# गांधीजी की तलाश # असमंजस # छत्तीसगढ़ी दानलीला # पवन ऐसा डोलै # त्रिमूर्ति # अमृत नदी # कोरोना में कलाकार # सार्थक यात्राएं # शिकारी राजा चक्रधर # चौपाल # कौन हूँ मैं # छत्तीसगढ़ के शक्तिपीठ # काजल लगाना भूलना # पितृ-वध # हाशिये पर # राज्‍य-गीत # छत्तीसगढ़ की राजधानियां # ऐतिहासिक छत्‍तीसगढ़ # आसन्न राज्य # सतीश जायसवाल: अधूरी कहानी # साहित्य वार्षिकी # खुमान साव # केदारनाथ सिंह के प्रति # मितान-मितानिन # एक थे फूफा # कहानी - अनादि, अनंत ... # अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # बलौदा और डीह # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # देश, पात्र और काल # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Monday, December 6, 2010

खबर-असर

खबरदार, आपके आस-पास खबरी हैं तो आप, आपकी हरकत या ना-हरकत भी खबर बन सकती है, क्योंकि खबरें वहां बनती हैं जहां खबरी हों जैसे पोस्ट वहां बन सकती है जहां ब्लॉगर हो। खबरों के लिए घटना से अधिक जरूरी खबरी हैं और कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि ब्लॉगर की तो पोस्ट अच्छी बनती ही तब है जब कोई मुद्‌दा न हो, वरना 'मीनमेखी' (सुविधानुसार इसे 'गंभीर टिप्पणीकार' पढ़ सकते हैं) पोस्ट को पूर्वग्रह से ग्रस्त अथवा बासी मान लेते हैं।

यह सूक्ति या थम्ब रूल बनाने का प्रयास नहीं, एक सचित्र खबर को पढ़ते हुए लगा कि कोई ब्लॉग पेज तो नहीं देख रहा हूं फिर इसका कैप्‍शन सोचते-सोचते इसकी लंबाई बढ़ गई, बस। पहले यह देखें-

अब सीधे विकल्प पर आइए-

1/ खबर पर ब्लॉग का असर है,
2/ किसी ब्लॉगर की लिखी खबर है,
3/ यह खबर कम ब्लॉग पोस्ट अधिक है,
4/ ब्लॉग पोस्ट और खबर के बीच का फर्क कम हो रहा है।

असमंजस है कि क्या चारों सही या सभी गलत का विकल्प भी दिया जाना चाहिए। अपनी भूमिका भी आप ही चुनें- बिग बी, हॉट सीट या क्विज मास्टर। हां! लेकिन किसी ईनाम-इकराम की गुंजाइश नहीं है, यहां।

यहां किसी ब्लॉगर सम्मेलन के लिए टॉपिक तय करने की कवायद भी नहीं है, यह तो यूं ही, कुछ भी, कहीं भी टाइप है, लेकिन खबरों पर नजर रखने वाले और खबरों की खबर लेने वालों के साथ सभी पहेली-बुझौवलियों को विशेष आमंत्रण।

34 comments:

  1. दस मिनट तक सांस थामने वाला या तो मर जायेगा, या जोगी होगा या हिन्दी का ब्लॉगर।
    बकिया ऐसी खबर तो किसी लेवल क्रासिंग पर खड़े हो जाइये, मिलती रहेंगी! :)

    ReplyDelete
  2. गनीमत की इसका फुटेज किसी टीवी चैनल को नहीं मिल गया वर्ना पूरा दिन पार कर देते इस रहस्य के साथ की गाय बचेगी या मरेगी ...

    ReplyDelete
  3. स्पेस की कमी के बाद भी इस तरह की खबर को प्रकाशित करके अपनी संवेदनशीलता का परिचय दिया।
    यह अखबार साधुवाद का पात्र है।

    ReplyDelete
  4. ... saarthak post ... kuchh vishesh hi hai !!!

    ReplyDelete
  5. आमंत्रण स्वीकार है , जहेनसीब जो आपने खबरों की खबर की ही खबर ले डाली । आभार स्वीकारें । आपसे वो क्षणिक मुलाकात मुझे ताउम्र याद रहेगी

    ReplyDelete
  6. जी हाँ,
    गाय और अन्य जानवर भी इतने समझदार तो होते ही हैं कि अपनी रक्षा कर लें.उनका कट मरना वैसा ही है जैसे लापरवाही पूर्वक मोटर गाडी रेल पटरी पर जाकर रेल गाडी से टकराती है. इसमें भी अघट घटने से बच गया. शहीद उधम सिंह के पिता भी ऐसी दुर्घटना रोकने के लिए रेल विभाग में नौकरी पर रखे गए थे.

    http://brajkishorprasad.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. चारों विकल्‍पों पर ब्राह्मी सीरप पीकर चिंतन करने के बाद भी उत्‍तर नहीं बूझ रहा है, लाईफ लाईन फोन अ फ्रैंड हमने खो दिया है अब एक्‍सपर्ट कमेंट और जनता की राय का ही सहारा है। :):)

    यदि वह समाचार यदि किसी ब्‍लॉग के पोस्‍ट में लिखी गई होती तो मेरा कमेंट यह होता -

    बेहतरीन प्रस्‍तुति, आपकी भावनाओं को नमन. एक बार हम भी भिलाई के खुर्सीपार रेलवे क्रासिंग में खड़े थे और एक सवारी गाड़ी तेजी से रायपुर की ओर से आ रही थी, एक गाय दो पटरियों के बीच चर रही थी, लोगों नें उसे बचाने के लिए 'हात-हूत' करने लगे जब तक 'हात-हूत' का असर हुआ तब तक गाड़ी आ गई और गाय ट्रेन के ठोकर से उछलकर लगभग पांच फुट गिर गई, गाड़ी के गुजरते ही गाय नें अपनी पूरी शक्ति लगाई और उठ खड़ी हुई. क्रासिंग खुल जाने के बाद भी उस गाय को देखने के लिए भीड़ क्रासिंग पर कुछ मिनटों के लिए डटी रही।

    ReplyDelete
  8. * पांच फुट दूर गिर गई

    ReplyDelete
  9. ईनाम-इकराम नहीं है, इसीलिये हिम्मत जुटा रहे हैं जी कुछ कहने की। चौथा खंभा लोकतंत्र का इसी मीडिया को ही कहते हैं शायद। रिलेटिड मामला है इसलिये बताता हूँ कि अप्रैल में ऐसी ही एक खबर पर मैंने एक पोस्ट लिखी थी ’बाल बाल बचे’, लेकिन मैं शायद ठीक से एक्सप्रैस नहीं कर पाया था खुद को।
    वैसे हमारे दिल्ली में एक पुराना किस्सा मशहूर है कि संपादक महोदय के पास खबर पहुंची की अखबार छपने को तैयार है लेकिन कुछ स्पेस खाली छूट रहा है। आदेश हुआ कि लिख दो, "यमुना नदी में एक तांगा गिरने से चार व्यकित्यों की मौत हो गई।" पुन: खबर आई कि एक लाईन की जगह और खाली है तो इधर से भी पुन: निर्देश दिये गये कि लिख दो, "बाद में मालूम चला कि खबर झूठी थी।"

    ReplyDelete
  10. खबरीय तत्व, कितना है।

    ReplyDelete
  11. अच्छी रही ये खबरों कि खबर और सच तो यही है कि..ब्लॉग पोस्ट और खबर के बीच का फर्क कम हो रहा है।

    ReplyDelete
  12. हम्म, दर-असल जो यह आपको एक ब्लॉगर की किसी पोस्ट की तरह लग रहा है, उसके पीछे बात यह है कि, अख़बार का फोटोग्राफर इस मौके से गुजर रहा था तो उसने फोटो ले ली. चूँकि मौके पर था ही, इसलिए उसे सारी जानकारी थी. अब वह फोटो लेकर आया अख़बार के दफ्तर में, किस्सा सुनाया, तो फिर प्रमुख नगर संवाददाता ने किसी संवाददाता को आदेश दिया कि फोटोग्राफर कि बात सुनकर इस मुद्दे पर आँखों देखी रपट तैयार करे. और उस संवाददाता ने फोटोग्राफर से सारी बातें सुन-समझकर जो रपट तैयार की, वही अख़बार में समाचार के रूप में छपा और और आपने यहाँ उसका उल्लेख किया... तो ये है सारी हकीकत, जब यह रपट छपी थी, इसे पढ़ते हुए ही सारा खेल समझ में आ गया था १०-१५ दिन पहले....ये फोटो या तो दीपक पाण्डेय ने ली होगी या फिर योगेश यदु ने, ऐसा मेरा अनुमान है

    ReplyDelete
  13. @ संजीव तिवारी जी
    गउ माता मने मन कहत रिस होही- तू मन का देखत ह ग, तमासा बना लेथ कोई भी चीज के, कोई बूता धंधा नइये का, रेंग अपन-अपन रस्‍ता.
    @ रश्मि रवीजा जी
    जी, अखबार भी क्‍या करें, 24 घंटे में एक बार छपना है, यहां चैनल चौबीसों घंटे हैं और कुछ बाकी रहा तो वह हमारी मुट्ठी में है, मोबाइल फोन पर.

    ReplyDelete
  14. @ मो सम...
    एक समय था जब अखबारों के मुखपृष्‍ठ पर स्‍तंभ होता था, 'छपते-छपते', यह जगह खाली भी छूटी रह जाती थी.
    @ राजेश उत्‍साही जी
    लेकिन खबर पर किसका असर और खबर का असर किस पर कितना.

    ReplyDelete
  15. सही में ये खबर कम ब्लॉग पोस्ट ज्यादा है..

    ReplyDelete
  16. दुष्यंत कुमार नें कहा है - एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों। फिर दस मिनट तक साँसें नहीं थमेंगी :)

    ReplyDelete
  17. पॉंचवा विकल्‍प भी होना चाहिए था - आजकल ब्‍लॉग पर खबरों का और खबरों पर ब्‍लॉग का असर हो रहा है। अब इस दशा से बच पाना कठिन होता चला जाएगा।

    ReplyDelete
  18. खबर क्या ? ब्लाग पोस्ट क्या ? इन दिनों तय करना मुश्किल हो गया है ! आपके विकल्पों पे मंथन के अलावा कुछ और ख़बरों के सोते फूट पड़े हैं ...

    (१)नशे में धुत ड्राइवर तेज रफ़्तार से गाड़ी निकाल ले गया, गाय की जान पे बनी रही !

    (२)इतनी संवेदनशील और गम्भीर दुर्घटना की आशंका के बावजूद रेल मंत्री कोलकाता में !

    (३)शासन की उपेक्षा से पीड़ित गायें जान देने पर उतारू !

    (४)गाय को बचाने के बजाए उसे फोटो लेने की पडी रही ! (विरोधी अखबार के लिए)

    (५)ब्लागरों ने पोस्ट लिख कर अपमानित किया,गाय जान देने पर आमादा !

    (६)सारा चारा नेता खा गए गाये भूख से बेहाल खुदकशी को तैयार !

    (७)पुलिस का निकम्मापन गाय पर आज तक मार्ग कायम नहीं किया !

    (८)दुग्ध ऊर्जा प्रयोग सफल रहा , ट्रेक के पास खड़ी गाय ज़्यादा दूध देने लगीं !

    पहली किश्त में इतनी ख़बरें काफी लग रही हैं ज़रूरत पड़े तो बताइयेगा :)

    ReplyDelete
  19. मै तो खबर और ब्लाग पोस्ट् पर कन्फ्यूज़ा गयी हूँ इसे जरा और विस्तार से कहे। ब्लाग पडःाते पढते भूल गयी हूँ कि खबर और ब्लाग पोस्ट मे अन्तर क्या है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  20. चलिये खबर तो खबर है,चाहे ब्लोग की हो या अख्बार की,

    ReplyDelete
  21. न्यूज़ पेपर में प्रकाशित इस समाचार में निस्संदेह ब्लॉगिंग का असर साफ दिख रहा है। संवाददाता निश्चित रूप से ब्लागर ही होगा। ब्लॅाग जगत की ख़बरें या समाचात पत्रों का ब्लाग - सब गड्डमड्ड हो गया लगता है।

    आपकी पारखी नज़र ही इसे ताड़ सकती है...बहुत अच्छी पेशकश।

    ReplyDelete
  22. सनसनी, आजकल यहीं एक शब्द है जो मीडिया जगत में आतंक कि तरह व्याप्त है...ब्लागर भी हैं कुछ जो इस मर्ज़ के शिकार हैं...पर कुछ आप जैसे लोग भी हैं जिनकी निगाह से ये छुप नहीं पाता...

    ReplyDelete
  23. .

    अली साहब द्वारा दिए 'शीर्षकों' में इजाफा किये देता हूँ.
    [९] कत्लगाहों में कटने की बजाये मालगाड़ी से कटना बेहतर है.
    [१०] मालगाड़ी के दूसरी ओर लगे कूढ़े के ढेर से गाय की नज़र नहीं हटी.
    [११] भागमभाग वाली ज़िंदगी में हर कोई पहले निकल जाना चाहता है.
    __________________________
    ब्लॉग -लेखन में वही तो लिखा जाएगा जो हमारे मन में होगा.
    अपने अनुभव, अपनी जिज्ञासाएँ, अपने अनसुलझे सवाल, स्वयं को प्रभावित कर देने वाले विचार
    प्रभावित व्यक्तित्वों की समीक्षाएँ, गोपनीय मनोभावों की अभिव्यक्ति, सूचनायें अपने नज़रिए से,
    __________________________
    एक बहिन दूसरी बहिन से कहती है ..."अरी तूने सुना, फलाने ने ......"
    हमारा मानवीय स्वभाव है कि हम जो जानते हैं वह अपने अपरिचितों में बाँटना चाहते हैं. चाहे वह खबर ही क्यों न हो
    'माध्यम' अपनाने पर शर्तें लागू करना .......... अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को दायरे में बाँधना होगा.

    .

    ReplyDelete
  24. ऐसी खबर बराबर मिल जाती है, बस जानवर के बदले इंसान होता है.....

    ReplyDelete
  25. जब आदमी के जीवन का मोल ही काम होता जा रहा है तब गाय के बारे में यह समाचार

    ReplyDelete
  26. मतो चारों ऑप्शन एक साथ चुन रहे हैं.

    ReplyDelete
  27. दिलचस्प प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  28. जहाँ ईनाम कि गुंजाईश ना हो वहाँ हम कुछ नहीं कहते हैं.. :)

    ReplyDelete