# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Saturday, August 13, 2011

आजादी के मायने

आजादी के दूसरे दशक के शुरुआती बरसों में पैदा हुई मेरी पीढ़ी ने जब होश संभाला तब नई संवैधानिक व्यवस्था में दो आम चुनाव हो चुके थे। ऐसी राजनैतिक व्यवस्था से साक्षात्कार हो रहा था, जिसमें लोकतंत्र की ताजी चमक के साथ मुगलिया तहजीब, ब्रिटिश हुकूमत के तौर-तरीकों और देशी रियासतों की ठाट भी दिखाई पड़ती थी। कृषि, उद्योग और अर्थ व्यवस्था जुमले बनकर हावी हो रहे थे। प्रगति-विकास का उफान, उसका वेग और उसकी दिशा ढर्रे पर आ रही थी। आजादी का जज्बा और जोश उतार पर था। आजादी का उत्सव भी सालाना रस्म में बदलने लगा था। 'आजादी' खास घटना की बजाय सहज होकर आदत बन गई। आजादी का वह अर्थ छीज रहा था, जिस तरह पिछली पीढ़ी के प्रत्यक्ष अनुभव में था।

मेरी पीढ़ी आजादी के मायने ढूंढते हुए 15 अगस्त, 26 जनवरी, 2 अक्टूबर, जय स्तंभ, गांधी जी के माध्यम से जानने-पहचानने का प्रयास करते हुए पिछली पीढ़ी के संस्मरणों को अनुभूत करना चाहती थी। लेकिन उस उम्र की कच्ची समझ को राष्ट्र और उसकी स्वाधीनता, स्वतंत्रता संग्राम को समझने के लिए किसी प्रतीक की जरूरत होती। डॉ. ज्वालाप्रसाद मिश्र जी की आरंभिक स्मृति मेरे और शायद मेरी पीढ़ी के बहुतेरों के लिए इसी तरह महत्वपूर्ण है, जिनमें आजादी के ऐसे मायने को सजीव महसूस किया जा सकता था। आमने-सामने चरखा चलाते मैंने पहली बार और एकमात्र उन्हें ही देखा। आजादी की स्फुट जानकारियां और कहानियां सभी एक सूत्र में बंधकर सार्थक होती जान पड़ती थीं- डॉ. ज्वालाप्रसाद मिश्र जी के व्यक्तित्व में। वे हमारे लिए आजादी के प्रतीक थे।

बातें पुरानी हैं, उनकी याद से कहीं ज्यादा असर है। बातें अब अच्छी तरह याद भी नहीं हैं। आजादी की उनकी बातों में मुझे क्या जिज्ञासा होती थी यह कुछ हद तक तब समझ पाया जब नरोन्हा जी की आत्मकथा पढ़ी, इसके जिस हिस्से का उल्लेख कर रहा हूं वह स्वतंत्रता के ठीक पहले और बाद प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका और निष्ठा के दृष्टिकोण से है। पुस्तक में जिक्र है कि किस तरह कल के निगरानीशुदा में शुमार अब सम्मानित हो गए। व्यवस्था के विरोधी, व्यवस्था बनाने में जुट गए, अब लगता है कि डॉ. ज्वालाप्रसाद जी की बातों में मेरी यही जिज्ञासा होती कि अपने देश की व्यवस्था तोड़ने और बनाने का द्वंद्व क्या और कैसा होता है। आपात्‌काल, जिसे दूसरी आजादी कहा गया और उसके बाद की स्थितियों को देखने पर अधिक स्पष्ट हुआ कि यह सदैव संदर्भ और व्याख्‍या आश्रित होता है।

डॉ. ज्वालाप्रसाद जी के विशाल व्यक्तित्व में न जाने कितनी चीजें समाहित थीं। सफेद कुरता, धोती और टोपी के साथ उनकी काया में उर्जा, स्फूर्ति और चपलता भरी रहती। स्मरण करने पर लगता है कि मिश्र जी जिन स्थानों, वस्तुओं, व्यक्तियों, घटनाओं और क्षेत्रों से संबंधित रहे उन सबकी झलक उनके व्यक्तित्व से अभिन्न हो गई। मुंगेली के साथ-साथ लिमहा, गीधा, करही जैसे स्थान, अकलतरा में स्टेशन रोड का हरियाली से ढंका भवन और हरी जीप, पारिवारिक और रिश्तेदार सदस्य, जिनकी फेहरिस्त लंबी है, रामदुलारे (मुख्‍य रूप से कम्पाउन्डर, लेकिन जिनके लिए अटैची विशेषण ही उपयुक्त हो सकता है।) चिकित्सा, स्वतंत्रता संग्राम, जेल, चरखा, विवेकानंद आश्रम, यह सब कुछ उनसे अनुप्राणित जान पड़ता।

अकलतरा में आयोजित होने वाली सभाओं की अध्यक्षता बहुधा आप करते थे (अध्यक्ष के रूप में अन्‍य- पं. रामभरोसे शुक्ल जी होते थे)। कार्यक्रमों में विशेषज्ञ आमंत्रित वक्ता और मुख्‍य अतिथि के बाद अंत में जब अध्यक्ष की बारी आती, तो अवसर कोई भी हो, विषय कैसा भी हो आपका वक्तव्य व्यापक ज्ञान और गहन अनुभव के साथ सहज-सुबोध होता था। आपके उद्‌बोधन में राष्ट्रीयता और देशप्रेम की चर्चा इस तरह से होती कि वह अनुभूत होकर सार्थक और असरकारी होती। लगभग सभी मौकों पर उनकी ही बातें ज्यादा भाती थीं और हम अपने कस्बे पर गौरवान्वित होते। वे अकलतरा में निवास करते थे, किन्तु उनके कार्यक्षेत्र की व्यापकता को मैं उतना ही जान पाया, जितनी सीमित मेरी जानकारी और समझ बनी।

1976 में पढ़ाई के लिए मैं रायपुर गया और दो साल विवेकानंद आश्रम के छात्रावास में रहा। छात्रावास भवन के बीच वाले कक्ष, संभवतः क्र. 5 पर डॉ. ज्वालाप्रसाद मिश्र जी के नाम की पटि्‌टका लगी है। यह कक्ष तब अतिथियों के लिए उपयोग होता था। वे रायपुर और आश्रम आते, तब हमलोगों को मिलने के लिए अवश्य बुलवाते और हमेशा प्रेरक, उत्साहवर्धक बातें सहजता से कहते। मुझे यह तब पता चला कि रायपुर रामकृष्ण मिशन, विवेकानंद आश्रम के संचालन में आपकी महती भूमिका रही है। आश्रम के नियम-कायदे सख्‍त थे और अनुशासन बहुत पक्का। आश्रम का माहौल गरिमामय और गंभीर होकर भी खुशनुमा और सहज होता था और इसका कारण निसंदेह स्वामी आत्मानंद जी थे।

इस दौरान आश्रम छात्रावास के वार्डन का एक पत्र डॉ. ज्वालाप्रसाद मिश्र जी के पास गया, जिसमें कुछ अन्य बातों के साथ मेरे लिए जिक्र था- बेहतर होगा यदि मैं आश्रम छात्रावास की सख्‍त पाबंदियों के बजाय छात्रावास से बाहर कहीं और रहूं। मेरे अकलतरा पहुंचने पर डॉ. साहब ने बुलवा कर पत्र मुझे सौंपा। वह आज भी सुरक्षित है। उन्होंने मुझसे पूरे विस्तार से आश्रम की व्यवस्था संबंधी जानकारी लेते हुए खुद निर्णय लेने की छूट दी। आश्रम में रहते हुए विभिन्न व्यक्तियों से सहज मुलाकात, आश्रम का पुस्तकालय और वाचनालय, खेलकूद और अन्य गतिविधियों के साथ समय-समय पर स्वामी आत्मानंद जी महराज का सुलभ सानिध्य की बात कहकर मैंने कुछ और समय आश्रम में रहने की इच्छा व्यक्त की। उन्होंने सहमति दे दी।

साल भर बाद मैंने जब आश्रम छात्रावास छोड़ने की मंशा उनके सामने प्रकट की, तो कारण की पूछताछ करने लगे, ऐसा लगा कि सहमत नहीं हो रहे हैं, लेकिन पूरी चर्चा करने पर इजाजत मिल गई। यह सब याद आने पर लगता है कि किसी मामले को जिस उदार और खुले ढंग से आप देखते थे, वह कितना अनूठा और दुर्लभ है। अलग-अलग विचारधारा, आयु-वर्ग, जाति-धर्म और व्यवसाय के लोग उनसे जुड़े थे। सम्पर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति के विचार और आस्था का वे सच्चा सम्मान करते, महत्व देते। आप वैचारिक स्वतंत्रता के पक्षधर थे। तरल और पारदर्शी व्यक्तित्व के इन गुणों की चर्चा उनके पुण्य स्मरण के साथ होती है।

आप स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के संगठन और नेतृत्व में सक्रिय रहे, लेकिन अंतिम दिनों में उनसे मेरा सीधा सम्पर्क कम रहा इसलिए पारिवारिक कार्यक्रमों में उनकी उपस्थिति के अलावा अन्य कोई उल्लेखनीय व्यक्तिगत अनुभव या संस्मरण नहीं है। सेनानियों और उनसे जुड़े लोगों द्वारा इस दौर में उनकी अवस्था के बावजूद सक्रियता और कुशल नेतृत्व का स्मरण अब भी किया जाता है।

सन 2009 के आरंभ में प्रकाशित डॉं. ज्वाला प्रसाद मिश्र (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी) स्मृति ग्रंथ में शामिल मेरा आलेख।

38 comments:

  1. मिश्र जी को हमारा भी नमन !

    ReplyDelete
  2. ham log shayad in swatantrya veeron ki kurbaaniyon ke kaabil nahi the. aaj ke haalaton se to yahi mahsoos hota hai. hamne swa-tantra to pa liya lekin aajad n ho sake.

    ReplyDelete
  3. स्वतंत्रता के मायने अब नई पीढ़ी के लिये बदल गये हैं राहुल जी,..... और कुछ ऐसे बदले कि अब जो स्वतंत्रता आदि के वीरों की बात करे लोग उसका मजाक उड़ाते हैं।

    मैं उदाहरण दूंगा कि - मंगल पांडे पर जब फिल्म बन रही थी तब आमिर खान ने जिस भौंडे अंदाज में अपनी फिल्म में मंगल पांडे को चित्रित किया वह शर्मनाक था, मनोरंजन और चटक मसाला परोसने के चक्कर में मंगल पांडे कहीं पीछे छूट गये। यह उसी की परिणति थी कि बाद में जब बॉम्बे टू गोवा फिल्म बनी तो उसमें एक शख्स को मजाकिया रोल करते हुए मंगल पांडे फिल्म की स्टाइल के कपड़े पहने दिखाया गया। उसे यदा कदा जंगल में घूमने के कारण जंगल पांडे कहा गया। एक एतिहासिक चरित्र को किस तरह हास्यास्पद बनाया जा सकता है यह उस घटना से समझा जा सकता है जिसके अनुसार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर पहले चरित्र को भोथरा किया जाता है और बाद में चरित्र को हास्यास्पद बनाया जाता है।

    डॉ ज्वाला प्रसाद जी के बारे में जानना अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  4. एक महात्मा का परिचय कराने के लिए आभार आपका !

    ReplyDelete
  5. आमीर खान पर सतीश पंचम जी के विश्लेषण से पूरी तरह सहमत हूँ.आगे कभी इस में कुछ और जोडूंगा ."दिल"के समय का आमीर गुम सा गया है,अभी वाला तो फूहड़ हो चूका है.

    ReplyDelete
  6. छत्तीसगढ़ की विभूति से मिल कर श्रध्हा हुई .उन्हें मेरा नमन .

    ReplyDelete
  7. ये कहीं वही प्रसिद्ध भाष्यकार तो नहीं थे जो? यह पढ़कर अच्छा लगा कि बुरा, यह कहने की स्थिति में फिलहाल नहीं लेकिन सतीश पंचम जी की बात कुछ कहती है। शराबी और क्रांति करते लोग हैं रंग दे बसन्ती में और एक गाली को कुख्यात या विख्यात बनाने में भी।

    अब स्वच्छंदता है, स्वतंत्रता नहीं लेकिन यह कहते ही पुराना और ओल्ड फैशन्ड होने का लेबल चिपकेगा।

    अब आजादी की लड़ाई के जमाने के लोगों में पेंशन वाले ही लोग अधिक हैं।

    ReplyDelete
  8. वे अलग प्रकृति के लोग थे। समाज उनमें बसता था और वे समाज के लिए जीते थे। आज भी मानवता को ऐसे लोगों की दरकार है।

    ReplyDelete
  9. राहुल सर, हम पोस्ट-इमरजेंसी दौर में पैदा हुए। जाहिर है, हमारे लिए आपके लेख जरुरी हैं। मिश्र जी के बारे में बताने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  10. मिश्रजी जैसे व्यक्तित्व अनुकरणीय और श्रद्धेय हैं....... नमन

    ReplyDelete
  11. स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ.ज्वाला प्रसाद मिश्र से जुड़े इस संस्मरण को साझा करने के लिए शुक्रिया !
    वह काल ऐसे ही प्रेरणा पुरुषों का था !

    ReplyDelete
  12. इतिहास को लोग अपने मन से परिभाषित करते हैं। बहुत अच्छा लगा यह परिचय जान कर।

    ReplyDelete
  13. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें! डॉ.ज्वाला प्रसाद मिश्र के संस्मरण के लिए धन्यवाद! दूसरों की स्वतंत्रता, विचार और आस्था का सम्मान किये बिना स्वतंत्रता की अवधारणा को समझा नहीं जा सकता है। अकलतरा का उच्चारण क्या है: अक-लतरा या अकल-तरा या कुछ और?

    ReplyDelete
  14. डॉं. ज्वाला प्रसाद मिश्र जी जैसे प्रतिभावान और विलक्षण व्यक्तित्व से परिचित करने के लिए आपको धन्यवाद.
    पता नहीं क्यों हम अपनें महापुरुषों से कुछ सीख नहीं पा रहे.
    आज के दौर में समाज के ऐसे प्रदर्शक हैं जो इन महापुरुषों की चरण धूलि भी नहीं हैं लेकिन वही आज वन्दनीय हो चले हैं.

    ReplyDelete
  15. Swatantrata Diwas kee anek shubh kamnayen!

    ReplyDelete
  16. इस देश की स्वतंत्रता में हजारों ऐसे लोंगों का योगदान है जिनका जिक्र पुस्तकों में नहीं है... स्थानीय स्तर पर ऐसे लोगों की वही भूमिका थी जो राष्ट्रीय स्तर पर बड़े नेताओं की... ऐसे मनीषियों को याद कर अच्छा लगता है... स्वतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामना...

    ReplyDelete
  17. पहली बार डॉ ज्वाला प्रसाद जी के बारे में पढा ... अच्छा लगा..

    आभार.

    ReplyDelete
  18. वरेण्य अभिलेख, डॉ ज्वाला प्रसाद जी के विषय में जानकर अच्छा लगा...

    ReplyDelete
  19. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  20. प्रेरक, सद्पुरुषों को सान्निध्‍य मिलना अपने आप में सौभाग्‍य की बात होती है। ऐसे व्‍यक्तियों से हमें, अचेतन में जो संस्‍कार मिलते हैं वे मृत्‍यु पर्यन्‍त हमारा साथ देते हैं। ऐसे व्‍यक्तियों का स्‍मरण आजके प्रसंग पर सुखद लगा।

    ReplyDelete
  21. बहुत प्रेरणास्‍पद .. वैचारिक स्‍वतंत्रता बहुत मायने रखती है .. आपके इस सुंदर सी प्रस्‍तुति से हमारी वार्ता भी समृद्ध हुई है !!

    ReplyDelete
  22. राहुल जी, डा. ज्वालाप्रसाद जी के व्यक्तित्व से परिचय कराने के लिए धन्यवाद. आजादी के बाद के पहले कुछ दशकों में इस तरह के कई लोग जीवित थे, उनसे मिलने उन्हें जानने का मौका मिलना आसान था. आज के बदले वातावरण में वह सब बातें धुँधली, पुरानी पड़ गयी हैं, उस इतिहास को बचा कर रखना मुझे महत्वपूर्ण लगता है.

    ReplyDelete
  23. Hameshaa kii tarah ek aur umdaa post. Swaadhiintaa-sangraam ke purodhaa Dr. Jwalaprasad Mishra jii ko kotishah naman. Aapkaa abhaar ki aapne aise pranamy vyaktitv se parichit karaayaa.

    ReplyDelete
  24. आज़ादी का सही अर्थ समझने के लिए डॉ. ज्वाला प्रसाद मिश्र जैसे महापुरुषों और उनके कार्यों का स्मरण करना आवश्यक है।

    ReplyDelete
  25. श्रीमान आपका लिखा पढते वक्त पाठक जेसे आपकी मह्फिल में ही पहुँच जाता है और आराम से मिल पाता है कम्पाउंडर साहिब जेसे लोगों से यदि स्म्रतियों की बात हो तो जेसे आपकी चोपाल पर साकार हो जाती हैं यादों की वो मूरतें .शुक्रिया

    ReplyDelete
  26. डॉं. ज्वाला प्रसाद मिश्र जी के अभिगम को जानना अच्छा लगा!!

    सतीश पंचम की यथार्थ प्रतिक्रिया से सहमत!!

    ReplyDelete
  27. डाक्टर ज्वाला प्रसाद जी को नमन...
    सतीश पंचम जी ने अत्यंत सार्थक प्रश्न उठाया है...
    कोई भी ऐसा काम नहीं किया जाना चाहिए जो हमें आज़ाद हवा में सांस लेने लायक बनाने वाले अमर शहीदों का अपमान हो...

    राष्ट्र पर्व की सादर भाधाईयाँ...

    ReplyDelete
  28. वाह ! क्या बात है डॉं. ज्वाला प्रसाद मिश्रजी की !
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  29. डॉ ज्वालाप्रसाद जी को किस रूप में हम अकलतरा वाले याद करे एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के रूप में एक चिकित्सक के रूप में या एक अच्छे वक्ता के रूप में सभी कुछ तो था उनमे उनकी स्मृति को शत शत नमन मुझे वे एक चिकित्सक के रूप में याद आते है जब सामान्य सा बुखार होने पर भी हम उनके पास उनका बनाई दवा लेने जाया करते थे इस स्मृति ग्रन्थ के माध्यम से उनकी स्मृतियों को मुझे भी नमन करने का अवसर मिला स्वयं को सौभाग्यशाली मानता हूँ

    ReplyDelete
  30. ज्वाला प्रसाद मिश्र जी के परिचय और स्मृतियाँ साझा करने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  31. परिचय कराने के लिए आभार आपका !
    स्वतन्त्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें... :)
    जय हिन्द...

    ReplyDelete
  32. स्मृति वीथिका में दीवारों पर लगे चित्रों की तरह ज्वाला प्रसाद जी का परिचय एक अनुभव सा प्रतीत हुआ!!

    ReplyDelete
  33. आपका हर लेख अलग हट कर होता है ..
    बधाई स्वीकारें ..
    - डा. जेएसबी नायडू (रायपुर)

    ReplyDelete
  34. डॉ. ज्वालाप्रसाद मिश्र जी जैसे व्यक्तित्व से सानिध्य निश्चित ही आपके लिए एक सौभाग्य रहा. ऐसे पुनात्मा के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा. आजकल एक अजीब बात समझ में आ रही है. हम मिडिया का जितना भी बुरा भला कह लें, १५ अगस्त और २६ जनवरी उन्हीं की बदौलत जीवित है.

    ReplyDelete
  35. डा. मिश्र व आपके बारे में और जानकारी मिली, ग्राफ़ और ऊपर उठा है।

    ReplyDelete
  36. राहुल जी
    हमने तो बस ज्वाला परसाद जी का नाम ही सुना था
    आज पहली बार डॉ ज्वाला प्रसाद जी के बारे में पढा ... अच्छा लगा
    परिचित करने के लिए आपका आभार सर

    ReplyDelete
  37. ऐसे आलेख मेरी कमजोरी है..
    शुक्रिया इसे पोस्ट करने के लिए!!

    ReplyDelete