

    ReplyDelete
  46. साढ़े पांच सौ से ज्यादा पन्नों की यह ज्ञानवर्धक पुस्तक आज के जमाने में केवल उन्नीस रूपए में ? किताब की विषय वस्तु के लिए लेखक को बधाई और इतनी कम कीमत में इतनी उपयोगी पुस्तक प्रकाशित करने वाले प्रकाशक को बहुत-बहुत धन्यवाद . सिंहावलोकन में आपकी इस दिलचस्प प्रस्तुति से मुझे गीता प्रेस गोरखपुर वालों की याद आ रही है,जो आज भी रामचरित मानस और महाभारत जैसे महाकाव्यों के सैकड़ों पन्नों के ग्रन्थ आम जनता को बेहद सस्ते में उपलब्ध कराते हैं .धनतेरस, ज्योति पर्व और गोवर्धन पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  47. उपनामों पर पुस्तक ....?
    इतनी मेहनत के बाद कीमत भी इतनी कम ....?
    इतने में तो पेपर की भी कीमत न निकली होगी ....

    ReplyDelete
  48. दीपावली की हार्दिक बधाइयां एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  49. बेहद सस्ता मानने वालों से निवेदन है कि 1978 में कीमत कम रही थी, आज वही हिन्दी संस्थान इसकी कीमत 2-300 से कम नहीं रखेगा…लेकिन किताब अभी तक चल रही है, नई नहीं छपी, इसलिए सस्ती है…वैसे बिहार हिन्दी ग्रंथ अकादमी, बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, मध्यप्रदेश हिन्दी अकादमी, उप्र हिन्दी संस्थान, पीपिल्स पब्लिशिंग हाउस आदि और धर्मक्षेत्र से गीताप्रेस(कुछ किताबें धर्म के बाहर की भी छापी हैं इसने), अखंड ज्योति या गायती परिवार, मथुरा या फिर अन्य बाबा छाप माने आशाराम से लेकर आर्य समाज, इस्लामी प्रकशन सब सस्ती किताबें खरीदने के लिए हैं…किसी पुस्तक मेले में जैसे अभी जल्द ही पटना में लगेगा, आराम से सस्ता जिंदाबाद किया जा सकता है…1973 में अन्तरराष्ट्रीय पुस्तक वर्ष, 1973 में कई किताबें छपी थीं कम कीमत वाली…

    ReplyDelete
  50. दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

    way4host
    RajputsParinay

    ReplyDelete
  51. पुस्तक के बारे में जानकारी मिली । मेरे पोस्च पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  52. राहुल जी आपका आभार । दीपावली की शुभकामनाएं । ' जमुनी ' की जानकारी नीचे प्रस्तुत कर रहा हूँ । आप इसे पढ़ने की कोशिश करें एवं उसके बाद मुझे इस पुस्तक के संबंध में अपने विचारों से मुझे अवगत कराएं ।

    लेखक- मिथिलेश्वर
    प्रकाशक-राजकमल प्रकाशन,प्रा.लि.
    1B,नेताजी सुभाष मार्ग,
    नई दिल्ली-110002
    मूल्य- रू.175/ (Without Discount)

    प्रेम सागर सिंह (www.premsarowar.blogspot.com)

    ReplyDelete
  53. bahut achchhi post, maza aa gaya rahul bhai ji...

    ReplyDelete